BREAKING NEWS

महाराष्ट्र : सीएम शिंदे की जान को खतरा, बढाई गई सुरक्षा◾सियासत के धरती पुत्र मुलायम सिंह की बिगड़ी तबीयत, आईसीयू में शिफ्ट◾उद्धव गुट में टूट जारी, वर्ली के 3000 शिवसैनिकों ने थामा शिंदे गुट का दामन ◾फिर उबाल मार रहा हैं खालिस्तान मूवमेंट, बठिंडा में दीवार पर लिखे गए खालिस्तान समर्थक नारे◾पुलवामा में आतंकी हमला, एक पुलिस जवान शहीद, सशस्त्र बल का जवान घायल ◾बीजेपी ने नीतीश कुमार को दी सलाह, कहा - आपकी विदाई तय, बांध लें बोरिया-बिस्तर◾Congress President Election: कांग्रेस अध्यक्ष पद का चुनाव क्यों लड़ रहे हैं मल्लिकार्जुन खड़गे? बताया पूरा प्लान ◾खड़गे से खुले आसमान के नीचे बहस करने के लिए तैयार हूं - शशि थरूर ◾ महात्मा गांधी की विरासत को हथियाना आसान पदचिन्हों पर चलना मुश्किल : राहुल गांधी ◾मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने महात्मा गांधी, लाल बहादुर शास्त्री को श्रद्धांजलि अर्पित की◾इस बात पर गौर किया जाना चाहिए कि नए मुख्यमंत्री के नाम पर विधायकों में नाराजगी क्यों है : गहलोत◾पायलट को बीजेपी का खुला ऑफर, घर लक्ष्मी आए तो ठुकराए नहीं ◾राजस्थान में बढ़ा सियासी बवाल, अशोक गहलोत ने विधायकों की बगावत पर दिया बड़ा बयान◾राजद नेताओं पर जगदानंद सिंह ने लगाई पाबंदिया, तेजस्वी यादव पर टिप्पणी ना करने की मिली सलाह ◾ इयान तूफान के कहर से अमेरिका में हुई जनहानि पर पीएम मोदी ने जताई संवेदना ◾महात्मा गांधी की ग्राम स्वराज अवधारणा से प्रेरित हैं स्वयंपूर्ण गोवा योजना : सीएम सावंत◾उत्तर प्रदेश: अखिलेश यादव पर राजभर ने कसा तंज, कहा - साढ़े चार साल खेलेंगे लूडो और चाहिए सत्ता◾ पीएम मोदी ने गांधी जयंती पर राजघाट पहुंचकर बापू को किया नमन, राहुल से लेकर इन नेताओं ने भी राष्ट्रपिता को किया याद ◾महाराष्ट्र: शिंदे सरकार का कर्मचारियों के लिए नया अध्यादेश जारी, अब हैलो या नमस्ते नहीं 'वंदे मातरम' बोलना होगा◾Gandhi Jayanti: संयुक्त राष्ट्र की सभा में 'प्रकट' हुए महात्मा गांधी, 6:50 मिनट तक दिया जोरदार भाषण◾

द्रौपदी मुर्मू का राष्ट्रपति होना अन्त्योदय ​की मिसाल...

किसी ने सपने में भी नहीं सोचा ​था कि भारत की पहली आदिवासी महिला 15वीं राष्ट्रपति होंगी। यह भारत के लोकतंत्र की पहचान है। यही नहीं यह दीनदयाल उपाध्याय जी के अन्त्योदय को बल देता, सार्थक करता सारी दुनिया के सामने एक बेमिसाल उदाहरण है कि सदियों से हाशिये पर पड़े आदिवासी समाज की एक महिला विराजमान होगी। ओडिशा के आदिवासी बहुल इलाके के एक छोटे से गांव में जन्मी श्रीमती मुर्मू ने अपने संघर्षपूर्ण जीवन में जिस प्रकार राजनीति में प्रवेश करके भारत की प्रजातांत्रिक प्रणाली को भी सबको दर्शा दिया हैै।

