BREAKING NEWS

गोवा सीएम का केजरीवाल पर पलटवार, बोले- स्कूल चलाने के लिए हमें सलाह की नहीं जरूरत ◾नीतीश को अवसरवादी बताने पर तेजस्वी का भाजपा पर तंज - जो बिकेगा उसे खरीद लो है इनकी नीति ◾प्रधानमंत्री ने पीएमओ में कार्यरत कर्मचारियों की बेटियों से बंधवाई राखी, देशवासियों को दी शुभकामनायें ◾शिवसेना का बीजेपी पर प्रहार, कहा- मोदी के लिए नीतीश ने खड़ा किया तूफ़ान◾28 अगस्त को महंगाई पर 'हल्ला बोल रैली' करेगी कांग्रेस, कहा - पीएम हताश है और जनता त्रस्त ◾जगदीप धनखड़ ने उपराष्ट्रपति पद की शपथ ली, राजघाट जा कर महात्मा गांधी को दी श्रद्धांजलि ◾मेस का खाना देखकर रोया कॉन्स्टेबल, बोला- मिलती हैं पानी वाली दाल और कच्ची रोटियां◾बिहार में मंत्रिमंडल को लेकर RJD की नजर 'ए टू जेड' पर, मंत्रियों की सूची पर लालू लगाएंगे अंतिम मुहर ◾बिज़नेस टाइकून एलन मस्क ने टेस्ला में अपने 80 लाख शेयर बेचे, क्या फिर करने जा रहे है बड़ा धमाका ◾राजस्‍थान : गौवंश पर कहर बनकर टूटा लम्‍पी रोग, हजारों मवेशियों की मौत के बाद पशु मेलों पर रोक◾गुरुग्राम के क्लब में बाउंसर ने की लड़की से छेड़छाड़, विरोध करने पर दोस्तों से हुई मारपीट, सात लोग गिरफ्तार◾ताइवान के खिलाफ चीन की 'आक्रामकता' पर ब्रिटेन सख्त, उठाया ये कदम ◾जम्मू कश्मीर में आतंकी हमला, सेना कैंप में घुस रहे 2 आतंकी ढेर, 3 जवान शहीद◾आज का राशिफल (11 अगस्त 2022)◾हर घर तिरंगा अभियान : शौर्य चक्र से सम्मानित सिपाही औरंगजेब की मां ने अपने घर पर फहराया 'तिरंगा'◾दिल का दौरा पड़ने के बाद राजू श्रीवास्तव एम्स में भर्ती , वेंटिलेटर सपोर्ट पर रखे गए◾माकपा ने 'मुफ्त उपहार' वाले बयान को लेकर PM मोदी पर निशाना साधा◾कांग्रेस ने महाराष्ट्र मंत्रिमंडल में संजय राठौर को शामिल किए जाने को लेकर BJP पर साधा निशाना◾High Court में जनहित याचिका : याददाश्त खो चुके हैं सत्येंद्र जैन, विधानसभा और मंत्रिमंडल से अयोग्य घोषित किया जाए◾केजरीवाल ने गुजरात में सत्ता में आने पर महिलाओं को 1000 रुपये मासिक भत्ता देने का किया ऐलान ◾

दिल्ली मेट्रो फेज-4 के कार्य के लिए DMRC ने डेवलप किया स्वदेशी सॉफ्टवेयर, डिजिटल रूप से होगा मॉनिटर

दिल्ली मेट्रो रेल कॉपोरेशन (DMRC) ने अपने कार्यों को डिजिटलाइज करने की एक बड़ी पहल के रूप में एक स्वदेशी सॉफ्टवेयर 'Integrated Project Monitoring' डेवलप किया है। यह एक कस्टम-मेड प्रोजेक्ट मॉनिटरिंग सॉफ्टवेयर है जिससे डीएमआरसी अपने फेज-4 के कॉरिडोर तथा पटना मेट्रो के कार्यों की प्रगति को मॉनिटर कर सकेगी।

