BREAKING NEWS

CM केजरीवाल बोले-दिल्ली में अब रोज 20 से 24 हजार हो रहे है कोरोना टेस्ट, मृत्यु दर में आई कमी ◾गलवान घाटी में 1-2 किमी तक पीछे हटी चीनी सेना, झड़प वाले स्थान पर बना बफर जोन◾विकास दुबे के संपर्क में आए तीन और पुलिसकर्मी सस्पेंड, हिस्ट्रीशीटर अब भी पकड़ से दूर◾साउथ चाइना सी में अमेरिकी युद्धपोत की तैनाती पर चीन ने दी धमकी, US नेवी ने उड़ाई ड्रैगन की खिल्ली◾राहुल रक्षा मामले की एक भी बैठक में नहीं हुए शामिल, लेकिन सशस्त्र बल पर उठा रहे हैं सवाल : नड्डा◾श्यामाप्रसाद मुखर्जी की जयंती आज, पीएम मोदी समेत इन नेताओं ने ऐसे किया याद◾दुनियाभर में कोरोना संक्रमितों की संख्या 1 करोड़ 14 लाख से अधिक, अब तक 5 लाख 33 हजार लोगों की हुई मौत ◾कोविड-19 : देश में संक्रमितों का आंकड़ा 7 लाख के करीब, महामारी से लगभग 20 हजार लोगों की मौत ◾राहुल ने केंद्र पर साधा निशाना, कहा- भविष्य में कोविड-19, GST और नोटबंदी फेलियर पर स्टडी में होंगी शामिल ◾दिल्ली में पिछले 3 महीने से बंद ऐतिहासिक स्मारक आज से खुलेंगे, लेना होगा ऑनलाइन टिकट ◾राहुल गांधी ने सरकार पर लगाया आरोप, बोले-PM केयर्स कोष में अपारदर्शिता से खतरे में पड़ रही है जिंदगियां◾कोरोना वायरस के 6.87 लाख मामलों के साथ रूस को पीछे छोड़ भारत तीसरे स्थान पर पहुंचा ◾महाराष्ट्र में कोरोना का कोहराम जारी, संक्रमितों का आंकड़ा 2 लाख के पार, बीते 24 घंटे में 6,555 नए केस◾खालिस्तानी समर्थक संगठन SFJ पर सरकार की बड़ी कार्रवाई, 40 वेबसाइट्स पर लगाया प्रतिबंध◾घाटे के चलते आने वाले दिनों में टेलीकॉम कंपनियां बढ़ा सकती है फ़ोन कॉल और इंटरनेट के रेट ◾तमिलनाडु में कोरोना वायरस के 4,150 नये मामले आये सामने , मृतकों की संख्या 1,510 पहुंची ◾राजधानी दिल्ली में कोरोना का विस्फोट जारी, बीते 24 घंटे में 2,244 नए केस, संक्रमितों का आंकड़ा 99 हजार के पार◾गुजरात के कच्छ जिले में 4.2 तीव्रता का भूकंप आया, वहीं 4.6 तीव्रता के झटकों से फिर थर्राया मिजोरम ◾गाजियाबाद की अवैध पटाखा फैक्ट्री में धमाके से 7 की मौत, कई लोग घायल◾कानपुर एनकाउंटर : शक के दायरे में चौबेपुर थाना, IG बोले-सबूत मिले तो पुलिसवालों पर दर्ज होगा हत्या का केस◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

एनजीओ की निगरानी जरूरी

देश में अनेक ऐसी संस्थाएं हैं जो सरकार से प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से पर्याप्त सहायता प्राप्त कर रही हैं। ऐसे गैर-सरकारी संगठनों (एनजीओ) का संचालन पारदर्शितापूर्ण होना ही चाहिए। सरकारी सहायता के उपयोग में ईमानदारी भी होनी चाहिए। इसीलिए सुप्रीम कोर्ट ने व्यवस्था दी है कि सरकार से सहायता पाने वाले स्कूल, कालेज और अस्पताल जैसे संस्थान आरटीआई कानून के तहत नागरिकों को सूचना उपलब्ध कराने को बाध्य हैं। जिन उद्देश्यों के लिए  सरकार इन एनजीओ को सहायता देती है, क्या वह उद्देश्य पूरे हुए भी या नहीं इस पर भी सतत् निगरानी की जरूरत है। जहां कहीं भी सार्वजनिक धन का ​निवेश हो वहां भी निगरानी की जरूरत है अन्यथा घोटाले ही घोटाले ही पनपने लगते हैं। 

