BREAKING NEWS

किसानों ने दिल्ली को चारों तरफ से घेरने की दी चेतावनी, कहा- बुराड़ी कभी नहीं जाएंगे◾दिल्ली में लगातार दूसरे दिन संक्रमण के 4906 नए मामले की पुष्टि, 68 लोगों की मौत◾महबूबा मुफ्ती ने BJP पर साधा निशाना, बोलीं- मुसलमान आतंकवादी और सिख खालिस्तानी तो हिन्दुस्तानी कौन?◾दिल्ली पुलिस की बैरिकेटिंग गिराकर किसानों का जोरदार प्रदर्शन, कहा- सभी बॉर्डर और रोड ऐसे ही रहेंगे ब्लॉक ◾राहुल बोले- 'कृषि कानूनों को सही बताने वाले क्या खाक निकालेंगे हल', केंद्र ने बढ़ाई अदानी-अंबानी की आय◾अमित शाह की हुंकार, कहा- BJP से होगा हैदराबाद का नया मेयर, सत्ता में आए तो गिराएंगे अवैध निर्माण ◾अन्नदाआतों के समर्थन में सामने आए विपक्षी दल, राउत बोले- किसानों के साथ किया गया आतंकियों जैसा बर्ताव◾किसानों ने गृह मंत्री अमित शाह का ठुकराया प्रस्ताव, सत्येंद्र जैन बोले- बिना शर्त बात करे केंद्र ◾बॉर्डर पर हरकतों से बाज नहीं आ रहा पाक, जम्मू में देखा गया ड्रोन, BSF की फायरिंग के बाद लौटा वापस◾'मन की बात' में बोले पीएम मोदी- नए कृषि कानून से किसानों को मिले नए अधिकार और अवसर◾हैदराबाद निगम चुनावों में BJP ने झोंकी पूरी ताकत, 2023 के लिटमस टेस्ट की तरह साबित होंगे निगम चुनाव ◾गजियाबाद-दिल्ली बॉर्डर पर डटे किसान, राकेश टिकैत का ऐलान- नहीं जाएंगे बुराड़ी ◾बसपा अध्यक्ष मायावती ने कहा- कृषि कानूनों पर फिर से विचार करे केंद्र सरकार◾देश में कोरोना संक्रमितों का आंकड़ा 94 लाख के करीब, 88 लाख से अधिक लोगों ने महामारी को दी मात ◾योगी के 'हैदराबाद को भाग्यनगर बनाने' वाले बयान पर ओवैसी का वार- नाम बदला तो नस्लें होंगी तबाह ◾वैश्विक स्तर पर कोरोना के मामले 6 करोड़ 20 लाख के पार, साढ़े 14 लाख लोगों की मौत ◾सिंधु बॉर्डर पर किसानों का आंदोलन जारी, आगे की रणनीति के लिए आज फिर होगी बैठक ◾छत्तीसगढ़ में बारूदी सुरंग में विस्फोट, CRFP का अधिकारी शहीद, सात जवान घायल ◾'अश्विनी मिन्ना' मेमोरियल अवार्ड में आवेदन करने के लिए क्लिक करें ◾भाजपा नेता अनुराग ठाकुर बोले- J&K के लोग मतपत्र की राजनीति में विश्वास करते हैं, गोली की राजनीति में नहीं◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

दीपोत्सव : पर्व का मर्म

दीपोत्सव निःसंदेह समृद्धि की कामना का पर्व है। परम्पराओं का निर्वाह करते हुए सभी लक्ष्मी जी की पूजा कर अपनी समृद्धि के लिए प्रार्थना करेंगे। यहां समृद्धि अकेले सोने-चांदी के रूप में धन सम्पदा नहीं है, उसमें सुख-शांति है तो सर्वे भद्राणि पश्यंतु भी है। सबसे बड़ी बात उसमें दुख न हो ऐसी कामना है। समूची वसुधा को अपना कुटुम्ब मानकर उसके कल्याण की कामना हमारी पूजा में होती है, लेकिन हम ऐसी पूजा से दूर हट चुके हैं। हम केवल अपनी भौतिक समृद्धि के पीछे भागने लगे हैं। यह सवाल बार-बार खड़ा होता है कि क्या भौतिक समृद्धि ही असली समृद्धि है। आज समाज में नैतिक और चारित्रिक पतन सहज रूप से देखा जा सकता है। जिन लोगों को समाज में आदर्श होना चाहिए था, वे स्वयं विवादों में घिरे हुए हैं। प्रकृति के प्रति हम सभी अपना दायित्व भूल चुके हैं। पर्यावरण को खत्म करने के लिए कोई कसर नहीं छोड़ी जा रही। मानव अस्तित्व के लिए जिम्मेदार जल, जंगल, जमीन और हवा का अस्तित्व मिटाने में ऐसे जुटे हैं जैसे वे हमारे दुश्मन हों। ऐसे में सब कुछ खोकर केवल धन सम्पदा के लिए पूजा-अर्चना कर हम क्या प्राप्त कर सकेंगे?

