BREAKING NEWS

राजद्रोह का आरोपी शरजील इमाम बिहार के जहानाबाद से गिरफ्तार◾नरेंद्र मोदी ने देश की भाईचारे और एकता की छवि को नुकसान पहुंचाया : राहुल गांधी◾एनसीसी के कार्यक्रम में PM मोदी बोले- पाक को धूल चटाने में 10 दिन भी नहीं लगेंगे'◾कांग्रेस ने भाजपा पर साधा निशाना, कहा- प्रति व्यक्ति कर्ज 27 हजार रुपये बढ़ा, सरकार बजट में बताए कि यह बोझ कैसे कम होगा ◾2002 गुजरात दंगे के 14 दोषियों को सुप्रीम कोर्ट से मिली जमानत◾केजरीवाल की चुनौती को अमित शाह ने स्वीकारी, 8 सांसदों को स्कूलों में भेजकर खोली पोल ◾सीएए के तहत भारतीय नागरिकता पाने के लिए लोगों को देना होगा धर्म का सबूत◾क्षेत्रीय सुरक्षा के लिए एक-दूसरे की संवेदनाओं को समझना आवश्यक : राजनाथ सिंह◾पाक के लाहौर में मारा गया खालिस्तानी नेता 'हैप्पी PhD’, RSS नेताओं की हत्या का था आरोपी◾निर्भया केस के दोषी मुकेश सिंह की याचिका पर आज सुप्रीम कोर्ट में होगी सुनवाई ◾BJP सांसद प्रवेश वर्मा का बड़ा बयान, बोले-हमारी सरकार बनी तो 1 घंटे में खाली करा देंगे शाहीन बाग◾दिल्ली में कोरोना वायरस ने दी दस्तक, RML अस्पताल में 3 संदिग्ध मामले सामने आए◾जम्मू-कश्मीर पुलिस को बड़ी कामयाबी हासिल, लश्कर-ए-तैयबा के आतंकी को किया गिरफ्तार◾मध्यप्रदेश : कमलनाथ सरकार में राजनीतिक नियुक्तियां अटकने से कांग्रेस नेताओं में बढ़ रहा असंतोष ◾दिल्ली चुनाव : अमित शाह ने केजरीवाल को शाहीनबाग जाने की चुनौती दी, कहा- मोदी सरकार राष्ट्र विरोधी को नहीं बख्शेगी ◾कोरोना वायरस से चीन में अब तक 106 लोगों की मौत, 1300 नए मामले आए सामने ◾हेमंत मंत्रिमंडल का विस्तार मंगलवार को, सात नये मंत्री हो सकते हैं शामिल ◾मुझे पेशेवर सेवाओं के लिए पीएफआई की तरफ से भुगतान किया गया था: कपिल सिब्बल ◾कोरेगांव-भीमा मामला : भाकपा ने कहा- NIA को सौंपना पूर्व भाजपाई सरकार के झूठ पर “पर्दा डालने की कोशिश’◾कोई शक्ति कश्मीरी पंडितों को लौटने से नहीं रोक सकती : राजनाथ सिंह ◾

खाली हाथ आए, खाली हाथ जाएंगे!

अमीरी की क्या पहचान है या जिसके पास बहुत ज्यादा प्रोपर्टी है, क्या वह बहुत बड़ा अमीर है? कोई कितना भी बड़ा किंग क्यों न बन जाए लेकिन एक दिन तो उसे भी दुनिया से जाना है और जमीनी हकीकत यही है कि उसे खाली हाथ जाना है। यह जानते हुए भी इंसान दौलत के पीछे भाग रहा है। अपनी जमीन-जायदाद बढ़ाने के लिए वह नैतिकता और रिश्तों की तमाम हदें हर रोज तोड़ रहा है।

कहीं बेटे ने बाप को तो कहीं बेटे ने मां को प्रोपर्टी के लिए मार डाला। ऐसी सुर्खियां रोज अखबारों में छा रही हैं। पिछले दिनों सोनभद्र में जमीन पर कब्जा करने को लेकर हुए संघर्ष में नौ लोगों की हत्या कर दी गई और मारे गए परिवार के एक आठ वर्षीय बच्चे को भी गोली लगी। कहीं मां ने बेटे को बेदखल किया, कहीं भाई-भाई खून के प्यासे बने। हकीकत यह है कि समाज में जो लोग नैतिकता निभाते हैं उनसे कभी-कभी प्रशासन को भी दिक्कतें आती हैं।

सामाजिक जीवन में मैंने व्यक्तिगत तौर पर जब कई लोगों की समस्याएं प्रोपर्टी से जुड़े मामले में हल करने की कोशिश की तो मुझे भी कई नेताओं ने चतुराई से इन मामलों में दूर रहने को कहा लेकिन आज भी इंसानियत की खातिर हम कभी कमजोर पक्ष के लिए आवाज उठाने से पीछे नहीं हटते। मेरे पति श्री अश्विनी कुमार जो लाखों लोगों की दुआओं और प्रभु की कृपा से स्वास्थ्य लाभ कर रहे हैं, ने मुझे यही कहा है कि सच के साथ हमेशा खड़े रहना है और कमजोर पक्ष के साथ अगर अन्याय होगा तो हम लोगों को आवाज उठानी है, यह बात गांठ बांध लो इसीलिए मैं अपनी आवाज कमजोर पक्ष के लिए हमेशा उठाती हूं।  

