BREAKING NEWS

राकेश टिकैत बोले- केंद्र सरकार आमंत्रित करती है तो किसान वार्ता के लिए तैयार◾आज का राशिफल (12 अप्रैल 2021)◾ प्रधानमंत्री मोदी ने कर्नाटक को माइक्रो कंटेनमेंट जोन पर ध्यान केंद्रित करने को कहा ◾बंगाल में बोले गृहमंत्री अमित शाह : दीदी के भाषण के कारण हुई 4 युवकों की मौत ◾मथुरा में गिरिराज परिक्रमा बंद, बिहारी जी के मंदिर के लिए ऑनलाइन पंजीकरण कराना होगा ◾राणा और त्रिपाठी के अर्धशतक, कोलकाता नाइट राइडर्स 10 रन से जीता ◾संपूर्णानंद संस्कृत विश्वविद्यालय के छात्रसंघ चुनाव में एनएसयूआई ने सभी पदों पर जीत हासिल की ◾महाराष्ट्र में एक दिन में कोविड-19 के रिकॉर्ड 63,294 नए मामले ◾महाराष्ट्र में लॉकडाउन पर आखरी फैसला 14 अप्रैल के बाद होगा : राजेश टोपे ◾दिल्ली में कोरोना का विस्फोट, 10 हजार से अधिक नए मामले की पुष्टि, 48 मरीजों की मौत◾कूचबिहार की घटना मतदाताओं को डराने के लिए रचे गए भाजपा के षड़यंत्र का परिणाम: CM ममता ◾अनिल विज ने कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर को लिखा पत्र, प्रदर्शन कर रहे किसानों के साथ फिर से शुरू करें बातचीत◾PM लॉकडाउन पर फैसला तब लेंगे, जब बंगाल में चुनाव खत्म होंगे: संजय राउत ◾शांतिपुर में अमित शाह का रोडशो, ममता पर लगाया मृत्य पर तुष्टिकरण की राजनीति का आरोप◾सीबीएसई बोर्ड ने सर्कुलर किया जारी, प्रियंका गांधी ने शिक्षा मंत्री को लिखा पत्र◾कांग्रेस का केंद्र पर वार, कहा- सरकार की नीतियों के कारण भारतीयों पर कहर बरपा रहा है कोरोना ◾वैक्सीन उत्सव : PM मोदी ने देशवासियों को महामारी से लड़ने के लिए दिया चार सूत्रीय फॉर्मूला ◾दिल्ली में कोरोना की स्थिति चिंताजनक, अस्पतालों में बेड्स कम पड़े तो लगाना पड़ जाएगा लॉकडाउन : CM केजरीवाल◾महाराष्ट्र : भ्रष्टाचार केस में CBI ने अनिल देशमुख के निजी सहायकों को भेजा समन◾कूचबिहार फायरिंग को लेकर प्रधानमंत्री और गृहमंत्री पर भड़कीं ममता, EC को लिया आड़े हाथों◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

फिर पलायन को मजबूर प्रवासी मजदूर

देश में कोरोना की दूसरी लहर ने सभी रिकार्ड ध्वस्त कर दिए हैं। बुधवार को दूसरी बार कोरोना के नए मामले आंकड़ा पार कर गए। स्वास्थ्य विशेषज्ञ कहते हैं कि अगले चार सप्ताह काफी खतरनाक होंगे। यदि कोरोना के संक्रमण की रफ्तार नहीं रुकी तो हालात फिर पिछले वर्ष जैसे हो जाएंगे। अमेरिका के बाद भारत दूसरा ऐसा देश बन गया है, ​जहां एक दिन में एक लाख से अधिक संक्रमण के मामले सामने आ रहे हैं। राजधानी दिल्ली में बढ़ते मामलों को देखते हुए रात्रिकालीन कर्फ्यू लगा दिया गया है। सबसे चिंताजनक पहलु यह है कि महाराष्ट्र और दिल्ली से फिर मजदूरों का पलायन शुरू होने के संकेत मिलने लगे हैं। महाराष्ट्र के रेलवे स्टेशनों पर प्रवासी मजदूरों की भीड़ नजर आने लगी है। 

महाराष्ट्र, छत्तीसगढ़, गुजरात, झारखंड, मध्य प्रदेश, पंजाब के हालात देखकर तो पलायन का संकट दोबारा उत्पन्न होने की आशंकाएं जोर पकड़ने लगी हैं। पिछले वर्ष जो तस्वीरें हमने देखी थीं, वे फिर से दिमाग में उतरने लगी हैं। लॉकडाउन के चलते जब यातायात सेवाएं ठप्प हो गई थीं तो प्रतिबंधों के चलते मजदूर पैदल ही हजारों किलोमीटर पैदल चलकर अपने घरों को लौटने शुरू हो गए थे। मजदूरों के पलायन की ऐसी ​तस्वीरें सामने आई थीं जिन्होंने मन को झकझोर दिया था। कई तस्वीरें सोशल मीडिया पर वायरल हुई थीं, जिसमे एक व्यक्ति बैल के साथ खुद बैलगाड़ी को खींच रहा था और ऐसी तस्वीर सामने आई थी जिसमें दिल्ली से महोबा के लिए निकले मजदूर के परिवार में शा​मिला  बच्चा जब पैदल चलता-चलता थक गया तो वह सूटकेस पर ही सो गया और उसकी मां सूटकेस खींचते हुए ​दिखी थी। कई मजदूरों की घर लौटते समय मृत्यु हो गई। इन तस्वीरों ने महामारी के दौरान व्यवस्था और श्रमिकों की लाचारगी पर बहुत से सवाल खड़े कर दिए थे। विभाजन के बाद भारत में हुआ यह सबसे बड़ा विस्थापन था। सिर पर बैग रखे, कमर पर बच्चों को टिकाए, यही जीवन भर की कमाई लेकर मजदूर शहरों से गांव लौट रहे थे तो प्रख्यात कवि और गीतकार गुलजार ने एक सामयिक कविता लिखी थी-

