BREAKING NEWS

दिल्ली हिंसा मामले पर सुनवाई कर रहे जस्टिस एस मुरलीधर का हुआ तबादला ◾दिल्ली हिंसा में मारे गए अंकित शर्मा के परिवार ने AAP पार्षद ताहिर हुसैन पर लगाए गंभीर आरोप◾दिल्ली हिंसा में मरने वालों की संख्या 27 पर पहुंची, हालात अभी भी तनावपूर्ण ◾कांग्रेस ने प्रधानमन्त्री मोदी पर कसा तंज, कहा- अगर शाह पर भरोसा नहीं तो बर्खास्त क्यों नहीं करते◾दिल्ली हिंसा में शामिल 106 लोग गिरफ्तार सहित 18 एफआईआर दर्ज, दिल्ली पुलिस ने जारी किए हेल्पलाइन नंबर◾मुख्यमंत्री केजरीवाल ने किया हिंसाग्रस्त उत्तर-पूर्वी दिल्ली का दौरा ◾अपने दौरे के बाद एनएसए डोभाल ने गृह मंत्री अमित शाह को उत्तर पूर्वी दिल्ली में मौजूदा हालात की जानकारी दी◾एनएसए डोभाल ने किया दंगा प्रभावित क्षेत्रों का दौरा, बोले- उत्तर पूर्वी दिल्ली में हालात नियंत्रण में ◾TOP 20 NEWS 26 February : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾शहीद हेड कांस्टेबल रतन लाल के परिवार को 1 करोड़ और एक सदस्य नौकरी देंगे - अरविंद केजरीवाल ◾दिल्ली HC ने पुलिस को भड़काऊ बयान देने वाले BJP नेताओं पर FIR करने की दी सलाह◾दिल्ली हिंसा : IB अफसर अंकित शर्मा का मिला शव, हिंसा ग्रस्त इलाको में जारी है तनाव ◾हिंसा पर दिल्ली हाई कोर्ट सख्त, कहा-देश में एक और 1984 नहीं होने देंगे◾दिल्ली हिंसा पर PM मोदी की लोगों से अपील, ट्वीट कर लिखा-जल्द से जल्द बहाल हो सामान्य स्थिति◾दिल्ली हिंसा : हाई कोर्ट ने कपिल मिश्रा का वीडियो क्लिप देख कर पुलिस को लगाई कड़ी फटकार ◾सीएए हिंसा पर प्रियंका गांधी ने लोगों से की अपील, बोली- हिंसा न करें, सावधानी बरतें ◾सोनिया गांधी ने दिल्ली हिंसा को बताया सुनियोजित, गृहमंत्री से की इस्तीफे की मांग◾दिल्ली हिंसा : हेड कांस्टेबल रतनलाल को दिया गया शहीद का दर्जा, पत्नी को नौकरी के साथ मिलेंगे 1 करोड़ ◾सुप्रीम कोर्ट ने सीएए हिंसा को बताया दुर्भाग्यपूर्ण, याचिकाओं पर सुनवाई से किया इनकार ◾दिल्ली में हुई हिंसा के बाद यूपी में हाई अलर्ट, संवेदनशील जिलों में पुलिस बलों के साथ पीएसी तैनात ◾

हदें पार करती हैवानियत!

अलीगढ़ जिला के टप्पल इलाके में ढाई साल की मासूम बालिका की जिस वहशियत से हत्या की गई उससे तो बड़े से बड़े पत्थर दिल वाले लोगों के भी आंसू छलक पड़े। जरा सोचिए मासूम बच्ची की तुतलाती जबान रहम की भीख भी नहीं मांग पाई होगी कि दरिंदों ने हैवानियत की सारी हदें पार करते हुये उसकी हत्या कर दी। उसे तेजाब डालकर जलाया गया और अंग तोड़े गये। इससे पहले कठुआ (जम्मू) में भी इसी तरह मासूम बालिका की हत्या की गई थी। 

पुलिस कह रही है कि बच्ची के साथ दुष्कर्म नहीं किया गया लेकिन पोस्टमार्टम रिपोर्ट का कहना है कि बच्ची का शव इतना गल चुका है कि इस बात का पता लगाना बहुत मुश्किल होगा कि उसके साथ हैवानों ने दुष्कर्म किया या नहीं। देश सदमे में है, लोगों को आश्चर्य हो रहा है कि कोई चंद हजार रुपये के उधार के लिये मासूम बच्ची के साथ ऐसा कैसे कर सकता है। तो क्या यह मान लिया जाये कि यह हत्या केवल उधार के पैसे को लेकर प्रतिशोध के तौर पर की गई है। पूरे देशभर से ऐसी विकृत मानसिकता वाले हत्यारों को फांसी पर चढ़ाने की मांग उठ रही है। पकड़े गये दो हत्यारों में से एक पर पहले ही अपनी बेटी से दुष्कर्म का मामला चल रहा है। जब भी कोई हैवानियत भरी घटना होती है तो चंद लोग बोलते हैं और कुछ दिनों बाद सब सामान्य हो जाता है। 

