BREAKING NEWS

किसानों ने दिल्ली को चारों तरफ से घेरने की दी चेतावनी, कहा- बुराड़ी कभी नहीं जाएंगे◾दिल्ली में लगातार दूसरे दिन संक्रमण के 4906 नए मामले की पुष्टि, 68 लोगों की मौत◾महबूबा मुफ्ती ने BJP पर साधा निशाना, बोलीं- मुसलमान आतंकवादी और सिख खालिस्तानी तो हिन्दुस्तानी कौन?◾दिल्ली पुलिस की बैरिकेटिंग गिराकर किसानों का जोरदार प्रदर्शन, कहा- सभी बॉर्डर और रोड ऐसे ही रहेंगे ब्लॉक ◾राहुल बोले- 'कृषि कानूनों को सही बताने वाले क्या खाक निकालेंगे हल', केंद्र ने बढ़ाई अदानी-अंबानी की आय◾अमित शाह की हुंकार, कहा- BJP से होगा हैदराबाद का नया मेयर, सत्ता में आए तो गिराएंगे अवैध निर्माण ◾अन्नदाआतों के समर्थन में सामने आए विपक्षी दल, राउत बोले- किसानों के साथ किया गया आतंकियों जैसा बर्ताव◾किसानों ने गृह मंत्री अमित शाह का ठुकराया प्रस्ताव, सत्येंद्र जैन बोले- बिना शर्त बात करे केंद्र ◾बॉर्डर पर हरकतों से बाज नहीं आ रहा पाक, जम्मू में देखा गया ड्रोन, BSF की फायरिंग के बाद लौटा वापस◾'मन की बात' में बोले पीएम मोदी- नए कृषि कानून से किसानों को मिले नए अधिकार और अवसर◾हैदराबाद निगम चुनावों में BJP ने झोंकी पूरी ताकत, 2023 के लिटमस टेस्ट की तरह साबित होंगे निगम चुनाव ◾गजियाबाद-दिल्ली बॉर्डर पर डटे किसान, राकेश टिकैत का ऐलान- नहीं जाएंगे बुराड़ी ◾बसपा अध्यक्ष मायावती ने कहा- कृषि कानूनों पर फिर से विचार करे केंद्र सरकार◾देश में कोरोना संक्रमितों का आंकड़ा 94 लाख के करीब, 88 लाख से अधिक लोगों ने महामारी को दी मात ◾योगी के 'हैदराबाद को भाग्यनगर बनाने' वाले बयान पर ओवैसी का वार- नाम बदला तो नस्लें होंगी तबाह ◾वैश्विक स्तर पर कोरोना के मामले 6 करोड़ 20 लाख के पार, साढ़े 14 लाख लोगों की मौत ◾सिंधु बॉर्डर पर किसानों का आंदोलन जारी, आगे की रणनीति के लिए आज फिर होगी बैठक ◾छत्तीसगढ़ में बारूदी सुरंग में विस्फोट, CRFP का अधिकारी शहीद, सात जवान घायल ◾'अश्विनी मिन्ना' मेमोरियल अवार्ड में आवेदन करने के लिए क्लिक करें ◾भाजपा नेता अनुराग ठाकुर बोले- J&K के लोग मतपत्र की राजनीति में विश्वास करते हैं, गोली की राजनीति में नहीं◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

‘इको फ्रेंडली’ दीपावली मनायें

राष्ट्रीय पर्यावरण पंचाट (एनजीटी) ने राजधानी दल्ली समेत इसके आसपास के विभिन्न राज्यों के इलाकों में भी आगामी 30 नवम्बर तक पटाखे व आतिशबाजी पर प्रतिबन्ध लगा कर दीपावली महोत्सव को पटाखा रहित करने का इन्तजाम बांधा है इसका स्वागत इसलिए किया जाना चाहिए कि दीपावली मूलतः प्रकाश उत्सव है जिसमें पर्यावरण को साफ-सुथरा रखने का भाव भी इस प्रकार अन्तर्निहित है कि सरसों आदि तेल के दीये जला कर वातावरण को शुद्ध रखने का प्रयास रहता है। बेशक समय बदलने के साथ मोमबत्तियों आदि का प्रचलन ज्यादा सुविधापरक होते हुए बढ़ा है मगर तेल के दीये जलाने से वातावरण अर्थात वायुमंडल शुद्ध होता है, यह वैज्ञानिक रूप से सत्य है। मगर एनजीटी का फैसला वातावरण व पर्यावरण के लगातार प्रदूषित होने को देख कर किया गया है क्योंकि आतिशबाजी और पटाखेबाजी इसे और प्रदूषित करती है।

कोरोना संक्रमण के चलते यह निर्णय और भी ज्यादा महत्वपूर्ण हो जाता है क्योंकि बढ़ते वायु प्रदूषण के कारण कोरोना संक्रमण फैलने में भी मदद मिलती है। वैज्ञानिक सर्वेक्षणों में यह सिद्ध हो चुका है वायु प्रदूषण से कोरोना संक्रमण 17 प्रतिशत अधिक फैलता है। राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र में जिस तरह धनाढय व नव धनाढय वर्ग कानफोड़ पटाखेबाजी के साथ आतिशबाजी में धन बहाने में अपनी शान समझता है उसे देखते हुए दीपावली का पर्याय पटाखेबाजी बनती जा रही थी। सर्दियों का मौसम आने की वजह से दिल्ली व आसपास के गुरुग्राम व नोएडा जैसे क्षेत्रों का वायु प्रदूषण पहले से ही बहुत ऊंचे स्तर पर पहुंचा हुआ है जिसे देखते हुए आतिशबाजी से इसमें और वृ​द्धि होना स्वाभाविक था। अतः जनस्वास्थ्य की दृष्टि से यह फैसला बहुत महत्वपूर्ण है लेकिन इस बहाने हमें दीपावली त्यौहार का वास्तविक अर्थ भी समझना चाहिए। हिन्दू मान्यताओं के अनुसार यह भगवान राम के लंका विजय के बाद अयोध्या की राजगद्दी संभालने का पर्व है परन्तु इसमें लक्ष्मी पूजन का विधान है। भगवान विष्णु की प्रियतमा मां लक्ष्मी धन की देवी समझी जाती हैं। अतः लोग उनकी आराधना व पूजा-अर्चना करते हैं, परन्तु मूलतः यह गृहलक्ष्मी के गुणों का पूजन है।

