BREAKING NEWS

अखिलेश बोले-बंगाल से ममता की तरह सपा UP से करेगी BJP का सफाया◾Winter Session: पांचवें दिन बदली प्रदर्शन की तस्वीर, BJP ने निकाला पैदल मार्च, विपक्ष अलोकतांत्रिक... ◾'Infinity Forum' के उद्घाटन में बोले PM मोदी-डिजिटल बैंक आज एक वास्तविकता◾TOP 5 NEWS 03 दिसंबर : आज की 5 सबसे बड़ी खबरें◾विशेषज्ञ का दावा- 'ओमीक्रॉन' वेरिएंट से मरने की आशंका कम, जानें किन अहम कदमों को उठाने की जरूरत ◾SC की फटकार के बाद 17 उड़न दस्तों का हुआ गठन, बारिश के बावजूद 'गंभीर' श्रेणी में बनी है वायु गुणवत्ता ◾Today's Corona Update : देश में मंडरा रहा 'ओमिक्रॉन' वैरिएंट का खतरा, 9216 नए मामलों की हुई पुष्टि ◾लोकसभा : CBI-ED निदेशकों के कार्यकाल वाले बिल को आज पेश करेगी सरकार, विपक्ष कर सकता है विरोध ◾'ओमिक्रॉन' के खतरे के बीच दक्षिण अफ्रीका से जयपुर लौटे एक ही परिवार के 4 लोग कोरोना पॉजिटिव◾कोरोना के मुद्दे पर विपक्ष ने किए केंद्र से सवाल, सदन में उठे महामारी के विभिन्न पहलु, जानें सरकार के जवाब ◾World Corona Update : संक्रमण के कुल मामले 26.41 करोड़, 8.07 अरब लोगों का हुआ टीकाकरण ◾कर्नाटक : 'ओमिक्रॉन' के दो मरीज मिलने के बाद मुख्यमंत्री ने बुलाई उच्च स्तरीय बैठक, अधिकारियों के साथ करेंगे चर्चा ◾ दिल्ली : केंद्र सरकार के नीट पीजी पर लिए गए फैसले के खिलाफ डॉक्टरों ने की हड़ताल, ओपीडी सेवा भी रही प्रभावित ◾कर्नाटक में Omicron के दो मामले आए सामने : एक दक्षिण अफ्रीकी नागरिक, एक स्थानीय व्यक्ति◾विपक्ष ने सरकार को कोरोना के मुद्दे पर घेरा, बूस्टर खुराक पर स्थिति स्पष्ट करने की मांग की◾शीतकालीन सत्रः राज्यसभा से निलंबित सदस्यों के मुद्दे पर सरकार-विपक्ष में हो रही वार्ता◾भारत के पहले Omicron संक्रमित मरीज की ये बात आई सामने, 27 नवंबर को जा चुका है दुबई◾सुरजेवाला का ममता पर पलटवार, पूछा- आपकी प्राथमिकता प्रधानमंत्री के खिलाफ लड़ना है या कांग्रेस के खिलाफ ?◾पंजाबः चरणजीत सिंह चन्नी ने कहा-हमारी ‘चंगी सरकार’ वादों पर खरी उतरी◾कोरोना के ओमिक्रॉन वैरिएंट ने भारत में भी दी दस्तक, कर्नाटक में मिले हैं दो मामले◾

दिल्ली में बढ़ते अपराध रोकने के लिए ट्रैफिक पुलिस ने लॉन्च किया विशेष अभियान

राष्ट्रीय राजधानी में तेजी से बढ़ रहे अपराध के ग्राफ पर लगाम लगाने के लिए दिल्ली ट्रैफिक पुलिस ने अपराध संभावित क्षेत्रों समेत प्रमुख स्थानों पर बाइक सवारों को रोकने के लिए विशेष अभियान लॉन्च किया है। सशस्त्र अपराधियों से निपटने के लिए दिल्ली ट्रैफिक पुलिस के साथ सशस्त्र जोनल अधिकारी भी तैनात किए जाएंगे। 

पिछले एक पखवाड़े में दिल्ली के ज्यादातर स्थानों पर बाइक सवार सशस्त्र झपटमार गिरोहों ने महिलाओं या पैदल यात्रियों को निशाना बनाते हुए आतंक फैलाया हुआ है। कई मामलों में विरोध करने पर अपराधियों ने गोली मारकर शिकार की हत्या कर दी। रिपोर्ट के अनुसार, गुरुवार को दिल्ली के उप राज्यपाल अनिल बैजल ने दिल्ली पुलिस आयुक्त अमूल्य पटनायक से बैठक कर सशस्त्र लूट, डाके और हत्याओं की बढ़ती घटनाओं पर नाराजगी जाहिर की। 

