BREAKING NEWS

इंडिया गेट पर बने अमर जवान ज्योति की मशाल अब हमेशा के लिए हो जाएगी बंद, जानिए क्या है पूरी खबर ◾IAS (कैडर) नियामवली में संशोधन पर केंद्र आगे नहीं बढ़े: ममता ने फिर प्रधानमंत्री से की अपील◾कल के मुकाबले कोरोना मामलों में आई कमी, 12306 केस के साथ 43 मौतों ने बढ़ाई चिंता◾बिहार में 6 फरवरी तक बढ़ाया गया नाइट कर्फ्यू , शैक्षणिक संस्थान रहेंगे बंद◾यूपी : मैनपुरी के करहल से चुनाव लड़ सकते हैं अखिलेश यादव, समाजवादी पार्टी का माना जाता है गढ़ ◾स्वास्थ्य मंत्रालय ने दी जानकारी, कोविड-19 की दूसरी लहर की तुलना में तीसरी में कम हुई मौतें ◾बेरोजगारी और महंगाई जैसे मुद्दों पर कांग्रेस ने किया केंद्र का घेराव, कहा- नौकरियां देने का वादा महज जुमला... ◾प्रधानमंत्री मोदी कल सोमनाथ में नए सर्किट हाउस का करेंगे उद्घाटन, PMO ने दी जानकारी ◾कोरोना को लेकर विशेषज्ञों का दावा - अन्य बीमारियों से ग्रसित मरीजों में संक्रमण फैलने का खतरा ज्यादा◾जम्मू कश्मीर में सुरक्षाबलों को मिली बड़ी सफलता, शोपियां से गिरफ्तार हुआ लश्कर-ए-तैयबा का आतंकी जहांगीर नाइकू◾महाराष्ट्र: ओमीक्रॉन मामलों और संक्रमण दर में आई कमी, सरकार ने 24 जनवरी से स्कूल खोलने का किया ऐलान ◾पंजाब: धुरी से चुनावी रण में हुंकार भरेंगे AAP के CM उम्मीदवार भगवंत मान, राघव चड्ढा ने किया ऐलान ◾पाकिस्तान में लाहौर के अनारकली इलाके में बम ब्लॉस्ट , 3 की मौत, 20 से ज्यादा घायल◾UP चुनाव: निर्भया मामले की वकील सीमा कुशवाहा हुईं BSP में शामिल, जानिए क्यों दे रही मायावती का साथ? ◾यूपी चुनावः जेवर से SP-RLD गठबंधन प्रत्याशी भड़ाना ने चुनाव लड़ने से इनकार किया◾SP से परिवारवाद के खात्मे के लिए अखिलेश ने व्यक्त किया BJP का आभार, साथ ही की बड़ी चुनावी घोषणाएं ◾Goa elections: उत्पल पर्रिकर को केजरीवाल ने AAP में शामिल होकर चुनाव लड़ने का दिया ऑफर ◾BJP ने उत्तराखंड चुनाव के लिए 59 उम्मीदवारों के नामों पर लगाई मोहर, खटीमा से चुनाव लड़ेंगे CM धामी◾संगरूर जिले की धुरी सीट से भगवंत मान लड़ सकते हैं चुनाव, राघव चड्डा बोले आज हो जाएगा ऐलान ◾यमन के हूती विद्रोहियों को फिर से आतंकवादी समूह घोषित करने पर विचार कर रहा है अमेरिका : बाइडन◾

चीन की कुटिलता

नववर्ष के मौके पर लद्दाख क्षेत्र में दस जगहों पर भारतीय और चीनी सैनिकों ने मिठाइयों का आदान-प्रदान किया था लेकिन चीन की कुटिल चालों के चलते इन मिठाइयों की मिठास नहीं बची। अब ड्रेगन की चालों के पीछे छिपे खतरनाक खेल का पूरा सच सामने आ चुका है। हाल ही में चीन ने अरुणाचल प्रदेश की 15 जगहों के चीनी नाम रख दिए हैं। चीन अरुणाचल प्रदेश को जांगतान या दक्षिणी तिब्बत बताता है। विशेषज्ञों का कहना है कि चीन का यह ताजा कदम उसके नए सीमा कानून से जुड़ा है जो एक जनवरी से लागू कर दिया गया है। फिर यह खबर आई कि गलवान घाटी में भारत और  चीनी सैनिकों के बीच संघर्ष होने के डेढ़ वर्ष बाद वहां पर चीनी झंडा फहरा दिया है। यद्यपि भारत के कब्जे वाली भूमि पर झंडा फहराये जाने की खबरों को भारतीय सेना ने गलत बताया है और कहा है कि चीनी सैनिकों ने झंडा विवादित क्षेत्र में फहराया है। सेना ने वायरल वीडियो काे चीन का ‘प्रोपेगंडा वार’ बताया। भारतीय सैनिकों ने भी गलवान घाटी में तिरंगा फहराकर चीन के दुष्प्रचार का मुंह तोड़ जवाब दे दिया है।

