BREAKING NEWS

ट्रैक्टर परेड को नाकाम करने की पाक ने बनायी साजिश, पाक ने 300 से अधिक ट्विटर अकाउंट बनाए ◾नेपाल: ‘प्रचंड’ के नेतृत्व वाले गुट ने प्रधानमंत्री ओली को पार्टी की सदस्यता से निष्कासित किया ◾UP के BJP विधायक का विवादित बयान, कहा- ‘राक्षसी’ संस्कृति की है ममता बनर्जी, उनके डीएनए में दोष◾किसानों की परेशानियों को सुनने और समझने की बजाए सरकार उन्हें आतंकवादी कहती है : राहुल गांधी◾लालू प्रसाद की बिगड़ी तबीयत पर बोले मुख्यमंत्री नीतीश- वे जल्द ठीक हों, मेरी शुभकामना उनके साथ◾असम में गरजे अमित शाह- कांग्रेस बताए इतने सालों तक रक्तरंजित क्यों रहा राज्य◾कृषि कानून को लेकर 60वें दिन आंदोलन जारी, 26 जनवरी पर ट्रैक्टर रैली की तैयारी में जुटे किसान ◾LAC विवाद : भारत और चीन के बीच कॉर्प्स कमांडर स्तर की बैठक मोल्डो में जारी ◾दिल्ली में आधी रात को लगे 'पाकिस्तान जिंदाबाद' के नारे, छह लोगों को पूछताछ के बाद छोड़ा◾गणतंत्र दिवस पर 2 बजे के बाद खुलेगी कनॉट प्लेस मार्केट, बंद रहेंगे ये 4 मेट्रो स्टेशन◾उत्तर भारत में सर्दी का सितम जारी, शीतलहर से फिर कांपेगी राजधानी दिल्ली ◾राहुल गांधी का तंज- जनता महंगाई से त्रस्त, मोदी सरकार टैक्स वसूली में मस्त◾CM उद्धव ठाकरे की साइन की हुई फाइल से छेड़छाड़, PWD इंजीनियर के खिलाफ जांच के दिए थे आदेश◾BJP सांसद साक्षी महाराज का आरोप-कांग्रेस ने कराई थी नेताजी की हत्या◾देश में कोरोना के 14849 नए मामलों की पुष्टि, पॉजिटिव केस 1 करोड़ 65 लाख के पार ◾TOP 5 NEWS 24 JANUARY : आज की 5 सबसे बड़ी खबरें ◾दुनियाभर में कोरोना वायरस का प्रकोप जारी, संक्रमितों का आंकड़ा 9.86 करोड़ तक पहुंचा◾ममता बनर्जी के लिये ‘जय श्री राम’ का नारा सांड को लाल कपड़ा दिखाने के समान है : अनिल विज◾ सात और राज्य अगले सप्ताह से स्वदेशी तौर पर विकसित ‘कोवैक्सीन’ टीका लगाएंगे : स्वास्थ्य मंत्रालय ◾ वायुसेना प्रमुख भदौरिया बोले- भारत पांचवीं पीढ़ी के लड़ाकू विमानों पर काम कर रहा है◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

निवेश के लिए भारत सबसे आकर्षक बाजार

भारत निवेश के लिहाज से दुनिया का पांचवां सबसे आकर्षक देश बनकर उभरा है। पिछले कुछ वर्षों से कई सैक्टरों में एफडीआई (प्रत्यक्ष विदेशी निवेश) के नियमों को आसान बनाया गया है। आर्थिक सुधारों की मदद से भारत की अर्थव्यवस्था काफी बेहतर हुई है। केन्द्र की मोदी सरकार ने बुनियादी ढांचे, मैन्यूफैक्चरिंग और कौशल निर्माण के क्षेत्रों से जुड़ी चिंताओं का समाधान भी किया है। लगातार किए जा रहे आर्थिक सुधारों का फायदा अब मिल रहा है।

कोरोना की महामारी के चलते अर्थव्यवस्था की गति धीमी जरूर हुई है लेकिन जिस तरह से भारत में निवेश करने के लिए बहुराष्ट्रीय कम्पनियां लालायित हैं, उससे स्पष्ट है कि कोरोना वायरस के पराजित होते ही भारत की अर्थव्यवस्था गति पकड़ लेगी।

