BREAKING NEWS

राजू श्रीवास्तव की हालत स्थिर, डॉक्टर उनका बेहतर इलाज कर रहे हैं : शिखा श्रीवास्तव◾कोलकाता में ममता से मिले पूर्व भाजपा सांसद सुब्रमण्यम स्वामी◾महाराष्ट्र : रायगढ़ तट से मिली संदिग्ध नाव, AK-47 समेत कई हथियार बरामद ◾रोहिंग्याओं पर राजनीति! भाजपा ने कहा- केजरीवाल रोहिंग्याओं को ‘रेवड़ी’ बांट रहे, राष्ट्रीय सुरक्षा के समझौते को तैयार◾जयशंकर ने कहा- भारत स्वतंत्र, समावेशी व शांतिपूर्ण हिंद प्रशांत की परिकल्पना करता है◾गहलोत का भाजपा पर फूटा गुस्सा- देश को हिंदू राष्ट्र बनाया तो होगा पाकिस्तान जैसा हाल◾रायगढ़ में नाव को लेकर बवाल! फडणवीस बोले- खराब मौसम के कारण नाव अनियंत्रित होकर बहते हुए..... ◾ कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष ने कहा, कर्नाटक में कांग्रेस एकजुट, अकेले और सामूहिक नेतृत्व में लड़ेंगे विधानसभा चुनाव◾पता लगाएं किसने रोहिंग्या को फ्लैट में स्थानांतरित करने का फैसला किया? सिसोदिया ने गृहमंत्री को लिखा पत्र ◾रोहिंग्याओं को लेकर बवाल, थरूर बोले-मुद्दे पर सरकार में असमंजस देश के लिए कलंक◾Jagdeep Dhankhar: उपराष्ट्रपति जगदीप धनखड़ से गुलाम नबी आजाद ने अहम मुलाकात की◾राहुल गांधी का भाजपा पर कटाक्ष, बोले- पीएम नरेंद्र मोदी को ऐसी राजनीति पर नहीं आती शर्म◾बीमा भारती के लेसी सिंह पर लगाए आरोपों पर भड़के नीतीश, कहा-अगर इधर-उधर का मन है तो अपना सोचें◾Maharashtra: अवैध शराब पर राज्य के गृह विभाग को वासुदेव के खिलाफ रिपोर्ट मिली, जल्द होगा निलंबित.....बोले फडणवीस ◾Gujarat News: AAP पार्टी का मास्टर प्लान! गुजरात विधानसभा चुनाव के लिए 9 उम्मीदवारों की दूसरी सूची सांझा की ◾नीतीश के एक और मंत्री विवादों में, कृषि मंत्री सुधाकर सिंह पर लगा भ्रष्टाचार का आरोप◾Defamation Case : मुंबई कोर्ट का आदेश- संजय राउत को वीडियो कांफ्रेंस के जरिए किया जाए पेश ◾फेक न्यूज पर मोदी सरकार का एक्शन, एक पाकिस्तानी समेत 8 YouTube चैनल किए ब्लॉक ◾बाहुबली मुख्तार अंसारी पर बड़ी कार्रवाई, दिल्ली और UP में कई ठिकानों पर ED की रेड◾पश्चिम बंगाल : टेरर कनेक्शन पर एक्शन, STF ने अलकायदा के 2 आतंकियों को किया गिरफ्तार◾

भारत, पाक और संयुक्त अमीरात

भारत-पाकिस्तान के बीच सम्बन्धों को सामान्य बनाने में ‘संयुक्त अरब अमीरात’ ने अपनी भूमिका स्वीकार करते हुए कहा कि उसका प्रयास है कि दोनों देशों के बीच राजनयिक सम्बन्ध इस स्तर के हो सकें जिससे दोनों के बीच बातचीत हो सके। संयुक्त अरब अमीरात के साथ भारत के सम्बन्ध गर्मजोशी के रहे हैं और पाकिस्तान के साथ भी इसके सम्बन्ध मधुर कहे जाते हैं। अतः एशिया महाद्वीप में शान्ति पूर्ण माहौल बनाने के अमीरात के प्रयासों को प्रशंसा योग्य ही कहा जायेगा। वैसे अमीरात एक मुस्लिम देश है मगर इसका प्रशासन उदारपंथी माना जाता है।  इस देश में भारत व पाकिस्तान दोनों ही देशों के प्रवासी नागरिकों की संख्या अच्छी खासी है। लेकिन यह भी कम हैरत की बात नहीं है कि भारत और पाकिस्तान को अपने सम्बन्ध सुधारने के लिए किसी तीसरे देश की मध्यस्थता की जरूरत पड़ रही है क्योंकि 1947 में भारत को काट कर ही पाकिस्तान का निर्माण हुआ था। दोनों देशों की संस्कृति में भी कोई अंतर नहीं है सिवाय इसके कि पाकिस्तान मजहब के नाम  पर तामीर किया गया और 1956 के बाद से इसने भारत के साथ दुश्मनी को अपना ईमान इस तरह बनाया कि यह इसके वजूद की शर्त का बनता गया। इसकी असली वजह पाकिस्तान में लोकतन्त्र का खात्मा होना रहा वरना हकीकत यह भी है कि जब अंग्रेजों की चालबाजी से पाकिस्तान वजूद में आ ही गया था तो दोनों मुल्कों के रहनुमा इस बात पर राजी थे कि इनके आपसी सम्बन्ध अमेरिका और कनाडा जैसे होने चाहिएं। 

