BREAKING NEWS

राजू श्रीवास्तव की हालत स्थिर, डॉक्टर उनका बेहतर इलाज कर रहे हैं : शिखा श्रीवास्तव◾कोलकाता में ममता से मिले पूर्व भाजपा सांसद सुब्रमण्यम स्वामी◾महाराष्ट्र : रायगढ़ तट से मिली संदिग्ध नाव, AK-47 समेत कई हथियार बरामद ◾रोहिंग्याओं पर राजनीति! भाजपा ने कहा- केजरीवाल रोहिंग्याओं को ‘रेवड़ी’ बांट रहे, राष्ट्रीय सुरक्षा के समझौते को तैयार◾जयशंकर ने कहा- भारत स्वतंत्र, समावेशी व शांतिपूर्ण हिंद प्रशांत की परिकल्पना करता है◾गहलोत का भाजपा पर फूटा गुस्सा- देश को हिंदू राष्ट्र बनाया तो होगा पाकिस्तान जैसा हाल◾रायगढ़ में नाव को लेकर बवाल! फडणवीस बोले- खराब मौसम के कारण नाव अनियंत्रित होकर बहते हुए..... ◾ कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष ने कहा, कर्नाटक में कांग्रेस एकजुट, अकेले और सामूहिक नेतृत्व में लड़ेंगे विधानसभा चुनाव◾पता लगाएं किसने रोहिंग्या को फ्लैट में स्थानांतरित करने का फैसला किया? सिसोदिया ने गृहमंत्री को लिखा पत्र ◾रोहिंग्याओं को लेकर बवाल, थरूर बोले-मुद्दे पर सरकार में असमंजस देश के लिए कलंक◾Jagdeep Dhankhar: उपराष्ट्रपति जगदीप धनखड़ से गुलाम नबी आजाद ने अहम मुलाकात की◾राहुल गांधी का भाजपा पर कटाक्ष, बोले- पीएम नरेंद्र मोदी को ऐसी राजनीति पर नहीं आती शर्म◾बीमा भारती के लेसी सिंह पर लगाए आरोपों पर भड़के नीतीश, कहा-अगर इधर-उधर का मन है तो अपना सोचें◾Maharashtra: अवैध शराब पर राज्य के गृह विभाग को वासुदेव के खिलाफ रिपोर्ट मिली, जल्द होगा निलंबित.....बोले फडणवीस ◾Gujarat News: AAP पार्टी का मास्टर प्लान! गुजरात विधानसभा चुनाव के लिए 9 उम्मीदवारों की दूसरी सूची सांझा की ◾नीतीश के एक और मंत्री विवादों में, कृषि मंत्री सुधाकर सिंह पर लगा भ्रष्टाचार का आरोप◾Defamation Case : मुंबई कोर्ट का आदेश- संजय राउत को वीडियो कांफ्रेंस के जरिए किया जाए पेश ◾फेक न्यूज पर मोदी सरकार का एक्शन, एक पाकिस्तानी समेत 8 YouTube चैनल किए ब्लॉक ◾बाहुबली मुख्तार अंसारी पर बड़ी कार्रवाई, दिल्ली और UP में कई ठिकानों पर ED की रेड◾पश्चिम बंगाल : टेरर कनेक्शन पर एक्शन, STF ने अलकायदा के 2 आतंकियों को किया गिरफ्तार◾

दक्षिण भारत में जल प्रलय

दक्षिण भारत में जिस तरह भारी वर्षा कहर ढा रही है। इससे बहुत सारे सवाल उठ खड़े हुए हैं। कर्नाटक के बेंगलुरु और चेन्नई के इलाकों में नावें चलाई जा रही हैं ताकि लोगों को राहत मिल सके। कई दिनों से जनजी​वन अस्त-व्यस्त पड़ा है। चेन्नई और उसके आसपास के क्षेत्र में जलभराव हो चुका है। अब तक दक्षिणी राज्यों केरल, तमिलनाडु, आंध्र प्रदेश और कर्नाटक में मौतों का आंकड़ा 200 के करीब पहुंच गया है। मौसम विज्ञान विभाग ने अलर्ट जारी करते हुए कहा कि दक्षिण भारत में इन राज्यों में दो दिसम्बर तक मूसलाधार बारिश होगी। इससे निश्चित रूप से आपदा के भयंकर रूप धारण कर लेने की आशंका बलवती हुई है। मौसम विज्ञान का कहना है कि समुद्र तल से 1.5 किलोमीटर तक फैले कोमेरिन क्षेत्र में एक चक्रवात परिसंचरन के कारण जल प्रलय हुआ है। 29 नवम्बर को बंगाल की दक्षिण खाड़ी में एक और कम दबाव का क्षेत्र बनने की संभावना है। एक से 25 नवम्बर के बीच दक्षिण प्रायद्वीपीय भारत में 143.4 प्रतिशत से अधिक वर्षा दर्ज की गई। जिसमें कर्नाटक और केरल में सामान्य से 110 फीसदी से अधिक वर्षा हुई जबकि उत्तर पूर्व में मानसून के दौरान 70 फीसदी वर्षा रिकार्ड की गई। इतनी बारिश के बाद जलाशयों के गेट खोलने पड़े हैं। बेंगलुरु में बाढ़ की स्थिति बहुत ही अफसोसजनक है। आसपास की झीलों में पानी लबालब बहने लगा है। पलार नदी में पिछले दस वर्षों से कभी इतना पानी नहीं आया जितना इस बार आया है।

