BREAKING NEWS

बजट 1 फरवरी को हो सकता है पेश : सूत्र ◾BJP की महिला सांसदों ने चुनाव आयोग से की राहुल गांधी की शिकायत ◾दिल्ली में अभी चुनाव हुए तो भाजपा को मिलेंगी 42 सीटें◾अवसाद में निर्भया कांड के दोषी, खाना-पीना कम किया : तिहाड़ जेल के सूत्र◾योगी ने राम मंदिर के लिए हर परिवार से 11 रुपये, पत्थर मांगे ◾सर्जिकल स्ट्राइक की इजाजत देने से पहले पर्रिकर ने कहीं थीं दो बातें : दुआ◾‘रेप इन इंडिया’ टिप्पणी को लेकर भाजपा . कांग्रेस के बीच आरोप प्रत्यारोप का दौर ◾महिलाओं की सुरक्षा को लेकर केजरीवाल बोले - हरसंभव कार्य कर रहा हूँ◾उत्तराखंड में भूकंप के हल्के झटके महसूस किये गये◾केवल भाजपा दे सकती है स्थिर और विकास उन्मुख सरकार : मनोज तिवारी◾अर्थव्यवस्था को गति देने के जब भी जरूरत होगी, कदम उठाये जाएंगे : वित्त मंत्री◾अमित शाह, निर्मला सीतारमण अगले सप्ताह भारत आर्थिक सम्मेलन में अपने विचार रखेंगे◾भाजपा की महिला सांसदों ने चुनाव आयोग से राहूल गांधी के खिलाफ कार्रवाई की मांग की ◾CAB-NRC कभी नहीं लागू करूंगी : ममता◾‘रेप इन इंडिया’ टिप्पणी पर राहुल का माफी से इनकार, मोदी का वीडियो ट्वीट कर किया पलटवार◾पाकिस्तानी सेना ने जम्मू-कश्मीर के राजौरी में की गोलीबारी, दो जवान घायल◾मालदीव की अवामी-मजलिस के स्पीकर मोहम्मद नशीद ने PM मोदी से की मुलाकात◾यूएई से आए विमान में बम रखे होने की कॉल, दिल्ली पुलिस ने मांगी फोन करने वाले की जानकारी ◾पूर्वोत्तर में हिंसक प्रदर्शन के कारण जापान के प्रधानमंत्री का भारत दौरा रद्द ◾TOP 20 NEWS 13 DEC : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾

संपादकीय

It’s My Life (16)

 minna

1947 के भारत-पाक बंटवारे के पश्चात पंजाब प्रांत की राजधानी शिमला बना दी गई। 1952 के चुनाव में लालाजी जब अभूतपूर्व सफलता से कांग्रेस को जिताकर लाए तो उन्हें ट्रांसपोर्ट, स्वास्थ्य और शिक्षा विभाग के महत्वपूर्ण मंत्रालय दिए गए। उसी कैबिनेट में प्रताप सिंह कैरों भी सहकारिता मंत्री थे। लालाजी व प्रताप सिंह कैरों की आपस में बेहद गहरी दोस्ती थी। फिर 1954 में पंडित जी ने देश और पंजाब को एक शानदार, सुन्दर और फ्रैंच आर्कीटैक्ट ‘कार्बूजे’ द्वारा डिजाइन्ड शहर चंडीगढ़ दिया। आज भी चंडीगढ़ शहर जैसी जगह पूरे भारत में कहीं नहीं। चंडीगढ़ के सचिवालय, हाई कोर्ट और विधानसभा की बिल्डिंग देखने लायक हैं। 

पंजाब के सभी मंत्रियों काे सैक्टर-दो सुखना लेक की सड़क पर कोठियां आवंटित कर दी गईं। लालाजी और प्रताप सिंह कैरों को भी बराबर में ही कोठियां प्राप्त हुईं। इन दोनों में इतनी छनती थी कि लालाजी के अनुसार हमारी पड़दादी और  लालाजी की मां रसोई में नाश्ता बनाती थीं तो नीचे बैठकर लालाजी और कैरों मिलकर खाना खाते थे। मेरे पिताजी व कैरों के दोनों सुपुत्रों सुरेन्द्र और गुरिंदर में बहुत प्रेम था। तीनों ही युवा थे तो कभी हमारे लालाजी की कोठी और कभी कैरों की कोठी पर पूज्य पिता रमेश जी और गुरिंदर, सुरेन्द्र चाय की चुस्कियों पर ‘कैरम बोर्ड’ और शतरंज का मजा लिया करते थे। खान-पान भी साथ ही चलता था। इस दौरान 1948 में लालाजी और पिता रमेश जी ने उर्दू अखबार हिंद समाचार की नींव रख दी थी।

