BREAKING NEWS

मिस्र के साथ भारत के नए सिरे से संबंध - 2 विकासशील देशों का एक परिप्रेक्ष्य◾कुश्ती विवाद में सूत्रों का दावा : खेल मंत्रालय निगरानी समिति में शामिल कर सकता है और सदस्य◾उपराष्ट्रपति धनखड़ ने मिस्र के राष्ट्रपति अब्देल फतह अल-सीसी से की मुलाकात◾दिल्ली में अगले कुछ दिन भी छाये रहेंगे बादल, 29 जनवरी को हल्की बारिश की संभावना◾गणतंत्र दिवस समारोह : कर्तव्य पथ पर भारत की सैन्य ताकत, सांस्कृतिक धरोहर, नारी शक्ति का प्रदर्शन◾विश्व के नेताओं ने गणतंत्र दिवस की बधाई दी◾अभिनेता अन्नू कपूर गंगा राम अस्पताल में भर्ती, हालत स्थिर◾जम्मू-कश्मीर में जी20 की बैठक ‘मानवता के दुश्मनों के लिए संदेश’ : उपराज्यपाल मनोज सिन्हा◾सुप्रीम कोर्ट पहुंची शैली ओबेरॉय, MCD मेयर चुनाव को लेकर दाखिल की याचिका◾मिस्र के राष्ट्रपति अब्दुल फतेह अल सीसी ने गणतंत्र दिवस पर देखी भारत की ताकत◾Republic Day 2023: पुतिन ने देश को गणतंत्र दिवस की दी बधाई, कहा- भारत का योगदान महत्वपूर्ण◾JNU में BBC डॉक्यूमेंट्री की स्क्रीनिंग पर विदेश राज्य मंत्री का बयान, कहा- 'किसी को भी भारत की संप्रभुता को रौंदने की अनुमति नहीं'◾74th Republic Day: पाक रेंजर्स ने BSF को खिलाई मिठाइयां, अटारी वाघा बॉर्डर पर गणतंत्र दिवस का जश्न◾ BBC की डॉक्यूमेंट्री बैन के फैसले पर अमेरिका ने तोड़ी चुप्पी, कहा- 'हम मीडिया की स्वतंत्रता का समर्थन करते हैं'◾Republic Day : कर्तव्य पथ पर भारत ने दिखाई अपनी ताकत, जमीन पर टैंकों की दहाड़, 'आसमान में गरजा राफेल'◾जेपी नड्डा के बेटे की जयपुर में हुई शादी, 28 जनवरी को बिलासपुर में होगा रिसेप्शन◾बिहटा में भीषण सड़क हादसा, स्कॉर्पियो ने 6 को रौंदा, दो की हुई मौत◾गणतंत्र दिवस परेड में दिखा स्वदेशी हथियारों की झलक, भारतीय तोप से 21 तोपों की सलामी◾बसंत पंचमी 2023: इन तीन छात्रों पर बरसेगी मां सरस्वती की कृपा,मिलेगी सफलता,बना खास योग करें ये उपाय◾ रामचरित मानस विवाद पर आग बगूला हुए रामभद्राचार्य कहा - स्वामी प्रसाद सठिया गए ◾

मुद्दों से भटकते चुनाव

पंजाब विधानसभा चुनावों के लिए सरगर्मियां तेज हो चुकी हैं। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी बुधवार को पंजाब मिशन पर थे। उनसे उम्मीद की जा रही थी कि करोड़ों की लागत वाली परियोजनाओं के शिलान्यास के साथ-साथ वे कर्ज में फंसे पंजाब के लिए कोई राहत पैकेज की घोषणा कर सकते हैं। लेकिन हुसैनीवाला के निकट जिस ढंग से प्रदर्शनकारियों ने फ्लाईओवर पर प्रधानमंत्री का काफिला रोका, वह प्रधानमंत्री की सुरक्षा में बड़ी चूक है। तब प्रधानमंत्री फिरोजपुर रैली रद्द कर दिल्ली लौट आए।

गृहमंत्रालय ने पंजाब सरकार को प्रधानमंत्री के कार्यक्रम और यात्रा की योजना के बारे में पहले ही बता दिया था लेकिन इसके बावजूद प्रधानमंत्री का काफिला रोकने में प्रदर्शनकारी सफल हो गए। गृह मंत्रालय ने पंजाब के चीफ सैक्रेटरी और डीजीपी से इस संबंध में रिपोर्ट तलब की है। यह घटना सुरक्षा में चूक तो है ही साथ ही राजनीति के दिन-प्रतिदिन गिरते स्तर का संकेत देती है। विचारों की लड़ाई विचारों से होनी चाहिए, सकारात्मक बहस से होनी चाहिए लेकिन प्रधानमंत्री को रोकना लोकतंत्र में कैसे सहन किया जा सकता है। 