अब सैटेलाइट तस्वीरों से यह पता चला है कि चीन पैंगोंग त्सो झील पर एक पुल तैयार कर रहा है ताकि उसके सैनिक झील के उत्तर और दक्षिण इलाकों में आसानी से आवागमन कर सके। 2019 में पैंगोंग झील के उत्तर और दक्षिण दोनों में भारत और चीन की सेनाओं में विवाद  हुआ था। झील के उत्तर में ​विवादित​ फिंगर एरिया है तो दक्षिण में कैलाश हिल्स रेंज और  रेचीना दर्रा है, हालांकि  बाद में दोनों ही जगह पर डिसइंगेजमेंट हो गया था लेकिन पूर्वी लद्दाख में दोनों देशों की सेनाओं में तनाव जारी है। दोनों ही सेनाओं के 60-60 हजार सैनिक वहां तैनात हैं। इसके अलावा टैंक, तोप और मिसाइलों का जखीरा भी है। करीब 140 किलोमीटर लम्बी पैंगांग झील के दो-तिहाई हिस्से पर यानि करीब सौ किलोमीटर पर चीन का कब्जा है। ऐसे में चीन के सैनिकों को एक छोर से दूसरे छोर तक जाने के लिए नौकाओं का सहारा लेना पड़ता है लेकिन नए पुल से एक छोर से दूसरे छोर पर पहुंचना आसान हो जाएगा।

कभी डोकलाम तो कभी गलवान ताे भी सीमावर्ती क्षेत्रों में गांव बसाना चीन की ऐसी कुटिल चालें हैं जिनका संबंध राष्ट्रपति शी जि​नपिंग की विस्तारवादी और ​विघटनकारी नीतियों से है। चीन अब ऐसा देश बन चुका है कि वह जिसे अपना मित्र  राष्ट्र मानता है, उसके साथ ही विश्वासघात करने से संकोच नहीं करता।

चीन ने अरुणाचल राज्य स्थित सेला दर्रे का नाम बदलकर ‘से-ला’ कर ​दिया । उसने अन्य क्षेत्रों के नाम भी बदले। भारतीय रक्षा विशेषज्ञों का कहना है कि चीनी नाम के बदलाव से यह तथ्य नहीं बदल जाता कि यह स्थान भारत का हिस्सा है लेकिन इससे चीन द्वारा मनोवैज्ञानिक युद्ध पर जोर देने की बात रेखांकित होती है। 

अरुणाचल में 13,700 फुट ऊंचे सेला दर्रे में शीर्ष पर भारत के सीमा सड़क संगठन द्वारा लगाए गए स्मृति लेख पर लिखा है-‘‘हे प्रिय मित्र, जब आप सड़क के आखिर में पहुंचते हैं तो उसके ठीक आगे हमेशा एक पहाड़ी होती है, जिस  पर चढ़ना होता है।’’ नाम बदलने की कवायद में ‘जगनान’ या दक्षिण तिब्बत के आठ गांवों और कस्बों, चार पहाड़ियों और दो नदियों को शामिल  किया है। चीन हिमालय भारत के कुछ हिस्सों पर अपना दावा करने के​ लिए नक्शाें के नामों में बदलाव की कवायद कर रहा है। 

चीन एक तरह से विमान पर किसी मोहरे को हिलाये बिना शतरंज खेलता है। चीन ने 1962 के सीमा युद्ध में भी सेला दर्रे को निशाना बनाया था। इससे पहले भी वर्ष 2017 में चीन ने छह इलाकों के नाम बदले थे। भारत ने चीन के इन कदमों पर कड़ा एतराज जताते हुए साफ कर दिया है कि अरुणाचल भारत का अभिन्न अंग है, ऐसे में चीन अगर किसी इलाके का नाम बदल कर फर्जी दावों की शुरूआत करता है तो भारत उसे सहन नहीं करेगा और किसी भी तरह से दखल का उसी भाषा में जवाब दिया जाएगा। वर्ष 2020 में भारतीय सेना ने चीन को जैसे को तैसा कर ऐसा सबक सिखाया था कि उसकी सारी हेकड़ी निकल गई थी। एक तरफ जहां गलवान में खूनी झड़प हो गई थी, वहीं पैंगोंग झील के पास भारतीय सेना ने ऊंचाई पर पोजीशन लेकर चीन को यह सोचने को मजबूर कर दिया था कि अब उसकी पहले जैसी दादागिरी नहीं चलेगी। भारतीय नेतृत्व और सैन्य प्रतिष्ठान ने अपनी रक्षा तैयारियों को बढ़ाकर यह संदेश दे दिया  है कि अब भारत 1962 वाला भारत नहीं है। भारत एलएसी और एलओसी दोनों की सुरक्षा के लिए एस-400 पंजाब के एक वायुसेना अड्डे पर तैनात हो जाएगा जो पाकिस्तान और चीन की किसी भी हिमाकत का मुंहतोड़ जवाब देने में सक्षम होगा। आज के अनिश्चित माहौल में युद्ध की आशंकाओं को खारिज नहीं किया जा सकता। इसीलिए मोदी सरकार की भारतमाला परियोजना के तहत बीते 6-7 वर्षों में सीमावर्ती क्षेत्रों में सड़कों, पुलों और सुरंगों का निर्माण किया गया है। भारत को यह अहसास हुआ कि  अब पुरानी रणनीति पर चलना ठीक नहीं क्योंकि चीन लम्बे समय से भारत ​विरोधी गतिविधियों में लगा हुआ है। भारत अब  साम​रिक  सुरक्षा से जुड़ी योजनाओं पर काम कर रहा है। भारत चीन की हर चाल का जवाब देने के​ लिए तैयार है, क्योंकि शत्रु तो शत्रु होता है जिससे निपटना भारत सरकार की ही ​​जिम्मेवारी है।