BREAKING NEWS

FB ने अपना नाम बदल कर किया Meta , फेसबुक के CEO मार्क जुकरबर्ग का ऐलान◾T20 World CUP : डेविड वॉर्नर की धमाकेदार पारी, ऑस्ट्रेलिया ने श्रीलंका को सात विकेट से हराया◾जी-20 की बैठक में महामारी से निपटने में ठोस परिणाम निकलने की उम्मीद : श्रृंगला◾क्रूज ड्रग केस : 25 दिन के बाद आखिरकार आर्यन को मिली जमानत, लेकिन जेल में ही कटेगी आज की रात ◾विप्रो के संस्थापक अजीम प्रेमजी ने 2020-21 में हर दिन दान किए 27 करोड़ रु, जानिये कौन है टॉप 5 दानदाता ◾नया भूमि सीमा कानून पर चीन की सफाई- मौजूदा सीमा संधियों नहीं होंगे प्रभावित, भारत निश्चिन्त रहे ◾कांग्रेस ने खुद को ट्विटर की दुनिया तक किया सीमित, मजबूत विपक्षी गठबंधन की परवाह नहीं: टीएमसी ◾त्योहारी सीजन को देखते हुए केंद्र सरकार ने कोविड-19 रोकथाम गाइडलाइन्स को 30 नवंबर तक बढ़ाया ◾नवाब मलिक का वानखेड़े से सवाल- क्रूज ड्रग्स पार्टी के आयोजकों के खिलाफ क्यों नहीं की कोई कार्रवाई ◾बॉम्बे HC से समीर वानखेड़े को मिली बड़ी राहत, गिरफ्तारी से तीन दिन पहले पुलिस को देना होगा नोटिस◾समीर की पूर्व पत्नी के पिता का सनसनीखेज खुलासा- मुस्लिम था वानखेड़े परिवार, रखते थे 'रमजान के रोजे'◾कैप्टन के पार्टी बनाने के ऐलान ने बढ़ाई कांग्रेस की मुश्किलें, टूट के खतरे के कारण CM चन्नी ने की राहुल से मुलाकात ◾अखिलेश का भाजपा पर हमला: यूपी चुनाव में 'खदेड़ा' तो होगा ही, उप्र से कमल का सफाया भी होगा ◾दूसरे राज्यों में बढ़ रहे कोरोना के केस से योगी की बड़ी चिंता, CM ने सावधानी बरतने के दिए निर्देश ◾भारत के लिए प्राथमिकता रही है आसियान की एकता, कोरोना काल में आपसी संबंध हुए और मजबूत : PM मोदी◾वानखेड़े की पत्नी ने CM ठाकरे को चिट्ठी लिखकर लगाई गुहार, कहा-मराठी लड़की को दिलाए न्याय ◾सड़क हादसे में 3 महिला किसान की मौत पर बोले राहुल गांधी- देश की अन्नदाता को कुचला गया◾नीट 2021 रिजल्ट का रास्ता SC ने किया साफ, कहा- '16 लाख छात्रों के नतीजे को नहीं रोक सकते'◾देश में कोरोना के मामलों में उतार-चढ़ाव का दौर जारी, पिछले 24 घंटे के दौरान संक्रमण के 16156 केस की पुष्टि ◾प्रियंका का तीखा हमला- किसान विरोधी योगी सरकार की नीति और नीयत में खोट, कानों पर जूं तक नहीं रेंगता ◾

उच्च न्यायालयों की महानता

सर्वोच्च न्यायालय के न्यायमूर्तियों ने स्पष्ट कर दिया है कि लोकतन्त्र संवैधानिक संस्थाओं की विश्वसनीयता पर टिका हुआ वह तन्त्र है जिसमें आम नागरिकों की निष्ठा निवास करती है। यह निष्ठा निःसन्देह इन संस्थाओं की कार्यप्रणाली से सम्बद्ध होती है जिससे जन विश्वास और मजबूत होता है। अतः न्यायालयों में जो भी कार्यवाही होती है और इस क्रम में न्यायाधीश जो भी टिप्पणियां या आंकलन करते हैं उनका जनहित में महत्व इस प्रकार होता है कि लोगों को यह पता चलता रहे कि न्याय की प्रक्रिया में वस्तुगत परिस्थितियां किस मोड़ पर हैं या किस तरफ जा रही हैं। अतः उच्च न्यायालय के न्यायाधीशों द्वारा किसी भी मामले में की जा रही सुनवाई के दौरान की गई मौखिक टिप्पणियों को मीडिया द्वारा प्रकाशित करना सर्वथा उचित है और इसे केवल आलोचना के नजरिये से देखना अनुचित है। देश की सबसे बड़ी अदालत में चुनाव आयोग द्वारा उस याचिका पर सुनवाई चल रही थी जो उसने मद्रास उच्च न्यायालय द्वारा चुनाव आयोग पर हत्या का मुकदमा चलाये जाने की टिप्पणियों के खिलाफ दायर की थी। सर्वोच्च न्यायालय के न्यायमूर्तियों सर्वश्री डी.वाई. चन्द्रचूड व एम.आर. शाह की पीठ ने साफ किया कि देश के विभिन्न उच्च न्यायालयों की लोकतान्त्रिक पद्धति में अपनी विशिष्ट भूमिका है और उनके स्वतन्त्र निर्णयों को किसी विशेष नजरिये से बांध कर देखना उचित नहीं है। उनके खिलाफ कोई निर्देश देकर सर्वोच्च न्यायालय उनका मनोबल तोड़ना नहीं चाहता है। इसके साथ ही विद्वान न्यायाधीशों ने यह भी स्पष्ट किया कि टिप्पणियों या आंकलन को निर्णय समझना भी भूल है क्योंकि न्यायालय के न्यायाधीशों द्वारा मौखिक रूप से व्यक्त किये गये विचारों का अर्थ केवल वह मनःस्थिति ही निकाला जा सकता है जिससे न्यायाधीश गुजर रहे होते हैं। न्यायालय में यह एेसा संवाद होता है जिससे लोगों का विश्वास किसी भी संस्था में जमने में मदद मिलती है। इस मामले को अगर हम व्यापक संदर्भों  में भारत की न्यायप्रणाली के परिप्रेक्ष्य में देखें तो हमें इस निष्कर्ष पर पहुंचने में जरा भी देर नहीं लगेगी कि न्यायपालिका लोकतन्त्र की शुचिता और पवित्रता के साथ ही संविधान के शासन की सबसे बड़ी सिपहसालार रही है।