यही नहीं हमारे यहां महिलाओं का सम्मान बहुत ऊंचा है, जहां नारी को हर रूप में देखा गया है। भारतीय नारी अपनी गुणवत्ता यानी ममता, सहनशीलता, त्याग, संस्कार, सभ्यता, कर्मठ महिला के रूप में अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर पहचानी जाती है। द्रौपदी मुुर्मू सही मायने में भारतीय महिला की पहचान हैं।

 इतने बड़े पद पर देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी चुनावों से पहले नामांकन दायर करते समय उनके प्रस्तावक बनते हैं तो यही से द्रौपदी मुर्मू के व्यक्तित्व का अंदाजा लगाया जा सकता है। 

उनकी बेटी इतिश्री मुर्मू विवाहित है और दिल्ली में ही रहती है। सच बात यह है कि मुर्मू जी के राष्ट्रपति बनने के बाद राजनीति में अब यह चर्चा भी जोर पकड़ने लगी है कि महिलाओं को जो 33 प्रतिशत आरक्षण की बात की जाती है उसे अब लोकसभा में अमलीजामा पहना ही दिया जाये तो अच्छा है। लोकतंत्र के लिए यह एक सुखद संकेत होगा। देश की महिला जब सड़क से संसद तक, जमीन से आसमान तक, ऑटो, बस, विमान, ट्रेन, मेट्रो और अंतरिक्ष तक अपने कदम रख सकती है तो लोकतांत्रिक मूल्यों को और मजबूत बनाए रखने के लिए यह जरूरी है कि महिलाओं के लिए 33 प्रतिशत आरक्षण को जितनी जल्दी हो सके लागू कर ही दिया जाये तो अच्छा है। आज की तारीख में कॉरपोरेट में महिलाएं तरक्की कर रही हैं। बड़े-बड़े उद्योगों में जहां महिलाओं की उपस्थिति 20-30 प्रतिशत है वहां अच्छा अनुशासन और व्यवस्था देखने को मिल रही है। एक रिपोर्ट के मुताबिक अनेक इंडस्ट्रीज में महिला उद्यमियों को आगे लाने के लिए 20 से 30 प्रतिशत आरक्षण की व्यवस्था महिलाओं के लिए आरक्षित की जा रही है। इसके पीछे तर्क यह है कि महिलाएं ऑफिस कामकाज में ज्यादा अच्छा रिजल्ट देती हैं। नर्सरी स्कूलों से लेकर कॉलेजों और यूनिवर्सिटीज तक महिलाओं का परफार्मेंस पुरुषों से आगे ही है। दसवीं और बारहवीं के सीबीएसई के अभी हाल ही के परिणाम देख लीजिए उसमें भी हर बार की तरह लड़कियों की सफलता दर लड़कों से ज्यादा है। 

डिबेट चल रहे हैं कि यद्यपि देश में महिला सशक्तिकरण है परंतु फिर भी राजनीतिक तौर पर महिलाओं को उस 33 प्रतिशत आरक्षण का लाभ नहीं मिला जिसके समर्थन में राजनीतिक पार्टियां अपनी आवाज उठाती रही हैं। महिलाओं को राजनीति में लाने के लिए इस व्यवस्था को लागू करना चाहिए और यह भी कहा जा रहा है कि मुर्मू जी के राष्ट्रपति बनने से अब आदिवासी और दूर दराज के पिछड़े हुए इलाकों में लड़कियों की शिक्षा को और ज्यादा प्रमोशन मिलेगी। मैं इसका स्वागत करती हूं। मैं स्वयं इस चीज की आवाज उठाती रही हूं कि पिछड़े हुए इलाकों में लड़कियों की शिक्षा का स्तर सुधारने के लिए ज्यादा से ज्यादा गर्ल्स स्कूल कॉलेज खोले जाने चाहिए। हालांकि मोदी सरकार ने बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ अभियान भी चलाए और यह पूरे देश में एक क्रांतिकारी कदम सिद्ध हुआ। मुर्मू जी का राष्ट्रपति बनना अपने आपमें एक क्रांति है। इस क्रांति के लिए उन्हें प्रेरित किया गया, उन्हें पहचाना गया तभी उन्होंने इतनी बड़ी उपलब्धि हासिल की। पूरा देश आज उन्हें नमन करता है। यह कलम उन्हें सैल्यूट करती है।