BREAKING NEWS

कोरोना संकट : देश में कोरोना संक्रमित मरीजों का आंकड़ा 1000 के पार, मौत का आंकड़ा पहुंचा 24◾कोरोना महामारी के बीच प्रधानमंत्री मोदी आज करेंगे मन की बात◾कोरोना : लॉकडाउन को देखते हुए अमित शाह ने स्थिति की समीक्षा की◾इटली में कोरोना वायरस का प्रकोप जारी, मरने वालों की संख्या बढ़कर 10,000 के पार, 92,472 लोग इससे संक्रमित◾स्पेन में कोरोना वायरस महामारी से पिछले 24 घंटों में 832 लोगों की मौत , 5,600 से इससे संक्रमित◾Covid -19 प्रकोप के मद्देनजर ITBP प्रमुख ने जवानों को सभी तरह के कार्य के लिए तैयार रहने को कहा◾विशेषज्ञों ने उम्मीद जताई - महामारी आगामी कुछ समय में अपने चरम पर पहुंच जाएगी◾कोविड-19 : राष्ट्रीय योजना के तहत 22 लाख से अधिक सार्वजनिक स्वास्थ्य सेवा कर्मियों को मिलेगा 50 लाख रुपये का बीमा कवर◾कोविड-19 से लड़ने के लिए टाटा ट्रस्ट और टाटा संस देंगे 1,500 करोड़ रुपये◾लॉकडाउन : दिल्ली बॉर्डर पर हजारों लोग उमड़े, कर रहे बस-वाहनों का इंतजार◾देश में कोविड-19 संक्रमण के मरीजों की संख्या 918 हुई, अब तक 19 लोगों की मौत ◾कोरोना से निपटने के लिए PM मोदी ने देशवासियों से की प्रधानमंत्री राहत कोष में दान करने की अपील◾कोरोना के डर से पलायन न करें, दिल्ली सरकार की तैयारी पूरी : CM केजरीवाल◾Coronavirus : केंद्रीय राहत कोष में सभी BJP सांसद और विधायक एक माह का वेतन देंगे◾लोगों को बसों से भेजने के कदम को CM नीतीश ने बताया गलत, कहा- लॉकडाउन पूरी तरह असफल हो जाएगा◾गृह मंत्रालय का बड़ा ऐलान - लॉकडाउन के दौरान राज्य आपदा राहत कोष से मजदूरों को मिलेगी मदद◾वुहान से भारत लौटे कश्मीरी छात्र ने की PM मोदी से बात, साझा किया अनुभव◾लॉकडाउन को लेकर कपिल सिब्बल ने अमित शाह पर कसा तंज, कहा - चुप हैं गृहमंत्री◾बेघर लोगों के लिए रैन बसेरों और स्कूलों में ठहरने का किया गया इंतजाम : मनीष सिसोदिया◾कोविड-19 : केरल में कोरोना वायरस से पहली मौत, देश में अबतक 20 लोगों की गई जान ◾

प्रवासियों के खिलाफ हिंसा : जीएसएचआरसी ने गुजरात डीजीपी, मुख्य सचिव को नोटिस भेजा

गुजरात राज्य मानवाधिकार आयोग (जीएसएचआरसी) ने बुधवार को राज्य के मुख्य सचिव और पुलिस महानिदेशक (डीजीपी) को नोटिस जारी किया और हिंदी भाषी प्रवासी कामगारों पर हमले और उनके पलायन पर रिपोर्ट मांगी। गांधीनगर में जीएसएचआरसी की अध्यक्ष न्यायमूर्ति (सेवानिवृत्त) अभिलाषा कुमारी ने संवाददाताओं को बताया कि रिपोर्ट 20 दिन के अंदर जमा करानी होगी। उन्होंने कहा कि मुख्य सचिव जे. एन. सिंह और डीजीपी शिवानंद झा को नोटिस जारी किये गये हैं और उनसे राज्य में प्रवासी कामगारों पर हमलों के संदर्भ में उनकी सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिये उठाये गये कदमों पर रिपोर्ट मांगी गयी है।

उन्होंने कहा, ‘‘राज्य में (प्रवासियों पर हमलों के बाद) शांति बनाये रखने और जिन लोगों पर हमले हो रहे हैं उनकी सुरक्षा के लिये क्या कदम उठाये गये हैं, इस पर स्पष्टीकरण देने को कहा गया है।’’ यहां से करीब 100 किलोमीटर दूर साबरकांठा जिले में 28 सितंबर को 14 महीने की एक बच्ची से कथित बलात्कार और इस अपराध के लिये बिहार के एक मजदूर की गिरफ्तारी के बाद छह जिलों अधिकतर उत्तरी गुजरात में हिंदी भाषियों के खिलाफ हिंसा की छिटपुट घटनाएं देखने को मिली हैं। बिहार का रहने वाला आरोपी रवींद्र साहू एक स्थानीय सेरेमिक कारखाने में काम करता था और उसे बच्ची से कथित बलात्कार की घटना वाले दिन ही गिरफ्तार कर लिया गया था।

गुजरात और महाराष्ट्र में बिहारियों के पलायन को रोको, वर्ना अमित शाह को बिहार में घुसने नहीं देंगे : मोहन झा

हमलों के बाद हजारों की तादाद में उत्तर प्रदेश, बिहार और मध्य प्रदेश से प्रवासी पलायन कर गये। राज्य के गृह राज्य मंत्री प्रदीप सिंह जडेजा ने मंगलवार को बताया कि इस संबंध में 61 मामले दर्ज किये जाने के बाद समूचे प्रभावित जिलों में अब तक 533 लोगों को गिरफ्तार किया गया है। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने इससे पहले हिंदी भाषी प्रवासियों के पलायन का मुद्दा उठाते हुए कहा था कि राजस्थान, मध्य प्रदेश और उत्तर प्रदेश के युवाओं पर हमले हो रहे हैं और उन्हें पलायन के लिये मजबूर किया जा रहा है।

हालांकि मुख्यमंत्री विजय रुपाणी ने मंगलवार को पूछा कि क्या राहुल ‘‘पार्टी के अपने कार्यकर्ताओं के खिलाफ कार्रवाई करेंगे, जिन्होंने गुजरात में प्रवासियों के खिलाफ हिंसा भड़कायी।’’ भाजपा कांग्रेस विधायक अल्पेश ठाकोर और उनके संगठन गुजरात क्षत्रिय-ठाकोर सेना पर हिंसा भड़काने के आरोप लगा रही है। 14 महीने की बच्ची से कथित बलात्कार के बाद ठाकोर ने सार्वजनिक रूप से इस अपराध के लिये एक ‘‘गैर-गुजराती’’ पर सार्वजनिक आरोप लगाया था।

पीड़ित बच्ची उनके ही समुदाय से थी। बहरहाल राज्य के कई हिस्सों में हमले की घटना के बाद गुजरात से हिंदी भाषियों के पलायन में मंगलवार को कमी के कोई संकेत नहीं दिखे। लोगों में विश्वास बहाल करने के लिये पुलिस ने औद्योगिक इलाकों और फैक्ट्रियों के पास मजदूरों के ठहरने वाले स्थानों पर सुरक्षा बढ़ा दी। गुजरात में उत्तर भारतीयों के संगठन उत्तर भारतीय विकास परिषद के अध्यक्ष श्याम सिंह ठाकुर ने मंगलवार को बताया कि राज्य से अब तक 60,000 से अधिक हिंदी भाषी कामगार पलायन कर चुके हैं।