 भारत ने शुरू से ही पाकिस्तान के प्रति सदाशयता का रुख रखा मगर इस्लामाबाद में फौजी शासन आने के बाद यहां के हुक्मरानों ने अपने मुल्क की आवाम को विकास व प्रगति से मरहूम रखने के लिए अपने लोगों में मजहबी तास्सुब फैला कर हिन्दोस्तान के साथ दुश्मनी की नीति बनाई और जम्मू-कश्मीर  का सब्जबाग दिखाने की रणनीति अपनाई।  तब से लेकर अब तक पाकिस्तान बारी-बारी फौजी प्रशासन व अर्ध लोकतन्त्र में जी रहा है मगर भारत के प्रति उसकी नीति में गुणात्मक परिवर्तन इसलिए नहीं आया है क्योंकि यह मजहबी जुनून से बाहर नहीं निकल पा रहा है। दुनिया में यह भी एक मिसाल है कि एक साथ ही आजाद होने वाले दो देश किस प्रकार अपने लोगों के विकास के लिए काम करते हैं। एक तरफ भारत विश्व की छठी आर्थिक शक्ति बनने की प्रक्रिया में है तो दूसरी तरफ पाकिस्तान ‘इंटरनेशनल भिखारी’ के तमगे से नवाजा जा रहा है। इसके बावजूद अगर पाकिस्तान को संयुक्त अरब अमीरात के कहने पर अक्ल आ रही है तो भारत उसका स्वागत करता है। अमेरिका में अमीरात के राजदूत ‘यूसुफ अल ओताइबा’ ने अमेरिका में आयोजित एक विचार संगोष्ठी में आधिकारिक तौर पर स्वीकार किया कि उऩका देश दोनों देशों को करीब लाने का प्रयास कर रहा है। क्षेत्रीय शान्ति के लिए यह जरूरी है।

 दोनों देश अगर दोस्त न भी बनें तो कम से कम दोनों के बीच सुचारू राजनयिक व वाणिज्यिक सम्बन्ध तो होने चाहिएं। पहले अपुष्ट खबरें आयी थीं कि अमीरात के प्रयासों से पाकिस्तान ने कश्मीर मुद्दे पर अपनी हठधर्मिता छोड़ दी है और वह रिश्तों को सुधारने का इच्छुक है। विगत फरवरी महीने में दोनों देशों की फौजों के बीच युद्ध विराम की घोषणा की गई और इसके बाद मार्च महीने में दोनों देशों के प्रतिनिधियों के बीच सिन्धु नदी जल बंटवारे पर वार्ता भी हुई । इसी के साथ पाकिस्तान ने घोषणा की कि वह भारत से चीनी व कपास का आयात करेगा।  जाहिर है कि यह सब अचानक ही नहीं हुआ है और इसकी तह में पर्दे के पीछे से चलने वाली कूटनीति भी रही है। यह भी माना जा रहा है कि विगत जनवरी महीने में भारत की गुप्तचर संस्था के मुखिया व पाकिस्तान की आईएसआई के प्रमुख के बीच भी किसी तीसरे देश में बातचीत हुई थी और उसके बाद ही फरवरी में युद्ध विराम की घोषणा हुई। परन्तु यह भी तय है कि जम्मू-कश्मीर राज्य के दो हिस्सों में बंट जाने और अनुच्छेद 370 के समाप्त हो जाने के बाद से पाकिस्तान की तथाकथित कश्मीर नीति दम तोड़ गई थी जिसकी वजह से अब वह भारत के साथ अच्छे रिश्ते कायम करने में ही अपनी भलाई समझ रहा है।

 भारत हमेशा पाकिस्तान को एक पड़ोसी की तरह देखता रहा है और उसकी हरचन्द कोशिश रही है कि वह पाकिस्तान को साथ लेकर भारतीय उपमहाद्वीप में विकास की नीतियों को अंजाम दे। मगर पाकिस्तान हमेशा पीठ में छुरा घोंपता रहा और हिन्दोस्तान को अपना दुश्मन मानता रहा। यदि इमरान खान को अब अक्ल आ रही है कि भारत के साथ अच्छे सम्बन्धों से ही उनके देश की दशा सुधर सकती है तो ‘अल्लाह ताला’ उन्हें बरकत बख्शे। इमरान खान को यह भी हिसाब लगाना चाहिए कि अभी तक पिछले 74 सालों में पाकिस्तान ने भारत के साथ दुश्मनी बांध कर इसके साथ युद्धों पर कितना धन खर्च किया?  यदि यही धन पाकिस्तान की अवाम की दशा सुधारने पर खर्च किया गया होता तो आज पाकिस्तान की आर्थिक स्थिति क्या होती? यह सवाल बहुत महत्वपूर्ण है क्योंकि पाकिस्तानी अवाम को अभी तक के पाक हुक्मरानों ने उसके जायज हकों से वंचित रखा है  और उसे कंगाल बना कर छोड़ दिया है। जबकि स्वतन्त्र होने पर जो भारत एक सिलाई मशीन और सुई तक का उत्पादन नहीं करता था आज दुनिया की वैज्ञानिक टैक्नोलोजी से लेकर कमप्यूटर टैक्नोलोजी तक में दुनिया का सिरमौर बना हुआ है। 

                          आदित्य नारायण चोपड़ा

[email protected]