सामान्य लोगो के साथ धोखाधड़ी होना आम बात है लेकिन शीर्ष स्तर के नेता और बड़े लोग भी इसके शिकार बनते रहे हैं। यह बात हैरान करने वाली है धोखाधड़ी के शिकार कोई और नहीं पूर्व केंद्रीय मंत्री और उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू हुए हैं। वेंकैया नायडू ने शुक्रवार को राज्य सभा सत्र में अपने भाषण के दौरान एक ऐसी घटना का जिक्र किया जिसमें उन्होंने बताया वह वजन घटाने के विज्ञापन से धोखा खा गए थे।

राज्य सभा में बैठक के दौरान उन्होंने अपने भाषण में बताया कि उन्हें वजन घटाने वाली एक कंपनी ने धोखा दिया। उन्होंने इसके बारे में उपभोक्ता विभाग से शिकायत की। बाद में जाँच किए जाने के बाद पता चला कि यह कंपनी अमेरिका में स्थित है।

राज्य सभा में यह मुद्दा टब उठा जब सपा सांसद नरेश अग्रवाल ने मिलावट और नकली सामान पर सवाल उठाया। साथ ही कहा कि विज्ञापनों का जोर है। बाजार में हर चीज में मिलावट देखने को मिलता है, वजन घटाने का दावा किया जाता है।

सरकार को चाहिए कि वह दिशा में भ्रामक चीजों पर अंकुश लगाने की दिशा में प्रयास करे। इसी दौरान वेंकैया नायडू ने अपने साथ हुए इस धोखे का जिक्र किया। उन्होंने कहा, “उपराष्ट्रपति बनने के बाद मैंने एक विज्ञापन देखा कि इस दवा का सेवन करने पर 28 दिन में वजन कम हो जाएगा।

फिलहाल मेरा वजन हो गया, लेकिन जानकारी के लिए मैंने कुछ रुपए देकर दंवा मंगवाई। फिर उत्तर आया तो उसे खोला तो देखा कि उसमें लिखा कि एक हजार से ज्यादा का पैसा भेजिए तो आपको ओरिजनल दवा मिलेगी।” इसके बाद मैंने उपभोक्ता मामलों के विभाग को पत्र लिखा। इसके बाद पड़ताल में पता चला कि यह कंपनी दिल्ली की न होकर अमेरिका की है।

24X7 नई खबरों से अवगत रहने के लिए क्लिक करे