 पिताजी उस अखबार के सम्पादक थे। हालांकि शुरू में ​हिंद समाचार ज्यादा नहीं चला, लेकिन उस समय के समकालीन अन्य दो अखबार, जो लाहौर में भी बेहद लोकप्रिय थे, जालन्धर से भी निकालने पर बेहद लोकप्रिय थे। दैनिक प्रताप और दैनिक मिलाप की लोकप्रियता उस समय उफान पर थी। खासतौर पर प्रताप के सम्पादक महाशय कृष्ण जी के लेख तो पढ़ने के लिए पाठक तरसा करते थे। जहां लालाजी दिल से, बिना डर और भावुकता से सम्पादकीय लिखा करते थे वहीं पिताजी रमेश जी के लिखने के स्टाईल में फर्क था। वे रिसर्च करके, लॉजिक से अपने लेख के शीर्षक को पूरा करते थे। 

जब लालाजी मंत्री बने और पिताजी पर अखबार के सम्पादकीय लिखने का भार आ गया तो उन्होंने अपने पहले सम्पादकीय में मंत्री पद पर विराजमान अपने पिता श्री लाला जगत नारायण जी के ध्यानार्थ लेख ​िलखा था। इस लेख का शीर्षक था ‘पिताजी अब आपके और मेरे रास्ते बदल गए’। अपने लेख में श्री रमेश जी ने लिखा कि वैसे तो लोकतंत्र के चार स्तंभों में न्यायपालिका के पश्चात कार्यपालिका तथा प्रैस का महत्पवपूर्ण रोल है लेकिन हमारे संविधान में प्रैस का रोल सबसे महत्वपूर्ण है। प्रैस को संविधान में ‘Watch Dog’ कहा गया है कि अगर संविधान की तीन टांगें टेढ़ी हों या गलत काम करने लगें तो प्रैस का दायित्व है कि वह उन पर न केवल नजर रखे बल्कि जनता के समक्ष इनके भ्रष्टाचार या अन्याय के मुद्दों को उजागर करे। क्या आज के जमाने में संविधान द्वारा आधिकारिक देश का मीडिया ‘Watch Dog’ की भूमिका निभा रहा है? एमरजैंसी से लेकर आज तक इसके उलट मीडिया ‘Dog Watch Show’ बनकर रह गया है। कितने अच्छे थे वो दिन! अन्त में पिताजी रमेश जी लिखते हैं कि पूज्य पिताजी आप मंत्री पद पर बैठे और अपनी राज भक्ति का पालन करते हुए पंजाब प्रदेश का उद्धार करें। 

मेरे को जो दायित्व आप ने दिया उसमें राष्ट्रभक्ति का पालन करना है। अब एक सम्पादक के रूप में आप के सभी अच्छे और बुरे प्रशासनिक आदेशों और कामों पर मुझे नजर रखनी है। आप अपना कार्य करें और मैं एक एडिटर/पत्रकार के नाते अपना दायित्व निभाऊंगा। इसलिए आज से हम दोनों बाप-बेटे के रास्ते अलग-अलग हो चुके हैं। इस बात पर पूज्य दादाजी ने पिता जी को फोन करके शाबासी दी और कहा कि तुम मेरे योग्य एवं नेक पुत्र हो। पत्रकारिता का अपना दायित्व निभाओ। मैं ईमानदारी से राजनीति करूंगा, मैं तुम्हारे पहले सम्पादकीय पर खुश हूं। न जाने कैसे लोग थे? पिताजी के इस प्रथम लेख पर उस समय के सुप्रसिद्ध एवं प्रतिष्ठित और पंजाब की सबसे बड़ी अखबार प्रताप के सम्पादक महाशय कृष्ण जी ने अपने अग्र लेख में पिताजी के लेख के सम्बन्ध में टिप्पणी कीः- “रमेश पैन से नहीं बल्कि तोशे (चाकू) से लिखता है। आगे चलकर एक दिन रमेश पंजाब का सबसे तीक्ष्ण, बेबाक लेखक बनेगा। मेरा आशीर्वाद उसे प्राप्त है।” (क्रमशः)