BREAKING NEWS

देश भर में कोरोना का प्रकोप जारी, मरने वालों का आंकड़ा 190 के पार, 6500 लोग इससे संक्रमित◾कोरोना की चपेट में आया सऊदी का शाही परिवार, किंग सलमान आइसोलेशन में◾Coronavirus : महाराष्ट्र में 24 घंटे के भीतर 25 मौतें, राज्‍य में 1,364 लोग संक्रमित ◾कोविड-19 : राजधानी दिल्ली में कोरोना के 51 नए मामले, राज्य में संक्रमितों की संख्या 720 तक पहुंची◾डॉक्टरों के साथ दुर्व्यवहार करने वालों के खिलाफ की जाएगी सख्त कार्रवाई : CM केजरीवाल◾शिया वक्फ बोर्ड ने तबलीगी जमात पर लगाया गंभीर आरोप, कहा- 1 लाख से ज्यादा लोग मारने की बनाई थी योजना◾कोरोना वायरस : स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा- देश में आवश्यक उपकरणों का स्टॉक मौजूद, PPE और वेंटिलेटर की खरीद शुरु◾देश में कोरोना फैलने के लिए अनिल देशमुख ने दिल्ली पुलिस को ठहराया जिम्मेदार◾कोरोना संकट से जारी जंग में मदद के तौर पर केंद्र सरकार ने राज्यों के लिए आपात पैकेज की दी मंजूरी◾महाराष्ट्र कैबिनेट ने उद्धव ठाकरे को MLC बनाने का लिया निर्णय, राज्यपाल को भेजेंगे प्रस्ताव ◾कोरोना संकट : ओडिशा सरकार ने 30 अप्रैल तक बढ़ाई लॉकडाउन की अवधि, केंद्र से किया ये अनुरोध◾गुजरात में कोरोना के 55 नए मरीज, अकेले अहमदाबाद के 50 लोग हुए संक्रमित◾PM मोदी ने किया ट्रम्प का समर्थन, कहा- मुश्किल वक्त ही दोस्तों को लाती है करीब◾जमात प्रमुख मौलाना साद के ठिकाने का हुआ खुलासा, पुलिस फिलहाल नहीं करेगी पूछताछ ◾झारखंड में कोरोना वायरस से 1 की मौत, मरीजों की संख्या एक दिन में तिगुनी हुई ◾Coronavirus : अमेरिका में मरने वालों की संख्या 14000 के पार, 11 भारतीयों के मौत की पुष्टि◾चीन में कोविड-19 के 63 नए मामलें सामने आए, अबतक करीब 3,335 लोगों की हुई मौत ◾पूरे विश्व कोरोना वायरस का कहर जारी, अब तक वायरस से संक्रमितों की संख्या 15 लाख से अधिक हुई ◾कोविड-19 : देश में 5,734 संक्रमित मामलों की पुष्टि वहीं 166 लोगों की अब तक मौत◾Covid-19 : दवा मिलने पर भारत के फैसले से डोनाल्ड ट्रम्प के सुर बदले नजर आए, कहा- थैंक्यू PM मोदी ◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaLast Update :

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

बहादुर शाह जफर और भारत!

अपनी म्यांमार यात्रा के दौरान प्रधानमन्त्री श्री नरेन्द्र मोदी ने अंतिम मुगल सम्राट बहादुर शाह जफर की मजार पर जाकर अकीदत पेश करके हिन्दोस्तान के उस महानायक को स्वतन्त्र भारत के देशवासियों की तरफ से इसके उस वकार को बुलन्द रखने का अहद किया है जिसके लिए शहंशाह ने अपनी ढलती उम्र में भी अंग्रेजों के खिलाफ हुई क्रान्ति की रहनुमाई की थी। बेशक बहादुर शाह मुगलिया सल्तनत के सबसे कमजोर बादशाह थे मगर उनके दिल में अंग्रेजों को भारत से बाहर करने की जबर्दस्त तड़प थी आैर इसके लिए उन्होंने 1857 में भारत की सभी हिन्दू–मुस्लिम रियासतों में एकता की अलख जगाई थी। उनके इस फरमान को पूरे भारत में इस स्वतन्त्रता संग्राम का अनाम नायक मौलवी अहमद शाह सभी राजे–रजवाड़ों के दर पर जाकर संगठित होने की भावना भर रहा था और एेलान कर रहा था कि हिन्दोस्तान पर हक केवल हिन्दोस्तानियों का ही है।

यह बेवजह नहीं था कि कवियित्री सुभद्रा कुमारी चौहान ने बादशाह की उम्र को देखते हुए ही प्रतीकात्मक रूप से अपनी कविता लक्ष्मीबाई में ये पंक्तियां लिखी थीं कि “बूढे़ भारत में आयी फिर से नई जवानी थी, खूब लड़ी मर्दानी वह तो झांसी वाली रानी थी’’ आज की पीढ़ी के यह सोच कर भी रोंगटे खड़े हो जाते हैं कि किस प्रकार शहंशाह ने अंग्रेजों के जुल्मों को सहन किया था और भारत मंे हिन्दू–मुस्लिम इत्तेहाद बनाये रखने की आखिरी दम तक कोशिश की थी। जबकि उनका निजाम सिर्फ लाल किले की चारदीवारी से बाहर बसे शहर तक सीमित रह गया था और हर हुक्म अंग्रेज कम्पनी बहादुर का चलता था जिस पर मुहर सिर्फ शहंशाह की लगती थी। इसके बावजूद अंग्रेजों ने उनके शहजादे के सिर एक थाल में सजा कर भरे दरबार में उन्हें यह कह कर भेजे थे कि शाहे हिन्दोस्तान को कम्पनी बहादुर की तरफ से तरबूजों का नजराना भेजा गया है। उस लाचार बादशाह ने जब अंग्रेजों के खिलाफ युद्ध की कमान संभाली होगी तो उसकी मनः स्थिति क्या होगी। हिन्दोस्तान की तवारीख चीख–चीख कर ऐलान करती है कि अंग्रेजों ने अपने जुल्मों-सितम की इन्तेहा हिन्दू और मुसलमानों दोनों पर ही बराबर की रफ्तार से नाजिल की थी।

