BREAKING NEWS

देखें Video : छत्तीसगढ़ में तेज रफ्तार कार ने भीड़ को रौंदा, एक की मौत, 17 घायल◾चेन्नई सुपर किंग्स चौथी बार बना IPL चैंपियन◾बुराई पर अच्छाई की जीत का त्योहार दशहरा देश भर में उल्लास के साथ मनाया गया◾सिंघु बॉर्डर : किसान आंदोलन के मंच के पास हाथ काटकर युवक की हत्या, पुलिस ने मामला किया दर्ज ◾कपिल सिब्बल का केंद्र पर कटाक्ष, बोले- आर्यन ड्रग्स मामले ने आशीष मिश्रा से हटा दिया ध्यान◾हिंदू मंदिरों के अधिकार हिंदू श्रद्धालुओं को सौंपे जाएं, कुछ मंदिरों में हो रही है लूट - मोहन भागवत◾जनरल नरवणे भारत-श्रीलंका के बीच सैन्य अभ्यास के समापन कार्यक्रम में शामिल हुए, दोनों दस्तों के सैनिकों की सराहना की◾अफगानिस्तान: कंधार में शिया मस्जिद को एक बार फिर बनाया गया निशाना, विस्फोट में कई लोगों की मौत ◾सिंघु बॉर्डर आंदोलन स्थल पर जघन्य हत्या की SKM ने की निंदा, कहा - निहंगों से हमारा कोई संबंध नहीं ◾अध्ययन में चौंकाने वाला खुलासा, दिल्ली में डेल्टा स्वरूप के खिलाफ हर्ड इम्युनिटी पाना कठिन◾सिंघु बॉर्डर पर युवक की विभत्स हत्या पर बोली कांग्रेस - हिंसा का इस देश में स्थान नहीं हो सकता◾पूर्व PM मनमोहन की सेहत में हो रहा सुधार, कांग्रेस ने अफवाहों को खारिज करते हुए कहा- उनकी निजता का सम्मान किया जाए◾रक्षा क्षेत्र में कई प्रमुख सुधार किए गए, पहले से कहीं अधिक पारदर्शिता एवं विश्वास है : पीएम मोदी ◾PM मोदी ने वर्चुअल तरीके से हॉस्टल की आधारशिला रखी, बोले- आपके आशीर्वाद से जनता की सेवा करते हुए पूरे किए 20 साल◾देश ने वैक्सीन के 100 करोड़ के आंकड़े को छुआ, राष्ट्रव्यापी टीकाकरण अभियान ने कायम किया रिकॉर्ड◾शिवपाल यादव ने फिर जाहिर किया सपा प्रेम, बोले- समाजवादी पार्टी अब भी मेरी प्राथमिकता ◾जेईई एडवांस रिजल्ट - मृदुल अग्रवाल ने रिकॉर्ड के साथ रचा इतिहास, लड़कियों में काव्या अव्वल ◾दिवंगत रामविलास पासवान की पत्नी रीना ने पशुपति पारस पर लगाए बड़े आरोप, चिराग को लेकर जाहिर की चिंता◾सिंघू बॉर्डर पर किसानों के मंच के पास बैरिकेड से लटकी मिली लाश, हाथ काटकर बेरहमी से हुई हत्या ◾कुछ ऐसी जगहें जहां दशहरे पर रावण का दहन नहीं बल्कि दशानन लंकेश की होती है पूजा◾

एयर इंडिया ‘टाटा’ के हाथ में

बाजारमूलक अर्थव्यवस्था के दौर में पिछले 16 साल में सरकारी प्रतिष्ठान एयर इंडिया की निजी क्षेत्र को बिक्री की सबसे बड़ा व्यापारिक सौदा है। इससे यह साबित होता है कि सरकार वाणिज्यिक गतिविधियों से हाथ खींच कर इसे निजी क्षेत्र को देना चाहती है। निजीकरण की नीति पिछले 30 वर्षों 1991 से जारी है जिसके चलते सार्वजनिक क्षेत्र की विभिन्न कम्पनियां निजी क्षेत्र के हवाले हो चुकी हैं। मगर एयर इंडिया भारत सरकार की एकमात्र एयरलाइन थी जिसे अब टाटा उद्योग समूह ने 18 हजार करोड़ रुपए में खरीद लिया है। टाटा उद्योग समूह देश का एेसा अग्रणी वाणिज्यिक घराना है जिसका भारत के विकास में अभूतपूर्व योगदान रहा है। स्वतन्त्रता  पूर्व ही टाटा समूह विभिन्न क्षेत्रों में उद्योग स्थापित कर भारत के औद्योगीकरण में अपनी सहभागिता इस प्रकार तय करता रहा है कि व्यावसायिक ईमानदारी व कर्मचारियों के प्रति इसकी नेक नीयती सार्वजनिक मंचों तक से सराही जाती रही है। अतः एयर इंडिया के टाटा समूह के हाथ में जाने पर इसके 12 हजार से ज्यादा कर्मचारियों को इस बात का इत्मीनान है कि उनके साथ उनका नया मालिक पूरा न्याय करेगा। वास्तव में किसी भी उद्योग घराने के लिए यह कोई छोटी उपलब्धि नहीं कही जा सकती क्योंकि निजीकरण का दौर शुरू होने के बाद से सर्वाधिक असन्तोष कर्मचारियों में ही देखने को मिलता रहा है और कर्मचारी किसी भी औद्योगिक संस्थान की रीढ़ होते हैं। वैसे एयर इंडिया लौट कर अपने पुराने मालिक के पास ही आयी है। 