सच बात यह है कि देश की अदालतो में 26 लाख से ज्यादा केस केवल प्रोपर्टी विवाद को लेकर ही पेंडिंग चल रहे हैं। क्या पंजाब, क्या हरियाणा, क्या उत्तर प्रदेश और क्या बिहार, क्या महाराष्ट्र हर तरफ प्रोपर्टी विवाद को लेकर ​िरश्तों का आए दिन कत्ल होता हुआ देख रहे हैं और  इंसानियत आंसू बहा रही है। जो लोग दुनिया से गए वो अपने साथ क्या ले गए। कबीर, रहीम और तुलसीदास ने इस दौलत से ऊपर उठकर इंसान को इस जीवन में प्रभु चरणों में ध्यान लगाने काे ही सच्ची दौलत माना है। 

इंसान को यही उपदेश भी ​दिया। कितने ही बड़े-बड़े शायरों ने उदाहरण देते हुए कहा कि- ‘‘क्या था सिकंदर-उसके हौंसले तो आली थे, पर जब गया दुनिया से दोनों हाथ खाली थे।’’चढ़ता सूरज धीरे-धीरे ढलता है ढल जाएगा, सर को उठाके चलने वाला एक दिन धोखा खाएगा।’’ कहने का मतलब यह है कि इंसान जिस प्रोपर्टी को हथियाने के लिए या जमीन को कब्जा करने के लिए अपने आपको बाहुबली जैसे शब्दों से कुख्यात करवा रहा है उन सबके उदाहरण देख लो कि झगड़ा करने वाले तो आखिरकार आपसी ​हिंसा का शिकार हुए, मामले कोर्ट-कचहरी में पड़े रह गए। पोंटी चड्ढा का उदाहरण सबके सामने है, वहीं आपसी विवाद  तो अंबानी भाइयों में भी हुए हैं लेकिन हमारा मानना यह है कि ऐसी घटनाओं को रोकने के लिए हमारी भावनाओं का शुद्धिकरण होना जरूरी है। 

किसी भी पार्टी के अगर आप नेता हैं तो हिंसा के खिलाफ आवाज उठाना कोई बुरी बात नहीं है। किसी की आवाज को दबाया नहीं जा सकता। हमारे लोकतंत्र में संविधान हमें यही अधिकार देता है अंग्रेजों के खिलाफ किस प्रकार भारतीयों ने आवाज उठाई तो यह कोई गुनाह नहीं था। लोग  किस प्रकार अमीर बनने के लिए क्या कुछ नहीं कर रहे। हमारे शास्त्र, हमारे बुजुर्ग हमें कितना कुछ सिखाते हैं कि साथ कुछ नहीं जाना, खाली हाथ आए थे और खाली हाथ जाएंगे लेकिन फिर भी हम जोड़ते चले जाते हैं। जमीन प्रोपर्टी इकट्ठा करने के लिए दौड़ते चले जाते हैं लेकिन हासिल कुछ नहीं होता। सामान सौ बरस का और पल की खबर नहीं, ऐसी धारणा को याद रखने की बजाय इस पर अमल करना चाहिए। 

समाज में जिस तरह से नरसंहार हो रहे हैं वह न तो समाज के लिए बेहतर है और न ही देश के लिए। बेहतर यही होगा कि सत्ता और पुलिस प्रशासन नरसंहार के दो​िषयों को कड़ी से कड़ी सजा दिलवाने के लिए काम करें ताकि यह संदेश जा सके कि समाज में ऐसी हिंसा के लिए कोई जगह नहीं है और हिंसक प्रकृति के लोगों की असली जगह जेल है।अभी पिछले सप्ताह ही दिल्ली की बड़ी प्यारी सीएम रही श्रीमती शीला दीक्षित का मेरे पास फोन आया और कहा -‘‘किरण मुझे अश्विनी का हाल-चाल पूछने आना है कब आऊं’’ मैंने कहा जब चाहे आइये आपका अपना घर है लेकिन कालम लिखते-लिखते उनके निधन की खबर आयी तो कानों पर विश्वास नहीं हुआ। खुद ही दुनिया से उनका जाना हो गया। 

एक पल की भी खबर नहीं है उनकी वह अच्छी बातें और अपनापन ही अब मेरे पास सबसे बड़ी याद के तौर पर सुरक्षित है।  ऐसे ही प्रियंका गांधी अगर सोनभद्र हिंसा पीडि़तों का हालचाल पूछना चाहती हैं तो यूपी की महासचिव होने के नाते उनकी नैतिक जिम्मेदारी है और यूपी की सरकार और पुलिस को रोकना उनका राजनीतिक धर्म है और राजनीति भी है।