BREAKING NEWS

कोरोना संकट के बीच वाराणसी में स्वास्थ्य केंद्र प्रभारियों के सामूहिक इस्तीफे से मचा हड़कंप ◾मथुरा-वृन्दावन में धूम धाम के साथ मनाई गयी कृष्ण जन्माष्टमी लेकिन श्रद्धालुओं बिना सूनी रहीं सड़कें ◾महाराष्ट्र में कोरोना वायरस संक्रमण के 12,712 नए मामले, 344 मरीजों ने गंवाई जान ◾भाजपा विधायक के साथ थाने में मारपीट पर यूपी सरकार का एक्शन, थानाध्यक्ष को निलंबित करने के आदेश ◾कांग्रेस के राष्ट्रीय प्रवक्ता राजीव त्यागी का दिल का दौरा पड़ने से निधन, शाम 5 बजे की थी लाइव डिबेट ◾दिल्ली : पिछले 24 घंटों में कोरोना के 1113 नए केस की पुष्टि, संक्रमितों की संख्या 1 लाख 49 हजार के करीब ◾अमेरिका के साथ द्विपक्षीय संबंधों की समीक्षा में पाकिस्तान ने की भारत के साथ तनाव कम कराने की अपील ◾भारत में कोरोना से स्वस्थ होने की दर 70 प्रतिशत से अधिक हुई, एक दिन में रिकॉर्ड 56,110 मरीज हुए ठीक ◾सुशांत मामले में बोले शरद पवार-मुझे मुंबई पुलिस पर पूरा भरोसा, CBI जांच का नहीं करूंगा विरोध◾बेंगलुरू हिंसा को लेकर कांग्रेस ने बीजेपी पर साधा निशाना, कहा-क्या सो रही थी येदियुरप्पा सरकार◾NCP नेता माजिद मेमन का ट्वीट, सुशांत अपने जीवनकाल में उतने प्रसिद्ध नहीं थे, जितने मरने के बाद◾बेंगलुरु हिंसा के दौरान मुस्लिम युवाओं ने पेश की एकता की मिसाल, मानव श्रृंखला बनाकर उपद्रवियों से बचाया मंदिर◾सुशांत सिंह केस : माफी की मांग पर बोले राउत-मैंने जो कहा जानकारी के आधार पर कहा◾GDP को लेकर राहुल का केंद्र सरकार पर तंज- ‘मोदी है तो मुमकिन है’◾बेंगलुरु हिंसा : शहर में धारा 144 लागू, 110 लोग गिरफ्तार, CM येदियुरप्पा ने की शांति की अपील◾हम अपने सभी मतभेदों को दूर करके राज्य की सेवा के संकल्प को पूरा करेंगे : CM गहलोत◾कोविड-19 : देश में पिछले 24 घंटे में 60 हजार से अधिक नए मामलों की पुष्टि, संक्रमितों का आंकड़ा 23 लाख के पार◾दुनियाभर में कोरोना संक्रमितों का आंकड़ा 2 करोड़ 20 लाख के पार, अमेरिका में 51 लाख से अधिक मामले ◾US चुनाव में हुई भारत की एंट्री, भारतीय मूल की सीनेटर कमला हैरिस को चुना गया VP कैंडिडेट◾J&K में एनकाउंटर के दौरान सुरक्षाबलों ने एक आंतकवादी को मार गिराया, एक जवान भी हुआ शहीद ◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

अंतर्राष्ट्रीय व्यापार और भारतीय हित

देश के किसान, दुग्ध उत्पादक और अन्य संगठन भारत के रीजनल कंप्रिहेंसिव इकोनामिक पार्टनरशिप (आरसीईपी) समझौते में शामिल होने का विरोध कर रहे थे। किसान और लघु उत्पादक सड़कों पर प्रदर्शन कर रहे थे। सबकी नजरें प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी पर लगी हुई थीं कि वह बैंकाक में इस समझौते पर हस्ताक्षर करते हैं या नहीं। अंततः प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने देश की अर्थव्यवस्था के हित में इस समझौते से किनारा कर लिया। 