अगर अब तक की चुनावी गतिविधियों पर नजर डालें तो पूरा का पूरा चुनाव एक तरह से भटक चुका है। मुद्दों की बात कम और एक-दूसरे पर व्य​क्तिगत हमले ज्यादा किए जा रहे हैं। पंजाब के सभी राजनीतिक दल मुद्दों की बात से ज्यादा एक-दूसरे पर छींटाकशी और व्यंग्य करने लगे हैं। कभी काले अंग्रेज कहकर किसी नेता पर​ टिप्पणी की जाती है तो कभी किसी नेता को मेंटल करार दिया जाता है। निजी हमले इस कदर बढ़ गए हैं कि एक नेता को तो शराबी करार दिया जाता है। और कहा जा रहा है कि उक्त नेता ने शराब छोड़ने के लिए माता जी की सौगंध खाई थी लेकिन कुछ दिनों बाद शराब पीकर उन्होंने माता जी की सौगंध को झूठा साबित कर ​दिया। लगभग सभी दलों के नेता पर्सनल अटैक करने पर उतर आए हैं। ओछी राजनीति पर उतर आए हैं। जुबानी जंग के बीच पंजाब के असली मुद्दे गायब हैं। पंजाब के जो मुद्दे गायब हो चुके हैं-

* पंजाब में बेरोजगारी की हालत कब सुधरेगी?

* पंजाब में उद्योग का पलायन रोकना होगा।

* पंजाब से हर साल युवाओं का विदेशों का रुख रोकना होगा।

* पंजाब में नशा सबसे बड़ा मुद्दा है। हेरोइन और अन्य मादक पदार्थ पाकिस्तान से पंजाब के सीमांत क्षे​त्रों में धकेले जा रहे हैं।

* पंजाब पर बढ़ता कर्जा रोकना होगा।

* पंजाब पर पाकिस्तान प्रायोजित आतंकवाद का खतरा मंडरा रहा है और ड्रोन के जरिये ​हथियार और टिफिन बम भेजे जा रहे हैं।

* पंजाब में कैंसर तेजी से फैल रहा है और कैंसर का इलाज करने वाले अस्पताल कम हैं।

* जलस्तर गिरता जा रहा है और धान की खेती में पानी की लागत अधिक है।

* बेअदबी के मुद्दे पर निजी हिसाब-किताब बराबर किये जाने के आरोप लग रहे हैं।

पंजाब में कांग्रेस ने चरणजीत सिंह चन्नी के रूप में एक दलित चेहरा दिया है और उसके बाद से ही राज्य में मुख्य लड़ाई 31 फीसदी दलित वोटों को लुभाने की है। चरणजीत सिंह चन्नी एक के बाद एक चुनावी घोषणाएं करके जनता के बीच लोकप्रिय हो रहे हैं। उधर शिरोमणि अकाली दल ने बसपा के साथ गठबंधन करके राज्य में दलित मुख्यमंत्री देने की घोषणा कर रखी है। आम आदमी पार्टी के संयोजक अरविन्द केजरीवाल भी ऐलान कर चुके हैं कि अगर उनकी पार्टी सत्ता में आई तो दलित बच्चों को अच्छी शिक्षा दी जाएगी। भारतीय जनता पार्टी ने पूर्व मुख्यमंत्री कैप्टन अमरेन्द्र सिंह को नई पार्टी पंजाब लोक कांग्रेस के साथ चुनावी गठबंधन किया है। भले ही यह गठबंधन जीत की स्थिति में न हो लेकिन वह दूसरी पार्टियों के समीकरण प्रभावित कर सकती हैं। पंजाब कांग्रेस अध्यक्ष नवजोत सिंह सिद्धू खुद को भावी सीएम के रूप में प्रोजैक्ट करते रहना चाहते हैं। जबकि चन्नी खुद को असरदार सीएम सिद्ध करने की को​शिश में लगे हैं। जहां तक वोट प्रतिशत की बात है कांग्रेस और अकाली दल गठबंधन के वोटों में करीब 8 प्रतिशत का अंतर रहा था जबकि आपका वोट शेयर 23.80 प्रतिशत रहा। ऐसे में सत्ता के लिए वोट के समीकरण क्या बनते हैं कुछ कहा नहीं जा सकता। अकाली दल की समस्या यह है ​कि शहरों में हिन्दू वोटों के समर्थन के ​बिना उसका सत्ता पाना मुश्किल है। पंजाब कांग्रेस अंतर्कलह के चलते काफी कमजोर हो चुकी है। पंजाब में 31 फीसदी से ज्यादा दलित वोट हैं और जाट सिखों का प्रतिशत 21 फीसदी है। यह समीकरण मजबूत तो ​दिखता है लेकिन क्या दलित और जाट सिख एक साथ किसी पार्टी को समर्थन देंगे। इसकी सम्भावना कम ही दिखती है। देखना होगा चुनावों का ऊंट किस करवट बैठता है।

आदित्य नारायण चोपड़ा

[email protected]