BREAKING NEWS

अनिल बैजल ने दिल्ली में अंतर-राज्यीय बस सेवा फिर से शुरू करने की दी मंजूरी, सभी सीटों पर बैठ सकेंगे यात्री◾'अश्विनी मिन्ना' मेमोरियल अवार्ड में आवेदन करने के लिए क्लिक करें ◾मध्यप्रदेश उपचुनाव : कांग्रेस को बड़ा झटका, चुनाव आयोग ने कमलनाथ का स्टार प्रचारक का दर्जा किया रद्द◾विंग कमांडर अभिनंदन की रिहाई के​ लिए पाक पर कोई 'दबाव नहीं' था : पाकिस्तान ◾पीएम मोदी ने सरदार पटेल प्राणी उद्यान में ‘जंगल सफारी’ का उद्घाटन किया ◾टेक्नोलॉजी में अमेरिका को टक्कर देने के लिए चीन ने बनाया प्लान, चौतरफा विरोध के बीच उठाया बड़ा कदम ◾हंदवाड़ा में चेकिंग के दौरान लश्कर-ए-तैयबा से जुड़े 2 आतंकी गिरफ्तार, हथियार भी बरामद◾उत्तर प्रदेश : राजनीतिक दुश्मनी के चलते अमेठी में ग्राम प्रधान के पति को जिंदा जलाया◾फ्रांसीसी राष्ट्रपति मैक्रों के खिलाफ जाकिर नाइक ने उगला जहर, कहा-मिलेगी दर्दनाक सजा◾केवडिया : पीएम मोदी ने की न्यूट्री ट्रेन की सवारी, एकता मॉल और बच्चों के पोषक पार्क का किया उद्घाटन◾पीएम मोदी के दो दिवसीय गुजरात दौरे की हुई शुरुआत, पांच लाख पौधे वाले आरोग्य वन का किया लोकार्पण ◾बिहार : दूसरे चरण के चुनाव में आरजेडी,जेडीयू के सामने बड़ी चुनौती, सिवान में कांटे की टक्कर ◾राष्ट्रपति, पीएम सहित कांग्रेस नेताओं ने 'मिलाद-उन-नबी' के मौके पर देशवासियों को दी बधाई◾चीन द्वारा पूर्वी लद्दाख में दोबारा जमीन कब्जाने वाली रिपोर्ट को भारतीय सेना ने फर्जी करार दिया ◾प्रधानमंत्री मोदी ने जम्मू-कश्मीर में 'टीआरएफ' द्वारा भाजपा कार्यकर्ताओं की हत्या की निंदा की◾IPL -13 : राजस्थान रॉयल्स की जीत होगी बेहद जरूरी हार के साथ हो सकती है प्लेऑफ की दौड़ से बाहर ◾PM मोदी ने पूर्व CM केशुभाई को दी श्रद्धांजलि, महेश और नरेश कनोडिया के परिजनों से की मुलाकात◾जम्मू और कश्मीर : BJP नेताओं के घर पसरा मातम, नड्डा बोले-व्यर्थ नहीं जाएगा बलिदान◾मुंगेर घटना को संजय राउत ने बताया हिंदुत्व पर हमला, BJP की चुप्पी पर उठाया सवाल ◾LAC तनाव के बीच चीन की तैयारी, कड़ाके की ठंड से निपटने के लिए अपने सैनिकों को दिए हाई-टेक उपकरण ◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

जामिया नगर में हिंसक झड़पें, तनाव बरकरार

दक्षिणी दिल्ली के जामिया नगर इलाके के लोगों का नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) के विरोध में जारी प्रदर्शन रविवार को हिंसक हो गया जिसमें कई लोग घायल हो गए। घायलों में पुलिसकर्मी भी शामिल हैं। 

जामिया नगर इलाके से हजारों की संख्या में लोग दोपहर मौलाना मोहम्मद अली जौहर मार्ग पर एकत्र होकर ओखला मोड़ की तरफ बढ़ी । प्रदर्शनकारियों को सूर्या होटल के करीब पुलिस ने बैरीकेड लगाकर रोक दिया उसके बाद भीड़ दूसरी सड़क पर माता मंदिर की तरफ से मथुरा रोड पर पहुंच गई जहां पुलिस के साथ हिंसक झड़पें हुई। पुलिस लाठीचार्ज और आंसू गैस के गोले छोड़ते हुए भीड़ को खदेड़ कर जामिया विश्वविद्यालय के बीचों बीच वाली सड़क पर ले आई। 