केन्द्र में नरेन्द्र मोदी सरकार के सत्ता में आने के बाद हजारों ऐसे एनजीओ को खारिज किया गया तो केवल नामभर के थे और केवल दुकानदारी ही कर रहे थे। 90 के दशक में पहले राजीव गांधी, फिर नरसिम्हा राव सरकार ने अर्थव्यवस्था में उदारीकरण के साथ गैर-सरकारी संगठनों को भी देश की नीतियों की तरह तरजीह दी। इसके साथ ही सिविल सोसाइटी और गैर-सरकारी संगठन देश की व्यवस्था और सरकारी तंत्र में स्थापित होने लगे। पहले यह सामाजिक क्षेत्रों में काम करते थे लेकिन धीरे-धीरे इन्होंने देश की आर्थिक नीतियों में हस्तक्षेप करना शुरू कर दिया। बाद में इन्होंने सरकारी कामकाज को प्रभावित करना शुरू कर दिया। 

उसके बाद इन संगठनों ने राजनीति शुरू कर दी। सत्ता के गलियारों में घूमने वाले लोगों ने एनजीओ बनाकर सरकारी धन का दुरुपयोग ​शुरू किया और अनेक ऐसे संगठनों की उत्पत्ति हुई जिन्हें विदेशी फंड भी मिलने लगा। विदेशी फंड का इस्तेमाल कहां-कहां हुआ, इस संबंध में कोई पूछने वाला नहीं था। कई एनजीओ धर्म परिवर्तन में ​लिप्त रहे। जिन संगठनों को शिक्षा, रोजगार, पर्यावरण, स्वास्थ्य और ग्रामीण विकास के लिए काम करना चाहिए था, वह केवल इनका दिखावा करते रहे बल्कि उन्होंने उन्हीं देशों का एजैंडा चलाने की कोशिशें कीं जिनसे उन्हें फंड मिलता था।

जब इस बात का खुलासा हुआ कि विदेशी फंड से संचालित एनजीओ देश के भीतर कुछ आंदोलनों को हवा दे रहे हैं तो सरकार के कान खड़े हो गए। इस बात का खुलासा बहुत पहले ही हो चुका था कि कुडनकुलम परमाणु संयंत्र के ​विरोध में आंदोलन विदेशी फंड की मदद से चलाया गया था।गृह मंत्रालय ने ऐसे गैर-सरकारी संगठनों का लाइसैंस रद्द किया था जो विभिन्न दानदाताओं से मिल  रहे धन के सिलसिले में अपने व्यय और वैध खर्च का सबूत ही नहीं दे सके। अनेक संगठन कभी वार्षिक रिटर्न भी जमा नहीं करा रहे थे। पिछले वर्ष अक्तूबर में गैर-सरकारी संगठन ग्रीनपीस इंडिया के बेंगलुरु कार्यालय पर प्रवर्तन निदेशालय ने छापा मारा था तो काफी होहल्ला मचा था।

19वीं शताब्दी के सामाजिक सुधार आंदोलन हों या इनके परिणामस्वरूप बनी आर्य समाज, ब्रह्म समाज या रामकृष्ण मिशन जैसी संस्थाओं का समाज के विकास में काफी योगदान रहा है लेकिन आज की गैर-सरकारी संस्थाओं ने बांध का निर्माण हो या परमाणु संयंत्र की स्थापना या फिर  किसानों की समस्याएं, ऐसे ही कुछ मुद्दों पर सीधे सरकार के खिलाफ मोर्चा खोलने से परहेज नहीं किया। अनेक संगठनों ने धर्म परिवर्तन कराकर कुछ राज्यों में जनसांख्यिकीय और सामाजिक संरचना को छिन्न-भिन्न करने की कोशिश की। कई एनजीओ भारत के आर्थिक विकास के लिए खतरा बन गए। दुनिया  भर के सामाजिक संगठनों, एनजीओ एवं रिसर्च फाउंडेशन के नाम पर साजिशें रचकर लोगों को गुमराह भी किया जाता रहा है। ऐसी संस्थाओं पर लगातार निगरानी रखना भी जरूरी है।