हिन्दू परिवारों में घर की बहू या पत्नी को गृहलक्ष्मी कहा जाता है। दीपावली पर पूजन के समय समस्त उत्तर भारत में एक कहानी के माध्यम से उस गृहलक्ष्मी का बखान किया जाता है जो अपने आचार-व्यवहार से गरीबी में गुजर-बसर कर रहे अपनी ससुराल के परिवार को अपनी बुद्धि व चातुर्य से बाहर निकाल कर परिवार के प्रत्येक व्यक्ति के लिए कोई न कोई कार्य करना आवश्यक बना देती है। कर्म को धर्म बना कर उसका परिवार गरीबी से बाहर निकलता है जिसमें उसका भाग्य भी साथ देता है। यह सब परिवार की बहू द्वारा बनाये गये नियमों से ही संभव हो पाता है। अतः वह गृह लक्ष्मी कहलाती है, परन्तु आधुनिक युग में हिन्दू त्यौहारों का जिस तरह स्वरूप उभर रहा है उससे नई पीढ़ी के पास इन त्यौहारों के पीछे छिपे हुए सन्देश नहीं पहुंच पा रहे हैं और इन्हें मनाने के नये संस्करण विकसित हो रहे हैं। दीपावली पर पटाखेबाजी भी इनमें से एक हैं। वास्तव मे आतिशबाजी का प्रयोग सबसे पहले पंजाब में शुरू हुआ था क्योंकि भारत का यह राज्य विदेशी आक्रमणकारियों का प्रमुख रास्ता था। आक्रमण होने या एसा खतरा होने की सूरत में उस समय आकाश में रोशनी करके लोगों को हमले के प्रति सचेत किया जाता था और उन्हें एकत्र होने का संकेत दिया जाता था.. बाद में एक राजा द्वार दूसरे पर विजय प्राप्त करने पर आतिशबाजी होने लगी। इस तरह धीरे-धीरे आतिशबाजी का प्रचलन त्यौहारों पर बढ़ने लगा और भारत समेत पूरे विश्व मे यह संस्कृति पनपती गई। दीपावली चूंकि प्रकाश उत्सव होता है अतः इस पर्व पर आतिशबाजी को सबसे ज्यादा बढ़ावा मिला। परन्तु 21वीं सदी में जब पूरी दुनिया पर्यावरण की समस्या से जूझ रही है और वैज्ञानिक अन्वेषों ने सामान्य मनुष्य का जीवन अधिकाधिक सरल व सुखमय बनाने की गरज से वातावरण को इसके उपजे हुए कचरे से भरना शुरू कर दिया है तो दुनिया ही इससे  राहत पाने के उपायों पर एकजुट होकर आगे बढ़ना चाहती है।

पेरिस पर्यावरण समझौता इसी वजह से हुआ है। मगर ये वृहद सवाल है, किसी भी देश में आम आदमी के लिए शुद्ध हवा में सांस लेना उसके स्वास्थ्य के लिए जरूरी होता है और दुर्भाग्य से भारत ऐसा देश है जिसके अधिसंख्य बड़े शहरों की हवा सांस लेने के नाकाबिल होती जा रही है। खास कर दिल्ली की हवा में लगातार प्रदूषण बढ़ता जा रहा है। इसके बहुत से कारण हो सकते हैं जिनमें औद्योगिक धुएं से लेकर मोटर वाहनों का धुआं भी शामिल है और वातावरण में जहरीली गैसों का बढ़ता स्तर भी शामिल है। मगर इस स्तर को और ज्यादा बढ़ाने की इजाजत किसी त्यौहार के बहाने भी कैसे दी जा सकती है। इसी वजह से एनजीटी ने इस बार राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र में पटाखेबाजी पर पूर्ण प्रतिबन्ध लगाया है। पूर्व में यह मामला अदालतों तक में जा चुका है परन्तु कुछ घंटों के लिए आतिशबाजी की इजाजत देने का परिणाम भी वही निकला जो लगातार आतिशबाजी करने से निकलता। अतः एनजीटी के फैसले का पालन दृढ़ता से हो इस तरफ प्रशासन को ध्यान रखना होगा और इस पर सख्त रुख अख्तियार करना होगा। जिससे ‘इको फ्रेडली’ दीपावली मन सके लेकिन इससे त्यौहारों के मूल सन्देश से जुड़ने का अवसर भी मिलता है। नई पीढ़ी को उस ओर भी ध्यान देना चाहिए, और गौर करना चाहिए कि गृह लक्ष्मी ही घर में लक्ष्मी का प्रवेश कैसे खोलती है। भारत की संयुक्त परिवार परंपरा का उज्ज्वल पक्ष भी दीपावली प्रस्तुत करती है।