इस बार कोरोना काल के दौरान यह दीपोत्सव का पर्व धूमोत्सव का नहीं है। दिल्ली और राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र कोरोना वायरस के साथ-साथ घातक प्रदूषण की चपेट में है। दिल्ली में कोरोना से मौतों के आंकड़ों ने खौफ जरूर पैदा किया। सरकारों के लिए मौतों का आंकड़ा महज एक संख्या है लेकिन दुख तो उन्हें है जिनके परिवार का सदस्य महामारी का शिकार हो गया। स्थितियां बहुत विकट हैं। ऐसी स्थिति में समाज के हर नागरिक को अपने दायित्व का​ निर्वहन करना चाहिए। समय की मांग है कि हम कोई ऐसा काम नहीं करें जिससे दूसरे लोगों को परेशानी खड़ी हो। भारतीय धर्मदर्शन आस्था के साथ प्रकृति के सहचर से भी जुड़ा है। दीपोत्सव अमावस की रात को दीपक के प्रकाश से उज्ज्वल करने का पर्व है लेकिन इस रात को धुएं से स्याह करना अनुचित है। पटाखों की बिक्री पर पाबंदी के बावजूद लोग मानने वाले नहीं। पाबंदी के बावजूद हर वर्ष रात के समय पटाखे बजने शुरू हो जाते हैं। देर रात तक आतिशबाजी शुरू हो जाती है। अनेक लोग धर्म विशेष के त्यौहारों के उल्लास को प्रतिबंध के दायरे में लाने का विरोध करते हैं और अपनी मनमानी करते हैं। चोरी-छिपे पटाखे खरीद कर ले आते हैं। खुशी मनाना एक अलग बात है लेकिन इसका मकसद दूसरों को रोग बांटना नहीं है। पटाखों से होने वाले प्रदूषण से रोगियों को श्वास संबंधी दिक्कतों का सामना करना पड़ेगा। श्वसन तंत्र और फेफड़ों पर कोरोना वायरस घातक प्रहार करता है। किसी की खुशी किसी की जिन्दगी पर भारी नहीं पड़नी चाहिए। जिन लोगों ने पिछले वर्ष के बचे हुए पटाखे भी सम्भाले हुए हैं उनके लिए तो पटाखे फोड़ने की रात की कोई समय सीमा ही नहीं। एक तर्क यह भी दिया जा रहा है कि पटाखों पर प्रतिबंध से कारोबारियों को बहुत नुक्सान होगा लेकिन हमें यह भी देखना होगा कि पटाखों पर प्रतिबंध से लोगों के जीवन की रक्षा होती है तो इसके आगे किसी भी बड़ी धनराशि की कीमत कुछ भी नहीं है। लॉकडाउन के दौरान हम सभी ने महसूस किया कि स्वच्छ हवा में सांस लेना कितना सुखद होता है। 

लक्ष्मी एक संतुलन का प्रतीक है, कर्मठता का प्रतीक है। यह वैभव और यश के साथ शांति भी लाती है, समस्याओं को सुलझाने से आती है। इन्हें सुलझाते जाइये, उनके आने का रास्ता अपने आप खुलता जाएगा।

दीपावली के दिन देशभर में असंख्य दीप इस संकल्प के साथ जलेंगे-मैं स्वयं भले ही जल जाऊं, दानवता इस देश में परिलक्षित न हो।

‘‘ऐ मिट्टी के नन्हे दीप

तू स्वयं जल कर भी

प्रकाश फैलाता है चतुर्दिक

क्या तू जानता है

तेरी नियति क्या है?

तेरा लक्ष्य क्या है?

दीपक बोला

जलना मेरी नियति सही

मगर प्रकाश तुम्हारा प्रारब्ध है

जिस दिन इस प्रकाश के आलोक में

दानवता मिट जाएगी

मानव सचमुच मानव हो जाएगा।’’

भगवान श्रीराम का इस धरा पर अवतार इसलिए हुआ था क्योंकि इस देश को एक बार फिर रामत्व की जरूरत थी। आज भी रामत्व की बहुत जरूरत है। 

आप सत्य के मार्ग पर चलें, आपकी सभी कामनाएं और उत्तम संकल्प पूर्ण हो। परस्पर द्वेष की भावना समाप्त हो और आप राष्ट्र चिंतन करें। आइये भगवान राम को स्मरण कर दिलों को रोशन करें। पर्व का मर्म भी यही है कि उजाले की रात को स्याह धुएं से नहीं भरें। भगवान श्रीराम से एक ही प्रार्थना है, जगह-जगह दीप प्रज्ज्वलित कर दो अपने नाम।  पंजाब केसरी के पाठकों को दीपावली की शुभकामनाएं।