BREAKING NEWS

राजस्थान : विधायक दल की बैठक के बाद कांग्रेस ने कहा- सभी विधायकों ने भाजपा का षड्यंत्र विफल करने का लिया संकल्प ◾नहीं थम रहा महाराष्ट्र में कोरोना का कहर, संक्रमितों का आंकड़ा 5.60 लाख के पार, बीते 24 घंटे में 11,813 नए केस◾आंध्र प्रदेश में कोरोना का प्रकोप जारी, 24 घंटों में 82 लोगों की मौत, 9996 नए मामले◾राजस्थान: विधायक दल की बैठक में मुख्यमंत्री गहलोत बोले- कांग्रेस खुद लाएगी विश्वास प्रस्ताव ◾कोविड-19 : राहुल का PM मोदी पर वार, कहा- कोरोना की यह ‘संभली हुई स्थिति’ है तो ‘बिगड़ी स्थिति’ किसे कहेंगे ◾कोविड-19 : स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा- देश में मृत्यु दर घटकर 1.96 % हुई, कुल 27 प्रतिशत लोग ही संक्रमित◾राजस्थान : CM आवास पर शुरू हुई कांग्रेस विधायक दल की बैठक, गहलोत से मिले पायलट◾राजस्थान की गहलोत सरकार के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव लाएगी BJP◾उत्तर प्रदेश में कोरोना के 4 हजार 603 नए मामले की पुष्टि, 50 लोगों की मौत◾रक्षा उत्पादन में घरेलू उद्योगों को पांच वर्षों में चार लाख करोड़ रूपये के दिए जायेंगे आर्डर: राजनाथ◾फेसलेस जांच और अपील से करदाताओं की शिकायतों का बोझ कम होगा, निष्पक्षता बढ़ेगी : सीतारमण ◾PM मोदी ने लांच किया 'ट्रांसपेरेंट टैक्सेशन ऑनरिंग द ऑनेस्ट', देशवासियों से की आगे बढ़कर कर भुगतान की अपील ◾श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के अध्यक्ष नृत्य गोपाल दास कोरोना वायरस से संक्रमित◾देश में पिछले 24 घंटे में कोरोना के 66,999 नए केस, मृतकों का आंकड़ा 47 हजार पार◾प्राइवेट ट्रेन चलाने के लिए इन 23 कंपनियों ने दिखाई दिलचस्पी, जानें क्या है रेलवे की डिमांड ◾कोविड 19 - दुनियाभर में वायरस संक्रमण से मौतें 7.47 लाख और मामले 2 करोड़ से अधिक◾प्रवर्तन निदेशालय ने सुशांत सिंह राजपूत के बॉडीगॉर्ड को भेजा समन, पूछताछ के लिए बुलाया ◾दिल्ली - एनसीआर में रातभर हुई मूसलाधार बारिश से जगह - जगह जलभराव, आज दिन भर का अलर्ट◾कांग्रेस प्रवक्ता राजीव त्यागी के निधन पर प्रियंका ने जताया दुख, राहुल बोले : पार्टी ने ‘बब्बर शेर’ खो दिया◾कोरोना वायरस के कारण फीका-फीका रहा ब्रज में कृष्ण जन्मोत्सव, भक्तों ने ऑनलाइन किये दर्शन ◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

दिल्ली की नब्ज जानते हैं विजय गोयल

नई दिल्ली : दिल्ली के पूर्व मुख्यमंत्री मदन लाल खुराना को दिल्ली का पुजारा कहा जाता था। अब अगर केन्द्रीय मंत्री विजय गोयल को दिल्ली की राजनीति का डॉक्टर कहा जाए तो गलत नहीं होगा। एक बार गोयल ने साबित कर दिया कि उन्हें दिल्ली की जनता की नब्ज पकड़नी आती है। दिल्ली की जनता की कोई तकलीफ होते ही वह तुरंत उसका इलाज में जुट जाते है। भाजपा से छिटक रहे व्यापारियों को एकजुट करके उन्होंने अपनी ताकत तो दिखाई ही, उसके साथ ही एक ही तीर से कई और शिकार भी कर डाले। शुक्रवार को तालकटोरा स्टेडियम में व्यापारियों के सम्मेलन में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने संवाद किया।

भाजपा के संकल्प पत्र में व्यापारियों के लिए की गई घोषणाओं को व्यापारियों से जोड़ने के लिए इस कार्यक्रम का आयोजन किया था। यह आयोजन तमाम व्यापारी संगठनों ने मिलकर किया था। इस आयोजन के लिए विजय गोयल पिछले कई दिनों से जुटे हुए थे। पहले नोटबंदी, फिर जीएसटी और सीलिंग से दिल्ली के व्यापारियों में भाजपा के प्रति रोष झलक रहा था। दिल्ली की राजनीति के डॉक्टर विजय गोयल ने इस रोष को बहुत पहले ही भांप लिया था। इसी कारण व्यापारियों के लिए कल्याणकारी आयोग बनाने के संबंध में एक रिपोर्ट तैयार कराई थी।

गत 24 अक्टूबर को विजय गोयल ने यह रिपोर्ट प्रधानमंत्री को देकर मांग की थी कि व्यापारियों के लिए कुछ कदम उठाए जाए। उसी रिपोर्ट का असर है कि भाजपा ने अपने संकल्प पत्र में छोटे दुकानदारों को पेंशन, जीएसटी रजिस्टर्ड व्यापारी को दस लाख का दुर्घटना बीमा, एक लाख का व्यापारी क्रेडिट कार्ड जैसी बात रखी गई। यह राष्ट्रीय व्यापारी कल्याण बोर्ड का हिस्सा बनेंगे। इस संकल्प पत्र के आते ही शाम को गोयल ने व्यापारियों को अपने घर बुलाकर पीएम का धन्यवाद जता दिया। फिर एक बड़े कार्यक्रम की रूपरेखा लेकर वह लगातार दिल्ली में व्यापारियों से संवाद करने लगे। इसके लिए उन्होंने जहां भाजपा से जुड़े व्यापारी संगठन के साथ मीटिंग की, वहीं अन्य व्यापारियों के बीच भी वह पहुंचे। लगभग सौ मीटिंग की गई।

इसी की नतीजा था कि शुक्रवार को तालकटोरा स्टेडियम खचाखच भरा था। व्यापारी दो घंटे तक बैठे रहे। उनकी भीड़ ने यह भी दिखा दिया कि व्यापारी भाजपा के साथ है। इसके साथ ही एक तीर से कई शिकार करते हुए पार्टी में उनके विरोधियों को भी नजर आ गया कि वह अकेले दम पर बहुत कुछ कर सकते है। इससे पहले भी केजरीवाल के ऑड-ईवन सहित तमाम मामलों पर दिल्ली में सबसे आगे दिख चुके है। सरकारी स्कूलों में जाकर केजरीवाल की पोल खोलनी हो या फिर प्रदूषण पर साइकिल रैली और पार्कों में मॉर्निंग वॉक। वह हर माध्यम से दिल्ली की जनता से जुड़ने में लगे रहते हैं।

- सतेन्द्र त्रिपाठी