BREAKING NEWS

TOP 20 NEWS 09 December : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾भीकाजी कामा प्लेस मेट्रो स्टेशन के नजदीक जेएनयू के छात्रों पर पुलिस ने किया लाठीचार्ज ◾नागरिकता संशोधन विधेयक भाजपा के घोषणापत्र का हिस्सा रहा, जनता ने इसे मंजूर किया : अमित शाह◾कर्नाटक उपचुनाव : BJP को 12 सीटों पर जीत मिली, विधानसभा में मिला स्पष्ट बहुमत ◾कर्नाटक : सिद्धारमैया ने कांग्रेस विधायक दल के नेता पद से दिया इस्तीफा◾JNU छात्रों ने राष्ट्रपति भवन तक शुरू किया मार्च, पुलिस ने की शांतिपूर्ण प्रदर्शन की अपील◾रॉबर्ट वाड्रा को कोर्ट से बड़ी राहत, मेडिकल ट्रीटमेंट के लिए विदेश जाने की मिली अनुमति◾बीजेपी ने छह सीटें जीतने के साथ कर्नाटक विधानसभा में बहुमत किया हासिल ◾झारखंड में बोले राहुल- सत्ता में आने पर लोगों को जल, जंगल और जमीन लौटाया जाएगा◾कांग्रेस ने धर्म के आधार पर देश विभाजन किया जिसके कारण नागरिकता कानून में संशोधन की जरूरत पड़ी : अमित शाह◾अखिलेश यादव ने नागरिकता संशोधन विधेयक को बताया भारत और संविधान का अपमान◾झारखंड में बोले PM मोदी- कांग्रेस कभी भी गठबंधन के भरोसे पर खरा नहीं उतरी◾गृहमंत्री अमित शाह ने लोकसभा में पेश किया नागरिकता संशोधन विधेयक◾शिवसेना नागरिकता संशोधन विधेयक का करेगी समर्थन: संजय राउत ◾हैदराबाद एनकाउंटर मामले पर बुधवार को सुनवाई करेगा सुप्रीम कोर्ट◾कर्नाटक उपचुनाव : कांग्रेस नेता शिवकुमार ने मानी हार, बोले-लोगों ने दलबदलुओं को किया स्वीकार◾विभाजनकारी चालक के साथ कैब की सवारी है ‘कैब’ विधेयक: कपिल सिब्बल ◾शिवसेना ने केंद्र पर लगाया हिंदुओं-मुसलमानों का ‘अदृश्य विभाजन’ करने का आरोप◾कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी का जन्मदिन आज, PM मोदी समेत कई नेताओं ने दी बधाई◾दिल्ली: अनाज मंडी में 24 घंटे बाद फिर लगी इमारत में आग, मौके पर पहुंची दमकल की गाड़ियां◾

संपादकीय

It’s My Life (13)

 minna

लाला लाजपत राय की शहादत के पश्चात पंजाब कांग्रेस का सारा भार लाला जगत नारायण के कंधों पर आ पहंुचा। उन्हें कांग्रेस के अखिल भारतीय अधिवेशनों  में भी बुलाया जाने लगा। उन्हें अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी का सदस्य भी बनाया गया। वहां लाला जी की मुलाकात महात्मा गांधी, पं. नेहरू, सरदार पटेल, नेताजी सुभाषचंद्र बोस, अब्दुल कलाम आजाद और मुहम्मद अली जिन्ना से औपचारिक और व्यक्तिगत तौर पर भी होती थी। जो मैं लिख रहा हूं खुद मेरे दादा जी ने मुझे सभी बातें बताई हैं, जिन्हें मैं अभी तक भूला नहीं। 

आज मैं एक ऐसी घटना का रहस्योद्घाटन करने जा रहा हूं जिसके बारे में शायद कोई न जानता हो, इतने गुप्त ढंग से इस घटना को अंजाम दिया गया जिससे भारत की स्वतंत्रता संग्राम की लड़ाई और विश्व परिदृश्य पर भी इस घटना ने गहरा असर डाला। इसका जिक्र न तो भारत के स्वतंत्रता संग्राम के किसी इतिहासकार ने किया और न ही किसी किताब में इसके बारे में बताया गया।कांग्रेस के विभिन्न अधिवेशनों में लाला जी ने देखा कि महात्मा गांधी के नेतृत्व में भी कांग्रेस पार्टी के कई धड़े बने हुए थे। पं. नेहरू का अपना धड़ा था। 

सरदार पटेल पंडित जी के विरुद्ध नहीं थे लेकिन सरदार पटेल और पंडित नेहरू जी की सोच में फर्क था। मुहम्मद अली जिन्ना तो शुरू से ही मुस्लिम लीग के साथ थे और उनका अपना धड़ा था। सबसे महत्वपूर्ण था नेताजी सुभाषचंद्र बोस और पं. नेहरू का एक-दूसरे के घोर विरुद्ध होना। नेता जी और पं. नेहरू एक-दूसरे से आंख तक नहीं मिलाते थे। मेरे दादाजी ने मुझे नेताजी द्वारा पं. नेहरू को लिखित अंग्रेजी का एक पत्र दिखाया था जिसमें नेता जी ने पं. नेहरू को संबोधित करते हुए लिखा था- “जो तुम कांग्रेस के अधिवेशनों में बंदरों की तरह उछल-उछल कर बोलते रहते हो, उसको बंद करो” पाठकगण इन तीन पंक्तियों से ही आप अंदाजा लगा सकते हैं कि नेताजी और पं. नेहरू में किस कदर नफरत थी।

