BREAKING NEWS

थानों में महिला हेल्प डेस्क की स्थापना के लिए 100 करोड़ रुपये आवंटित◾कर्नाटक उपचुनाव में 62.18 प्रतिशत मतदान, 12 सीटों पर त्रिकोणीय मुकाबला ◾प्याज को लेकर भाजपा सांसद ने कांग्रेस पर कसा तंज ◾मोदी को तानाशाह के रूप में बदनाम करने की साजिश : स्वामी◾आंध्रप्रदेश के मुख्यमंत्री पहुंचे दिल्ली, मिलेंगे प्रधानमंत्री एवं केंद्रीय मंत्रियों से ◾उन्नाव बलात्कार पीड़िता दिल्ली हवाई अड्डे पहुंची, पुलिस ने अस्पताल तक बनाया ग्रीन कॉरीडोर ◾अनुच्छेद 370 : लाइव स्ट्रीमिंग संबंधी याचिका पर सुनवाई करेगा सुप्रीम कोर्ट◾हफ्ते भर बाद भी मंत्रियों को नहीं मिला विभाग, भाजपा ने की आलोचना ◾बैंक धोखाधड़ी : ईडी ने रतुल पुरी की जमानत अर्जी का किया विरोध◾राहुल गांधी ने प्याज पर सीतारमण के बयान को लेकर तंज कसा ◾TOP 20 NEWS 05 December : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾PNB घोटाला : नीरव मोदी भगोड़ा आर्थिक अपराधी घोषित ◾DTC और क्लस्टर बसों में लगेंगे CCTV कैमरे, पैनिक बटन, GPS : केजरीवाल ◾मायावती ने केंद्र द्वारा लाए गए नागरिकता संशोधन विधेयक को बताया विभाजनकारी और असंवैधानिक◾चिदंबरम ने पहले ही दिन जमानत की शर्तों का उल्लंघन किया: प्रकाश जावड़ेकर◾अर्थव्यवस्था पर असामान्य रूप से मौन हैं PM मोदी, सरकार को नहीं कोई खबर : चिदंबरम ◾रेपो दर में नहीं हुआ कोई बदलाव, RBI ने GDP ग्रोथ अनुमान घटाकर किया 5 फीसदी◾वायनाड में बोले राहुल- PM मोदी और अमित शाह ‘काल्पनिक’ दुनिया में जी रहे हैं इसलिए देश संकट में है◾जेल से बाहर आते ही एक्शन में दिखे चिदंबरम, संसद परिसर में मोदी सरकार के खिलाफ किया प्रदर्शन◾प्रियंका ने योगी सरकार पर साधा निशाना, कहा- प्रदेश में कानून व्यवस्था बेहतर होने के फर्जी प्रचार से बाहर निकलना चाहिए◾

दिल्ली – एन. सी. आर.

दिल्ली स्पेशल प्रोविजन एक्ट के तहत सुप्रीम कोर्ट की बिना अनुमति के सीलिंग नही हो सकती : जैन

 jain sealing

दिल्ली सरकार ने राजधानी में किसी भी प्रकार की सीलिंग की खिलाफत की है। इस बारे में सोमवार को एक प्रेसवार्ता कर दिल्ली सरकार के मंत्री कैबिनेट मंत्री सत्येंद्र जैन ने कहा कि कई अखबारों में छपी खबरों के माध्यम से मुझे पता चला है कि लाजपत नगर के अमर कॉलोनी एरिया में मॉनिटरिंग कमिटी द्वारा सीलिंग की जा रही है। 

मैं मीडिया के माध्यम से जनता को बताना चाहता हूं कि दिल्ली में स्पेशियल प्रोविजन एक्ट लागू है। जिसके अनुसार जो इमारतें 2009 से पहले बनकर तैयार हो चुकी हैं, वे सभी इमारतें इस एक्ट के अधीन आती हैं और 2020 तक इन इमारतों में किसी भी प्रकार की सीलिंग नही की जा सकती। अगर मॉनिटरिंग कमेटी कहीं भी कोई कार्रवाई करना चाहती है तो इसके लिए पहले कमेटी को सुप्रीम कोर्ट से इजाजत लेनी पड़ेगी। 

जैन ने कहा कि मॉनिटरिंग कमेटी किसी भी प्रकार से स्पेशियल प्रोविजन एक्ट का उलंघन नही कर सकती है। अमर कॉलोनी के अंदर किसी भी प्रकार का डेमोलिशन या सीलिंग नही होनी चाहिए। यहां पर लगभग सभी इमारतें 2009 से पहले की बनी हुई हैं। न केवल अमर कालोनी बल्कि पूरी दिल्ली में कहीं भी बिना इजाजत सीलिंग नही की जा सकती। जैन ने कहा कि संसद द्वारा बनाए गए प्रावधान के अनुसार पूरी दिल्ली में किसी भी प्रकार की सीलिंग पर तुरंत रोक लगनी चाहिए।