BREAKING NEWS

मोदी जी की इच्छा शक्ति की वजह से सरकार ने साहसिक लड़ाई लड़ी एवं समय पर निर्णय लिये : नड्डा ◾कोविड-19 पर पीएम मोदी का आह्वान - 'लड़ाई लंबी है लेकिन हम विजय पथ पर चल पड़े हैं'◾दिल्ली में कोरोना संक्रमण के बढ़ते मामले को लेकर कांग्रेस, भाजपा के निशाने पर केजरीवाल सरकार◾राम मंदिर , सीएए, तीन तलाक, धारा 370 जैसे मुद्दों का हल दूसरे कार्यकाल की प्रमुख उपलब्धियां : PM मोदी ◾बीस लाख करोड़ रूपये का आर्थिक पैकेज ‘आत्मनिर्भर भारत’ की दिशा में बड़ा कदम : PM मोदी◾Coronavirus : दुनियाभर में वैश्विक महामारी का खौफ जारी, संक्रमितों की संख्या 60 लाख के करीब ◾कश्मीर के कुलगाम में सुरक्षाबलों के साथ मुठभेड़ में दो आतंकवादी मारे गए◾कोविड-19 : देश में अब तक 5000 के करीब लोगों की मौत, संक्रमितों का आंकड़ा 1 लाख 73 हजार के पार ◾मोदी सरकार के दूसरे कार्यकाल का एक वर्ष पूरे होने पर अमित शाह, नड्डा सहित कई नेताओं ने दी बधाई◾PM मोदी का देश की जनता के नाम पत्र, कहा- कोई संकट भारत का भविष्य निर्धारित नहीं कर सकता ◾लद्दाख के उपराज्यपाल आर के माथुर ने गृहमंत्री से की मुलाकात, कोरोना के हालात की स्थिति से कराया अवगत◾महाराष्ट्र : 24 घंटे में कोरोना से 116 लोगों की मौत, 2,682 नए मामले ◾दिल्ली-एनसीआर में महसूस किए गए भूकंप के झटके, रिक्टर स्केल पर तीव्रता 4.6 मापी गई, हरियाणा का रोहतक रहा भूकंप का केंद्र◾मशहूर ज्योतिषाचार्य बेजन दारुवाला का 90 वर्ष की उम्र में निधन, कोरोना लक्षणों के बाद चल रहा था इलाज◾जीडीपी का 3.1 फीसदी पर लुढ़कना भाजपा सरकार के आर्थिक प्रबंधन की बड़ी नाकामी : पी चिदंबरम ◾कोरोना प्रभावित टॉप 10 देशों की लिस्ट में नौवें स्थान पर पहुंचा भारत, मरने वालों की संख्या चीन से ज्यादा हुई ◾पश्चिम बंगाल में 1 जून से खुलेंगे सभी धार्मिक स्थल, 8 जून से सभी संस्थाओं के कर्मचारी लौटेंगे काम पर◾छत्तीसगढ़ के पूर्व CM अजीत जोगी का 74 साल की उम्र में निधन◾दिल्ली: 24 घंटे में कोरोना के 1106 नए मामले, मनीष सिसोदिया बोले- घबराएं नहीं, 50% मरीज ठीक◾ट्रंप के मध्यस्थता वाले प्रस्ताव को चीन ने किया खारिज, कहा-किसी तीसरे पक्ष की जरूरत नहीं◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

अर्थव्यवस्था में हताशा का माहौल

महीने भर में ही जिस तरह से महंगाई का ग्राफ तेजी से बढ़ा है, उससे स्पष्ट है कि नए वर्ष में भी आम आदमी को कोई राहत मिलने वाली नहीं है। सब्जियों के दाम तो बढ़े ही हैं, बल्कि दालों और अन्य वस्तुओं के दाम भी काफी बढ़ चुके हैं। 

भारतीय स्टेट बैंक की शोध इकाई ने अपनी रिपोर्ट में कहा है कि इसी माह उपभोक्ता मूल्य सूचकांक पर आधारित महंगाई दर 8 फीसदी से ऊपर जा सकती है। 

एसबीआई की रिसर्च रिपोर्ट ने यह कह कर लोगों में हताशा फैला दी है कि चालू वित्त वर्ष में नई नौकरियों के अवसर एक साल पहले की तुलना में 16 लाख कम सृजन होने का अनुमान है। उद्योग जगत में छाई सुस्ती की वजह से नए श्रमिकों की मांग घटी है। कई कम्पनियां दिवालिया प्रक्रिया का सामना कर रही हैं जिनके समाधान में देरी की वजह से ठेके पर श्रमिकों की भर्ती में बड़ी गिरावट आई है। 

असम, बिहार, राजस्थान, उत्तर प्रदेश और ओडिशा जैसे राज्यों में नौकरी, मजदूरी के लिए बाहर गए व्यक्तियों की ओर से घर भेजे जाने वाले धन में कमी आई है। देश की आर्थिक वृद्धि की सुस्त पड़ी रफ्तार के बीच थोक महंगाई दर में आए बड़े उछाल से सरकार के लिए चुनौतियां काफी बढ़ गई हैं। महंगाई के आसमान छूने से आम आदमी के घर का बजट बढ़ गया है। 