भारत ऐसे समझौते को स्वीकार नहीं कर सकता था जिससे केवल डेयरी उद्योग से जुड़े करोड़ों किसान, व्यापारी और श्रमिक प्रभावित होते हों। प्रधानमंत्री का समझौते पर हस्ताक्षर नहीं करने का फैसला राष्ट्रहित में लिया गया अच्छा फैसला है। प्रधानमंत्री ने अपने सम्बोधन में स्पष्ट कर दिया कि ‘‘न ही गांधी जी का ताबीज और न ही मेरे अंतर्मन की आवाज मुझे आरसीईपी में शामिल होने की अनुमति देती है।’’

प्रधानमंत्री को इस बात का अहसास हो गया था कि इस समझौते के निष्कर्ष ​निष्पक्ष और संतु​लित नहीं हैं। आरसीईपी को लेकर पिछले सात वर्षों से बातचीत चल रही थी, तो बहुत सी बातें जिसमें वैश्विक अर्थव्यवस्था और व्यापार की परिस्थितियां भी शामिल हैं, बदल चुकी हैं। भारत के समझौते पर हस्ताक्षर न करने के पीछे कई कारण रहे। आरसीईपी समझौता दस आसियान देशों और 5 अन्य यानी आस्ट्रेलिया, चीन, जापान, न्यूजीलैंड और दक्षिण कोरिया के बीच एक मुक्त व्यापार समझौता है। इस समझौते में शामिल देश एक-दूसरे को व्यापार में टैक्स कटौती समेत तमाम आर्थिक छूट देंगे। 

अगर भारत समझौते पर हस्ताक्षर करता तो इससे देश में चीनी उत्पादों की बाढ़ आ जाती। चीन का अमेरिका के साथ पहले ही ट्रेड वार चल रहा है, जिससे उसे काफी नुक्सान झेलना पड़ रहा है। वह इस नुक्सान की भरपाई भारत और अन्य देशों से करना चाहता था। आरसीईपी में शामिल होने पर भारत को आसियान देशों से आने वाली वस्तुओं पर टैरिफ हटाना पड़ता। यह कदम भारत के घरेलू उद्योगों के लिए खतरनाक साबित हो सकता था। चीन के ​लिए यह समझौता एक बड़ा अवसर है क्योंकि उत्पादन के मामले में बाकी देश उसके आगे नहीं टिकते। व्यापार समझौतों को लेकर भारत का ट्रैक रिकार्ड अच्छा नहीं रहा। 

इन समझौतों के चलते भारत का व्यापार घाटा लगातार बढ़ता ही चला गया। भारत ने आसियान देशों और दक्षिण कोरिया के साथ मुक्त व्यापार समझौता (एफटीए) पर 2010 में हस्ताक्षर किए थे। भारत ने 2011 में मलेशिया और जापान के साथ भी मुक्त व्यापार समझौते किए थे। यूपीए शासनकाल में भारत ने अपने 74 फीसदी बाजार को आसियान देशों के लिए खोल रखा था लेकिन इंडोनेशिया ने भारत के लिए अपने 50 फीसदी बाजार को ही खोला था। यूपीए शासनकाल में चीन के साथ भी भारत ने एफटीए समझौता किया था लेकिन भारत और चीन में व्यापार संतुलन गड़बड़ाया हुआ है। वर्ष 2018-19 में आरसीईपी के 11 सदस्यों के साथ भारत का व्यापार घाटे का रहा है। 

समझौता अमल में आता तो भारतीय उत्पादों के लिए हालात और खराब हो सकते थे। दूसरी ओर उद्योग जगत का मानना है कि भारत के इस समझौते में शामिल न होने से भविष्य में भारत के निर्यात और निवेश प्रवाह को नुक्सान हो सकता है। भारत सबसे बड़े समूह के 15 देशों की प्राथमिकता सूची से अलग-थलग पड़ जाएगा। भारत में किसान, व्यापार, पेशेवर लोग और उद्योग मिलकर बड़ी अर्थव्यवस्था का निर्माण करते हैं, जिनमें मजदूर और उपभोक्ता भी शामिल हैं। करोड़ों लोगों के हितों को दाव पर नहीं लगाया जा सकता। 

चीन तो इस समझौते से अपना दबदबा कायम करना चाहता है और भारत ने समझौते पर हस्ताक्षर नहीं करके चीन के दबाव को खारिज कर दिया है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने अन्तर्राष्ट्रीय व्यापार वार्ता में कड़ा रुख अपनाया है तो यह जनभावनाओं के अनुरूप ही है।