शिक्षा मंत्री मनीष सिसोदिया के आवास पर धरना दे रहे गेस्ट शिक्षकों से मिलने के लिए गुरुवार को प्रदेश भाजपा अध्यक्ष मनोज तिवारी उनके बीच पहुंच गए। उन्होंने कहा कि वे 22 गेस्ट शिक्षकों के प्रति सहानुभूति रखते हैं और पार्टी भी शिक्षकों के प्रति सहानुभूति रखती है। वे गेस्ट शिक्षकों के मुद्दे पर शुक्रवार को उपराज्यपाल अनिल बैजल से मिलेंगे। 28 फरवरी को अनुबंध खत्म होने के बाद से गेस्ट शिक्षक नियमित किए जाने की मांग कर रहे हैं।

धरने पर बैठे शिक्षकों को सम्बोधित करते हुए मनोज तिवारी ने कहा कि यहां एकजुट हुए गेस्ट शिक्षकों की अपार भीड़ दिल्ली सरकार से अपने हक की लड़ाई लड़ रही है। केजरीवाल सरकार ने शिक्षा के नाम पर बड़े-बड़े दावे किए, लेकिन जब भी गेस्ट शिक्षकों को नियमित करने या उनके हितों की बात आई तो आरोप-प्रत्यारोप की राजनीति शुरू कर दी गई।

उन्होंने कहा कि झूठ बोलकर जनता को गुमराह करना दिल्ली के मुख्यमंत्री की राजनीति का प्रमुख उद्देश्य है। प्रदेश अध्यक्ष ने कहा कि दिल्ली भाजपा 22 हजार गेस्ट शिक्षकों को विश्वास दिलाना चाहती है कि हम हर कदम पर उनके साथ खड़े हैं। उन्होंने कहा कि हरियाणा की तर्ज पर दिल्ली में गेस्ट शिक्षकों को भी जॉब गारंटी मिलनी चाहिए।