नई दिल्ली : दक्षिणी दिल्ली के बदरपुर इलाके में रविवार को एक स्थान से लावारिस हालत में मिले 200 वोटर कार्ड के मामले को लेकर आम आदमी पार्टी (आप) ने चुनाव आयोग को पत्र लिखा है। जिसमें इस मामले की शिकायत करते हुए इसकी जांच कराने की मांग की गई है। आप नेता राघव चड्ढ़ा द्वारा लिखे गये इस पत्र में कहा गया है कि भाजपा ने दिल्ली में 30 लाख लोगों के नाम मतदाता सूची से कटवाकर उनका संवैधानिक अधिकार छीन लिया। इस बात को मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल काफी पहले से कह रहे थे। अब यह बात पूरी तरह से साबित हो गई है।

उन्होंने आगे कहा कि नाम कटने की शिकायतों के बाद पार्टी ने दिल्लीभर में 39 वार्डों में वोटर रजिस्ट्रेशन कैंप लगाये जिनमें से पांच कैंप बदरपुर विधानसभा क्षेत्र में लगाये गये थे। लोगों ने यहां अपने नाम दर्ज कराये पर कुछ दिनों बाद शिकायत मिलीं की लोगों के पहचान पत्र उनके घर नहीं पहुंच रहे हैं। हमनें डीएम एवं मुख्य निर्वाचन अधिकारी (दिल्ली) से इसका कारण पता लगाने की कहा। रविवार को कुछ पार्टी के कार्यकर्ताओं को कूड़ेदान में 200 पहचान पत्र मिले।

उन्होंने आरोप लगाया कि भाजपा ने बीएलओ और पोस्टल अधिकारी की मदद वोटर कार्डस को कचरे के डिब्बे में डलवा दिया। लोगों के वोटर कार्ड पहुंचाने की जिम्मेदारी चुनाव आयोग एवं पोस्टल विभाग है तो ये पहचान पत्र कचरे के डिब्बे के पास कैसे पाये गये? साथ ही चुनाव आयोग इसकी बात की भी जांच करें कि इन वोटर कार्ड को लावारिस स्थिति में फैंकने के लिए कौन अधिकारी एवं भाजपा के नेता जिम्मेदार हैं और चुनाव आयोग वोटर कार्ड को जनता तक पहुंचाने की प्रक्रिया की भी पूरी निगरानी करें।