BREAKING NEWS

कर्नाटक संकट : सिद्धारमैया ने कहा-SC के पिछले आदेश के स्पष्टीकरण तक फ्लोर टेस्ट करना उचित नहीं◾कर्नाटक : CM कुमारस्वामी ने पेश किया विश्वास मत प्रस्ताव◾CM केजरीवाल का बड़ा ऐलान- अनधिकृत कॉलोनियों के मकानों की होगी रजिस्ट्री◾मुंबई पुलिस ने दाऊद इब्राहिम ने भतीजे रिजवान कासकर को किया गिरफ्तार◾मायावती के भाई आनंद कुमार के खिलाफ IT विभाग की कार्रवाई, 400 करोड़ का प्लॉट जब्त◾येद्दियुरप्पा ने किया दावा, बोले- सौ फीसदी भरोसा है कि विश्वास मत प्रस्ताव गिर जाएगा◾22 जुलाई को दोपहर 2 बजकर 43 मिनट पर लॉन्च होगा चंद्रयान-2◾सरकार कुलभूषण जाधव की सुरक्षा और जल्द भारत लाने की कोशिश जारी रखेगी : जयशंकर ◾अयोध्या मामला : SC का आदेश, 2 अगस्त से होगी सुनवाई◾रामनाथ कोविंद ने नौ क्षेत्रीय भाषाओं में फैसले उपलब्ध कराने के प्रयासों की प्रशंसा की ◾कुलभूषण जाधव मामले में ICJ के फैसले की पकिस्तान PM इमरान ने की सराहना◾राहुल गांधी बोले- फिर उम्मीद जगी है कि जाधव एक दिन भारत लौटेंगे◾कर्नाटक : कांग्रेस विधायक रामालिंगा रेड्डी इस्तीफा लेंगे वापस, करेंगे सरकार के पक्ष में मतदान ◾कर्नाटक : कुमारस्वामी सरकार का फ्लोर टेस्ट आज◾हाफिज सईद की गिरफ्तारी का डोनाल्ड ट्रंप ने किया स्वागत, ट्वीट कर कही ये बात ◾पीएम मोदी सहित कई दिग्गज नेताओं ने कुलभूषण जाधव पर ICJ के फैसले का किया स्वागत◾कुलभूषण जाधव ICJ के फैसले पर सुषमा ने मोदी को कहा शुक्रिया◾ICJ में भारत की बड़ी जीत : 15-1 से कुलभूषण यादव के पक्ष में गया फैसला , फांसी पर रोक ◾ICJ : जाधव मामले में पाकिस्तान ने विएना संधि का उल्लंघन किया, अब लगा तगड़ा झटका◾प्रधानमंत्री मोदी ने 47 से 56 वर्ष आयु वर्ग के भाजपा सांसदों से की मुलाकात ◾

दिल्ली – एन. सी. आर.

तिवारी बोले अध्यक्ष ‘मैं’ हूं, कोई नीति नहीं बनाई...

नई दिल्ली : दिल्ली प्रदेश भारतीय जनता पार्टी अध्यक्ष मनोज तिवारी व संगठन महामंत्री सिद्धार्थन के बीच तलवारें खिंच गई हैं। संगठन महामंत्री के पार्षदों को टिकट नहीं देने का ऐलान अध्यक्ष को रास नहीं आया। दो दिन बाद उन्होंने इशारो-इशारों में याद दिलाया कि दिल्ली भाजपा का अध्यक्ष ‘मैं’ हूं। मैने ऐसी कोई नीति नहीं बनाई। दो दिन में दो बड़े नेताओं के अलग-अलग बयानों से कार्यकर्ता दुविधा में है कि आखिर किसकी बात पर भरोसा किया जाए। 

दो दिन पूर्व संगठन महामंत्री सिद्धार्थन ने पूर्वी दिल्ली नगर निगम के पार्षदों के साथ मीटिंग करते हुए साफ कर दिया दिया था कि पार्षद टिकट के फेर में ना पड़े। उन्हें विधानसभा का टिकट नहीं मिलेगा। पार्षदों की जिम्मेदारी होगी कि वह अपने वार्ड से पार्टी के प्रत्याशी को जिताएं। भाजपा का 21 साल का वनवास खत्म करने के लिए सब एकजुट हो जाएं। नेताओं की परिक्रमा से नहीं काम से पार्टी को जीत मिलेगी। 

पार्टी के अंदर की इस खबर को पंजाब केसरी ने उजागर कर दिया। अब ऐसे में परिक्रमा पंसद नेताओं को लगा कि उनकी दाल गलेगी नहीं। अगर अभी से पार्षदों को लगा कि वह टिकट की दौड़ में नहीं है तो वह काम ही नहीं करेंगे। टिकट की दौड़ में लगे तमाम पार्षदों ने अध्यक्ष मनोज तिवारी से भी गुहार लगाई कि यह क्या हो रहा है? 

इसी के चलते सोमवार को प्रदेश कार्यालय में आयोजित संवाददाता सम्मेलन में मनोज तिवारी ने संगठन महामंत्री सिद्धार्थन सहित तमाम नेताओं को इशारों में संकेत दिया कि पार्टी का अध्यक्ष मैं हूं। उन्होंने निशाना तो मीडिया को बनाया लेकिन सब जानते है कि वह किसे चैलेंज कर रहे थे। तिवारी बोले कि मैंने ऐसी कोई नीति नहीं बनाई है। उन्होंने कहा कि जो जीत सकता है, वो टिकट पा सकता है। इसके लिए पार्टी के सर्वे सहित कई चीजों पर ध्यान रखती है। उन्होंने कहा कि ऐसी खबरों से उन्हें दुख होता है, लेकिन अब उन्होंने एक दुख वाली गोली ले रखी है, वह तुरंत उसे खा लेते और ज्यादा निराश नहीं होते। 

मनोज तिवारी की यह ‘मैं’ बहुत से कार्यकर्ताओं को रास नहीं आई। कार्यकर्ताओं ने तिवारी की खिंचाई करते हुए कह रहे कि भईया जी गौतम गंभीर व हंसराज हंस पर कहां सर्वे हुआ था। पिछली लोकसभा में जब आपको टिकट मिला तब कहां सर्वे हुआ था। भाजपा का साधारण कार्यकर्ता भी जानता है कि पार्टी में नीति कौन बनाता है? किसकी बात में कितनी गंभीरता है?  अपना जीवन पार्टी के नाम करके पर्दे के पीछे रहकर दिन-रात पार्टी के लिए एक करने वाली कि या फिर किसी और की।