गूगल कम्पनी के सीईओ सुन्दर पिचाई ने गूगल फाॅर इंडिया के वार्षिक कार्यक्रम में ऐलान किया कि भारत ​की डिजिटल अर्थव्यवस्था को बढ़ावा देने के लिए उनकी कम्पनी भारत में 10 अरब अमेरिकी डालर यानी करीब 75 हजार करोड़ का ​निवेश करेगी। कोरोना काल के इस दौर में आॅनलाइन लाइफ लाइन बन गई है। गूगल के निवेश से प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की डिजिटल इंडिया परियोजना को पूरा करने में बहुत मदद मिलेगी। नरेन्द्र मोदी और सुन्दर पिचाई में डाटा सुरक्षा, साइबर सुरक्षा, भारत में किसानों, युवाओं और उद्यमियों के जीवन को बदलने के लिए प्रौद्योगिकी की शक्ति के इस्तेमाल समेत कई मुद्दों पर बातचीत भी हुई। कोरोना काल में उभर रही नई कार्य संस्कृति पर भी चर्चा हुई। दुनिया के बड़े हिस्से को लाॅकडाउन से जूझना पड़ा। उपभोक्ता ने खर्च करना बंद कर दिया और उद्योगों को कामकाज ठप्प होने से काफी नुक्सान भी हुआ। कोरोना काल में गूगल पर स्वामित्व रखने वाली कम्पनी अल्फावेट, एपल, फेसबुक और अमेजन काफी ताकतवर बन कर उभरी हैं। गूगल और फेसबुक को शुरू-शुरू में विज्ञापन नहीं मिलने से नुक्सान  तो हुआ लेकिन क्म्पनी की शेयर कीमतों में उछाल के चलते कम्पनी की बैलेंस शीट में सुधार होना शुरू हो गया। एपल के हाईवेयर बिजनेस यानी उसके फोन की बिक्री में गिरावट दर्ज की गई लेकिन कम्पनी की सर्विस से होने वाली कमाई में उछाल आया। ऑनलाइन रिटेल बिक्री की बड़ी खिलाड़ी अमेजन का कारोबार तेजी से बढ़ा। उसका क्लाउड कम्प्यूटरिंग का बिजनेस भी काफी अच्छा चल रहा है। इससे पहले अमेजन ने भारत में एक करोड़ छोटे और मध्यम कारोबारों को डिजिटलाइज करने के लिए एक अरब डालर (7,100 करोड़) का निवेश करने की घोषणा की थी। अमेजन की योजना भारत के अलग-अलग शहरों में 100 डिजिटल हॉट स्थापित करने की है। जहां छोटे-मध्यम कारोबारियों को ई-कामर्स, ऑनब्रांडिंग, इमेजिंग कैट ला​िगंग, वेयर हाऊस स्पेस, ला​जिस्टिक्स और डिजिटल मार्केटिंग जैसी सेवाएं दी जाएंगी। फेसबुक भी भारत में निवेश करने की घोषणा कर चुकी है।

ई-कामर्स में भारत तेजी से बढ़ता बाजार है। एक रिपोर्ट के मुताबिक इस सैक्टर में भारत में सालाना रेवेन्यू ग्रोथ 51 फीसदी है। इस सैक्टर में प्रतिस्पर्धा भी तेजी से बढ़ी है। देश की सबसे बड़ी कम्पनी रिलायंस भी ई-कामर्स में उतरने की तैयारी में जुटी है। देश में अभी एक्टिव इंटरनेट यूजर 62.7 करोड़ हैं। अगले पांच सालों में 50 करोड़ यूजर और जुड़ेंगे। कोरोना काल में अधिकांश खरीददारी ऑनलाइन ही हो रही है। अब ऑनलाइन खरीददारी का चलन और बढ़ेगा। ई-कामर्स कम्पनियों का भरोसा भारत पर है। अगर भरोसा नहीं होता तो ये कम्पनियां भारत में ​निवेश की योजना बनाती ही नहीं।

अमेरिकी कम्पनी एपल धीरे-धीरे चीन से बाहर निकलने की कोशिश कर रही है। फाक्स कॉन चेन्नई के निकट श्रीपेरुम्बदूर की एक फैक्टरी के विस्तार के लिए उसमें एक अरब डालर तक का निवेश करना चाहती है। ताइवान की कांट्रैक्ट मैन्यूफैक्चरिंग कम्पनी इस फैक्टरी में आईफोन एक्सआर की असेम्बलिंग करती है।  भारत दुनिया का सबसे बड़ा स्मार्ट फोन बाजार है। भारतीय स्मार्ट फोन बाजार की एक फीसदी हिस्सेदारी एपल के पास है। भारत में ज्यादा फोन बनाने से एपल आयात शुल्क का भुगतान करने से बच जाएगी। इससे भारत में उनके फोन की कीमत कुछ घट सकती है। भारत को पिछले वर्ष 51 अरब डालर का विदेशी निवेश प्राप्त हुआ था और वह साल के दौरान दुनियाभर में अधिक प्रत्यक्ष विदेशी निवेश पाने वाले देशों में नौवें नम्बर पर आ गया था। एक रिपोर्ट  में कहा गया है कि भारत में कोरोना महामारी के बाद कमजोर लेकिन सकारात्मक वृद्धि हासिल होने और भारत का व्यापक बाजार देश के लिए निवेश आकर्षित करता रहेगा। कोरोना महामारी से निपटने और आर्थिक गतिविधियों को​फिर पटरी पर लाने के ​लिए धन की काफी जरूरत है। उम्मीद है ​कि भारत सभी चुनौतियों को पार कर लेगा।

आदित्य नारायण चोपड़ा

[email protected]