BREAKING NEWS

झारखंड : अमित शाह बोले- CAB कानून के खिलाफ कांग्रेस भड़का रही है हिंसा◾मेरा नाम राहुल सावरकर नहीं, कभी माफी नहीं मांगने वाला : राहुल गांधी◾'भारत बचाओ रैली' में बोलीं सोनिया गांधी- भारत की आत्मा को तार-तार कर देगा नागरिकता संशोधन कानून◾संविधान और देश को विभाजन से बचाने के लिए पूरा देश आवाज उठाए: प्रियंका गांधी ◾'भारत बचाओ' रैली से पहले राहुल गांधी का ट्वीट, कहा- BJP सरकार की तानाशाही के खिलाफ बोलूंगा◾पीएम मोदी निर्मल गंगा के दर्शन करने पहुंचे कानपुर, एयरपोर्ट पर CM योगी ने किया स्वागत ◾केजरीवाल को मिला प्रशांत किशोर की कंपनी आई-पैक का साथ, विधानसभा चुनाव में AAP के लिए करेंगे काम◾पति ने मेट्रो के आगे कूदकर की आत्महत्या, पत्नी ने बेटी को फांसी लगाने के बाद की खुदकुशी ◾CAB : असम के गुवाहाटी में सुबह 9 बजे से शाम 4 बजे तक कर्फ्यू में दी गई ढील◾दिल्ली के मुंडका में लकड़ी के गोदाम में लगी भीषण आग, दमकल की 20 गाड़ियां मौके पर मौजूद◾भारत में CAB से पड़ने वाले असर को लेकर चिंतित है अमेरिका◾आज कानपुर दौरे पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, अविरल-निर्मल गंगा पर करेंगे मंथन◾एनएसएफ ने CAB विधेयक के खिलाफ आज छह घंटे का बंद का आह्वान किया ◾बजट 1 फरवरी को हो सकता है पेश : सूत्र ◾BJP की महिला सांसदों ने चुनाव आयोग से की राहुल गांधी की शिकायत ◾दिल्ली में अभी चुनाव हुए तो भाजपा को मिलेंगी 42 सीटें◾अवसाद में निर्भया कांड के दोषी, खाना-पीना कम किया : तिहाड़ जेल के सूत्र◾योगी ने राम मंदिर के लिए हर परिवार से 11 रुपये, पत्थर मांगे ◾सर्जिकल स्ट्राइक की इजाजत देने से पहले पर्रिकर ने कहीं थीं दो बातें : दुआ◾‘रेप इन इंडिया’ टिप्पणी को लेकर भाजपा . कांग्रेस के बीच आरोप प्रत्यारोप का दौर ◾

संपादकीय

Its My Life (8)

 minna

पिछले लेख के अनुसार लालाजी ने ज्ञानी जी के समक्ष अपनी बात को आगे बढ़ाया और कहा कि मुझे बवासीर हुई, फिर ‘सायाटिका पेन’ हुई, मेरा भार 45 किलो गिर गया। जब अंग्रेजों ने समझा कि अब लाला नहीं बचेगा तो मुझे दो साल बाद रिहा कर दिया। मुझसे चला भी नहीं जाता था, मेरा खून खत्म हो चुका था। ये तो भला हो डा. बाली का, जो कि मेरा दोस्त था, जो मुझे अपने घर ले गया और छह माह में मुझे अंग्रेजों के विरुद्ध लड़ने के लिए फिर से स्वस्थ कर तैयार कर दिया। जब मैं अंग्रेजों से नहीं डरा तो ज्ञानी तू या तेरी बीबी (इंदिरा) क्या चीज है। जा बता दे बीबी को मैं मरना पसन्द करूंगा, इस तरह झुक कर कायरों की तरह क्षमा याचना नहीं कर सकता।” ज्ञानी जी चुुपचाप कम्बल ओढ़े बाहर निकल गए और मेरी आंखों से खुशी और गर्व के आंसुओं की बरसात होने लगी। सचमुच मैंने एक शेर नहीं बब्बर शेर के घर जन्म लिया और मेरे अंदर इस बब्बर शेर का खून आज भी ​विद्यमान है।