 जहां तक चुनाव आयोग का सवाल है तो सबसे पहले यह समझा जाना जरूरी है कि भारतीय संविधान के तहत न्यायपालिका की तरह ही इसे सरकार का अंग नहीं बनाया गया है और इसे इस प्रकार शक्ति सम्पन्न किया गया है कि सरकारों से बेपरवाह होते हुए यह केवल संविधान से ही ताकत लेकर अपने कर्त्तव्यों का पालन करे और यह ध्यान रखे कि उसके हर कदम से देश में लोकतन्त्र इस प्रकार मजबूत हो कि किसी भी राजनीतिक दल को उस पर अंगुली उठाने की जरूरत न पड़े। उसकी विश्वसनीयता और निष्पक्षता हर प्रकार के सन्देहों से ऊपर हो। अतः जब इस कर्त्तव्य निष्ठा में कमी उजागर होती है तो स्वतन्त्र न्यायपालिका उसे दुरुस्त करने के लिए सर्वथा अधिकार सम्पन्न है।  देश के उच्च न्यायालयों ने हर उस अवसर पर अपनी अग्रणी स्वतन्त्र भूमिका का निर्वाह किया है जो संविधान के तहत उनकी जिम्मेदारी बनती है। 

 इस सन्दर्भ में हमें इलाहाबाद उच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश स्व. जगमोहन लाल सिन्हा द्वारा 12 जून, 1975 को दिये गये उस एेतिहासिक फैसले को नहीं भूलना चाहिए जिसमें उन्होंने तत्कालीन प्रधानमन्त्री स्व. इंदिरा गांधी के रायबरेली से लड़े गये लोकसभा चुनाव को अवैध करार दे दिया था। यह देश के लोकतन्त्र के इतिहास में अभी तक का सबसे बड़ा फैसला है जो उच्च न्यायालय द्वारा ही दिया गया था। प्रश्न पैदा होता है कि कोई भी संवैधानिक संस्था अपने फैसलों या रवैये पर उच्च न्यायालय द्वारा की गई टिप्पणियों से क्यों घबराये? घबराहट तब होती है जब सत्य के सात पर्दों के पीछे दबे होने के बावजूद सामने आने का अन्देशा होता है और हमारी लोकतान्त्रिक पद्धति में इसका निषेध पारदर्शिता को प्रशासन का पैमाना मान कर किया गया है। क्या इस हकीकत को हम इतनी जल्दी भूल गये कि मनमोहन सरकार के दौरान देश के ‘मुख्य सतर्कता आयुक्त’ की नियुक्ति को सर्वोच्च न्यायालय ने ‘असंवैधानिक’ करार दे दिया था।  चुनाव आयोग को संविधान में अर्ध न्यायिक अधिकार इसलिए दिये गये हैं जिससे यह अपने स्वतन्त्र व निष्पक्ष दायित्व का निर्वाह करते समय पूरा इंसाफ कर सके। मगर यह कार्य उसे आम जनता की निगाहों के सामने इस प्रकार करना होगा कि लोकतन्त्र की आधारशिला का कोई भी स्तम्भ आवाज न कर सके क्योंकि चुनाव आयोग ही पूरी लोकतान्त्रिक प्रणाली की जमीन तैयार करता है। यह जमीन वह होती है जिसमें विभिन्न विचारधाराओं वाले राजनीतिक दल मतदाताओं के सहयोग से अपनी- अपनी फसल उगाते हैं और भारत के राजनीतिक माहौल को हरा-भरा रखते हैं। निश्चित रूप से इस स्थिति को बरकरार रखने की जिम्मेदारी अन्ततः न्यायपालिका पर ही आती है क्योंकि वह संविधान के शासन की संरक्षक होती है। हमारी महान न्यायपालिका की पूरी दुनिया में प्रतिष्ठा बेजोड़ रही है क्योंकि इसका अहद सिर्फ संविधान के प्रति ही होता है।