आम आदमी इसकी भरपाई खपत में कटौती करके करेगा। जबकि सरकार अर्थव्यवस्था की रफ्तार तेज करने के लिए मांग बढ़ाने पर जोर दे रही है, उसके लिए यह सब करना मुश्किल होगा क्योंकि जब आम आदमी की जेब में बचत कुछ नहीं रहेगी तो फिर खपत बढ़ेगी कैसे? रोजगार के अवसरों की कमी और वेतन बढ़ौतरी को लेकर अनिश्चितता का माहौल सरकार की राह में बड़ी बाधा है। 

आर्थिक सुस्ती की वजह से बाजार में हताशा का माहौल है। इसमें काेई संदेह नहीं कि देश की अर्थव्यवस्था मंदी के भंवर में फंसती जा रही है। आंकड़ों से पता चलता है कि 2018-19 में प्रति व्यक्ति मासिक आय 10534 रुपए रही। अगर देश की जीडीपी 5 फीसदी से बढ़ेगी तो 526 रुपए और चार फीसदी से बढ़ेगी, 421 रुपए प्रति व्यक्ति सालाना आय में वृद्धि होगी। इसका अर्थ यही है कि एक फीसदी गिरावट से सालाना 1264 रुपए की आमदनी में कमी आएगी। अगर 2020 में ​विकास दर 5 फीसदी से ही आगे बढ़ती है तो मोदी सरकार का 2024 में भारत की जीडीपी को 5 ट्रिलियन डॉलर तक पहुंचाने का लक्ष्य दूर की कौड़ी ही साबित होगा।

आटो, कपड़ा, सूक्ष्म, लघु व मध्यम, रियल स्टेट, एफएमसीजी में नौकरियों के जाने, कम्पनियों में घाटा बढ़ने या बंद होने के समाचार लगातार मिल रहे हैं। भारत की अर्थव्यवस्था ग्लोबल होने की वजह से वैश्विक व्यापार में मंदी और अमेरिका-चीन व्यापार युद्ध के असर से देश की अर्थव्यवस्था भी अछूती नहीं रही। रिजर्व बैंक ने तो पहले ही इस बात की आशंका व्यक्त कर दी थी कि महंगाई बढ़ेगी तो फिर सरकार का महंगाई प्रबंधन कौशल कहां गया? खुदरा और थोक महंगाई दर बढ़ने से रिजर्व बैंक के लिए भी मुश्किलें खड़ी हो गई हैं। इसका सबसे बड़ा असर यह होता है कि रिजर्व बैंक के सामने नीतिगत दरें बढ़ाने के सभी रास्ते बंद हो गए हैं। जब महंगाई बढ़ती है तो बैंक पर नीतिगत दरें बढ़ाने का दबाव बढ़ जाता है। आटो और होम लोन सस्ता होने की सम्भावनाएं खत्म हो जाती हैं।

पिछले महीने भारतीय रिजर्व बैंक के गवर्नर शक्तिकांत राय के नेतृत्व वाली कमेटी ने ब्याज दरों को यथावत बनाए रखने का फैसला किया था। इससे पहले रिजर्व बैंक अर्थव्यवस्था को गति देने के मकसद से कई बार ब्याज दरों में आधार अंकों में कटौती कर चुका है। फरवरी में होने वाली इस कमेटी की बैठक में ब्याज दरों में कटौती या विचार होने की कोई सम्भावना नहीं। नीतिगत दरों में परिवर्तन की कोई गुंजाइश ही नहीं बची है। केन्द्रीय वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण को अपने बजट का ड्राफ्ट इस ढंग से तैयार करना होगा, जिससे अर्थव्यवस्था की कुछ तस्वीर बदले। पिछले कुछ वर्षों में न्यूनतम विकास दर की चिंताओं के बीच देश में बड़े बदलावों की उम्मीद है। मगर अर्थव्यवस्था से जुड़े तमाम मुद्दे चिंता बढ़ाने वाले हैं।

अगर देश के सियासी माहौल की बात करें तो ऐसा लगता है-

‘‘कौन रोता है किसी और की खातिर ए दोस्त

सबको अपनी ही किसी बात पर रोना आया।’’

ऐसा लगता है कि देश की अर्थव्यवस्था पर गम्भीर बातचीत नहीं हो रही, सब अपने-अपने एजैंडे पर बोल रहे हैं। देश असंतोष में जकड़ा हुआ प्रतीत होता है। धरने, प्रदर्शन और बंद भी किसी न किसी तरीके से अर्थव्यवस्था को ही नुक्सान पहुंचाते हैं। ऐसी स्थिति में सवाल यह है कि उच्च आर्थिक विकास के लिए पुश कहां से आएगा।

सार्वजनिक निवेश एक ऐसा क्षेत्र है जो अर्थव्यवस्था को गति प्रदान कर सकता है, लेकिन भारत अपना वित्तीय  दृष्टिकोण ढीला करने को तैयार नहीं। सरकार की कमाई घट रही है और वह फिर रिजर्व बैंक के आगे सरप्लस मनी के लिए गुहार लगा रही है। देखना होगा कि वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण अपने दूसरे बजट में चुनौतियों का सामना कैसे करती हैं।

-आदित्य नारायण चोपड़ा