BREAKING NEWS

किसानों की आमदनी दोगुनी करने के लिए सरकार ने बनाया रोडमैप : कृषि मंत्री ◾उत्तर भारत में बर्फबारी के बाद बढ़ी ठंड, दिल्ली में भी हुई बारिश ◾भाजपा नेता विनय कटियार को मिली जान से मारने की धमकी◾नागरिकता विधेयक पर बवाल के बीच गुवाहाटी के पुलिस प्रमुख हटाए गए, अन्य अधिकारियों का भी तबादला ◾नागरिकता संशोधन विधेयक को राष्ट्रपति की मंजूरी, कानून बना ◾राज्यों की जीएसटी क्षतिपूर्ति के वादे को पूरा करेगा केन्द्र, समयसीमा नहीं बताई - सीतारमण◾ठाकरे ने गृह शिवसेना, वित्त राकांपा और राजस्व कांग्रेस को दिया ◾फिर बढ़े प्याज के दाम, सरकार ने किए 12660 टन आयात के नए सौदे◾असम के हथकरघा मंत्री के आवास पर हमला, तेजपुर, ढेकियाजुली में अनिश्चितकालीन कर्फ्यू◾जब लोकसभा में मुलायम सिंह ने पूछा ... ‘‘सत्ता पक्ष कहां है''◾केंद्रीय संस्कृत विश्वविद्यालय विधेयक को लोकसभा की मंजूरी, निशंक ने सभी भारतीय भाषाओं को सशक्त बनाने पर दिया जोर ◾भारत और अमेरिका के बीच ‘टू प्लस टू’ वार्ता 18 दिसम्बर को वाशिंगटन में होगी : विदेश मंत्रालय◾TOP 20 NEWS 12 December : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾अयोध्या मामले में सुप्रीम कोर्ट ने खारिज की सभी पुनर्विचार याचिकाएं◾महाराष्ट्र में BJP की कोर समिति की सदस्य नहीं, बावजूद पार्टी नहीं छोड़ूंगी : पंकजा मुंडे◾झारखंड में महागठबंधन की सरकार बनते ही किसानों का ऋण किया जाएगा माफ : राहुल गांधी ◾CAB :बांग्लादेश के विदेश मंत्री ने भारत दौरा किया रद्द ◾झारखंड विधानसभा चुनाव: तीसरे चरण में 17 सीटों पर वोटिंग जारी, दोपहर 1 बजे तक 45.14 प्रतिशत मतदान◾झारखंड : धनबाद में रैली को संबोधित करते हुए बोले PM मोदी-कांग्रेस में सोच और संकल्प की कमी◾असम के लोगों से PM की अपील, कांग्रेस बोली- मोदी जी, वहां इंटरनेट सेवा बंद है◾

संपादकीय

एनजीओ की निगरानी जरूरी

 ashwini sir

देश में अनेक ऐसी संस्थाएं हैं जो सरकार से प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से पर्याप्त सहायता प्राप्त कर रही हैं। ऐसे गैर-सरकारी संगठनों (एनजीओ) का संचालन पारदर्शितापूर्ण होना ही चाहिए। सरकारी सहायता के उपयोग में ईमानदारी भी होनी चाहिए। इसीलिए सुप्रीम कोर्ट ने व्यवस्था दी है कि सरकार से सहायता पाने वाले स्कूल, कालेज और अस्पताल जैसे संस्थान आरटीआई कानून के तहत नागरिकों को सूचना उपलब्ध कराने को बाध्य हैं। जिन उद्देश्यों के लिए  सरकार इन एनजीओ को सहायता देती है, क्या वह उद्देश्य पूरे हुए भी या नहीं इस पर भी सतत् निगरानी की जरूरत है। जहां कहीं भी सार्वजनिक धन का ​निवेश हो वहां भी निगरानी की जरूरत है अन्यथा घोटाले ही घोटाले ही पनपने लगते हैं। 

