BREAKING NEWS

ट्रेनों के निजीकरण पर रेलवे का बयान : नौकरियां नहीं जाएंगी, लेकिन काम बदल सकता है ◾तमिलनाडु में कोरोना मरीजों की संख्या एक लाख के पार ,बीते 24 घंटों में 4329 नये मामले और 64 लोगों की मौत◾पीएम के लेह दौरे पर बोले अधीर रंजन - सैनिकों का मनोबल बढ़ा लेकिन चीनी अतिक्रमण नकारे नहीं ◾दिल्ली में कोरोना का कहर जारी, बीते 24 घंटे में 2,520 नए केस, संक्रमितों का आंकड़ा 94 हजार के पार◾महाराष्ट्र में कोरोना वायरस ने फिर तोड़ा रिकॉर्ड , 6364 नये मामले आये सामने और 198 लोगों की मौत ◾मोदी की लद्दाख यात्रा पर तिलमिलाए चीन ने कहा - हमें विस्तारवादी कहना आधारहीन◾दिल्ली-NCR में 4.7 रिक्टर स्केल तीव्रता भूकंप के झटके, राजस्थान के अलवर में था भूकंप का केंद्र◾सीएम योगी का ऐलान - शहीद पुलिसकर्मियों के परिवार को सरकारी नौकरी और एक करोड़ रुपये का मुआवजा ◾चीन से सीमा विवाद पर भारत के समर्थन में आया जापान, कहा- LAC की यथास्थिति बदलने के एकतरफा प्रयास का करेंगे विरोध◾पीएम मोदी ने गलवान घाटी झड़प में घायल सैनिकों से कहा- ‘आपने करारा जवाब दिया’◾लद्दाख में अतिक्रमण को लेकर राहुल ने ट्वीट किया वीडियो, कहा-कोई तो बोल रहा है झूठ◾लेह से चीन को PM मोदी का सख्त सन्देश, बोले- इतिहास गवाह है कि विस्तारवादी ताकतों को हमेशा मिली हार◾PM मोदी के लेह दौरे से तिलमिलाया ड्रैगन, कहा-कोई पक्ष हालात न बिगाड़े ◾चीन और पाकिस्तान से बिजली उपकरणों का आयात नहीं करेगा भारत ◾PM मोदी के लेह दौरे पर सियासत शुरू, मनीष तिवारी बोले- जब इंदिरा गई थीं तो पाक के दो टुकड़े किए थे◾World Corona : दुनियाभर में संक्रमितों का आंकड़ा 1 करोड़ 8 लाख के पार, सवा पांच लाख के करीब लोगों की मौत◾कानपुर में शहीद हुए पुलिसकर्मियों को CM योगी ने दी श्रद्धांजलि, कहा-व्यर्थ नहीं जाएगा यह बलिदान ◾चीन के साथ तनाव के बीच PM मोदी का औचक लेह दौरा, अग्रिम पोस्ट पर जवानों से की मुलाकात◾देश में एक दिन में 20 हजार से अधिक कोरोना मामलों की पुष्टि, संक्रमितों का आंकड़ा सवा छह लाख के पार◾15 अगस्त को लॉन्च हो सकती है स्वदेशी कोरोना वैक्सीन COVAXIN, 7 जुलाई से शुरू होगा ह्यूमन ट्रायल◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

आतंक कबूलनामे का शुक्रिया इमरान खान!

आतंक काे लेकर पाकिस्तान के हुकमरान परवेज मुशर्रफ से लेकर इमरान खान तक सभी के सभी ने अपने घिनौने चेहरे ही सामने रखे हैं। आईएसआई से सबके रिश्ते रहे हैं और जिसका मकसद यही रहा है कि भारत में आतंक की खूनी फसल के दम पर अपनी सियासत चलाई जाए। चार दिन पहले जिस प्रकार वहां के प्रधानमंत्री इमरान खान ने अमरीका पहुंच कर अपना रोना रोया कि वह खुद बेनकाब हो गया लेकिन एक साहस भी उन्होंने दिखाया और स्वीकार किया कि पाकिस्तान में अब भी चालीस हजार आतंकवादी मौजूद हैं। 

उनका यह कबूलनामा भारत के लिए एक अच्छी खबर है। पाकिस्तान अपने गुनाह कबूल कर रहा है और अमरीकी राष्ट्रपति से मुलाकात के बाद अगर इमरान खान सार्वजनिक तौर पर अपने यहां आतंकी होने की बात कबूल करते हैं तो इसका सारा श्रेय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की शानदार नीति को दिया जाना चाहिए जिसके दम पर उन्होंने पूरी दुनिया में पाकिस्तान को शीशे में उतार कर असली तस्वीर पेश की। आए दिन पाकिस्तान कश्मीर घाटी में अपना आतंकी खेल खेलता था लेकिन जब उसकी हिम्मत पूरी अटैक तक पहुंच गई तो सर्जिकल स्ट्राइक और इसके बाद पुलवामा अटैक हुआ तो बालाकोट में सर्जिकल स्ट्राइक से पीएम मोदी ने सिद्ध कर दिया कि पाकिस्तान के आतंकी जब-जब कुछ करेंगे कीमत पाकिस्तान चुकाएगा। 

