BREAKING NEWS

लद्दाख LAC विवाद : भारत-चीन सैन्य अधिकारियों के बीच बैठक जारी◾राहुल गांधी का केंद्र पर वार- लोगों को नकद सहयोग नहीं देकर अर्थव्यवस्था बर्बाद कर रही है सरकार◾वंदे भारत मिशन -3 के तहत अब तक 22000 टिकटें की हो चुकी है बुकिंग◾अमरनाथ यात्रा 21 जुलाई से होगी शुरू,15 दिनों तक जारी रहेगी यात्रा, भक्तों के लिए होगा आरती का लाइव टेलिकास्ट◾World Corona : वैश्विक महामारी से दुनियाभर में हाहाकार, संक्रमितों की संख्या 67 लाख के पार◾CM अमरिंदर सिंह ने केंद्र पर साधा निशाना,कहा- कोरोना संकट के बीच राज्यों को मदद देने में विफल रही है सरकार◾UP में कोरोना संक्रमितों की संख्या में सबसे बड़ा उछाल, पॉजिटिव मामलों का आंकड़ा दस हजार के करीब ◾कोरोना वायरस : देश में महामारी से संक्रमितों का आंकड़ा 2 लाख 36 हजार के पार, अब तक 6642 लोगों की मौत ◾प्रियंका गांधी ने लॉकडाउन के दौरान यूपी में 44,000 से अधिक प्रवासियों को घर पहुंचने में मदद की ◾वैश्विक महामारी से निपटने में महत्त्वपूर्ण हो सकती है ‘आयुष्मान भारत’ योजना: डब्ल्यूएचओ ◾लद्दाख LAC विवाद : भारत और चीन वार्ता के जरिये मतभेदों को दूर करने पर हुए सहमत◾बीते 24 घंटों में दिल्ली में कोरोना के 1330 नए मामले आए सामने , मौत का आंकड़ा 708 पहुंचा ◾हथिनी की मौत पर विवादित बयान देने पर केरल पुलिस ने मेनका गांधी के खिलाफ दर्ज की FIR◾दिल्ली हिंसा: पिंजरा तोड़ ग्रुप की सदस्य और JNU स्टूडेंट के खिलाफ यूएपीए के तहत मामला दर्ज◾राहुल गांधी ने लॉकडाउन को फिर बताया फेल, ट्विटर पर शेयर किया ग्राफ ◾महाराष्ट्र में कोरोना का कहर जारी, आज सामने आए 2,436 नए मामले, संक्रमितों का आंकड़ा 80 हजार के पार◾लद्दाख तनाव : कल सुबह 9 बजे मालदो में होगी भारत और चीन के बीच ले. जनरल स्तरीय बातचीत ◾पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट में खुलासा : मुंह में गहरे घावों के कारण दो हफ्ते भूखी थी गर्भवती हथिनी, हुई दर्दनाक मौत◾केंद्रीय गृह मंत्रालय की मीडिया विंग में भारी फेरबदल, नितिन वाकणकर नये प्रवक्ता नियुक्त किये गए ◾भाजपा नेता और टिक टोक स्टार सोनाली फोगाट ने हिसार मंडी समिति के सचिव को पीटा , वीडियो वायरल ◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

नहीं चाहिए टुकड़े-टुकड़े गैंग की आवाजें

नागरिक संशोधन विधेयक को लेकर उठ रही अनेक आवाजों के बीच जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय के छात्र शरजिल इमाम का अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय का एक वीडियो बहुत तेजी से वायरल हुआ है। इस वीडियो में शरजिल अपने भाषण में स्पष्ट रूप से देश को बांटने के नापाक इरादे बताता नजर आ रहा है। शरजिल  कह रहा है ‘‘हमारा मुख्य उद्देश्य शेष भारत से असम और पूर्वोत्तर भारत को काटना है। इस उद्देश्य को पूरा करने के लिए उसने साजिश का खुलासा भी किया है कि सड़कों और  रेलवे लाइनों पर इतना मलबा डाल दो कि उसे उठाने में काफी समय लग जाए। शरजिल यह भी कह रहा है की

अगर 5 लाख मुसलमान संगठित हो जाएं तो हम असम काे भारत से अलग कर देंगे। अपने भाषण में शरजिल यह भी कह रहा है कि मुसलमानों को भारत की वो चिकन नेक काट देनी चाहिए जो उसे उत्तर पूर्व से जोड़ती है। यदि ऐसा हो जाता है तो वहां सेना भी नहीं पहुंच पाएगी। शरजिल इमाम को शाहीन बाग धरने का रणनीतिकार माना जा रहा है।

