BREAKING NEWS

KKR vs DC : वरुण की फिरकी में फंसी दिल्ली, 59 रनों से जीतकर टॉप-4 में बरकरार कोलकाता ◾महबूबा मुफ्ती के घर गुपकार बैठक, फारूक बोले- हम भाजपा विरोधी हैं, देशविरोधी नहीं◾भाजपा पर कांग्रेस का पलटवार - राहुल, प्रियंका के हाथरस दौरे पर सवाल उठाकर पीड़िता का किया अपमान◾बिहार में बोले जेपी नड्डा- महागठबंधन विकास विरोधी, राजद के स्वभाव में ही अराजकता◾फारूक अब्दुल्ला ने 700 साल पुराने दुर्गा नाग मंदिर में शांति के लिए की प्रार्थना, दिया ये बयान◾नीतीश का तेजस्वी पर तंज - जंगलराज कायम करने वालों का नौकरी और विकास की बात करना मजाक ◾ जीडीपी में गिरावट को लेकर राहुल का PM मोदी पर हमला, कहा- वो देश को सच्चाई से भागना सिखा रहे है ◾बिहार में भ्रष्टाचार की सरकार, इस बार युवा को दें मौका : तेजस्वी यादव ◾महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस कोरोना पॉजिटिव , ट्वीट कर के दी जानकारी◾होशियारपुर रेप केस पर सीतारमण का सवाल, कहा- 'राहुल गांधी अब चुप रहेंगे, पिकनिक मनाने नहीं जाएंगे'◾भारतीय सेना ने LoC के पास मार गिराया चीन में बना पाकिस्तान का ड्रोन क्वाडकॉप्टर◾ IPL-13 : KKR vs DC , कोलकाता और दिल्ली होंगे आमने -सामने जानिए आज के मैच की दोनों संभावित टीमें ◾दिल्ली की वायु गुणवत्ता 'बेहद खराब' श्रेणी में बरकरार, प्रदूषण का स्तर 'गंभीर'◾पीएम मोदी,राम नाथ कोविंद और वेंकैया नायडू ने देशवासियों को दुर्गाष्टमी की शुभकामनाएं दी◾PM मोदी ने गुजरात में 3 अहम परियोजनाओं का किया उद्घाटन ◾RJD ने 'प्रण हमारा संकल्प बदलाव का' के वादे के साथ जारी किया घोषणा पत्र, तेजस्वी ने नीतीश पर साधा निशाना ◾महबूबा मुफ्ती के देशद्रोही बयान देने के बाद भाजपा ने की उनकी गिरफ्तारी की मांग ◾दुनियाभर में कोरोना महामारी का हाहाकार, पॉजिटिव केस 4 करोड़ 20 लाख के पार◾देश में कोरोना संक्रमितों का आंकड़ा 78 लाख के पार, एक्टिव केस 6 लाख 80 हजार◾पाकिस्तान को FATF 'ग्रे लिस्ट' में रहने पर बोले कुरैशी- ये 'भारत के लिए हार' ◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

कोरोना योद्धाओं को मत भूलो

कोरोना काल के पहले टेस्ट सीरिज की प्रेक्टिस के दौरान इंग्लैंड के कप्तान बेन स्टोक्स ने एक भारतीय डाक्टर विकास के नाम की टी-शर्ट पहनी थी। स्टोक्स इसके जरिये इंग्लैंड के डाक्टरों के जज्बे को सलाम कर रहे थे। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने भी कोरोना वारियर्स के सम्मान की भावनाओं को जगाया। सेना ने भी कोराना योद्धाओं के सम्मान में अस्पतालों के ऊपर पुष्प वर्षा की थी। डाक्टरों, हैल्थ स्टाफ और उससे जुड़े सभी लोगों के कर्मठ प्रयासों से भारत भी अछूता नहीं है। कोरोना के मरीजों के इलाज में जुटे डाक्टरों की कोरोना संक्रमित होने से मृत्यु भी हुई और कोरोना से संक्रमित भी हुए। देश के कई इलाकों से डाक्टरों की मौतों की खबरें भी आईं। पीपीई किट पहन कर डाक्टरों ने कई-कई घंटे काम किया जो काफी असहज था। बिहार जैसे राज्य में एक तो पहले से ही डाक्टरों की भारी कमी है, ऊपर से बिहार में डाक्टरों में संक्रमण के मामले सबसे ज्यादा रहे। अब तक लगभग 250 डाक्टर कोरोना से संक्रमित हो चुके हैं। बिहार में कोरोना वायरस की चपेट में आकर डाक्टरों की मौत का प्रतिशत 4.42 है, जबकि राष्ट्रीय औसत 0.5 प्रतिशत है। सबसे बुरी तरह प्रभावित राज्य महाराष्ट्र में डाक्टरों की मौत का प्रतिशत 0.15 है।

