BREAKING NEWS

दिल्ली हिंसा में मरने वालों की संख्या 27 पर पहुंची, हालात अभी भी तनावपूर्ण ◾कांग्रेस ने प्रधानमन्त्री मोदी पर कसा तंज, कहा- अगर शाह पर भरोसा नहीं तो बर्खास्त क्यों नहीं करते◾दिल्ली हिंसा में शामिल 106 लोग गिरफ्तार सहित 18 एफआईआर दर्ज, दिल्ली पुलिस ने जारी किए हेल्पलाइन नंबर◾मुख्यमंत्री केजरीवाल ने किया हिंसाग्रस्त उत्तर-पूर्वी दिल्ली का दौरा ◾अपने दौरे के बाद एनएसए डोभाल ने गृह मंत्री अमित शाह को उत्तर पूर्वी दिल्ली में मौजूदा हालात की जानकारी दी◾एनएसए डोभाल ने किया दंगा प्रभावित क्षेत्रों का दौरा, बोले- उत्तर पूर्वी दिल्ली में हालात नियंत्रण में ◾TOP 20 NEWS 26 February : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾शहीद हेड कांस्टेबल रतन लाल के परिवार को 1 करोड़ और एक सदस्य नौकरी देंगे - अरविंद केजरीवाल ◾दिल्ली HC ने पुलिस को भड़काऊ बयान देने वाले BJP नेताओं पर FIR करने की दी सलाह◾दिल्ली हिंसा : IB अफसर अंकित शर्मा का मिला शव, हिंसा ग्रस्त इलाको में जारी है तनाव ◾हिंसा पर दिल्ली हाई कोर्ट सख्त, कहा-देश में एक और 1984 नहीं होने देंगे◾दिल्ली हिंसा पर PM मोदी की लोगों से अपील, ट्वीट कर लिखा-जल्द से जल्द बहाल हो सामान्य स्थिति◾दिल्ली हिंसा : हाई कोर्ट ने कपिल मिश्रा का वीडियो क्लिप देख कर पुलिस को लगाई कड़ी फटकार ◾सीएए हिंसा पर प्रियंका गांधी ने लोगों से की अपील, बोली- हिंसा न करें, सावधानी बरतें ◾सोनिया गांधी ने दिल्ली हिंसा को बताया सुनियोजित, गृहमंत्री से की इस्तीफे की मांग◾दिल्ली हिंसा : हेड कांस्टेबल रतनलाल को दिया गया शहीद का दर्जा, पत्नी को नौकरी के साथ मिलेंगे 1 करोड़ ◾सुप्रीम कोर्ट ने सीएए हिंसा को बताया दुर्भाग्यपूर्ण, याचिकाओं पर सुनवाई से किया इनकार ◾दिल्ली में हुई हिंसा के बाद यूपी में हाई अलर्ट, संवेदनशील जिलों में पुलिस बलों के साथ पीएसी तैनात ◾राजस्थान के बूंदी में नदी में बस गिरने से 24 लोगों की मौत, मृतकों में 3 बच्चे शामिल◾दिल्ली के तनावपूर्ण इलाके छावनी में तब्दील, सुरक्षा बलों के फ्लैगमार्च के साथ स्पेशल सीपी ने किया दौरा◾

दिल्ली में ‘सरकार’ का प्रदर्शन कई पैमानों पर खरा नहीं उतरता : सर्वेक्षण

दिल्ली में यातायात जाम, प्रदूषण और रोजगार के बेहतर मौके देने पर ‘सरकार’ का प्रदर्शन औसत से नीचे है। एक एनजीओ ने अपने सर्वेक्षण में यह बात कही है। ‘एसोसिएशन ऑफ डेमोक्रेटिक रिफॉर्म्स’ (एडीआर) ने लोकसभा चुनाव से पहले अक्टूबर से दिसंबर 2018 के बीच तीन चीजों की पहचान करने के लिए मतदाता सर्वेक्षण किया गया है, जिनमें शासन के विशेष मुद्दों पर मतदाताओं की प्राथमिकता, इन मुद्दों पर सरकार के प्रदर्शन पर मतदाताओं की रेटिंग तथा मतदान व्यवहार को प्रभावित करने वाले कारक शामिल हैं।

इस सर्वेक्षण में राष्ट्रीय राजधानी की सभी सात लोकसभा सीटों पर करीब 3,500 लोगों से बात की गई। एनजीओ के एक प्रतिनिधि के मुताबिक, सर्वेक्षण के लिए शामिल किए गए सवाल ‘किसी खास सरकार से संबंधित’ नहीं थे। मतदाताओं की तीन शीर्ष प्राथमिकताओं में ‘सरकार’ का प्रदर्शन ‘औसत से कम’ है। इन तीन शीर्ष प्राथमिकताओं में यातायात जाम (पांच के पैमाने पर 2.27 रेटिंग मिली), पानी और वायु प्रदूषण (2.29) और रोजगार के बेहतर मौके (2.29) शामिल हैं।

सर्वेक्षण के मुताबिक, शहरी दिल्ली में महिला सशक्तिकरण और सुरक्षा (1.85) और ध्वनि प्रदूषण पर ‘सरकार’ का प्रदर्शन खराब रहा।बहरहाल, पेय जल और परिवहन सुविधाएं मुहैया कराने पर ‘सरकार’ को तीन से ज्यादा रेटिंग मिली है। वहीं ग्रामीण मतदाताओं की प्राथमिकताओं में कृषि उपज का अधिक मूल्य मिलना, रोजगार के बेहतर मौके, कृषि के लिए बिजली देना हैं। इन पर भी ‘सरकार’ का प्रदर्शन औसत से कम है।

 सर्वेक्षण में बताया गया है कि चुनाव में किसी उम्मीदवार को वोट देने के सवाल पर 84 फीसदी लोगों ने कहा कि मतदान करने में उनकी अपनी राय अहमियत रखती है, जबकि सात प्रतिशत ने कहा कि उनके परिवार की राय मायने रखती है, वहीं पांच प्रतिशत लोगों ने कहा कि उनकी पत्नी या पति की राय मतदान को लेकर मायने रखती है।