BREAKING NEWS

अमेरिका ने हाफिज सईद की पूर्व में हुई गिरफ्तारियों को बताया 'दिखावा', कहा- गतिविधियों पर कोई फर्क नहीं पड़ा◾योगी सरकार को प्रियंका गांधी से डर क्यों लगता है : सुरजेवाला ◾नवजोत सिंह सिद्धू के पूर्व विभाग से महत्वपूर्ण फाइलें गायब◾प्रियंका गांधी ने गेस्ट हाउस में बिताई रात, प्रशासन से दूसरे दौर की बातचीत भी नाकाम◾चंद्रकांत पाटिल का दावा : चुनाव से पहले विपक्ष के कई नेता BJP होंगे शामिल◾एंटी टैंक गाइडेड मिसाइल नाग का सफल परीक्षण◾सोनभद्र जाने पर अड़ीं प्रियंका गांधी ,जमानत लेने से किया इनकार, बोलीं- जेल जाने को तैयार हूं◾योगी सरकार ने की प्रियंका की ‘गैरकानूनी गिरफ्तारी’, राज्य सरकार में अपराधियों को संरक्षण : कांग्रेस ◾जारी रहेगी MS Dhoni की धूम, मैनेजर बोले - माही की अभी संन्यास लेने की कोई योजना नहीं◾कर्नाटक : विधानसभा विश्वास प्रस्ताव पर मतदान के बिना सोमवार तक स्थगित ◾रॉबर्ट वाड्रा ने BJP सरकार की आलोचना की ,कहा - लोकतंत्र को तानाशाही में न बदलें◾सोनभद्र गोलीकांड : प्रियंका गांधी हिरासत में, कई जगह कांग्रेस का प्रदर्शन ◾किसी विधायक ने मुझसे सुरक्षा नहीं मांगी है : कर्नाटक विधानसभा अध्यक्ष◾कर्नाटक में जारी सत्ता का संघर्ष एक बार फिर शीर्ष अदालत की चौखट पर◾Sensex में साल की दूसरी बड़ी गिरावट, निवेशकों ने दो दिन में गंवाये 3.79 लाख करोड़ रुपये ◾ कुमारस्वामी ने स्पीकर से फ्लोर टेस्ट की डेट सोमवार तक बढ़ाने की अपील की , भाजपा बोली- हम तैयार नहीं◾Top 20 News 19 July - आज की 20 सबसे बड़ी ख़बरें◾चुनाव याचिका पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को नोटिस जारी ◾BJP विश्वास प्रस्ताव पर मत-विभाजन के लिए आतुर है, क्योंकि वह विधायकों को खरीद चुकी : सिद्धारमैया ◾सोनभद्र में पीड़ित परिवारों से मिलने जा रही प्रियंका गांधी को रोका, धरने पर बैठीं◾

संपादकीय

अनुशासित पार्टी : मोदी और अमित शाह

कल ही मैंने अपने अखबार में खबर देखी कि रिवाॅल्वर और शराब के साथ डांस करने वाले भाजपा के विवादास्पद विधायक के खिलाफ बड़ी कार्रवाई करते हुए पार्टी ने उसे निष्कासित कर दिया। मुझे इस बात पर भाजपा के अनुशासन और खास करके मोदी जी और अमित शाह जी के अनुशासनिक एक्शन पर गर्व हुआ क्योंकि कुछ दिन पहले मोदी जी ने नाम न लेते हुए कैलाश विजयवर्गीय के बेटे को भी नसीहत दी थी कि किसी का भी बेटा हो, अनुशासनहीनता नहीं सहन की जाएगी और पार्टी से निष्कासित किया जाएगा और अब अमित शाह के निर्देश पर यह कार्रवाई हुई तो लगा कि देश सही हाथों में है। 