इसके बाद शुक्रवार को पुलिस आयुक्त ने पुलिस मुख्यालय पर बैठक कर सभी पुलिस उपायुक्तों (डीसीपी) को कमर कसने का निर्देश दिया है। शुक्रवार को विशेष पुलिस आयुक्त ताज हसन ने संयुक्त पुलिस आयुक्तों को अगले 15 दिनों तक बाइकरों पर लगाम कसने और निगरानी करने के लिए विशेष अभियान चलाने का निर्देश दिया। हसन ने कहा, 'बाइकरों पर निगरानी रखने, उनसे पूछताछ करने के लिए प्रत्येक क्षेत्र (सर्किल) में सशस्त्र जोनल ऑफिसर्स (जेडओ) के साथ कम से कम दो टीमें तैनात होने चाहिए।'

ट्रैफिक पुलिस सशस्त्र अपराधियों से कैसे निपटेगी? इस सवाल पर हसन ने कहा, 'अगर उन्होंने हिंसा का सहारा लिया तो हम जानते हैं कि जवाब कैसे देना है। प्रत्येक टीम के साथ एक सशस्त्र जोनल ऑफिसर होगा।' केंद्रीय खुफिया एजेंसियों द्वारा गृह मंत्रालय को भेजी गई एक रिपोर्ट में खुलासा हुआ है कि उत्तर प्रदेश में बार-बार एनकाउंटर के कारण गैंगस्टरों ने दिल्ली में शरण ले ली है। 

उत्तर प्रदेश पुलिस ने मेरठ जोन में, जिसके तहत मेरठ, नोएडा, गाजियाबाद और मुजफ्फरनगर समेत कुल नौ क्षेत्र आते हैं, पिछले दो सालों में लगभग 60 अपराधियों को मार गिराया और लुटेरों समेत लगभग 900 अपराधी बुरी तरह घायल हुए हैं। जिसके बाद बड़े अपराधियों को मजबूरन दिल्ली भागना पड़ा। 

दिल्ली में एक वरिष्ठ आईपीएस अधिकारी के अनुसार, अपराध से निपटने में पटनायक एक अनुभवी अधिकारी हैं, लेकिन वह योगी आदित्यनाथ सरकार के तहत उप्र पुलिस द्वारा अपनाई गई एनकाउंटर नीति से सहमत नहीं हैं। इसके परिणामस्वरूप पश्चिमी उत्तर प्रदेश के सीमावर्ती जिलों के अपराधी दिल्ली को एक सुरक्षित पनाहगाह मान रहे हैं। अपराधियों की हिम्मत दिन-प्रतिदिन बढ़ती ही जा रही है। 

शुक्रवार को एक झपटमार गिरोह ने ओखला के निकट एक ट्रैफिक सिग्नल पर एक महिला न्यायाधीश की कार के पिछले दरवाजे का शीशा तोड़ दिया, और गाड़ी में रखा हैंड बैग झपट लिया और नकदी, डेबिट कार्ड तथा अन्य महत्वपूर्ण दस्तावेज झपट लिए। शुक्रवार को ही सुबह तीन अपराधियों ने सागरपुरा में एक युवक से हैंडबैग छीन लिया। जब उसने विरोध किया तो उनमें से एक अपराधी ने उसे चाकू घोंपकर मार डाला। 

बुधवार को, द्वारका मोड़ के निकट एक व्यस्त सड़क पर हैलमेट पहने दो अपराधियों ने एक व्यापारी की गोली मारकर हत्या कर दी। इससे पहले 21 सितंबर को पटपड़गंज में मैक्स हॉस्पिटल के निकट हैलमेट पहने अपराधियों ने लूट के उद्देश्य से एक महिला (59) की गोली मारकर हत्या कर दी थी। उन्नीस सितंबर को कनॉट प्लेस के निकट अपराधियों ने बंदूक की नोक पर एक जोड़े का पीछा कर लूट लिया। गंभीर अपराधों की यह सूची बहुत लंबी है। 

सड़क पर बढ़ते अपराधों पर चिंता जाहिर करते हुए, दिल्ली पुलिस के पूर्व आयुक्त अजय राज शर्मा ने कहा कि अगर अपराधियों को लगता है कि पुलिस सक्रिय नहीं है तो उन्हें कोई फिक्र नहीं होती और वे और भी अधिक धृष्टता से सरेआम अपराधों को अंजाम देते हैं। शर्मा ने कहा, 'अपराध की प्रवृति यह स्पष्ट कर देती है कि अपराधियों में पुलिस, कानून यहां तक कि कोर्ट का भी कोई डर नहीं है। यह तब होता है जब पुलिस ऐसे अपराधियों के खिलाफ कठोर कार्रवाई करने में या तो संकोच करते हैं या सुस्ती दिखाती है।'