BREAKING NEWS

भ्रष्टाचार के मामले में 180 देशों में 80वें स्थान पर भारत◾अमित शाह ने केजरीवाल पर लगाया दिल्ली में दंगा भड़काने का आरोप ◾मैंने अपना भगवा रंग नहीं बदला है : उद्धव ठाकरे◾राज की मनसे ने अपनाया भगवा झंडा, घुसपैठियों को बाहर करने के लिए मोदी सरकार को समर्थन◾भाजपा नेता ने मोदी को चेताया, देश बढ़ रहा है दूसरे विभाजन की तरफ◾पासवान से मिला ब्राजील का प्रतिनिधिमंडल, एथेनॉल प्रौद्योगिकी साझेदारी पर बातचीत◾हिंदू समाज में साधु-संतों को ऐसी भाषा शोभा नहीं देती : अखिलेश◾पदाधिकारी पार्टी के खिलाफ सोशल मीडिया पर टिप्पणी करने से बचें : ठाकरे◾दिल्ली की जनता तय करे, कर्मठ सरकार चाहिए या धरना सरकार चाहिए : शाह◾वन्य क्षेत्रों में अनधिकृत कॉलोनियों को नियमित नहीं किया जा सकता : दिल्ली सरकार◾मानसिक दिवालियेपन से गुजर रहा है कांग्रेस नेतृत्व : नड्डा◾निर्भया के दोषियों से पूछा : आखिरी बार अपने-अपने परिवारों से कब मिलना चाहेंगे , तो नहीं दिया कोई जवाब !◾विपक्ष की तुलना पाकिस्तान से करना भारत की अस्मिता के खिलाफ : कांग्रेस◾ब्राजील के राष्ट्रपति 24-27 जनवरी तक भारत यात्रा पर रहेंगे, गणतंत्र दिवस परेड में होंगे मुख्य अतिथि◾उत्तर प्रदेश : किसानों के मुद्दे पर सड़क पर उतरेगी कांग्रेस ◾कश्मीर मुद्दे पर विदेश मंत्रालय ने कहा-किसी तीसरे पक्ष की कोई भूमिका नहीं◾निर्भया मामले में आरोपियों के खिलाफ डेथ वारंट जारी करने वाले जज का हुआ ट्रांसफर◾CM नीतीश की चेतावनी पर पवन वर्मा बोले- मुझे चिट्ठी का जवाब नहीं मिला◾भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा बोले- देश हित में लिए प्रधानमंत्री के फैसलों से देश में नई ऊर्जा एवं उत्साह पैदा हुआ◾नेताजी ने हिंदू महासभा की विभाजनकारी राजनीति का विरोध किया था : ममता बनर्जी◾

मेरे भारत का लोकतन्त्र महान!

भारत के महान लोकतन्त्र को जो लोग लोकशक्ति के इतर कम करके आंकने की गलती करते हैं वे गांधी बाबा द्वारा चलाये गये अद्वितीय अहिंसक स्वतन्त्रता आंदोलन के दौरान भारतीयों में भरे गये उन संस्कारों की अवहेलना करते हैं जिन्होंने प्रत्येक भारतीय के रक्त में आत्मसम्मान का भाव इस तरह भरा था कि आजादी मिलते ही इस देश के प्रत्येक नागरिक को अपनी सरकार अपने एक वोट से खुद चुनने का अधिकार मिला। 

स्वतन्त्रता सेनानियों का यह भारत की जनता पर अटूट विश्वास था कि वह हर काल में लोकतन्त्र की जीवन्तता को अपने वोट की ताकत पर बनाये रख सकती है और सिद्ध कर सकती है कि उसकी इच्छा ही इस व्यवस्था में सर्वोपरि स्थान रखेगी। अतः जब 1934 के करीब ब्रिटेन की संसद के ‘हाऊस आफ लार्ड्स’ में दो अंग्रेज विद्वानों ने भारत द्वारा संसदीय लोकतन्त्र की एक समान वोट अधिकार प्रणाली चुनने का फैसला करने पर यह कहा था कि ‘भारत ने एक ऐसे अंधे कुएं में छलांग लगाने का फैसला किया है जिसके भीतर क्या है किसी को नहीं मालूम’ तो महात्मा गांधी ने केवल इतना ही कहा था कि ‘भारतीयों को अपनी बुद्धि और सामर्थ्य पर पूरा विश्वास है।’ 

