BREAKING NEWS

दिल्ली हिंसा में शामिल 106 लोग गिरफ्तार सहित 18 एफआईआर दर्ज, दिल्ली पुलिस ने जारी किए हेल्पलाइन नंबर◾मुख्यमंत्री केजरीवाल ने किया हिंसाग्रस्त उत्तर-पूर्वी दिल्ली का दौरा ◾अपने दौरे के बाद एनएसए डोभाल ने गृह मंत्री अमित शाह को उत्तर पूर्वी दिल्ली में मौजूदा हालात की जानकारी दी◾एनएसए डोभाल ने किया दंगा प्रभावित क्षेत्रों का दौरा, बोले- उत्तर पूर्वी दिल्ली में हालात नियंत्रण में ◾TOP 20 NEWS 26 February : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾शहीद हेड कांस्टेबल रतन लाल के परिवार को 1 करोड़ और एक सदस्य नौकरी देंगे - अरविंद केजरीवाल ◾दिल्ली HC ने पुलिस को भड़काऊ बयान देने वाले BJP नेताओं पर FIR करने की दी सलाह◾दिल्ली हिंसा में मरने वालों का आंकड़ा बढ़कर हुआ 22, संवेदनशील इलाकों में भारी सुरक्षा बल तैनात◾दिल्ली हिंसा : IB अफसर अंकित शर्मा का मिला शव, हिंसा ग्रस्त इलाको में जारी है तनाव ◾हिंसा पर दिल्ली हाई कोर्ट सख्त, कहा-देश में एक और 1984 नहीं होने देंगे◾दिल्ली हिंसा पर PM मोदी की लोगों से अपील, ट्वीट कर लिखा-जल्द से जल्द बहाल हो सामान्य स्थिति◾दिल्ली हिंसा : हाई कोर्ट ने कपिल मिश्रा का वीडियो क्लिप देख कर पुलिस को लगाई कड़ी फटकार ◾सीएए हिंसा पर प्रियंका गांधी ने लोगों से की अपील, बोली- हिंसा न करें, सावधानी बरतें ◾सोनिया गांधी ने दिल्ली हिंसा को बताया सुनियोजित, गृहमंत्री से की इस्तीफे की मांग◾दिल्ली हिंसा : हेड कांस्टेबल रतनलाल को दिया गया शहीद का दर्जा, पत्नी को नौकरी के साथ मिलेंगे 1 करोड़ ◾सुप्रीम कोर्ट ने सीएए हिंसा को बताया दुर्भाग्यपूर्ण, याचिकाओं पर सुनवाई से किया इनकार ◾दिल्ली में हुई हिंसा के बाद यूपी में हाई अलर्ट, संवेदनशील जिलों में पुलिस बलों के साथ पीएसी तैनात ◾राजस्थान के बूंदी में नदी में बस गिरने से 24 लोगों की मौत, मृतकों में 3 बच्चे शामिल◾दिल्ली के तनावपूर्ण इलाके छावनी में तब्दील, सुरक्षा बलों के फ्लैगमार्च के साथ स्पेशल सीपी ने किया दौरा◾शाहीन बाग मुद्दे को लेकर 23 अप्रैल को सुनवाई करेगा सुप्रीम कोर्ट◾

आज भी यशोदा मां है...

जीवन वह जो अपने लिए नहीं बल्कि दूसरों की खातिर जिया जाए। ऐसी बातें कहने वालों की और उपदेश देने वालों की कोई कमी नहीं है परंतु निभाने वाले बहुत कम हैं। जो इसे निभा जाए उसे ही इंसानियत का फरिश्ता कहा जाना चाहिए अगर वह महिला है तो वह फिर इंसानियत और ममता की देवी हुई। एक ऐसी महिला अधिकारी जो कि सीजेएम हो  और उनके पति बीडीओ हो ऐसे में उन्हें एक पंद्रह दिन की उस बच्ची के बारे में पता चले जिसकी मां बच्ची को जन्म देने के बाद ही गुजर गयी हो तो इन दोनों ने यह रिश्ता कैसे निभाया, जरा इसकी कल्पना कीजिए। 

