BREAKING NEWS

माकपा ने 'मुफ्त उपहार' वाले बयान को लेकर PM मोदी पर निशाना साधा◾कांग्रेस ने महाराष्ट्र मंत्रिमंडल में संजय राठौर को शामिल किए जाने को लेकर BJP पर साधा निशाना◾High Court में जनहित याचिका : याददाश्त खो चुके हैं सत्येंद्र जैन, विधानसभा और मंत्रिमंडल से अयोग्य घोषित किया जाए◾केजरीवाल ने गुजरात में सत्ता में आने पर महिलाओं को 1000 रुपये मासिक भत्ता देने का किया ऐलान ◾ISRO ने गगनयान से जुड़ा LEM परीक्षण सफलतापूर्वक पूरा किया◾Corbevax Corona Vaccine : केंद्र सरकार ने वयस्कों को कॉर्बेवैक्स की बूस्टर खुराक देने को दी मंजूरी ◾भारत के अतीत, वर्तमान के लिए प्रतिबद्धता और भविष्य के सपनों को झलकाता है तिरंगा : PM मोदी◾ हिमाचल में भी खिसक सकती हैं भाजपा की सरकार ! कांग्रेस ने विधानसभा में लाया अविश्वास प्रस्ताव ◾काले कपड़ों में कांग्रेस के प्रदर्शन पर PM मोदी ने कसा तंज, कहा- जनता भरोसा नहीं करेगी...◾जब नीतीश कुमार ने कहा था - येन केन प्रकारेण सत्ता प्राप्त करूंगा, लेकिन अच्छा काम करूंगा◾न्यायमूर्ति यू यू ललित होंगे सुप्रीमकोर्ट के नए प्रधान न्यायधीश ◾दिग्गज कारोबारी अडानी को जेड प्लस सिक्योरिटी, आईबी ने दिया था इनपुट◾शपथ लेने के बाद नीतीश की गेम पॉलिटिक्स शुरू, मोदी के खिलाफ कर सकते हैं ये बड़ा काम ◾नुपूर को सुप्रीम राहत, जांच पूरी न होने तक नहीं होगी गिरफ्तारी, सभी एफआईआर को एक साथ जोड़ा ◾ ‘‘नीतीश सांप है, सांप आपके घर घुस गया है।’’, भाजपा नेता गिरिराज ने याद की लालू की पुरानी बात ◾ सुनील बंसल का बीजेपी में बढ़ा कद, बनाए गए पार्टी महासचिव◾पिता जेल में तो संभाली पार्टी की कमान, 75 सीट जीतकर किया धमाकेदार प्रदर्शन, जानिए तेजस्वी के संघर्ष की कहानी ◾बिहार विधानसभा अध्यक्ष विजय सिन्हा के खिलाफ लाया गया अविश्वास प्रस्ताव◾शपथ लेते ही BJP पर बरसे नीतीश, कहा-2014 में जीतने वालों को 2024 की करनी चाहिए चिंता ◾60 वर्ष से अधिक उम्र की बहनों और माताओं के लिए बसों में निःशुल्क यात्रा योजना जल्द आएगी : CM योगी ◾

जातिगत जनगणना का विवाद

भारत में जाति जनगणना को लेकर जो विवाद पैदा हुआ है उसकी मुख्य वजह स्वतन्त्र भारत में सामाजिक न्याय की बयार बहना है जबकि ब्रिटिश राज के दौरान इसका मुख्य कारण अंग्रेजों की शासन पद्धति की जड़ें जमाना था। यही वजह है कि आज जब संसद से लेकर सड़क तक जाति जनगणना की बात होती है तो 1931 की जाति जनगणना का उदाहरण दिया जाता है और कहा जाता है कि भारत में यह अंतिम जाति जनगणना थी। मगर अंग्रेज हर दस वर्ष जनगणना कराया करते थे और 1941 में भी जनगणना हुई थी मगर द्वितीय युद्ध की विभीषिका की वजह से इसके पूरे आंकड़े नहीं मिल पाये थे। पूरी दुनिया में भारतीय उपमहाद्वीप एक मात्र ऐसा  इलाका माना जाता है जहां जातियों के आधार पर समाज बंटा हुआ है और जातियों के आधार पर सामाजिक वर्गों की आर्थिक स्थिति तय होती रही है और उनके व्यवसाय बंटते रहे हैं। जहां तक भारत का सवाल है तो चन्द्रगुप्त मौर्य के काल से लेकर ब्रिटिश इंडिया के समय तक हमें जातिगत आधार पर जनसंख्या की गणना किये जाने के प्रमाण मिलते हैं। परन्तु भारत के स्वतन्त्र होने के बाद परिस्थितियां गुणात्मक रूप से बदली और भारतीय संविधान ने हर समाज व सम्प्रदाय के हर नागरिक को बराबर के अधिकार देकर घोषणा की कि उसके व्यक्तिगत विकास के लिए ‘राज से लेकर समाज’ के सभी स्रोत बराबरी के आधार पर उपलब्ध रहेंगे। इसे ही बाद में सामाजिक समता का नाम दिया गया और प्रत्येक व्यक्ति के शिक्षित होने से लेकर आर्थिक उन्नति तक की स्थितियां निर्माण करने की गारंटी तक दी गई।