केन्द्र में नरेन्द्र मोदी सरकार के सत्ता में आने के बाद हजारों ऐसे एनजीओ को खारिज किया गया तो केवल नामभर के थे और केवल दुकानदारी ही कर रहे थे। 90 के दशक में पहले राजीव गांधी, फिर नरसिम्हा राव सरकार ने अर्थव्यवस्था में उदारीकरण के साथ गैर-सरकारी संगठनों को भी देश की नीतियों की तरह तरजीह दी। इसके साथ ही सिविल सोसाइटी और गैर-सरकारी संगठन देश की व्यवस्था और सरकारी तंत्र में स्थापित होने लगे। पहले यह सामाजिक क्षेत्रों में काम करते थे लेकिन धीरे-धीरे इन्होंने देश की आर्थिक नीतियों में हस्तक्षेप करना शुरू कर दिया। बाद में इन्होंने सरकारी कामकाज को प्रभावित करना शुरू कर दिया। 

उसके बाद इन संगठनों ने राजनीति शुरू कर दी। सत्ता के गलियारों में घूमने वाले लोगों ने एनजीओ बनाकर सरकारी धन का दुरुपयोग ​शुरू किया और अनेक ऐसे संगठनों की उत्पत्ति हुई जिन्हें विदेशी फंड भी मिलने लगा। विदेशी फंड का इस्तेमाल कहां-कहां हुआ, इस संबंध में कोई पूछने वाला नहीं था। कई एनजीओ धर्म परिवर्तन में ​लिप्त रहे। जिन संगठनों को शिक्षा, रोजगार, पर्यावरण, स्वास्थ्य और ग्रामीण विकास के लिए काम करना चाहिए था, वह केवल इनका दिखावा करते रहे बल्कि उन्होंने उन्हीं देशों का एजैंडा चलाने की कोशिशें कीं जिनसे उन्हें फंड मिलता था।

जब इस बात का खुलासा हुआ कि विदेशी फंड से संचालित एनजीओ देश के भीतर कुछ आंदोलनों को हवा दे रहे हैं तो सरकार के कान खड़े हो गए। इस बात का खुलासा बहुत पहले ही हो चुका था कि कुडनकुलम परमाणु संयंत्र के ​विरोध में आंदोलन विदेशी फंड की मदद से चलाया गया था।गृह मंत्रालय ने ऐसे गैर-सरकारी संगठनों का लाइसैंस रद्द किया था जो विभिन्न दानदाताओं से मिल  रहे धन के सिलसिले में अपने व्यय और वैध खर्च का सबूत ही नहीं दे सके। अनेक संगठन कभी वार्षिक रिटर्न भी जमा नहीं करा रहे थे। पिछले वर्ष अक्तूबर में गैर-सरकारी संगठन ग्रीनपीस इंडिया के बेंगलुरु कार्यालय पर प्रवर्तन निदेशालय ने छापा मारा था तो काफी होहल्ला मचा था।

19वीं शताब्दी के सामाजिक सुधार आंदोलन हों या इनके परिणामस्वरूप बनी आर्य समाज, ब्रह्म समाज या रामकृष्ण मिशन जैसी संस्थाओं का समाज के विकास में काफी योगदान रहा है लेकिन आज की गैर-सरकारी संस्थाओं ने बांध का निर्माण हो या परमाणु संयंत्र की स्थापना या फिर  किसानों की समस्याएं, ऐसे ही कुछ मुद्दों पर सीधे सरकार के खिलाफ मोर्चा खोलने से परहेज नहीं किया। अनेक संगठनों ने धर्म परिवर्तन कराकर कुछ राज्यों में जनसांख्यिकीय और सामाजिक संरचना को छिन्न-भिन्न करने की कोशिश की। कई एनजीओ भारत के आर्थिक विकास के लिए खतरा बन गए। दुनिया  भर के सामाजिक संगठनों, एनजीओ एवं रिसर्च फाउंडेशन के नाम पर साजिशें रचकर लोगों को गुमराह भी किया जाता रहा है। ऐसी संस्थाओं पर लगातार निगरानी रखना भी जरूरी है।