BREAKING NEWS

अयोध्या मामला : सुप्रीम कोर्ट ने ‘निर्वाणी अखाड़ा’ को लिखित नोट दाखिल करने की दी इजाजत ◾राज्यपाल सत्यपाल मलिक बोले- किसी भी आतंकवादी या नौकरशाह ने अपना बच्चा आतंकवाद में नहीं खोया◾PMC बैंक घोटाला : 24 अक्टूबर तक बढ़ी आरोपी राकेश वधावन और सारंग वधावन की हिरासत◾सोशल मीडिया अकाउंट को आधार से जोड़ने के सभी मामले सुप्रीम कोर्ट में ट्रांसफर◾मोदी से मिले नोबेल पुरस्कार विजेता अभिजीत बनर्जी, PM ने मुलाकात के बाद किया ये ट्वीट ◾J&K और लद्दाख के सरकारी कर्मचारियों को केंद्र का दिवाली तोहफा, 31 अक्टूबर से मिलेगा 7th पेय कमीशन का लाभ ◾राजनाथ सिंह बोले- नौसेना ने यह सुनिश्चित करने के लिए सतर्कता बरती कि 26/11 दोबारा न होने पाए◾राज्यपाल जगदीप धनखड़ का बयान, बोले-ऐसा लगता है कि पश्चिम बंगाल में किसी प्रकार की सेंसरशिप है◾भारतीय सेना ने पुंछ में LoC के पास मोर्टार के तीन गोलों को किया निष्क्रिय◾INX मीडिया भ्रष्टाचार मामले में पी.चिदंबरम को मिली जमानत◾गृहमंत्री अमित शाह का आज जन्मदिन, PM मोदी सहित कई नेताओं ने दी बधाई◾अयोध्या मामले में सुप्रीम कोर्ट करेगा तय, समझौता या फैसला !◾पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ की बिगड़ी तबीयत, अस्पताल में भर्ती◾Exit Poll : महाराष्ट्र और हरियाणा में भाजपा की प्रचंड जीत के आसार◾अनुच्छेद 370 हटाने के भारत के उद्देश्य का करते हैं समर्थन, पर कश्मीर में हालात पर हैं चिंतित : अमेरिका◾चुनाव के बाद एग्जिट पोल के नतीजे, भाजपा ने राहुल को मारा ताना ◾पकिस्तान द्वारा डाक मेल सेवा पर रोक लगाने के लिए रवि शंकर प्रसाद ने की आलोचना ◾सम्राट नारुहितो के राज्याभिषेक समारोह में शामिल होने जापान पहुंचे राष्ट्रपति कोविंद ◾गृह मंत्री अमित शाह से मिले CM कमलनाथ, केंद्र से 6,600 करोड़ रुपये की सहायता मांगी ◾पाकिस्तान ने भारत के साथ डाक सेवा बंद की, भारत ने अंतरराष्ट्रीय नियमों का उल्लंघन बताया ◾

दिल्ली – एन. सी. आर.

दिल्ली में ‘सरकार’ का प्रदर्शन कई पैमानों पर खरा नहीं उतरता : सर्वेक्षण

दिल्ली में यातायात जाम, प्रदूषण और रोजगार के बेहतर मौके देने पर ‘सरकार’ का प्रदर्शन औसत से नीचे है। एक एनजीओ ने अपने सर्वेक्षण में यह बात कही है। ‘एसोसिएशन ऑफ डेमोक्रेटिक रिफॉर्म्स’ (एडीआर) ने लोकसभा चुनाव से पहले अक्टूबर से दिसंबर 2018 के बीच तीन चीजों की पहचान करने के लिए मतदाता सर्वेक्षण किया गया है, जिनमें शासन के विशेष मुद्दों पर मतदाताओं की प्राथमिकता, इन मुद्दों पर सरकार के प्रदर्शन पर मतदाताओं की रेटिंग तथा मतदान व्यवहार को प्रभावित करने वाले कारक शामिल हैं।

इस सर्वेक्षण में राष्ट्रीय राजधानी की सभी सात लोकसभा सीटों पर करीब 3,500 लोगों से बात की गई। एनजीओ के एक प्रतिनिधि के मुताबिक, सर्वेक्षण के लिए शामिल किए गए सवाल ‘किसी खास सरकार से संबंधित’ नहीं थे। मतदाताओं की तीन शीर्ष प्राथमिकताओं में ‘सरकार’ का प्रदर्शन ‘औसत से कम’ है। इन तीन शीर्ष प्राथमिकताओं में यातायात जाम (पांच के पैमाने पर 2.27 रेटिंग मिली), पानी और वायु प्रदूषण (2.29) और रोजगार के बेहतर मौके (2.29) शामिल हैं।

सर्वेक्षण के मुताबिक, शहरी दिल्ली में महिला सशक्तिकरण और सुरक्षा (1.85) और ध्वनि प्रदूषण पर ‘सरकार’ का प्रदर्शन खराब रहा।बहरहाल, पेय जल और परिवहन सुविधाएं मुहैया कराने पर ‘सरकार’ को तीन से ज्यादा रेटिंग मिली है। वहीं ग्रामीण मतदाताओं की प्राथमिकताओं में कृषि उपज का अधिक मूल्य मिलना, रोजगार के बेहतर मौके, कृषि के लिए बिजली देना हैं। इन पर भी ‘सरकार’ का प्रदर्शन औसत से कम है।

 सर्वेक्षण में बताया गया है कि चुनाव में किसी उम्मीदवार को वोट देने के सवाल पर 84 फीसदी लोगों ने कहा कि मतदान करने में उनकी अपनी राय अहमियत रखती है, जबकि सात प्रतिशत ने कहा कि उनके परिवार की राय मायने रखती है, वहीं पांच प्रतिशत लोगों ने कहा कि उनकी पत्नी या पति की राय मतदान को लेकर मायने रखती है।