इमरान खान के कबूलनामे का एक दूसरा छोर प्रधानमंत्री मोदी के उस दावे से जुड़ा है जिसमें कश्मीर में पाकिस्तान की शह पर आतंकी खेल का जिक्र किया गया था। पाकिस्तान अपनी हरकतों से बाज नहीं आ रहा था और भारत की ओर से उसे बार-बार समझाया गया और  इमरान खान जब पीएम बने तो भी श्री मोदी ने उसे आतंक पर नकेल कसने की सलाह दी। लेकिन इमरान को उस समय भारी कीमत चुकानी पड़ी जब भारत कुख्यात आतंकी अजहर मसूद को ग्लोबल टेरेरिस्ट घोषित कराया। 

चीन को भी भारत ने हर मोर्चे पर खासतौर पर डोकलाम पर बैकपुट पर धकेल दिया था। लिहाजा पाकिस्तान की दुम अपने बचाव के लिए नीचे घूम चुकी थी। अपने बचाव में उन्होंने अपने आका डोनाल्ड ट्रंप को बताया कि पाकिस्तान में ढेरों आतंकी संगठन हैं और मेरी सरकार बनने के बाद उन पर नकेल कसी जा रही है। पूरी दुनिया के सामने पाकिस्तान की माली हालत बेनकाब हो चुकी है। ​कितनी ही बंदिशें उस पर अमरीका ने लगा रखी हैं। आतंकी संगठन और मदरसों से जुड़े लोग हर कोई परेशान है। 

उसकी वित्तीय और सैन्य मदद प्रतिबंधों की जद में है तो उसने आखिरकार मान ही लिया कि आतंकी उसके यहां अपनी जड़ें मजबूत करने की कोशिश कर रहे हैं और वो कश्मीर और अफगानिस्तान में ट्रेनिंग लेते हैं। यह कबूलनामा एक हिम्मत भरा पग भी है लेकिन लगते हाथ अगर इमरान खान प्रधानमंत्री मोदी को एक यह गुहार भी लगा दें कि इन आतंकवादियों का खात्मा कर दो तो हमारी फौजों को भी इन सबको निपटाने में ज्यादा वक्त नहीं लगेगा। 

पाकिस्तान को आतंकी हमलों चाहे वो मुंबई अटैक हो या लालकिला और संसद अटैक हों, बसों और ट्रेनों में विस्फोट को लेकर हमेशा पाकिस्तान को समय-समय पर डोजियर दिए गए और हर बार उसने इंकार किया लेकिन इमरान खान ने अपने यहां आतंकी होने को लेकर जो कबूलनामा प्रस्तुत किया अब हम उसके दम पर ही पाकिस्तान में आतंकियों को निपटा सकते हैं। 

देखना यह है कि पीएम मोदी अब अपनी फौज को कब आतंकियों के नेस्तनाबूद की इजाजत देते हैं। पूरे देश को इसका इंतजार रहेगा। पाकिस्तान के आतंकी खेल को​ निपटाने में एनएसए अजित डोभाल, पूर्व गृहमंत्री और आज के रक्षा मंत्री राजनाथ ​​सिंह, पूर्व विदेश मंत्री श्रीमती सुषमा स्वराज और आज के विदेश मंत्री एस. जयशंकर के साथ-साथ नए गृहमंत्री अमित शाह की भूमिका भी उल्लेखनीय रही है। इनमें से कोई पाकिस्तान को बख्शने वाला नहीं है। आतंक के सरगना अब अपने आखरी दौर से गुजर रहे हैं। 

अगर एक देश की सेना अपने यहां आतंकी शिविर चलाएगी तो वह अपनी सरकार और अपना देश कैसे चलाएगी, इमरान के कबूलनामे के पीछे यह दर्द भरी मजबूरी भी है लेकिन यह भी तो सच है कि हमने आतंकियों के समक्ष बहुत कुछ गंवाया है।  कश्मीर में जम्मू-कश्मीर पुलिस, बीएसएफ और सीआरपीएफ के जवानों के अलावा हमारे सैनिकों की शहादत देशवासी कभी भूल नहीं सकते और ऐसे में इमरान खान के कबूलनामे को हमें आतंकियों के खिलाफ एक्शन का निमंत्रण समझना चाहिए। 

इमरान ने अपने कबूलनामे का साहस दिखाया है और इसके दम पर आतंकियों के खिलाफ कार्रवाई की जो उम्मीद हमसे लगाई है यह परोक्ष ही सही लेकिन हमें काम कर देना चाहिए। अमरीका अब उसकी ज्यादा मदद नहीं कर पाएगा। भारत के हाथ में अब ट्रंप कार्ड है मौका सामने है। आतंक और आतंकवादियों की कमर तोड़ने के साथ-साथ पाकिस्तान को काबू करने का गोल्डन चांस हमारे सामने है जिसे पीएम मोदी और सेना हाथ से नहीं जाने देना चाहेंगे। यही देशवासी भी चाहते हैं।