BREAKING NEWS

ब्रह्मोस मिसाइल आपूर्ति : भारत ने ‘रक्षा उपकरण’ की बिक्री के लिए फिलिपीन के साथ समझौते पर किया हस्ताक्षर ◾TMC की शिकायत पर EC का आदेश, 72 घंटे में हटाएं PM मोदी की तस्वीर◾उमर ने भारत और पाकिस्तान के बीच संपर्क का किया स्वागत ◾असम में सहयोगी दलों के साथ सीटों के बंटवारे पर हुआ भाजपा का समझौता, घोषणा जल्द ◾जिस सीढ़ी पर चढ़कर ऊंचे मुकाम पर पहुंचे, क्या उसे गिराना सही: खुर्शीद ने समूह-23 के नेताओं से पूछा ◾भारत बायोटेक की COVAXIN का थर्ड फेज ट्रायल का रिजल्ट जारी ◾राजनीति से रहूंगी दूर, जयललिता के स्वर्णयुगीन शासन के लिए प्रार्थना करूंगी : शशिकला ◾ अखिलेश यादव बोले- पश्चिम बंगाल की जनता को भ्रमित कर रहे हैं योगी ◾इमरजेंसी वाले बयान पर जावड़ेकर का पलटवार,कहा- आरएसएस को समझने में बहुत समय लगेगा◾वैक्सीन सर्टिफिकेट पर छपी PM मोदी की फोटो पर TMC ने जताया ऐतराज, EC से की शिकायत ◾भारत बायोटेक की कोवैक्सिन के तीसरे चरण के ट्रायल नतीजे जारी, टीका 81 फीसदी तक प्रभावी◾कोविड-19 वैक्सीनेशन के लिए समयसीमा खत्म, अब चौबीसों घंटे लगवा सकते हैं टीका : हर्षवर्धन◾यौन उत्पीड़न के आरोपों में फंसने के बाद रमेश जारकिहोली ने दिया इस्तीफा, कही ये बात ◾एमसीडी उप चुनावों में AAP का जलवा, केजरीवाल बोले- जनता ने ‘काम के नाम’ पर किया मतदान ◾बॉलीवुड सितारों पर लटकी इनकम टैक्स की तलवार, अभिनेता और निर्माताओं के ठिकानों पर छापेमारी ◾SC ने खारिज की फारूक अब्दुल्ला के खिलाफ याचिका, सरकार की राय से अलग विचार रखने वाला देशद्रोह नहीं◾वेबिनार के संबोधन में PM मोदी बोले- कई क्षेत्रों में प्रतिभावान युवाओं के लिये खुल रहे दरवाजे◾दिल्ली MCD उपचुनाव में नहीं चली मोदी लहर, AAP ने 5 वॉर्ड में से 4 पर किया कब्जा, 1 पर कांग्रेस ◾BJP सांसद के बेटे पर बदमाशों के हमले को लेकर पुलिस ने किया दावा- रिश्तेदार से खुद पर चलवाई गोली◾Covid-19 : पिछले 24 घंटों के दौरान कोरोना के 14989 नए मामलों की पुष्टि, 98 लोगों की मौत ◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

तमाम उम्र ऊर्जावान रहे महाशय जी

‘‘उनको रुखसत तो किया था, मगर मालूम न था

 सारा घर ले गया घर छोड़ के जाने वाला। 

इक मुसाफिर के सफर जैसी है सबकी ​दुनिया

कोई जल्दी में कोई देर से जाने वाला।’’

जीवन में सबसे बड़ा सत्य है मृत्यु जिसे कोई टाल नहीं सकता। जिसने इस लोक में जन्म लिया है उसे एक दिन अपने शरीर को छोड़ कर जाना ही है। शरीर में मौजूद ऊर्जा, जिसे आत्मा कहते हैं, शरीर से निकल जाती है तो यह कुहासे के समान होती है।

कोरोना काल में हमने बहुत कुछ खोया, जिनमें अनेक लोग ऐसे रहे जो हर सुख-दुख में हमारे साथ खड़े रहे। आज सुबह ही खबर मिली कि देश की दिग्गज मसाला कम्पनी एमडीएच के मालिक महाशय धर्मपाल जी का 98 वर्ष की आयु में निधन हो गया। कोरोना से ठीक होने के बाद हार्ट अटैैक ने उनकी जान ले ली। व्यापार और उद्योग में उल्लेखनीय योगदान के ​लिए पिछले वर्ष उन्हें राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने पद्मभूषण से सम्मानित किया था।