आईपीएमएस के माध्यम से, प्रोजेक्ट प्लानिंग के सभी चरणों तथा ठीक निविदा के चरण से लेकर प्रत्येक कॉरिडोर के रेवेन्यू ऑपरेशन तक के चरण की मॉनिटरिंग के साथ वर्क फ्रंट की उपलब्धता संबंधी मुद्दों जैसे भूमि की उपलब्धता, वृक्षारोपण तथा सेवाओं की शिफ्टिंग और डिजाइन के स्टेटस की मॉनिटरिंग भी करना संभव है।

इस उद्देश्य से, कॉरिडोर-वार मास्टर कंस्ट्रक्शन शेड्यूल तैयार करके उसे आईपीएमएस पर अपलोड किया जा चुका है। आईपीएमएस में अन्य कंस्ट्रक्शन संबंधी सॉफ्टवेयरों जैसे, प्रोजेक्ट प्लानिंग के लिए प्राइमावेरा शेड्यूल्स और 3डी बीआईएम (थ्री-डाइमेंशनल बिल्डिंग इन्फोर्मेशन मॉडलिंग) और एक मोबाइल एप के इंटीग्रेशन की विशेषता है, जिनके माध्यम से साइट पर होने वाली वास्तविक कार्य प्रगति को रियल टाइम बेसिस पर आईपीएमएस में अपलोड किया जा सकता है। 

आईपीएमएस प्रत्येक क्षेत्र में सिविल, इलेक्ट्रिकल एवं मैकेनिकल तथा सिगनल एवं दूरसंचार के संविदा पैकेज-वार कार्यों की प्रगति को मुख्य परियोजना प्रबंधक और परियोजना प्रबंधक के स्तर पर तथा निदेशक और प्रबंध निदेशक के स्तर पर कॉरिडोर-वार मॉनिटर करेगा। विशेष तौर पर डिजाइन किए गए डैशबोर्ड और एक मोबाइल एप्लीकेशन के माध्यम से प्रबंधन के शीर्ष स्तर से लेकर जूनियर इंजीनियर के स्तर तक रोल बेस्ड एक्सेस की व्यवस्था की गई है। 

इसकी मदद से प्रोजेक्ट की प्रगति डैशबोडरें के साथ ही साथ 3डी मॉडल्स में भी देखी जा सकती है। फेज-3 तक, डीएमआरसी की प्रोजेक्ट मॉनिटरिंग का कार्य ऑफलाइन किया जा रहा था। इस नई प्रौद्योगिकी के क्रियान्वयन से, डीएमआरसी के इंजीनियर अब इस डेडीकेटेड प्लेटफॉर्म के माध्यम से कार्य की प्रगति पर नजर रख सकते हैं। विशेष तौर पर डिजाइन किए गए डैशबोडरें से कंस्ट्रक्शन के समस्त प्रमुख कार्यों की प्रगति को देखा जा सकेगा तथा केवल एक बटन दबाकर उनकी स्थिति की जांच की जा सकेगी। 

इस सॉफ्टवेयर के क्रियान्वयन से प्रोजेक्ट की चौबीसों घंटे आसानी से मॉनिटरिंग की जा सकेगी, क्योंकि आईपीएमएस पोर्टल को कहीं से भी मोबाइल, लैपटॉप, कंप्यूटर आदि से एक्सेस किया जा सकता है। इससे रिकॉर्ड कीपिंग तथा इंजीनियरों के बीच जानकारी को साझा करना भी बेहतर होगा। डीएमआरसी की यह परियोजना सरकार के डिजिटल इंडिया के साथ ही साथ आत्मनिर्भर भारत जैसे प्रयासों का एक उत्कृष्ट उदाहरण है। भारत की तीन कंपनियों के एक संघ को यह जिम्मेदारी सौंपी गई है और भारतीय इंजीनियरों द्वारा यह सॉफ्टवेयर अपने ही देश में विकसित किया गया है।