अब सबसे महत्वपूर्ण सवाल यह है कि इतनी भयंकर वर्षा क्या संकेत दे रही है, इसका वृस्तृत अध्ययन किया जाना जरूरी है। यह सही है ​देश में वर्षा का पैटर्न बदल चुका है। प्रायः केरल, आंध्रा, तमिलनाडु और कर्नाटक चारों ही राज्यों में लौटते मानसून की बारिश होती है लेकिन इस बार लौटता मानसून कहर बरपा रहा है। हवाई, सड़क और रेल यातायात कई दिनों से प्रभावित है। मकान ध्वस्त हो रहे हैं। हजारों लोग शरणार्थी शिविरों में रह रहे हैं। कुदरत के कहर से मानवीय क्षति और अरबों की सम्पत्ति का नुक्सान हमें सोचने को विवश कर रहा है कि कुदरत नाराज है तो उसकी नाराजगी को कैसे दूर किया जाए। दक्षिण भारतीय राज्य ही क्यों उत्तराखंड और हिमाचल में भी वर्षा ने तबाही के भयंकर मंजर ला दिए हैं। यह बात भी चौंकाने वाली है कि चौमासे के बाद ऐसी बारिश क्यों आई। कई दशकों से जिस ग्लोबल वार्मिंग की बात हो रही है और जिसकी मार फ्रांस और जर्मनी जैसे देशों ने इस बार झेली है वैसी ही दस्तक भारत में भी महसूस की जा रही है। मौसम विज्ञानी बता रहे हैं कि बंगाल की खाड़ी से उठने वाली तेज हवाओं को पश्चिम विक्षोभ द्वारा पूर्व की ओर आकर रोक देने से अतिवृष्टि हुई। दरअसल मौसम परिवर्तन के चलते बारिश के ट्रेंड में बदलाव यह आया है कि बारिश कम समय के लिए होती है मगर उसकी तीव्रता ज्यादा होती है।

इसमें कोई शक नहीं कि मौसम के तेवरों की तल्खी ने आपदाओं की तीव्रता बढ़ाई है लेकिन मानव मौसम की चेतावनी का ज्ञान होने के बावजूद तबाही को कम नहीं कर पाया। दरअसल अतिवृष्टि के पानी को निकासी का अपना रास्ता मिले तो वह मानवीय क्षेत्र में दखल नहीं देता। जल प्रवाह की राह में होने वाला निर्माण अतिवृष्टि पर निकासी की राह में बाधा बनता हैै, जिससे संपत्ति और मानवीय क्षति बढ़ जाती है।

भारत में विशेष रूप से शहरों से संबंधित विशेष योजना बनाने की जरूरत है। कभी दिल्ली, कभी मुम्बई, कभी पटना तो कभी चेन्नई और बेंगलुरु का बारिश से बुरा हाल हो जाता है। शहरों के अनियमित विकास ने जल निकासी के सारे मार्ग अवरुद्ध कर दिए हैं। शहरों में जल निकासी की व्यवस्था ऐसी होनी चाहिए कि किसी भी स्थिति में जलभराव न हो। हर साल अरबों का नुक्सान होता है, हर साल दस-पन्द्रह दिन की समस्या के बाद सफाई व्यवस्था, मृतकों को मुआवजा, बीमारियों की रोकथाम के लिए दवाइयों का वितरण और छिड़काव करना पड़ता है। यह सब मानवीय क्षति और संपत्ति के नुक्सान से अलग खर्च हैं। शहरों के लोग और जल निकासी की व्यवस्था में लगे लोग स्वयं इस पर मंथन करें। मानव खुद सोचे कि उसने नदियों और नालों पर अतिक्रमण करके सब जगह रोड अटका दिए हैं। यह देखना राज्य सरकारों का काम है कि वह यह भी देखे कि शहरों को बाढ़ का शिकार बनते देखना है या उन्हें विकसित शहर बनाना है।

आदित्य नारायण चोपड़ा

[email protected]