जामिया की लाइब्रेरी से बाहर निकाले गए छात्र छात्राओं ने बताया कि प्रदर्शनकारी जामिया नगर इलाके की तरफ चले गए उसके बाद पुलिस जामिया परिसर में गई। पुलिस लाइब्रेरी के दरवाजे को तोड़कर अंदर गई और छात्रों के साथ मारपीट की। उसके बाद सैकड़ छात्र छात्राओं को हाथ उठाकर परेड कराते हुए बाहर निकाला गया। इस दौरान पुलिस कहती रही कि बिना बातचीत किये जल्दी जल्दी आगे चलते जाओ। 

उन्होंने कहा कि जामिया परिसर में एसआरके हॉस्टल की मस्जिद में घुसकर भी पुलिस ने छात्रों के साथ मारपीट की। 

जामिया प्रशासन की ओर से विश्वविद्यालय में शीतकालीन अवकाश घोषित करने के बावजूद नागरिकता (संशोधन) कानून (सीएए) के खिलाफ रविवार को भी छात्रों ने विश्वविद्यालय परिसर और आस-पास के इलाकों में विरोध प्रदर्शन किया जिसने हिंसक रूप ले लिया। 

दक्षिण पूर्वी जिले के पुलिस उपायुक्त चिन्मय बिस्वाल ने कहा कि पुलिस प्रदर्शकारियों को मथुरा रोड पर जाने से लगातार रोकने का आह्वान करती रही लेकिन भीड़ आगे बढ़ती गई। लोगों को तितर-बितर करने के लिए आँसू गैस के गोले छोड़ गए और हल्का बल प्रयोग किया गया। उसके बाद भीड़ उग्र हो गई और पुलिस पर पथराव करने लगी। इस दौरान तीन बसों को आग के हवाले कर दिया गया और पांच बसों में तोड़फोड़ की गई। उन्होंने कहा कि भीड़ पर फिलहाल काबू पा लिया गया है लेकिन स्थिति तनावपूर्ण है इसलिए जामिया परिसर के बाहर पुलिस बलों को तैनात किया गया है। 

पुलिस ने बड़ संख्या में छात्रों को हिरासत में भी लिया है। प्रदर्शनकारियों को नियंत्रित करने के लिए पुलिस लगातार आंसू गैस के गोले छोड़ रही है। विश्वविद्यालय परिसर और उसके आस-पास के इलाकों में हालात बेहद तनावपूर्ण बने हुए हैं। पुलिस ने पत्रकारों को जामिया परिसर के प्रमुख गेट से दूर रखा है। 

जामिया शिक्षक संघ ने इस हिंसा की कड़ी निंदा की है। शिक्षक संघ ने कहा कि जामिया के छात्र कैम्पस में थे और छात्र छात्राएं लाइब्रेरी में पढ़ाई कर रहे थे लेकिन पुलिस ने जबरन घुसकर मारपीट की है। इस हमले में कई छात्र घायल हुए हैं जिनको पास के कई अस्पतालों में भर्ती कराया गया है। 

बीएससी प्रथम वर्ष की छात्रा रमशा ने यूनीवार्ता को बताया कि वह लाइब्रेरी में पढ़ई कर रही थीं तभी पुलिस अंदर घुस आई और छात्रों के साथ मारपीट करना शुरू कर दिया। वह अंदर से किसी तरह बचकर बाहर आई हैं। 

उन्होंने बताया कि रीडिंग रूम की लाइट बंद कर दी थी फिर भी पुलिस ने छात्रों को निकाल-निकाल कर मारा। सैकड़ छात्रों को लाइब्रेरी से बाहर निकाला गया है। 

फिलहाल जामिया मेट्रो स्टेशन के नीचे और जामिया परिसर के बाहर बड़ी संख्या में पुलिस बल तैनात है। दूसरी तरफ जामिया नगर में बड़ी संख्या में लोग अब भी सड़कों पर खड़ी हैं। 

प्रदर्शनकारियों का कहना है कि सरकार मुसलमानों को निशाना बनाने के लिए ऐसे कानून लेकर आ रही है। सरकार मुसलमानों को दोयम दर्जे का नागरिक बनाना चाहती है। 

जामिया विश्वविद्यालय में हालांकि शीतकालीन छुट्टी की घोषणा हो गई है लेकिन आज स्थानीय लोगों के साथ छात्र भी सड़कों पर प्रदर्शन कर रहे हैं।