BREAKING NEWS

पंजाब, हरियाणा के किसान कृषि विधेयकों के खिलाफ 25 सितम्बर को करेंगे विरोध प्रदर्शन◾MP में किसानों के फसल कर्ज माफी पर बोले राहुल - कांग्रेस ने जो कहा, सो किया◾KXIP VS RCB (IPL 2020) : रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर की करारी हार, किंग्स इलेवन पंजाब ने RCB को 97 रनों से हराया◾भारत-चीन सीमा विवाद : दोनों पक्ष सैनिकों को पीछे हटाने के लिए वार्ता जारी रखेंगे - विदेश मंत्रालय◾ड्रग्स केस: गोवा से मुंबई पहुंचीं दीपिका पादुकोण, शनिवार को NCB करेगी पूछताछ◾ KXIP vs RCB IPL 2020 : पंजाब ने बैंगलोर को दिया 207 रनों का टारगेट, केएल राहुल ने जड़ा शतक◾महाराष्ट्र में कोरोना के 19164 नए केस, 17185 मरीज हुए ठीक◾जाप ने जारी किया चुनावी घोषणा पत्र, बेरोजगारों को रोजगार देने का किया वादा ◾COVID-19 से संक्रमित मनीष सिसोदिया डेंगू से भी पीड़ित हुए, लगातार गिर रही है ब्लड प्लेटलेट्स◾कृषि और श्रम कानून को लेकर राकांपा का केंद्र पर तंज, कहा- ईस्ट इंडिया कंपनी स्थापित कर रही है सरकार ◾महिला अपराध पर सीएम योगी सख्त, छेड़खानी और बलात्कारियों के पोस्टर लगाने का दिया आदेश ◾कांग्रेस का बड़ा आरोप - केंद्र सरकार ने कृषि विधेयकों के जरिए नयी जमींदारी प्रथा का उद्घाटन किया◾IPL 2020 KXIP vs RCB: रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर ने टॉस जीतकर पहले गेंदबाजी का किया फैसला◾कृषि बिल के विरोध पर बोले केंद्रीय मंत्री तोमर, कांग्रेस पहले अपने घोषणापत्र से मुकरने की करे घोषणा◾महीनों के लॉकडाउन के बाद भी नहीं थम रहा है कोरोना, जानिये भारत क्यों चुका रहा है भारी कीमत◾केंद्रीय मंत्री जावड़ेकर ने कहा- विपक्षी दलों की राजनीति हो गई है दिशाहीन ◾ICU में भर्ती डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया की हालत स्थिर, अगले कुछ दिनों में फिर होगा कोरोना टेस्ट ◾रेलवे ने जताई चिंता - 'रेल रोको आंदोलन' से जरूरी सामानों और राशन की आवाजाही पर पड़ेगा असर ◾महाराष्ट्र : एकनाथ शिंदे भी कोरोना वायरस से संक्रमित, संपर्क में आए लोगों से जांच करवाने की अपील की ◾कांग्रेस ने अमित शाह की रैली को बताया जनता का अपमान, कोरोना संकट में धनबल की राजनीति का लगाया आरोप◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

It’s My Life (20)

मैंने जब 1982 में राजधानी दिल्ली से पंजाब केसरी निकाला तो पुराने दिनों की याद दिमाग में ताजा थी। मैं खुद दिल्ली के चौराहों पर जहां अन्य अखबार बिकते थे वहां जमीन पर बैठकर अपना अखबार बेचा करता था। आज भी अशोक विहार के ‘बिल्लू जी’ और गांधीनगर के ‘भोला जी’ इस बात का प्रमाण आपको दे सकते हैं कि आज से 37 वर्ष पूर्व कैसे मैंने अपने जालंधर के शरीकों के प्रबल विरोध में जमीन पर बैठ-बैठकर 1990 तक पंजाब केसरी को राजधानी दिल्ली का नम्बर वन अखबार बनाया था। 

