BREAKING NEWS

BJP सांसद ओम बिड़ला बने नए लोकसभा स्पीकर, कांग्रेस सहित सभी दलों का मिला समर्थन◾49 साल के हुए राहुल गांधी, PM मोदी ने की लम्बी उम्र और अच्छे स्वास्थ्य की कामना◾बिहार में जारी है चमकी बुखार का कहर, अब तक 112 बच्चों की हुई मौत◾'एक देश, एक चुनाव' पर मोदी की बैठक में ये नेता नहीं होंगे शामिल, मायावती ने ट्वीट कर दिया बयान◾'एक देश एक चुनाव' पर PM मोदी की बैठक आज, ममता नहीं होंगी शामिल◾पेट्रोल और डीजल के दाम स्थिर, जाने आपके राज्य में क्या है भाव !◾बंगाल में BJP कार्यकर्ता की हत्या, तृणमूल पर लगाया आरोप◾CM योगी ने नड्डा,शाह से की मुलाकात◾कांग्रेस ने ‘पार्टी विरोधी’ गतिविधियों के लिए रोशन बेग को किया सस्पेंड◾तृणमूल के विधायक, कई पार्षदों ने थामा BJP का दामन◾‘एक राष्ट्र, एक चुनाव’ पर बुधवार सुबह निर्णय लेंगे कांग्रेस और सहयोगी दल ◾अधीर रंजन चौधरी लोकसभा में कांग्रेस के बने नेता◾स्पीकर के चुनाव में बिड़ला का समर्थन करेगा UPA, ''एक राष्ट्र, एक चुनाव'' पर अभी निर्णय नहीं ◾बजट से पहले मोदी के साथ महत्वपूर्ण विभागों के सचिवों की बैठक ◾J&K : पुलवामा में पुलिस थाने पर ग्रेनेड हमला, 5 घायल, 2 की हालत गंभीर◾PM मोदी ने 19 जून को बुलाई सर्वदलीय बैठक, 'एक राष्ट्र एक चुनाव' पर करेंगे चर्चा◾मेरठ : गमगीन माहौल में हुआ शहीद मेजर का अंतिम संस्कार, अंतिम दर्शन को उमड़ा जनसैलाब ◾WORLD CUP 2019, ENG VS AFG : इंग्लैंड ने अफगानिस्तान के खिलाफ रिकार्डों की झड़ी लगाई ◾विपक्ष ने महाराष्ट्र के वित्त मंत्री के ट्विटर हैंडल पर बजट लीक को लेकर की सरकार आलोचना की◾Top 20 News - 18 June : आज की 20 सबसे बड़ी ख़बरें◾

दिल्ली – एन. सी. आर.

न्यायालय ने वीवीपीएटी की गणना की विपक्षी नेताओं की याचिका पर निर्वाचन आयोग से मांगा जवाब

उच्चतम न्यायालय ने प्रत्येक निर्वाचन क्षेत्र में ईवीएम के साथ संलग्न वीवीपीएटी की 50 फीसदी पर्चियों की गणना के बाद ही लोकसभा चुनाव के नतीजे घोषित करने के लिये विपक्षी नेताओं की याचिका पर शुक्रवार को निर्वाचन आयोग से जवाब मांगा। प्रधान न्यायाधीश रंजन गोगोई, न्यायमूर्ति दीपक गुप्ता और न्यायमूर्ति संजीव खन्ना की पीठ ने विपक्षी नेताओं की याचिका 25 मार्च को सूचीबद्ध करते हुये निर्वाचन आयोग से कहा कि वह न्यायालय की मदद के लिये अपने किसी अधिकारी को भेजे।

 आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री चन्द्रबाबू नायडू, दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल और अन्य विपक्षी नेताओं ने लोकसभा चुनाव के नतीजों की घोषणा से पहले प्रत्येक निर्वाचन क्षेत्र में वीवीपीएटी की कम से कम 50 प्रतिशत पर्चियों का सत्यापन कराने के अनुरोध के साथ शीर्ष अदालत में याचिका दायर की है।

याचिका दायर करने वालों में कांग्रेस, राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टीआम आदमी पार्टी, मार्क्सवादी पार्टी, तृणमूल कांग्रेस, समाजवादी पार्टी, बहुजन समाज पार्टी, राष्ट्रीय लोक दल, लोकतांत्रिक जनता दल और डीएमके सहित 21 विपक्षी दल शामिल हैं। इन दलों ने निर्वाचन आयोग के साथ फरवरी में हुयी बैठक में इलेक्ट्रानिक वोटिंग मशीनों की विश्वसनीयता पर संदेह व्यक्त किया था। हालांकि, आयोग ने मशीनों के साथ किसी भी प्रकार की छेड़छाड़ के आरोपों से इंकार किया था। निर्वाचन आयोग ने लोकसभा चुनाव का कार्यक्रम घोषित करते हुये कहा था कि लोकसभा के प्रत्येक निर्वाचन क्षेत्र के लिये एक मतदान केन्द्र के आधार पर ईवीएम और वीवीपीएटी का अनिवार्य निरीक्षण किया जायेगा।