‘‘महामारी लगी थी,

घर को भाग लिए थे मजदूर, कारीगर

मशीनें बंद होने लग गई थीं शहर की सारी

उन्हीं के हाथ-पावों चलते रहते थे

वर्ना जिन्दगी तो गांव में ही बो कर आए थे,

चलो अब घर चलें और चल दिए सब,

मरेंगे तो वहीं जाकर जहां पर जिन्दगी है।’’

मजदूरों का पलायन दोबारा शुरू हुआ तो अब भी उनका यही कहना है कि भूखे मरने से अच्छा अपने घरों को लौट जाएं। 

राजधानी में नाइट कर्फ्यू लगाए जाने के बाद लोग फिर खौफजदा हो चुके हैं। बच्चों की परीक्षाएं नजदीक हैं, लोग बच्चों को जोखिम में नहीं डालना चाहते। अब सवाल यह है कि क्या ‘नाइट कर्फ्यू’ कोरोना संक्रमण पर काबू पाने के लिए कारगर कदम है। सोशल मीडिया पर एक सवाल उठ रहा है। ‘‘भीड़ तो दिन में होती है तो क्या कोरोना रात में ही आता है।’’ केवल यह मान लेना कि लोग रात को निकल कर होटल, रेस्त्राओं या बार आदि में पार्टी करते हैं तो ऐसी जगहों पर सतर्कता एवं सख्ती बढ़ाने की जरूरत है। अगर फुल लॉकडाउन होता है तो आर्थिक व्यवस्था पर बुरा असर पड़ेगा, क्योंकि अभी तक तो लोग सम्भल ही नहीं पाए हैं, परन्तु जान है तो जहान है।

कोरोना संक्रमण बेलगाम इसलिए हुआ क्योंकि ट्रेनों, बसों, सब्जी मंडियों, साप्ताहिक बाजारों आदि में लोगों ने सोशल डिस्टेंसिंग को छोड़ दिया और न ही मास्क का इस्तेमाल करते हैं। जिन्होंने मास्क पहन रखा है, वह भी महज दिखावे के लिए। उनके मास्क नाक के नीचे लटकते नजर आते हैं। केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्री डा. हर्षवर्धन ने कोरोना मामलों में अचानक वृद्धि की वजह बड़ी-बड़ी शादियों,  स्थानीय निकाय चुनाव, बड़े प्रदर्शनों के दौरान कोविड प्रोटोकॉल का पालन ना करना शामिल है। पिछले वर्ष तो हमारे पास वैक्सीन भी नहीं थी और सभी नियमों का पालन करने के कारण केस कम हो गए थे। अब तो देश में एक दिन में 70 लाख लोगों को टीका लगाने की उपलब्धियां हासिल की जा चुकी हैं। फिर भी अगर संक्रमण बढ़ रहा है तो इसके पीछे कहीं न कहीं हमारी लापरवाही बड़ी वजह है और महामारी से जंग में यही सबसे बड़ी बाधा बन गई है। चुनावी राज्यों में तो स्थिति गम्भीर है। 

अब नवरात्र पर्व और बैसाखी पर्व आ रहा है। बीते वर्ष हमने देखा था कि नवरात्र-दीवाली आदि के बाद संक्रमण में तेजी आई थी। सतर्कता के साथ पर्व मनाना हमारी सामाजिक जिम्मेदारी भी है। समाज में वर्गभेद की दीवारों को तोड़ने वाले पर्वों को हमें सतर्कता की दीवारों के बीच मनाना होगा, जो समय की मांग है। यदि हमने लापरवाही बरती तो कोरोना का नया वैरियर पिछले वर्ष के मुकाबले कई गुना तेजी से फैल सकता है। नवरात्र में लोग व्रत रखते है यानी बेहतरी के लिए त्याग करते हैं। अच्छा यही होगा कि हम इस राष्ट्र के लिए त्याग करें और घर के भीतर रहकर आराधना करें। उन इलाकों में जाने से बचें जहां कोरोना तेजी से फैल रहा है। अगर हम कोविड-19 के नियमो का पालन करते हैं तो ही हम व्यवस्था पर सवाल उठाने के अधिकारी हैं। यदि हम खुद ही अपना बचाव नहीं कर रहे तो फिर व्यवस्था पर सवाल उठाना उचित नहीं। अगर केस बढ़े तो एक बार फिर अस्पतालों में बेड की कमी पड़ जाएगी। स्थिति काफी चिंताजनक है, इसलिए अभी लोगों को संयम से काम लेना होगा। महामारी को रोकने के लिए सरकार के साथ जनता की भागीदारी की जरूरत है।

आदित्य नारायण चोपड़ा

[email protected]