BREAKING NEWS

बिहार में लगे राहुल गांधी के पोस्टर, लिखा-आरक्षण खत्म करने का सपना नहीं होगा सच◾आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत बोले- 'राष्ट्रवाद' शब्द में हिटलर की झलक◾निर्भया मामला : दोषी विनय ने तिहाड़ जेल में दीवार पर सिर मारकर खुद को नुकसान पहुंचाने की कोशिश की◾चीन में कोरोना वायरस का कहर जारी, मरने वालों की संख्या 2000 के पार◾मनमोहन ने की Modi सरकार की आलोचना, कहा - सरकार आर्थिक मंदी को स्वीकार नहीं कर रही है◾अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की भारत यात्रा के मद्देनजर J&K में सुरक्षा बल सतर्क◾राम मंदिर का मॉडल वही रहेगा, थोड़ा बदलाव किया जाएगा : नृत्यगोपाल दास ◾मुंबई के कई बड़े होटलों को बम से उड़ाने की धमकी, ई-मेल भेजने वाला लश्कर-ए-तैयबा का सदस्य◾‘हिंदू आतंकवाद’ की साजिश वाली बात को मारिया ने 12 साल तक क्यों नहीं किया सार्वजनिक - कांग्रेस◾सरकार को अयोध्या में मस्जिद के लिए ट्रस्ट और धन उपलब्ध कराना चाहिए - शरद पवार◾संसदीय क्षेत्र वाराणसी में फलों फूलों की प्रदर्शनी देख PM मोदी हुए अभिभूत, साझा की तस्वीरें !◾दुनिया भर में कोरोना वायरस का प्रकोप, विश्व में अब तक 75,000 से अधिक लोग वायरस से संक्रमित◾आर्मी हेडक्वार्टर को साउथ ब्लॉक से दिल्ली कैंट ले जाया जाएगा : सूत्र◾INDO-US के बीच व्यापार समझौता ‘अटका’ नहीं है : डोनाल्ड ट्रंप ने कहा - जल्दबाजी में यह नहीं किया जाना चाहिये◾कन्हैया ने BJP पर साधा निशाना , कहा - CAA से गरीबों एवं कमजोर वर्गों की नागरिकता खत्म करना चाहती है Modi सरकार◾महंत नृत्य गोपाल दास बने श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के अध्यक्ष , नृपेंद्र मिश्रा को निर्माण समिति की कमान◾पंजाब में 2022 में होने वाले विधानसभा चुनाव से पहले सिद्धू के AAP में जाने की अटकलें , भगवंत बोले- कोई वार्ता नहीं हुई◾पंजाब में 2022 में होने वाले विधानसभा चुनाव से पहले नवजोत सिद्धू AAP में जाने की अटकलें , भगवंत बोले- कोई वार्ता नहीं हुई◾प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अगले माह जाएंगे बांग्लादेश दौरे पर◾विनायक दामोदर सावरकर पर बड़े विमर्श की तैयारी, अमित शाह संभालेंगे कमान◾

आरुषि हत्याकांड : इंसाफ पर सवाल!

आरुषि और हेमराज की अजीबोगरीब नृशंस हत्या 16 मई, 2008 को हुई थी। अपराध की जांच करने पुलिस भी पहुंची थी। दोनों का गला एक ही तरीके से काटा गया था। पुलिस इस नतीजे पर पहुंची थी कि यह आनर कि​लिंग का मामला है। जैसे-जैसे अपराध का विश्लेषण आगे बढ़ता गया त्यों-त्यों तलवार परिवार के वैवाहिक जीवन चरित्र की बदनाम कहानियां जोर पकड़ती गईं। संवेदनाएं खत्म होती गईं और अफवाहों ने तहकीकात पर प्रभाव डालना शुरू कर दिया। इस दर्दनाक हत्याकांड को लेकर अखबारें, टी.वी. चैनल और इंटरनेट भर गया। जितने मुंह उतनी बातें। हर जगह इसकी चर्चा। हाइप्रोफाइल केस की गुत्थी उलझती चली गई। पुलिस ने आरुषि के पिता राजेश तलवार को आनर कि​लिंग में गिरफ्तार भी किया था लेकिन तत्कालीन मायावती सरकार ने इस मामले की जांच सीबीआई को सौंप दी। सीबीआई की पहली टीम ने आरुषि के पिता को निर्देष बताया, राजेश तलवार के कंपाउडर कृष्णा के अलावा दो अन्य लोगों को गिरफ्तार भी किया था। इसके बाद राजेश तलवार को जमानत पर रिहा भी कर दिया गया, सीबीआई 90 दिन के भीतर चार्जशीट ही नहीं पेश कर पाई। इस मामले की जांच के लिए सीबीआई ने 2010 में दूसरी टीम बनाई, इस टीम ने भी सबूतों के अभाव में क्लोजर रिपोर्ट लगा दी थी जिसे ट्रायल कोर्ट ने नहीं माना। फिर गाजियाबाद स्थित सीबीआई की विशेष अदालत ने 26 नवम्बर, 2013 को राजेश तलवार और नुपुर तलवार को केवल परिस्थितिजन्य साक्ष्यों के आधार पर दोहरे हत्याकांड का दोषी ठहराते हुए सजा सुनाई। तलवार दम्पति ने इस फैसले को 2014 में इलाहाबाद हाईकोर्ट में चुनौती दी थी। अंततः इलहाबाद हाईकोर्ट ने निचली अदालत का फैसला पलटते हुए दोनों को रिहा कर दिया।