 सवाल यह है कि भारत जैसे देश में यह कार्य कैसे संभव होगा जहां जातिगत आधार पर व्यवसाय चुनने के अधिकार को सामाजिक मान्यता मिली हुई हो और लोक व्यवहार में जातिगत आधार पर शैक्षिक अधिकारों तक का चलन हो। किसी  वर्ग के सामाजिक व आर्थिक रूप से पिछड़े होने की पहचान उसकी जाति से होती हो। इतना ही नहीं उसके सभ्य होने तक की पहचान को जाति से बांध दिया गया हो। ऐसे क्लिष्ठ समाज की पहचान भारत में सिर्फ हिन्दुओं तक ही सीमित नहीं रही बल्कि मुस्लिम समाज भी इससे बराबर प्रभावित हुआ हालांकि इसमें जातिगत व्यवस्था हिन्दू समाज की वर्णव्यवस्था की तरह मान्यता नहीं रखती है। मगर भारत के मुसलमानों में भी जातिगत व्यवस्था ने अपनी जड़ें जमाने में अधिक समय नहीं लिया। अतः जब 1978 में मंडल पिछड़ा आयोग का गठन हुआ तो उसने जातियों को आधार बना कर वैज्ञानिक रूप से पिछड़ेपन की पहचान की जिसमें शैक्षणिक व सामाजिक पिछड़ापन प्रमुख था। 

जातिगत आधार पर जनगणना कराने की मांग भारत में एक लम्बे अरसे होती आ रही है। इसकी मुख्य वजह यह है कि 1989 से इस देश में पिछड़ों के लिए जो 27 प्रतिशत आरक्षण लागू है उसका लाभ इस वर्ग की सभी जातियों को मिल सके। इस मामले में बिहार के मुख्यमन्त्री श्री नीतीश कुमार ने जो रवैया अख्तियार किया है वह केन्द्र की सत्तारूढ़ पार्टी के रुख के पूरी तरह विपरीत है । इसके राजनीतिक मायने तो अपने समय पर निकल कर बाहर आयेंगे मगर फिलहाल सवाल यह है कि देश की सभी प्रमुख विपक्षी पार्टियों में इस मुद्दे पर मतैक्य कायम हो रहा है जिससे भाजपा के सकल हिन्दुत्व की अवधारणा को चुनौती मिल रही है। राजनीतिक रूप से इसके गंभीर अर्थ हैं। हालांकि जातिगत आधार पर सत्ता में हिस्सा बांटने के प्रबल पक्षधर समाजवादी नेता स्व. डा. राम मनोहर लोहिया थे जिन्होंने नारा दिया था कि ‘संसोपा ने बांधी गांठ-पिछड़ों को हो सौ में साठ’। संयुक्त सोशलिस्ट पार्टी या संसोपा डा. लोहिया की ही पार्टी थी।

आज की परिस्थिति यह है कि जातिगत जनगणना के मुद्दे पर बिहार में नीतीश बाबू के साथ विपक्ष के राष्ट्रीय जनता दल के  नेता तेजस्वी याद भी खड़े हुए हैं। बिहार की जद (यू) पार्टी के नेता नीतीश बाबू राज्य में भाजपा के साथ मिल कर ही सरकार चला रहे हैं मगर इस मुद्दे पर उनका रुख पूरी तरह अलग है। राष्ट्रीय स्तर पर देखें तो कांग्रेस समेत सभी विपक्षी दल जातिगत जनगणना कराये जाने के पक्ष में हैं। इसकी मांग प्रबल तब हुई जब संसद के समाप्त वर्षाकालीन सत्र में पिछड़ा संविधान संशोधन विधेयक सर्वसम्मति से पारित हुआ। वास्तव में यह विधेयक भी 2018 में पारित पहले संविधान संशोधन विधेयक  की उस कथित भूल को सुधारने की गरज से किया गया जिसमें केन्द्र ने राज्यों से अपने मुताबिक पिछड़ी जातियों को चिन्हित करने का अधिकार ले लिया था और राष्ट्रपति को पूरे देश में पिछड़ी जातियों को चिन्हित करने का अधिकार दे दिया था। अब समाप्त सत्र में इस कानून को निरस्त करते हुए पुनः राज्यों को अधिकार दे दिया गया है कि वे अपने मुताबिक पहले की तरह ही पिछड़ी जातियों को चिन्हित कर सकती है। 

मगर प्रश्न यह है कि इससे लाभ क्या होगा? क्योंकि 2019 में महाराष्ट्र आरक्षण मामले पर सर्वोच्च न्यायालय निर्णय दे चुका है कि आरक्षण की सीमा 50 प्रतिशत से अधिक नहीं की जा सकती है। अतःकांग्रेस समेत  ग्रामीण पृष्ठभूमि वाले सभी दलों ने जातिगत जनगणना की मांग शुरू कर दी जिससे यह पता लग सके कि वास्तव में पिछड़ों की संख्या का सकल जनसंख्या में कुल कितना प्रतिशत है। जाहिर है इसी के आधार पर आरक्षण की स्वाभाविक मांग होगी और इसकी परिणिती इसी के अनुपात में सत्ता में हिस्सेदारी भी अनुसूचित जाति व जनजाति की तरह होगी। यह गणित लोकतन्त्र में गलत भी नहीं है क्योंकि 1972 में भाजपा के शीर्ष नेता डा. मुरली मनोहर जोशी ने ही स्व. इंदिरा गांधी के वृहद पिछड़ों व गरीबों के वोट बैंक को देख कर ही कहा था कि वोट हमारा-राज तुम्हारा, नहीं चलेगा, नहीं चलेगा। अतः वर्तमान में पिछड़ों की गिनती को लेकर जो कुछ भी चल रहा है उसकी दिशा अन्त में राजनीति को कहीं गहरे तक प्रभावित करेगी।