BREAKING NEWS

राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र न्यास की पहली बैठक आज◾केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह बोले - कश्मीरी पंडितों का पुनर्वास सरकार की सर्वोच्च प्राथमिकता◾पासवान ने केजरीवाल को साफ पानी मुहैया करवाने की याद दिलाई◾J&K में पंचायतों के उपचुनाव सुरक्षा कारणों से स्थगित किए गए : जम्मू कश्मीर CEO◾मारिया खुलासे को लेकर BJP ने विपक्ष पर बोला हमला ,पूछा - क्या भगवा आतंकवाद साजिश कांग्रेस व ISI की संयुक्त योजना थी ?◾कोरोना वायरस से प्रभावित वुहान से और भारतीयों को वापस लाने, दवाएं पहुंचाने के लिए C-17 विमान भेजेगा भारत◾INX मीडिया मामले में CBI को आरोपपत्र से कुछ दस्तावेज चिदंबरम, कार्ति को सौंपने के निर्देश ◾मुंबई के पूर्व पुलिस आयुक्त राकेश मारिया का दावा : लश्कर की योजना मुंबई हमले को हिंदू आतंकवाद के तौर पर पेश करने की थी◾ट्रम्प यात्रा को लेकर कांग्रेस ने BJP पर साधा निशाना , कहा - गरीबी को दीवार के पीछे छिपाने का प्रयास कर रही है सरकार◾संजय हेगड़े , साधना रामचंद्रन और वजाहत हबीबुल्लाह जाएंगे शाहीन बाग, शुरू होगी मध्यस्थता की कार्यवाही◾झारखंड और दिल्ली विधानसभा चुनाव में हार के बाद चिंतित बीजेपी बदल सकती है रणनीति◾ट्रंप को साबरमती आश्रम के दौरे के समय महात्मा गांधी की आत्मकथा, चित्र और चरखा भेंट किये जाएंगे◾जामिया वीडियो वार : नए वीडियो से मामले में आया नया मोड़ ◾अमर सिंह ने अमिताभ बच्चन से मांगी माफी, आपत्त‍िजनक टिप्पणियों को लेकर जताया खेद ◾UP आम बजट को कांग्रेस ने बताया किसानों और युवाओं के साथ धोखा◾जामिया हिंसा मामले में पुलिस ने दायर की चार्जशीट, कुल 17 लोगों की हुई गिरफ्तारी◾उत्तर प्रदेश : योगी सरकार ने 5 लाख 12 हजार करोड़ का बजट किया पेश, जानें क्या रहा खास◾CAA-NRC दोनों अलग, किसी को चिंता करने की जरूरत नहीं : उद्धव ठाकरे◾संजय सिंह का बड़ा बयान, बोले-अमित शाह के तहत बिगड़ रही है कानून और व्यवस्था की स्थिति ◾बिहार : प्रशांत किशोर बोले- नीतीश कुमार मेरे पिता के समान◾

दिल्ली के सांसदों में कौन बनेगा मंत्री?

नई दिल्ली : दिल्ली में ऐतिहासिक सात सीटों की जीत के बाद भाजपा की अगली लड़ाई दिल्ली विधानसभा फतेह की है। बीस साल से भारतीय जनता पार्टी दिल्ली की सत्ता से दूर है। इस सत्ता तक पहुंचने के लिए अब इस पर मंथन शुरू हो गया कि दिल्ली के सांसदों में कौन मंत्री बनेगा? क्या दो मंत्री बनाए जा सकते हैं? क्या दिल्ली भाजपा में भी फेरबदल किया जा सकता है? दिल्ली में मुख्यमंत्री पद का चेहरा कौन होगा? ये ऐसे सवाल हैं जिनके जवाब जल्द से जल्द भाजपा को ढूंढने हैं।

सबसे पहले बात करते हैं चांदनी चौक से जीते डॉ.हर्षवर्धन की। वह पहले भी केन्द्रीय मंत्री रह चुके हैं। उनका जलवा कायम है। ईमानदार व मेहनती नेता हैं। उनका दावा कहीं से कमजोर नहीं है। लेकिन पार्टी का एक गुट उन्हें पार्टी की कमान सौंपने की वकालत कर रहा है। दूसरा नंबर रिकाॅर्डतोड़ जीत से पश्चिमी दिल्ली के सांसद प्रवेश वर्मा का बनता है। वह पिछली बार भी सात सांसदों में सबसे अधिक वोटों से जीते थे। उनका सौम्य स्वभाव व कार्यकर्ताओं की बीच पकड़ उन्हें अच्छा नेता बनाती है। उनका मंत्री पद पर दावा मजबूत है। 

अब देखना है कि विधानसभा चुनावों को देखते हुए पार्टी प्रवेश पर कितना भरोसा करती है। उनके पिता स्वर्गीय साहिब सिंह वर्मा दिल्ली के लोकप्रिय मुख्यमंत्री रह चुके हैं। तीसरा नंबर उत्तर पूर्वी दिल्ली से सांसद मनोज तिवारी का है। जिस तरह से उन्होंने दिल्ली में पूर्वांचल के लोगों के साथ तमाम दिल्ली के लोगों के बीच भाजपा की पकड़ बनाई है, उसकी जितनी तारीफ की जाए कम है। निगम का चुनाव उनके नेतृत्व में जीता गया। लोकसभा चुनाव में उनकी सीट पर कांग्रेस की सबसे मजबूत प्रत्याशी पूर्व मुख्यमंत्री शीला दीक्षित लड़ रही थीं, बावजूद इसके वह पूर्वी दिल्ली, उत्तर पश्चिम, चांदनी चौक व दक्षिणी दिल्ली में भाजपा प्रत्याशियों के लिए प्रचार करने गए।

पूरे देश में पार्टी का प्रचार करके वह स्टार प्रचारक बने। पूर्वांचल के लोग उन्हें मंत्री बनते देखना चाहते हैं। इधर सवाल यह है कि अगर मनोज तिवारी मंत्री बने तो फिर दिल्ली भाजपा की कमान कौन संभालेगा? इसके लिए सबसे पहला और उपयुक्त नाम है केन्द्रीय मंत्री विजय गोयल का। उनका जुझारू नेतृत्व पार्टी में गुटबाजी खत्म कर सकता है। केजरीवाल से उनके ही स्टाइल में निपटने में वह माहिर हैं। 

पार्टी के कार्यकर्ताओं का मानना है कि या तो उन्हें अध्यक्ष बनाएं या फिर अभी से उन्हें दिल्ली में मुख्यमंत्री पद का चेहरा बना दें। इस चर्चाओं के बीच पूर्वी दिल्ली के पूर्व सांसद महेश गिरी का नाम भी सामने आ रहा है। जिस तरह से टिकट कटने के बावजूद उन्होंने पार्टी के लिए मेहनत की तो पार्टी के कार्यकर्ता उन्हें प्रदेश अध्यक्ष की कुर्सी सौंपने की वकालत कर रहे हैं। 

- सतेन्द्र त्रिपाठी