यह भारतीय न्याय प्रणाली और लोकतंत्र के सशक्त स्तम्भ पर कलंक ही है कि उसने दो जिन्दगियों के 9 साल और मृत आरुषि का आत्मसम्मान छीन लिया। अगर पुलिस, सीबीआई या मीडिया जांच और रिपोर्टिंग का रुख कुछ और होता तो हालात ऐसे नहीं होते। आरुषि-हेमराज मर्डर केस का कत्ल तो पहले ही दिन हो गया था। जांच और अनुमानों का सिलसिला चला तो फिर उसने थमने का नाम ही नहीं लिया। मामले को इतना सनसनीखेज बना दिया गया, अवैध संबंधों की कहानी ने पूरे मामले पर काली स्याही पोत दी। न तो पुलिस ने जिम्मेदारीपूर्ण रवैया अपनाया और न ही शीर्ष जांच एजैंसी ने। 14 साल की लड़की के बारे में इतनी घटिया बातें कही गईं कि विश्वास ही नहीं होता था।

कहने को तो सीबीआई देश की सबसे बड़ी जांच एजैंसी की तुलना अमेरिका की एफबीआई से होती है परन्तु कई ऐसे मामले हैं जिनमें सीबीआई या तो गुनाहगार का पता ही नहीं कर पाई या फिर उसकी जांच पर गंभीर सवाल उठे। निठारी कांड को कौन भूल सकता है। इस मामले में भी सीबीआई का लचर रुख सामने आया था। सीबीआई ने इस कांड से जुड़े बहुत सारे मामलों में मोनिंदर सिंह पंढेर को यह कहते हुए छोड़ दिया था कि हत्याओं के वक्त वह मौजूद नहीं था और सिर्फ उसके नौकर सुरिंदर कोली ने हत्याएं की हैं। हालांकि जुलाई 2017 में दोनों को अदालत ने फांसी की सजा सुनाई है। आज 9 वर्ष बाद भी सवाल अपनी जगह खड़ा है कि आरुषि-हेमराज को किसने मारा। इलाहाबाद हाईकोर्ट ने उपलब्ध साक्ष्यों और हालात को ध्यान में रखते हुए स्पष्ट टिप्पणियां भी की हैं। कोर्ट ने कहा है कि संदेह सबूत की जगह नहीं ले सकता।

क्या देश की शीर्ष जांच एजैंसी को आरुषि के कातिलों को ढूंढने के लिए 9 वर्ष और चाहिए। आरुषि को न्याय नहीं मिला। हत्याकांड पर आया फैसला यह भी दिखाता है कि मीडिया ट्रायल हमारे सोचने के तरीके, फैसलों पर कितना असर डालता है। अब सीबीआई के पूर्व निदेशक ए.सी. सिंह का कहना है कि तलवार दम्पति को संदेह का लाभ मिला है न कि क्लीनचिट मिली है। सेवानिवृत्त अधिकारी जो कुछ भी कहे वह तो महज लीपापोती ही है। हाईकोर्ट ने कठोर टिप्पणी की है कि निचली अदालत ने परिस्थितिजन्य साक्ष्यों के आधार पर ही फैसला सुना दिया, हत्या की वजह को लेकर स्थिति स्पष्ट ही नहीं है, ट्रायल जज गणित के टीचर की तरह व्यवहार नहीं कर सकता। उसने एक फिल्म निर्देशक की तरह सोच लिया कि हुआ क्या था। कानून के बुनियादी नियम को जज ने फालो ही नहीं किया। आरुषि मामले में जो फैसला आया उससे यह सवाल तो बनता है कि क्या तलवार दंपति गलत और अनफेयर ट्रायल का शिकार हुआ अगर तलवार दंपति निर्दोष है तो फिर उन्हें जेल में क्यों सड़ना पड़ा? सीबीआई सबूतों के अभाव में हार गई, उसने बहुत दावे किए थे कि उसके पास पुख्ता सबूत हैं, तो फिर सबूत गए कहां? इंसाफ पर समाज सवाल उठा रहा है, उठाता रहेगा लेकिन जवाब कौन देगा?