 लाला जी जहां महात्मा गांधी और पं. नेहरू की पूरी इज्जत करते थे वहां उनके खास प्रिय सरदार पटेल और नेताजी सुभाषचंद्र बोस थे। सरदार और नेता जी भी लालाजी के बहुत नजदीक थे। अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी तीन मुख्य धड़े में बंटी थी। महात्मा गांधी तो निष्पक्ष और निर्विरोध नेता थे। लेकिन पं. नेहरू का अपना एक धड़ा था जिसमें सरदार पटेल, अब्दुल कलाम आजाद और अन्य कई प्रमुख कांग्रेसी नेता थे। वहां मुहम्मद अली जिन्ना ने मुसलमानों के लिए अलग देश पाकिस्तान की रट शुरू कर दी थी। 

उन्हें बाहर से मुस्लिम लीग का समर्थन हासिल था। तीसरा धड़ा नेेताजी सुभाष चन्द्र बोस का था, जो पं. नेहरू और जिन्ना दोनों से नफरत करते थे और उनके अनुसार महात्मा गांधी के अहिंसक आन्दोलनों से अंग्रेज भारत को आजाद नहीं करेंगे। नेताजी की सोच थी कि अंग्रेजों से तो आजादी हमें छीननी पड़ेगी। इसीलिए नेेताजी ने यह नारा बुलंद कर दिया थाः “तुम मुझे खून दो मैं तुम्हें आजादी दूंगा!” यह उन दिनों की बात है जब नेताजी ने महात्मा गांधी के स्वतंत्रता संग्राम आंदोलन को छोड़ विद्रोह का रास्ता अपना लिया था और यह फैसला कर लिया था कि अब अहिंसा के रास्ते से अंग्रेज भारत को कभी आजादी नहीं देंगे। 

नेता जी ने अंग्रेजों से बलपूर्वक आजादी छीनने की योजना बना ली थी। उन्हीं दिनों नेता जी लाला जी के बहुत करीब आ चुके थे और नेताजी लाला जी पर पूर्ण विश्वास करते थे। 1944 ​तक दूसरा विश्व युद्ध पूरी दुनिया में छिड़ चुका था। ऐसे में भारत को आजाद करवाने के लिए नेताजी  ने पूर्व में जापान और पश्चिम में जर्मनी के तानाशाह हिटलर के जरनलों से अपना संबंध स्थापित कर लिया था। आज भी मैं जानता हूं कि महात्मा गांधी के अहिंसक आंदोलन को तो अंग्रेजों ने भारत को आजाद करने का मुख्य कारण करार दिया। लेकिन दूसरे विश्व युद्ध के पश्चात आ​र्थिक रूप से ब्रिटेन कंगाल हो चुका था। जहां-जहां उसने अन्य देशों खास तौर पर भारत पर अपना कब्जा कर रखा था। 

उन्हें लगने लगा ​था कि अब ज्यादा दिन भारत को अपने अधीन रखना मुश्किल होगा। उधर नेताजी जापानी सेनाओं के साथ ‘आजाद हिंद फौज’ का झंडा लिए बर्मा तक पहुंच गए थे। अंग्रेजों को जापानी और नेता जी की आजाद हिंद फौज से हर जगह शिकस्त मिलने लगी। अगर नेताजी की अकस्मात ‘कथित मौत’ न होती तो शायद आजाद हिंद फौज और जापानी फौज मिल कर भारत माता को अंग्रेजों की बेडि़यांे से आजाद करवा लेते। बहरहाल बात उन दिनों की है जब नेताजी सुभाषचंद्र बोस को बर्लिन यानी जर्मनी में हिटलर को मिलने जाना ​था। 

उनका ‘गुप्त प्लान’ जो शायद मैं इतिहासकारों और नेता जी की जीवनी लिखने वालों के लिए प्रथम बार उजागर करने जा रहा हूं। वो यह था कि नेता जी को पंजाब के पेशावर शहर पहुंचकर भारत और अफगानिस्तान के बीच दर्रा-ए-खैबर पार करके अफगानिस्तान पहुंचना ​था, वहां जर्मनी के ‘हैलीकाप्टर’ उनका इंतजार करते और उन्हें उठाकर जर्मनी ले जाते। 

1941 से 1943 तक नेताजी जर्मनी में रहे। फिर 1943 में मैडागास्कर (Medagasker) से नेताजी एक जर्मन पनडुब्बी में गुप्त रूप से बैठ कर जापान पहुंचे। जहां से ‘आजाद हिंद फौज’ का गठन हुआ। बाकी का इतिहास तो पूरी दुनिया जानती है कि कैसे नेताजी की आजाद हिंद फौज ने अंग्रेजों को नाकों चने चवा दिए थे। वर्ष 1941 की बात है, एक दिन लाला जी को लाहौर में एक बंगाली मिलने आया। उसने नेता जी का एक गुप्त पत्र लाला जी को दिया। इस पत्र में नेता जी ने भारत से जर्मनी जाने का अपना पूरा ‘प्लान’ ​लाला जी को लिख भेजा था, जो कि अत्यंत गुप्त ​था। इतना भरोसा ​था नेताजी को हमारे पूज्य दादा जी लाला जगत नारायण पर। लाला जी ने पत्र पढ़ा और उस बंगाली संदेश वाहक से कहा “जाओ नेता जी से कह दो काम हो जाएगा।” (क्रमशः)