दुनिया चलाने के लिये हर समाज में कुछ न कुछ नियम कानून स्थापित किये गये हैं। अगर कोई व्यक्ति इन नियमों और कानूनों का उल्लंघन करता है तो उसे असामाजिक कहा जाता है। मनोविकार की प्रवृतियों की परिभाषा काफी हद तक इस शब्द असामाजिक से ही प्रभावित है। समाज में गुस्साजनित समस्यायें पहले से कहीं अधिक बढ़ रही हैं। यहां राह चलते अंजान लोगों से जरा सी बात पर हिंसा होना, कार टच भी हो जाये तो हत्यायें कर दी जाती हैं। बलात्कार हो रहे हैं, कभी एक तरफा प्रेम में तो कभी प्रेम में असफल रहने पर बदले की भावना से हत्यायें की जा रही हैं। ये सब घटनायें इस ओर इशारा करती हैं कि हम एक बीमार समाज का अंग बन चुके हैं जिसमें कोई सुरक्षित नहीं।

 अलीगढ़ की घटना को साम्प्रदायिक रंग देने की कोशिशें जारी हैं लेकिन सवाल यही है कि मासूम को इन्साफ कब मिलेगा। हैवानियत की घटनायें केवल उत्तर प्रदेश में ही नहीं हो रहीं, ऐसी घटनायें तो अन्य राज्यों में भी हो रही हैं। जब निर्भया कांड हुआ था तो देशभर में आक्रोश उमड़ पड़ा था। तब भी देश का नेतृत्व कहीं नजर नहीं आया था। लोगों के आक्रोश को शांत करने के लिये नेतृत्व ने सामने न आकर घरों में दुबक कर बैठना ही उचित समझा। पुलिस, न्याय व्यवस्था और सरकार आम लोगों के निशाने पर थीं। अलीगढ़ की शर्मसार और सहमा देने वाली घटना के बाद उपजे जनाक्रोश के बीच भी नेतृत्व कहीं नजर नहीं आया। 

पुलिस तो पूरी तरह असंवेदनशील हो चुकी है। कोई अपनी फरियाद लेकर जाये तो सुनती कहां है। अगर उसने बच्ची के लापता होने की सूचना मिलते ही कार्रवाई की होती तो संभवतः बच्ची की जान बच सकती थी। अफसोस! उत्तर प्रदेश की पुलिस ने समय रहते कार्रवाई नहीं की। मामला उछला तो 5 पुलिसकर्मी निलंबित कर दिये गये हैं। पुलिस अब बदनामी के डर से फूंक-फूंक कर कदम रख रही है। जब नेतृत्व कहीं दिखाई न दे और पुलिस असंवेदनशील हो जाये तो फिर अपराधियों को कानून का खौफ कहां रहेगा। सामाजिक जनांदोलन के बावजूद निर्भया के हत्यारों को आज तक फांसी नहीं हुई है तो फिर हम कैसे उम्मीद कर सकते हैं कि अपराधियों के मन में कोई खौफ पैदा होगा। उत्तर प्रदेश में कानून व्यवस्था बड़ा मुद्दा है। 

सत्ता में योगी आदित्यनाथ सरकार के आने के बाद अपराधी तत्वों पर लगाम लगाने के लिये मुठभेड़ें भी हुईं लेकिन आम जनता के प्रति पुलिस के व्यवहार में जमीनी स्तर पर कोई बदलाव नहीं आया। बदलाव आये भी कैसे जब भाजपा सांसद साक्षी महाराज सीतापुर की जिला जेल में बंद बलात्कार के आरोपी बांगरमऊ सीट से भाजपा विधायक कुलदीप सेंगर से मिलने जेल जाएं और चुनाव के बाद उनका धन्यवाद करें। साल भर पहले उन्नाव रेप कांड ने काफी सुर्खियां बटोरी थीं। हैरानी हुई कि साक्षी महाराज उसका किस बात के लिये धन्यवाद करने गये थे।

 उलटा इस मुलाकात को साक्षी महाराज निजी मामला बता रहे हैं। उनके समर्थक भी इसे यह कहकर नजरदांज कर रहे हैं कि कुलदीप सेंगर अभी आरोपी हैं, दोषी नहीं। जब जनप्रतिनिधि ही बलात्कार के आरोपियों से मिलने जेल में जायेंगे तो अपराधियों के हौसले बुलंद होंगे ही। इसका संदेश बहुत विपरीत गया है। दरअसल इस तरह की घटनाओं की जड़ में जाने की जरूरत है। पुलिस सड़कों व सार्वजनिक स्थानों पर और सतर्कता बरत सकती है लेकिन आखिर इन घटनाओं के लिये कौन जवाबदेह है जिसमें छोटी-छोटी बच्चियों से परिचित अथवा रिश्तेदार ही दुष्कर्म करते हैं। आखिर इस मानसिकता में बदलाव कौन लायेगा क्योंकि सामाजिक ताने-बाने में कहीं किसी बड़ी कमजोरी ने घर कर लिया है और उसे दूर करने का प्रयास कोई नहीं कर रहा। दुष्कर्म की घटनाओं पर आक्रोश की अभिव्यक्ति उचित है लेकिन यदि समाज की सोच बदलने का काम नहीं किया जाता और पुलिस और न्याय व्यवस्था संवेदनशील नहीं बनती तो स्थितियों में कोई सुधार नहीं होगा।