उन्हीं दिनों श्री जयप्रकाश नारायण ने इंदिरा गांधी की इमरजेंसी के विरुद्ध विद्रोह कर दिया था। इमरजेंसी खत्म होने के पश्चात जब श्री जयप्रकाश पंजाब के दौरे पर आए तो सबसे पहले जालंधर हमारे घर पर आए और पूज्य दादा लालाजी और पिताजी रमेश जी से दो घंटे उनके साथ भविष्य में भारत में लोकतंत्र की बहाली पर गहन मंथन किया।

इस घटना के कुछ अर्से बाद इंदिरा जी ने देश में इमरजेंसी खत्म कर दी और आम चुनाव की भी घोषणा कर दी। उधर जयप्रकाश के नेतृत्व में सभी विपक्षी दलों ने मिलकर जनता पार्टी की स्थापना की। पंजाब के सभी अकाली नेता लालाजी के साथ जेलों में रहे थे। स. प्रकाश सिंह बादल, श्री टोहरा, श्री लौंगोवाल और श्री बलवंत सिंह सभी इकट्ठे होकर हमारे घर जालन्धर आए, लालाजी को घेर लिया। सभी की इच्छा थी कि जनता पार्टी की टिकट पर लालाजी अपनी पुरानी परंपरागत सीट चंडीगढ़ से लोकसभा चुनाव लड़ें लेकिन लालाजी नहीं माने। चन्द्रशेखर जी उन दिनों जनता पार्टी के अध्यक्ष थे। उन्होंने फोन किए। अटल जी के फोन आए, बाबू जगजीवन राम, चौ. चरण सिंह और यहां तक कि मोरारजी देसाई ने लालाजी से कहा कि वे चुनाव लड़ें और केन्द्र में महत्वपूर्ण मंत्री पद संभालें।

मुझे याद है लालाजी ने मुझे कहा था, ‘बेटा ये सब लोग भानुमति के पिटारे की तरह इकट्ठे हुए हैं। एक-दो वर्षों में लड़ मरेंगे और यह पिटारा टूट जाएगा। मैं इसमें सहभागी नहीं बनना चाहता। वैसे भी अब मुझे राजनीति से नफरत हो चुकी है।’

जो लालाजी ने कहा था वही हुआ। मात्र दो वर्षों से भी कम समय में जनता पार्टी की मोरारजी सरकार गिरा दी गई और जनता पार्टी का पिटारा टुकड़े-टुकड़े जमीन पर आ गिरा। 

1981 में लालाजी की हत्या कर दी गई थी। 1982 में राष्ट्रपति पद पर रहते हुए ज्ञानी जी ने पहले पिता श्री रमेश जी को बुलाया और लालाजी के निधन पर अफसोस व्यक्त किया। उन्होंने कहा कि लालाजी और मुझमें सियासी और पत्रकारिता की जंग चलती रही लेकिन हमारे व्यक्तिगत संबन्ध कभी नहीं बिगड़े। ज्ञानी जी ने आपातकाल के दौरान लालाजी पर ढहाये गये अत्याचार और इंदिरा गांधी का समर्थन करने के लिये डाले गये दबाव के लिए पिताजी से माफी मांगी। उन्होंने कहा कि लालाजी जैसे स्वाभिमानी व्यक्ति से इस तरह का व्यवहार किया ही नहीं जाना चाहिए था। उन्होंने फिर मुझे भी बुलाया और ज्ञानी जी ने वही बात दोहराई जो उन्होंने पिताजी से कही थी। जब तक ज्ञानी जी राष्ट्रपति रहे तब तक पिताश्री और मेरे उनके साथ सम्बन्ध काफी मधुर रहे।