प्रेरणादायक घटना गुजरात के वड़ोदरा की है जहां सीजेएम श्रीमती चित्रा यादव को उनके पति ने बताया कि मैं वासद के सीएचसी के मेडिकल सुप्रिटेंडेंट की कॉल पर अस्पताल में विजिट पर जा रहा हूं और मुझे पता चला है कि एक बच्ची को जन्म देने के बाद उसकी मां गुजर गयी है और यह बच्ची 14 घंटे से भूखी है। सीजेएम चित्रा यादव से रहा ना गया। उन्होंने तुरंत जाकर बच्ची को अपने सीने से लगाकर उसे अपना दूध पिलाया। भारी बारिश, आंधी-तूफान की वजह से बच्ची के पिता और परिवार के सदस्य वड़ोदरा के उस अस्पताल तक पहुंच नहीं पाये थे। चित्रा यादव जी का ममतामयी हृदय आज सबके लिए उदाहरण है। उन्होंने अपने पति से कहा कि अब इस बच्ची की मां नहीं है। 

मैंने इसे अपना दूध पिलाया है। मैं इसकी यशोदा मां जैसी हूं। उन्होंने अपने पति को इस बच्ची को गोद लेने का आग्रह किया। इस नन्हीं परी के पिता और परिवार के सदस्यों से बच्ची के लालन-पालन के लिए बातचीत की गई। पूरी कानूनी प्रक्रिया के तहत बच्ची को गोद ले लिया गया। सीजेएम बताती हैं कि मेरे पास पहले से एक बेटा है और अब हमारे पास एक बेटी भी आ गयी। भाई-बहन हो गये हैं। इसे कहते हैं बेटी-बचाओ-बेटी पढ़ाओ। एक तरफ देश में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अगर ऐसा अभियान चलाते हैं तो फिर असली बेटी को बेटी का धर्म निभाने का सच्चा और इंसानियत भरा रिश्ता किसी ने निभाया है तो वह सीजेएम हैं और इस मां को मेरा कोटि-कोटि नमन है। 

आज भी यशोदा मैय्या है। आज दिल्ली, हरियाणा, पंजाब या राजस्थान में पिछले दिनों बेटियों के भ्रूण को गर्भ में ही मार डालने के अपराध लगातार बढ़ रहे हैं। तो हमने भी यह अभियान चलाया था कि अगर बेटी को गर्भ में ही मार डालोगे तो भविष्य में बहू कहां से लाओगे, वंश कहां से चलाओगे। इसके बाद इन सभी जगहों पर लोहड़ी के दिनों में बेटी होने पर जश्न मनाने की परंपरा शुरू हुई और आज यह लिंगानुपात लगभग अब लेवल पर आ गया है। कई बार दिल्ली के अस्पतालों में या अन्य नर्सिंग होम्स में या फिर मंदिरों के बाहर किसी नवजात शिशु के पड़ा होने की आैर उसकी मां द्वारा छोड़ जाने की  खबरें मिलती हैं। अब अच्छी बात यह है कि इस दुनिया में मां की ममता और बेटी का प्यार और बेटी के धर्म को निभाने वाले लोग जीवित हैं। 

हम सभी को इस परंपरा का निर्वाह करना चाहिए तथा बेटियों को सम्मानपूर्वक जीने का हक दिलाने के लिए भी कोई अभियान छेड़ देना चाहिए। मैं तो यह कहूंगी कि अक्सर सड़कोंं  पर नन्हीं-मुन्नी कलियों को जिमनास्ट करते हुए देखकर पैसों के लिए हाथ फैलाता हुआ देखती हूं। उनका भविष्य भी संवारने के लिए कुछ किया जाना चाहिए। जब देश आधुनिक हो चुका हो महिलाएं तरक्की की राह पर हो तो भी नन्हीं कलियों से रेप की खबरें सुनकर मन कांप जाता है। ये जुल्म बंद होने चाहिए और बेटी को गोद लेेने जैसे उदाहरण सामने आने चाहिए तो मानवता और ममता का ​​सिर गौरव से ऊंचा हो जाता है। 

साध्वी ऋतम्बरा जी ने भी एक बहुत बड़ी मुहिम चलाई हुई है। पिछले दिनों उनकी वातस्लय की बेटी की मुंबई के बड़े घराने राठी परिवार में शादी हुई। मेरा ऋतम्बरा जी से बहुत स्नेह है। उन्होंने आग्रह किया था परन्तु मैं नहीं जा सकी परन्तु मन ही मन में ऋतम्बरा जी, उनकी सोच को नमन कर रही थी और उस राठी परिवार को भी जिनके घर बेटी गई। उनके लिए भी उनकी सोच और काम के लिए नमन करती हूं। यही हमारा सपना है सब मिल कर साकार कर रहे हैं। पिछले 5 सालों से करनाल अनाथालय से किरण नाम की बेटी को मैंने भी गोद लिया हुआ है और वह बहुत आगे बढ़ रही है।