जो भाव मैंने ग्रहण किया वह यह है कि पंचतत्व तो पंच महाभूत में विलय हो गए तो मृत्यु किसकी हुई लेकिन हम साधारण जीव हैं और ऐसे मौकों पर विचलित होना स्वाभाविक है।  आंखें अश्रुपूरित हैं, लिखते वक्त हाथ भी कभी-कभी थम जाते हैं, पर्याप्त शब्द नहीं मिल रहे। महाशय धर्मपाल जी कर्मयोगी थे। उनका जीवन काफी चर्चित रहा। उनका जन्म 1923 में ​सियालकोट (पाकिस्तान) में हुआ था। मेरे पूर्वजों की तरह ही उनके परिवार ने भी 1947 में देश विभाजन की त्रासदी को झेला और घर बार  छोड़कर भारत आना पड़ा था। पाकिस्तान में उनका व्यापार था। भारत आए तो परिवार के पास केवल 1500 रुपए थे। महाशय धर्मपाल ने कई काम किए, लेकिन जम नहीं पाए। एक समय पर नई दिल्ली रेलवे स्टेशन से कुतुब रोड और करोल बाग से बाड़ा हिन्दूराव तक तांगा चलाया। तब हर सवारी का दो आना (12 पैसे) मिलते थे। फिर उनके पास इतने पैसे हो गए कि उन्होंने अपनी पैतृक मसालों की दुकान ‘महाशय दी हट्टी’ स्थापित कर ली। यहीं से शुरू हुई उनके जीवन की सफलता की कहानी। यह कहानी संघर्ष से भरी हुई है। इससे पहले उन्होंने बढ़ई का काम किया, फिर अपने पिता की दुकान पर बैठ कर हार्डवेयर का काम किया। एक बार चोट लगी तो काम छोड़ दिया और फिर घूम-घूम कर मेहंदी का काम किया।

मसालों के व्यापार ने उन्हें मसालों का बादशाह बना दिया। लोग भी उनकी सफलता पर आश्चर्य करने लगे। उन्होंने अपनी मेहनत, ईमानदारी और लगन की वजह से व्यापार को विदेशों तक पहुंचाया। उन्होंने एक अस्पताल, 15 फैक्ट्रियां और 20 स्कूल स्थापित किए। उन्होंने करोड़ों का साम्राज्य स्थापित किया लेकिन समाज के कमजोर वर्गों की सहायता के लिए कभी पीछे नहीं रहे। मेरे पूजनीय दादा रमेश चन्द्र जी और ​पिता अश्विनी कुमार के महाशय जी से संबंध काफी करीबी रहे। उन जैसा भावुक और संवेदनशील व्यक्ति मैंने दूसरा नहीं देखा। मेरे पिता अश्विनी कुमार के निधन पर मुझसे संवेदना व्यक्त करते समय वह अत्यंत भावुक हो गए थे और जब भी मिलते तो मुझे आशीर्वाद देते थे।  मेरी माता किरण चोपड़ा द्वारा संचालित वरिष्ठ नागरिक केसरी क्लब की स्थापना के समय से ही उससे जुड़े हुए थे। वह हमेशा लाल रंग की पगड़ी पहन कर आते थे। यह पगड़ी उनका ब्रैंड बन चुकी थी। जैसे ही अपने दोनों हाथ ऊपर उठाकर कार्यक्रम में पहुंचते लोगों में नई ऊर्जा भर देते। उम्रदराज होने के बावजूद उनका जोश देखते ही बनता था। एमडीएच के 62 उत्पाद हैं। इन उत्पादों के प्रचार के लिए महाशय जी ऐड भी खुद करते थे। उन्होंने कभी किसी फिल्मी सितारे को कम्पनी का ब्रैंड एम्बैसडर नियुक्त नहीं किया था। उन्होंने कभी इसकी जरूरत भी नहीं समझी। उन्हें दुनिया का सबसे उम्रदराज ऐड स्टार माना गया। उन्हें ऐड फिल्मों में देखकर चोटी के सितारे भी दातों तले अंगुली दबाने को मजबूर थे। महाशय जी केवल पांचवीं तक पढ़े थे। उन्होंने भले ही ​किताबी शिक्षा न ली हो लेकिन कारोबार में बड़े-बड़े दिग्गज उनका लोहा मानते थे। वह एफएमसीजी सैक्टर के सबसे ज्यादा कमाई वाले सीईओ थे। उन्हें 25 करोड़ रुपए इन हैंड सैलरी मिलती थी और वह अपने वेतन का काफी हिस्सा दान में दे देते थे।

अब उनकी चिरपरि​चित मुस्कान हमेशा याद आती रहेगी। वह हमारे आदर्श और प्रेरणा स्रोत थे। वह हमारे मार्गदर्शक भी थे। वह एक अजीम इंसान थे जिन्होंने समाज को बहुत कुछ दिया। पंजाब केसरी परिवार उन्हें श्रद्धासुमन अर्पित करता है। परम पिता परमात्मा उनके परिवार को दुख सहने की शक्ति प्रदान करें। मैं सोचता हूं अब कहां मिलेंगे ऐसे लोग जो हमारी पीठ थपथपाएगा, कौन हमें स्नेह और आशीर्वाद देगा।

‘‘दुख की नगरी कौन सी, आंसू की क्या जात।

सारे तारे दूर के, सबके छोटे हाथ।’’

आदित्य नारायण चोपड़ा

[email protected]