इस समय तो मैं यही लिखना चाहता हूं कि 1952 से 1964 तक लालाजी को और हमारे परिवार को आर्थिक, सामाजिक और राजनीतिक तौर पर कैसे प्रताड़ित किया गया? क्या ये सोचा जा सकता है कि लालाजी पंजाब के सबसे कद्दावर मंत्री हों और घर में दो वक्त की रोटी भी पिताजी तथा परिवार के अन्य सदस्यों को नसीब न हो? मैं तो छोटा था मुझे आज भी याद है, मुहल्ला पक्का बाग में ER129 के घर में हमारा परिवार किराए पर रहता था। जब यह घर लालाजी ने शायद 1965 से 1970 के बीच करतारपुर के बाबा परिवार से 70 हजार का खरीदा और अपने छोटे बेटे यानी हमारा पूज्य चाचाजी की ड्यूटी लगाई कि जा बेटा इस घर की ‘रजिस्ट्री’ आधी अपनी भाभी के नाम और आधी अपनी बीवी के नाम करवा दे।

‘बाप बड़ा न भईया, सबसे बड़ा रुपैया!

मेरे दादा जी कई बार अकेले में मुझे कहा करते थे- ‘‘बेटा मैं पूरे परिवार के लिए एक बहुत बड़ी रियासत बनाकर छोड़ने जा रहा हूं, इसको टूटने मत देना।’ मैं भी उनसे कहा करता था कि ‘दादाजी मैं आपको वायदा करता हूं आप द्वारा बनाई गई इस रियासत को मैं अपनी जान से भी ज्यादा संभाल कर रखूंगा!’

अब बात करें लालाजी और प्रताप सिंह कैरों के बीच चल रहे लम्बे राजनीतिक युद्ध की। इधर प्रताप सिंह कैरों केन्द्र से पंडित जी के पूर्ण समर्थन के साथ सशक्त होकर मुख्यमंत्री के तौर पर उभरे। उधर लालाजी और रमेशजी के थोड़ी सी संख्या में छपने वाले उर्दू दैनिक हिंद समाचार की वजह से परिवार आ​र्थिक परिस्थितियों से गुजर रहा था। मुझे याद है हमारे जालन्धर के घर के अन्दर के खुले क्षेत्र में एक गाय और एक कुआं था, उस पर हैंडपम्प था। क्या आज यह सोचा जा सकता है कि एक भूतपूर्व पंजाब का ताकतवर मंत्री किराए के मकान में रहता था जिसकी छतें मिट्टी और ‘तूड़ी’ की बनी थीं। बरसात के मौसम में सभी जगह से पानी की बौछारें नीचे गिरती थीं, हम सभी लोग ऊपर छत पर जाकर जगह-जगह गोबर से छेदों को भरते थे। हमारे किसी के पास पंखा नहीं था। रात को सभी ऊपर छत पर सोते थे लेकिन वो भी क्या दिन थे। दो वक्त की रोटी खाकर मेहनत करने के पश्चात सोने का अपना ही आनंद था। पूरा घर एकजुट था।

 

इस बीच मुख्यमंत्री स. प्रताप सिंह कैरों की पंजाब में दहशत बढ़ती चली गई। साथ में ही उनकी पत्नी और बेटों के भ्रष्टाचार के चर्चे भी होने लगे। मुख्यमंत्री प्रताप सिंह कैरों के एक बेटे ने तो हद कर दी जब चंडीगढ़ के सैक्टर 22 के मशहूर स्थान किरण सिनेमा के आगे से दिनदहाड़े अपनी कार में एक लड़की को उठाकर ले गए। उस समय किसी भी अखबार में इतनी हिम्मत नहीं थी जो यह खबर प्रकाशित करे लेकिन लालाजी और रमेशजी ने इस खबर को प्रमुखता से हिंद समाचार के प्रथम पृष्ठ पर छापा। पहला दिन था जब हिंद समाचार अखबार ​हाथों हाथ पूरे पंजाब में बिका और पूरा पंजाब इस घटना से दहल गया। लालाजी ने एक सम्पादकीय भी इस शर्मनाक घटना पर लिखा।

लेकिन मुख्यमंत्री प्रताप सिंह कैरों और उनके परिवार के भ्रष्टाचार के किस्से यहीं पर ही खत्म नहीं हुए। कितनी ऐतिहासिक और समृद्ध थी हमारी विरासत और हमारे अतीत के गुजरे हुए समय के हमारे दादा, पड़दादा, लक्कड़दादा और उनके पुरखे। इसका जिक्र मैं कल के लेख में करूंगा। इस संबंध में विस्तार से आगे लिखूंगा। इस बीच अपने परिवार पर कल के लेख में अभी नजर डालनी बाकी है।