शरजिल इमाम के शब्दों को गम्भीरता से लेने की बजाय उस पर सियासत भी शुरू हो गई है। एक लोकतांत्रिक देश में सबको अपने अधिकारों के लिए लड़ने, आंदोलन करने और अपने विचारों को व्यक्त करने का अधिकार है लेकिन यह अधिकार किसी को नहीं है कि वह ऐसा कुछ कहे जिससे किसी वर्ग विशेष की मानसिकता में जहर फैलाए जिससे देश की एकता और अखंडता को प्रभावित हो। जवाहर लाल नेहरू ​विश्वविद्यालय में जब ‘‘भारत तेरे टुकड़े होंगे, लेके रहेंगे आजादी’’ जैसे नारे लगे थे तो जिहादी मानसिकता वाले युवाओं के चेहरे से नकाब उतर गया था लेकिन इस देश ने उन्हें नेता बना दिया। आज एक ऐसा वर्ग है जो देश को बांटने के नारे लगाने वालों का समर्थक है, जो उन्हें सुनना चाहता है।

उसके लिए अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता देश से भी बड़ी है। अनेक बुद्धिजीवी छात्रों के देश विरोधी नारों को प्रेशर कुकर को सेफ्टी वाल्व बताते हैं। उनके लिए ऐसे नारे छात्रों के आक्रोश की उपज है।अब सवाल यह है कि जो कुछ शरजिल ने कहा वह क्या देश के मसलमानों की आवाज है। नहीं बिल्कुल नहीं, शरजिल की आवाज भारत के 20 करोड़ मुस्लिमों की आवाज नहीं हो सकती। सवाल यह भी है कि क्या जेएनयू जैसे शिक्षा संस्थानों में छात्रों के दिमाग में देश को बांटने की मानसिकता क्यों पैदा हुई? नागरिक समाज हो या मानवाधिकार कार्यकर्ता, वकील अकादमिक, पत्रकार और जनता से सरोकार रखने वाले भारतीय नागरिक हैं। 

आम नागरिक से इस मामले में भिन्न हैं कि वे गरीबों, वंचितों, विस्थापितों तथा कमजोरों के लिए मानवीयता का भाव रखते हैं। क्या इस वर्ग को शरजिल जैसे युवाओं के बयानों को हवा में उड़ा देना चाहिए या गम्भीरता से लेना चाहिए। अगर देश का प्रबुद्ध वर्ग ऐसे बयानों को महज हवा में उछालता रहा तो देशभर में टुकड़े-टुकड़े गैंग उठ खड़े होंगे। इस देश का मुसलमान भी अब अच्छी तरह समझ गया है कि उन्हें राजनीतिक दल धर्मनिरपेक्षता के नाम पर एक सुन्न करने वाला इंजैक्शन लगाते रहे हैं ताकि वह एक चैतन्य जागरूक एवं प्रगतिशील नागरिक न बन सकें। इतना ही नहीं उन्हें यह भी समझ में आ गया है कि ये धर्मनिरपेक्षतावादी उन्हें अलगाववादियों एवं आतंकवादियों के पक्षधर बनाकर खड़ा कर देते हैं जिससे बहुसंख्यकों की शंकाओं के घेरे में बने रहे हैं। मुस्लिम समाज को यह जानना होगा कि नीतियुक्त और न्याययुक्त शासन व्यवस्था ही दूसरे नागरिकों की उनका कल्याण कर सकती है। शरजिल और असउद्दीन ओवैसी और अकबरुद्दीन ओवैसी जैसे लोग उनके नायक नहीं हो सकते। जिनका काम ही अलगाववाद के बीज बोना है और जहरीला वातावरण सृजित करना है। 

अफसोस इस देश के मुस्लिमों को कोई नायक मिला ही नहीं। ऐसे में प्रश्न स्वा​भाविक है कि मुस्लिमों को सही व हकीकी इस्लाम पेश करने के लिए किस किस्म का होना चाहिए। जवाब सिर्फ इतना सा है कि हिन्दस्तान के हर मुसलमान को डाक्टर ऐ.पी.जे. अब्दुल कलाम जैसे होना चाहिए। मुस्लिम युवाओं को शरजिल इमाम से अलग हटकर देश के लिए  सोचना होगा। उन्हें खुद ऐसी ताकतों को पराजित करना होगा जो देश के एक और बंटवारे के स्वप्न देख रही है और उन्हें भ्रमित कर रही है। उन्हें खुद जिहादी मानसिकता से लड़ना होगा। अगर आज शरजिल इमाम जैसे लोगों को किनारे नहीं किया गया तो इसका खामियाजा पूरी कौम को भुगतना पड़ेगा। जहां तक शरजिल पर कार्रवाई का सवाल है उसके लिए कानून अपना काम करेगा।

-आदित्य नारायण चोपड़ा