राष्ट्रपिता के इस विश्वास को भारत की जनता ने स्वतन्त्रता के बाद हर दौर में जीवित रखा है और अपनी बुद्धिमत्ता का सबूत इस प्रकार दिया है कि राजनीति को ही नई दिशा मिलती दिखाई दे। अतः भारतीय मतदाताओं पर यह कहावत पूरी तरह चरितार्थ होती है कि जब राजनीतिज्ञ रास्ता भूलने लगते हैं तो वे स्वयं खड़े होकर रास्ता बता देते हैं। हरियाणा और महाराष्ट्र के चुनाव परिणामों का सन्देश केवल यही है कि मतदाता ढाल बनकर लोकतन्त्र को जीवन्त बना देते हैं और राजनीति की सरस विविधता को बरकरार रखते हैं। चुनावों में राजनैतिक दलों की हार-जीत होती रहती है परन्तु जो सबसे महत्वपूर्ण होता है वह लोकतन्त्र की जीत होती है। 

चुनाव लोकतन्त्र का पर्व इसलिए नहीं होते कि इनके माध्यम से किसी विशेष राजनैतिक दल के हाथ में सत्ता सौंपने का कार्य आम जनता करती है बल्कि इसलिए होते हैं कि ये जनता के इस पूरी व्यवस्था के मालिक होने का प्रमाण देते हैं। यह लोक महोत्सव लोकशाही के समक्ष सत्ता की जवाबदेही का जश्न होता है। यह जवाबदेही कभी भी लुका-छिपी की वकालत नहीं करती और आंख में आंख डाल कर जवाब-तलबी करती है। जवाब-तलबी की इस प्रक्रिया में ही जनता के मुद्दे चुनावी मैदान में उभरते हैं जिनसे भाग पाना किसी भी राजनैतिक दल के वश में नहीं होता। 

लोकतन्त्र जिस लोकलज्जा से चलता है उसकी कोई पार्टी नहीं होती। इसी वजह से इस तत्व की उपेक्षा करने का दंड समय-समय पर सत्ताधारी दलों को भारत के मतदाता देते रहे हैं। इसके मूल में भी राजनीति का आधार जनपक्ष होता है जिसमें सभी प्रकार के वाद-विवादों को समेकित करके उन्हें अलग-अलग सिद्धान्तों में प्रतिपादित करने की असीमित क्षमता होती है, अतः राजनीति बिना जनसंवाद के एक पक्षीय विचार प्रवाह को कभी स्वीकार नहीं करती परन्तु सफलता के जोश में अक्सर राजनैतिक दल ऐसी गलती आत्म प्रशंसा के लोभ में कर जाते हैं जिसे आम जनता ही संशोधित करके उन्हें रास्ता दिखाने का काम करती है। 

लोकतन्त्र की असली ताकत यही होती है और भारत इसीलिये महान है कि इसके कम पढे़-लिखे व गरीब समझे जाने वाले लोग प्रायः वक्त की नजाकत देखकर दीवार पर ऐसी इबारत लिख देते हैं जिससे हुकूमत में रहने वाले लोगों को यह हमेशा इल्म रहे कि लोकतन्त्र के मालिक वे नहीं बल्कि इस मुल्क के मुफलिस समझे जाने वाले लोग हैं और उन्हें इस बात की अक्ल ईश्वर ने अता की है कि उनके लिए कौन सा रास्ता बेहतर है। आज इतना ही लिखा जाना पर्याप्त होगा क्योंकि लोकतन्त्र का नृत्य दोनों राज्यों में सरकारंे बनने तक जारी रहेगा।