1932 में अंग्रेजों के गुलाम भारत में स्व. जेआरडी टाटा ने टाटा एयर लाइन स्थापित की थी और नागरिक उड्डयन के क्षेत्र में भारतीयों को देशी एयरलाइन दी थी। जिसे 1946 में पब्लिक कम्पनी के तहत एयर इंडिया नाम दिया गया। परन्तु भारत के आजाद होने पर देश की तत्कालीन आर्थिक नीतियों के तहत इस एयर लाइन का राष्ट्रीयकरण कर दिया गया और इसके मालिकाना हक केन्द्र की सरकार ने ले लिये। परन्तु 1991 में बाजार मूलक अर्थव्यवस्था शुरू होने पर केन्द्र की सरकारों ने ‘ओपन स्काई’ नीति शुरू की जिसके तहत घरेलू उड़ानों के लिए निजी क्षेत्र को अपनी एयर लाइनें स्थापित करने की छूट प्रदान की गई। इस नीति के लागू होने के बाद देश में निजी एयरलाइनों की बाढ़  आयी परन्तु वह जल्दी ही सुस्त पड़ गई और गिनी-चुनी एयर लाइनें ही लाभप्रदता की कसौटी पर खरी उतर सकीं। परन्तु बाद में सरकार ने अन्तर्राष्ट्रीय हवाई सेवाओं में भी निजी क्षेत्र को छूट दी जिसके तहत टाटा समूह ने विस्तारा एयरलाइन और एयर एशिया चालू कीं। अब एयर इंडिया का अधिग्रहण करने के बाद विदेश विमान सेवाओं में टाटा समूह की एयर लाइन देश की सबसे बड़ी एयर लाइन होगी जबकि घरेलू उड़ानों में इसका इंडिगो एयर लाइन के बाद इसका दूसरा नम्बर होगा। 

सरकार के नियन्त्रण में चलते हुए एयर इंडिया को भारी घाटा हो रहा था। इसका असली कारण क्या था, यह तो उड्डयन विशेषज्ञ ही बेहतर तरीके से बता सकते हैं और जान सकते हैं कि सरकारी एयर लाइन होने की वजह से इसका कथित दुरुपयोग कैसे-कैसे होता था मगर हकीकत यह है एयर इंडिया पर 15 हजार एक सौ करोड़  रुपये का कर्जा था जिसे अब टाटा समूह पूरा करेगा और शेष धनराशि सरकारी खजाने में जमा करेगा क्योंकि कुल सौदा 18 हजार करोड़ रुपए का हुआ है। मोटे तौर पर इस सौदे से 27 सौ करोड़ रुपए ही सरकारी खजाने में जमा होगा शेष सभी कर्जा चुकाने में जायेगा।

 एयर इंडिया को बेचने के लिए केन्द्र सरकार बहुत पहले से कोशिश कर रही थी। इसकी व्यावहारिक शुरूआत स्व. अटल बिहारी वाजपेयी की सरकार के जमाने में हुई थी जब टाटा समूह ने सिंगापुर एयर लाइन के साथ मिल कर एयर इंडिया के 40 प्रतिशत शेयर खरीदने चाहे थे।  मगर यह सौदा परवान नहीं चढ़ सका था जिसके बाद टाटा ने विस्तारा व एयर एशिया शुरू की थीं। इसके बाद मनमोहन सरकार के दौरान भी एयर इंडिया को बेचने के प्रयास किये गये मगर वे कई कारणों से निष्फल रहे। मोदी सरकार ने निजीकरण की नीति को आगे बढ़ाते हुए जब एयर इंडिया को बेचने की अपनी मंशा जाहिर की तो पहले चरण में यह सफल नहीं हो सकी और इसका कोई ऐसा सशक्त खरीदार सामने नहीं आ सका जो सरकारी शर्तों को पूरा करता हो परन्तु विगत वर्ष जब पुनः प्रयास शुरू हुए तो टाटा समूह ने सबसे ऊंची बोली लगा कर इसे हस्तगत करने के अपने पक्के इरादे का इजहार किया। सरकार ने एयर इंडिया का आधार मूल्य 12906 करोड़ रुपए रखा था। टाटा समूह ने इससे 40 प्रतिशत अधिक की बोली लगाई। यह बोली सर्वाधिक थी। कुल सात बोली लगाने वाले में केवल दो ही सरकारी शर्तों पर खरे उतरे और इनमें से टाटा समूह सभी आधारों पर खरा उतरा। 

अब सवाल यह है कि बुरी तरह कर्ज में दबी एयर इंडिया का उद्धार करने के लिए टाटा समूह को इस एयर लाइन की प्रबन्ध व्यवस्था से लेकर परिचालन तन्त्र को नये सिरे से सुधारना होगा। टाटा समूह को नागरिक उड्डयन का अच्छा अनुभव है और बड़े-बड़े उद्योगों को लाभप्रद तरीके से चलाने में इसका सामर्थ्य भी जग जाहिर है जिसे देखते हुए कहा जा सकता है कि यह एयर इंडिया का कायाकल्प भी जल्दी ही कर लेगा। मगर एयर इंडिया जहां से चली थी वहीं (टाटा समूह) पहुंच गई है।