BREAKING NEWS

IPL 2020 : राजस्थान रायल्स ने किंग्स इलेवन पंजाब को 4 विकेट से हराया ◾महाराष्ट्र में कोरोना का कोहराम बरकरार, बीते 24 घंटे में 18,056 नए केस, 380 की मौत ◾IPL 2020 RR vs KXIP : पंजाब की तूफानी बल्लेबाजी, राजस्थान को दिया 224 रनों का लक्ष्य◾मप्र उपचुनाव : कांग्रेस ने 9 और उम्मीदवारों की दूसरी लिस्ट की जारी, भाजपा के तीन नेताओं को मिला टिकट◾कोविड-19 : सत्येंद्र जैन ने कहा- पिछले 10 दिनों में दिल्ली में मृत्यु दर एक फीसदी से नीचे रही◾संसद से पारित तीनों कृषि संबंधी विधेयकों को राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने दी मंजूरी◾IPL 2020 RR vs KXIP : राजस्थान ने जीता टॉस, पंजाब को दिया बल्लेबाजी का न्योता◾फिल्मकार अनुराग कश्यप की गिरफ्तारी में देरी होने पर पायल घोष ने उठाए सवाल ◾बिहार के पूर्व डीजीपी गुप्तेश्वर पांडेय जेडीयू में हुए शामिल, कहा- नहीं समझता राजनीति◾विधानसभा चुनाव के लिए बिहार में तैनात होंगे 30,000 जवान, गृह मंत्रालय ने दिए निर्देश◾मतदाताओं को लुभाने की कवायद में जुटे राजनीतिक दल, तेजस्वी ने 10 लाख युवाओं को नौकरी देने का किया वादा◾पूर्व सैन्य अधिकारी होने के बावजूद एक दक्ष नेता के तौर पर जसवंत ने हमेशा दिखाई राजनीतिक ताकत◾चीन को जवाब देने के लिए भारत पूरी तरह तैयार, लद्दाख में तैनात किए T-90 और T-72 टैंक◾मन की बात : PM मोदी बोले-देश का कृषि क्षेत्र, हमारे किसान, गांव आत्मनिर्भर भारत का आधार◾जिस गठबंधन में शिवसेना और अकाली दल नहीं, मैं उसको NDA नहीं मानता : संजय राउत◾देश में कोरोना संक्रमितों का आंकड़ा 60 लाख के करीब, पिछले 24 घंटे में 1124 लोगों की मौत◾राहुल गांधी का PM मोदी पर तंज- काश, कोविड एक्सेस स्ट्रैटेजी ही मन की बात होती◾क्या ड्रग चैट्स का होगा खुलासा, एनसीबी ने दीपिका, सारा और श्रद्धा के फोन किए जब्त ◾पूर्व केंद्रीय मंत्री जसवंत सिंह का निधन, पीएम मोदी ने शोक व्यक्त किया◾पूर्व केंद्रीय मंत्री उमा भारती कोरोना से संक्रमित, खुद को किया क्वारनटीन◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

दिल्ली के सांसदों में कौन बनेगा मंत्री?

नई दिल्ली : दिल्ली में ऐतिहासिक सात सीटों की जीत के बाद भाजपा की अगली लड़ाई दिल्ली विधानसभा फतेह की है। बीस साल से भारतीय जनता पार्टी दिल्ली की सत्ता से दूर है। इस सत्ता तक पहुंचने के लिए अब इस पर मंथन शुरू हो गया कि दिल्ली के सांसदों में कौन मंत्री बनेगा? क्या दो मंत्री बनाए जा सकते हैं? क्या दिल्ली भाजपा में भी फेरबदल किया जा सकता है? दिल्ली में मुख्यमंत्री पद का चेहरा कौन होगा? ये ऐसे सवाल हैं जिनके जवाब जल्द से जल्द भाजपा को ढूंढने हैं।

सबसे पहले बात करते हैं चांदनी चौक से जीते डॉ.हर्षवर्धन की। वह पहले भी केन्द्रीय मंत्री रह चुके हैं। उनका जलवा कायम है। ईमानदार व मेहनती नेता हैं। उनका दावा कहीं से कमजोर नहीं है। लेकिन पार्टी का एक गुट उन्हें पार्टी की कमान सौंपने की वकालत कर रहा है। दूसरा नंबर रिकाॅर्डतोड़ जीत से पश्चिमी दिल्ली के सांसद प्रवेश वर्मा का बनता है। वह पिछली बार भी सात सांसदों में सबसे अधिक वोटों से जीते थे। उनका सौम्य स्वभाव व कार्यकर्ताओं की बीच पकड़ उन्हें अच्छा नेता बनाती है। उनका मंत्री पद पर दावा मजबूत है। 

अब देखना है कि विधानसभा चुनावों को देखते हुए पार्टी प्रवेश पर कितना भरोसा करती है। उनके पिता स्वर्गीय साहिब सिंह वर्मा दिल्ली के लोकप्रिय मुख्यमंत्री रह चुके हैं। तीसरा नंबर उत्तर पूर्वी दिल्ली से सांसद मनोज तिवारी का है। जिस तरह से उन्होंने दिल्ली में पूर्वांचल के लोगों के साथ तमाम दिल्ली के लोगों के बीच भाजपा की पकड़ बनाई है, उसकी जितनी तारीफ की जाए कम है। निगम का चुनाव उनके नेतृत्व में जीता गया। लोकसभा चुनाव में उनकी सीट पर कांग्रेस की सबसे मजबूत प्रत्याशी पूर्व मुख्यमंत्री शीला दीक्षित लड़ रही थीं, बावजूद इसके वह पूर्वी दिल्ली, उत्तर पश्चिम, चांदनी चौक व दक्षिणी दिल्ली में भाजपा प्रत्याशियों के लिए प्रचार करने गए।

पूरे देश में पार्टी का प्रचार करके वह स्टार प्रचारक बने। पूर्वांचल के लोग उन्हें मंत्री बनते देखना चाहते हैं। इधर सवाल यह है कि अगर मनोज तिवारी मंत्री बने तो फिर दिल्ली भाजपा की कमान कौन संभालेगा? इसके लिए सबसे पहला और उपयुक्त नाम है केन्द्रीय मंत्री विजय गोयल का। उनका जुझारू नेतृत्व पार्टी में गुटबाजी खत्म कर सकता है। केजरीवाल से उनके ही स्टाइल में निपटने में वह माहिर हैं। 

पार्टी के कार्यकर्ताओं का मानना है कि या तो उन्हें अध्यक्ष बनाएं या फिर अभी से उन्हें दिल्ली में मुख्यमंत्री पद का चेहरा बना दें। इस चर्चाओं के बीच पूर्वी दिल्ली के पूर्व सांसद महेश गिरी का नाम भी सामने आ रहा है। जिस तरह से टिकट कटने के बावजूद उन्होंने पार्टी के लिए मेहनत की तो पार्टी के कार्यकर्ता उन्हें प्रदेश अध्यक्ष की कुर्सी सौंपने की वकालत कर रहे हैं। 

- सतेन्द्र त्रिपाठी