अब नीति आयोग के डाक्टर वी.के. पॉल के नेतृत्व वाली ​विशेषज्ञों की समिति ने दिल्ली की रिपोर्ट तैयार की है। इस रिपोर्ट को दिल्ली डिजास्टर मैनेजमेंट को सौंप दिया गया है। रिपोर्ट के अनुसार अब तक 23-24 हैल्थकेयर वर्कर कोरोना संक्रमित हो चुके हैं। 23 फीसदी डाक्टर संक्रमित हुए, 34 फीसदी नर्सें संक्रमित हुईं। 18 फीसदी ग्रुप डी स्टाफ और 19 फीसदी अन्य स्टाफ संक्रमित है। इनमें से अब तक 75 की मौत हो चुकी है।

दुख तो इस बात का है कि कई राज्यों से डाक्टरों और हेल्थकेयर वर्करों को कुछ महीनों से वेतन न मिलने की खबरें  रही हैं। डाक्टर प्रदर्शन भी कर रहे हैं। यह सही है कि कोरोना के चलते स्थानीय निकायों से लेकर राज्य सरकारों का राजस्व घटा है। व्यापार, उद्योग जगत को भी भारी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। अर्थव्यवस्था भी प्रभावित हुई है। संकट की घड़ी है, लेकिन हमें मिलजुलकर चुनौतियों का सामना करना होगा।

महाराष्ट्र में भी सरकार ने डाक्टरों को बीमा सुरक्षा न देने का फैसला किया है। डाक्टरों का कहना है कि कोरोना काल के दौरान सरकार ने डाक्टरों को प्राइवेट क्लीनिक खोलने के लिए मजबूर किया, लेकिन जब कोरोना से कई डाक्टरों की मौत हो गई। तब डाक्टरों को बीमा कवच देने से इंकार कर उनसे बड़ा अन्याय है। कर्नाटक और कुछ अन्य राज्यों से भी डाक्टरों और हैल्थ स्टाफ को वेतन नहीं दिए जाने की खबरें आ रही हैं।  नर्सिंग स्टाफ को इस बात का डर रहता है कि अगर वो बीमार पड़ गईं तो उनका ख्याल कौन करेगा? आमतौर पर नर्स दस घंटे की शिफ्ट में काम करती हैं। लेकिन हर छह घंटे में पीपीई सूट बदलता पड़ता है। उन्हें भी बड़ी असहज स्थितियों के बीच लम्बी ड्यूटी देनी पड़ रही है।

कोरोना काल में जब सब लोगों को घर बैठने की हिदायत दी गई थी लेकिन कोरोना वारियर्स ने 40-42 डिग्री तापमान में कोरोना किट पहन कर काम किया। अगर हम इन योद्धाओं को वेतन भत्ते और अन्य सुविधाएं नहीं दे सकते तो यह गलत होगा। स्थानीय निकायों से लेकर राज्य सरकारों को कोरोना योद्धाओं की दुख तकलीफ दूर करनी चाहिए। इन लोगों का इतना एहसान है कि हमारे लिए उनका कर्ज अदा करना भी मुश्किल है।  कोरोना वायरस से हम जीत जाएंगे लेकिन समाज के इन मसीहाओं को कभी भूला नहीं जाना चाहिए। डाक्टरों की तरह घर-घर जाकर राहत सामग्री बांटने वालों, सुरक्षा उपकरण बनाने वालों, सफाई कर्मियों और पुलिस प्रशासन ने सराहनीय काम किया है। भारत का हर नागरिक इन योद्धाओं को सलाम करता है। यह स्थानीय निकायों, स्थानीय प्रशासन आैर राज्य सरकारों का दायित्व है कि डाक्टरों और हैल्थ कर्मियों की समस्याओं का समाधान करें। अगर हैल्थ वर्कर ही संक्रमित हो जाएं तो देश की देखभाल कौन करेगा।

जून महीने में सुप्रीम कोर्ट ने डाक्टरों के वेतन का भुगतान नहीं किए जाने के मामलों को ध्यान में रखते हुए केन्द्र से कहा था कि देश महामारी के खिलाफ युद्ध में असंतुष्ट सैनिकों को बर्दाश्त नहीं कर सकता। डाक्टरों को वेतन देना उच्च प्राथमिकता होनी चाहिए। स्वास्थ्य क्षेत्र में भारत के सामने कई चुनौतियां हैं। कोरोना काल में अन्य बीमारियों से ग्रस्त मरीजों की उपेक्षा हुई। क्योंकि अस्पताल तो केवल कोरोना मरीजों को समर्पित हो चुके थे। स्थिति सामान्य होने में अभी समय लगेगा। अतः उन मरीजों की देखभाल भी जरूरी है जो कैंसर जैसी बीमारी से पीड़ित हैं ऐसी स्थिति में अस्पतालाें के प्रबंधन को सुधारना जरूरी है।

आदित्य नारायण चोपड़ा

[email protected]