यही नहीं जब अश्विनी जी सांसद बने थे तो हमारी अखबार एक निष्पक्ष, निडर, निर्भीक अखबार है जाे किसी पार्टी के साथ नहीं, देश के साथ चलता है और हर पार्टी और नेता की अच्छी-बुरी खबर लगती है तो कुछ सांसदाें के खिलाफ खबर लगी तो उन सांसदाें ने अश्विनी जी को संसद में घेरा और धमकी दी। अश्विनी जी पढ़े-लिखे, बौ​द्धक व्यक्ति हैं। उन्हें बहुत बुरा लगा। हमने शाम को रजत शर्मा की मशहूर अब तक की टीवी वर्ल्ड के इतिहास में बड़ी पार्टी में जाना था जहां सभी नेता, अभिनेताओं ने आना था, क्योंकि अश्विनी जी रजत के बहुत करीब हैं तो एक उत्साह था। मैंने बहुत कहा कि  चलें, रजत शर्मा जी और ऋतु नाराज होंगे परन्तु अश्विनी जी अपने मन में यह सोच रहे थे कि सांसद बनकर अखबार चलाना मुश्किल हो जाएगा, वह नहीं गए। वह सारी रात विचलित रहे। 

एक पत्नी होने के नाते मुझसे रहा नहीं गया। मैंने सुबह उठते ही अश्विनी जी को बताए बगैर अरुण जेतली जी और मोदी जी को सुबह 5 बजे फोन किए। मोदी जी झट से फोन पर आए और उन्होंने कहा-बताओ किरण जी सब कुशल-मंगल है तो उन्हें मैंने सारी बात बताई और कहा कि ऐसे हम कैसे अखबार चला सकेंगे और लोकतंत्र को बचा सकेंगे तो उन्होंने मुझे आश्वासन दिया कि किरण जी आप चिन्ता न करें, सब मुझ पर छोड़ दो। यही आश्वासन मुझे अरुण जेतली जी से भी मिला। वो दिन गया, वे सांसद जहां भी मिलते अश्विनी जी को झुक कर प्रणाम करते या रास्ता बदल लेते थे। मुझे गर्व हुआ कि अश्विनी जी एक अनुशासित पार्टी में हैं। अश्विनी जी 5 साल एक सफल सांसद रहे और अखबार को भी निर्भीक, निष्पक्ष चलाया जो बहुत कठिन काम है। अश्विनी जी कहते थे कि जब मैं संसद और निर्वाचन क्षेत्र में जाता हूं तो सांसद हूं और जब पैन पकड़ता हूं तो एक निष्पक्ष, निडर, निर्भीक पत्रकार हूं जिसमें लालाजी-रोमेश जी का खून है जिन्होंने निर्भीक पत्रकारिता की है।

अब बात आती है कि अक्सर हम देख रहे हैं कि बहुत से मामले आते हैं, कभी बारात में कोई गोली चला देता है, कोई अपनी पिस्टल से खुद को गोली मार लेता है या किसी और को मार देता है। मुझे समझ नहीं आता कि ऐसे लोगों के पास हथियार कहां से आते हैं। अश्विनी जी ने अपने 5 साल के कार्यकाल में एक भी व्यक्ति को लाइसेंस नहीं बनवाकर दिया। लोग मुंह पर कह देते हैं कि फलां विधायक ने इतने लाइसेंस बनवाकर दिए परन्तु अश्विनी जी साफ मना कर देते थे कि मैं इसके पक्ष में नहीं हूं परन्तु कई युवा जेनुअन भी होते थे कि अगर उन्हें लाइसेंस मिल जाए तो उन्हें सिक्योरिटी गार्ड की नौकरी मिल जाएगी।

मेरा मानना है कि देश में सख्त कानून लागू हो कि किसी के पास हथियार नहीं होना चाहिए। सेल्फ डिफेंस या नौकरी के लिए हाें तो कोई एजेंसी बने क्योंकि बहुत से बेरोजगार युवक हैं, अगर उनके लिए स्पेशल एजेंसी खोली जाए तो उन्हें स्पेशल ट्रेनिंग भी दें, नौकरी भी दें और उनमें यह बात भरी जाए कि यह पिस्टल या ह​​थियार सुरक्षा की एक बड़ी जिम्मेदारी है, एन्टरटेनमेंट के लिए नहीं है।