मगर बहादुर शाह जफर लगातार यह कोशिश करते रहे कि हिन्दू–मुसलमान संगठित रहें और दोनों के हकूक बराबर हों। यही वजह थी कि बादशाह ने दिल्ली मे‘ रामलीलाओं का चलन शुरू कराया और इसके लिए उस समय के नगर सेठ चुन्नामल खत्री की सदारत में इसके आयोजन को लालकिले के पीछे ही बहती जमुना नदी के तट का चयन किया। गोस्वामी तुलसीदास ने वाराणसी में गंगा के तट पर रामलीला खेलने की प्रथा शुरू कराई थी। उसी तर्ज पर दिल्ली में रामलीला (जिसे आज बड़ी रामलीला कहा जाता है) शुरू की गई और झांकियां निकालने की प्रथा शुरू की गई।

दिल्ली की जामा मस्जिद के जेरे साया ये झांकियां निकाली जाती थीं जिनका स्वागत मुसलमान नागरिक भी पूरे जोश–खरोश से करते थे। यह परंपरा अभी तक जारी है। हम अपने गौरवशाली इतिहास से कुछ सीख सकते हैं तो यह सीखें कि तालीम और जुबान पर कभी किसी कौम का एकाधिकार नहीं रहा। चाहे हिन्दी हो या उर्दू ये हिन्दोस्तानियों की भाषाएं रहीं और इनमें इलाम हासिल करने वाले दोनों ही समुदायों के लोग रहे। आज के हिन्दोस्तानियों को अचम्भा हो सकता है कि इसी मुल्क में कभी हिन्दू भी मौलवी हुआ करते थे। यह परंपरा पचास के दशक के शुरू तक भारत में रही जिसका प्रमाण यह है कि इलाहाबाद के मशहूर शायर अकबर इलाहाबादी ने अपने मित्र मदन की तारीफ में यह शेर लिखा,

“रखी है शेख ने दाढ़ी सफेद सन्त की सी, मगर वह बात कहां मौलवी मदन की सी।”

इतना ही नहीं संस्कृत के महाविद्वान महापंडित राहुल सांकृत्यायन को उर्दू भाषा का ज्ञान आगरा के मौलवी महेश प्रसाद ने कराया था। दाराशिकोह के जमाने से लेकर उनके बाद न जाने कितने संस्कृत विद्वान मुसलमान तालिब हुए। स्वयं दाराशिकोह अरबी और संस्कृत का महाविद्वान था जिसने वैदिक ज्ञान की रोशनी चारों तरफ बिखेरी। बहादुर शाह जफर भी हिन्दोस्तान की तहजीब के इस कदर दीवाने थे कि खान–पान से लेकर यहां के रीति–रिवाजों और त्यौहारों को बिना हिन्दू–मुस्लिम का रंग देख कर मनाते थे। यह मुगलिया सल्तनत के इस आखिरी दौर का असर ही था कि चांदनी चौक की अंग्रेजों के पास रहन रखी फतेहपुरी मस्जिद को 36 हजार रुपये देकर शहर के हिन्दू सेठ ने छुड़ाया था। वहीं बहादुर शाह जफर जो आज अपने मुल्क से बहुत दूर यंगून की एक कब्र मे सोया पड़ा है, जरूर सोच रहा होगा कि कौन गद्दार उसके मुल्क में पैदा हुआ जिसने उसके प्यारे हिन्दोस्तान के दो टुकड़े करा डाले और वह भी हिन्दू–मुसलमान के नाम पर। मोहम्मद अली जिन्ना बहादुर शाह जफर का सबसे बड़ा गुनहगार है जिसने इस मुल्क के इतिहास को 1947 में खूंरेजी से भर डाला। यंगून में शहंशाह की कब्र से आज भी यही आवाज हर हिन्दोस्तानी के हौसले को पुरजोश रखती है कि,

“गाजियों में बू रहेगी जब तलक ईमान की, तख्ते लन्दन तक चलेगी तेग हिन्दोस्तान की।”

प्रधानमन्त्री ने बादशाह की मजार पर जाकर सभी हिन्दोस्तानियों को पैगाम दिया है कि हमारी रगों में वह खून दौड़ता है जिसने सैकड़ों साल पहले भी मुल्क को मजबूत बनाने के लिए अपनी हस्ती दांव पर लगा दी थी। इस हकीकत के बावजूद कि ग्वालियर का मजबूत रजवाड़ा अंग्रेजों के साथ खड़ा हुआ था और बादशाह की फौजों के खिलाफ डटा हुआ था। तभी तो सुभद्रा कुमारी चौहान ने लिखा था कि

“अंग्रेजों के मित्र सिन्धिया ने छोड़ी रजधानी थी, खूब लड़ी मर्दानी वह तो झांसी वाली रानी थी।”