BREAKING NEWS

अनुराग ठाकुर की पीएम केयर्स फंड को लेकर टिप्पणी पर विपक्ष का हंगामा, लोकसभा 30 मिनट तक स्थगित ◾कांग्रेस का तीखा वार : सरकार से उठ चुका है किसानों का विश्वास, प्रधानमंत्री किसान विरोधी◾गूगल ने पेटीएम ऐप को ऐप स्टोर से हटाया, जानिये अब उपयोगकर्ताओं की जमा राशि का क्या होगा ◾दिल्ली में 5 अक्टूबर तक सभी छात्रों के लिए बंद रहेंगे स्कूल, केजरीवाल सरकार ने जारी किया आदेश◾चीन ने पहली बार माना, खुलासे में बताया गलवान झड़प में मारे गए थे PLA के जवान◾मंत्रियों एवं सांसदों के वेतन, भत्ते में कटौती संबंधी विधेयकों को राज्यसभा ने मंजूरी दी ◾पीएम मोदी ने कोसी रेल महासेतु राष्ट्र को किया समर्पित, MSP को लेकर विपक्ष पर लगाया झूठ बोलने का आरोप◾राज्यसभा में कांग्रेस का वार - बिना सोचे समझे लागू किया लॉकडाउन, 'कोरोना की जगह रोजगार समाप्त'◾विरोध के बाद बैकफुट पर आई योगी सरकार, गाजियाबाद में नहीं बनेगा डिटेंशन सेंटर◾चीन सीमा गतिरोध : LAC विवाद पर आज होगी सरकार की बड़ी बैठक, सेना के अधिकारी भी होंगे शामिल◾मोदी सरकार के कृषि बिल के विरोध में पंजाब के किसान ने खाया जहर, हालत गंभीर◾ड्रग्स केस : NCB की हिरासत में आया ड्रग तस्कर राहिल, अन्य पैडलरों से हैं संबंध◾कोविड-19 : देश में पॉजिटिव मामलों की संख्या 52 लाख के पार, 10 लाख से अधिक एक्टिव केस◾कोरोना वॉरियर्स के डाटा को लेकर राहुल का वार- थाली बजाने, दिया जलाने से ज्यादा जरूरी हैं उनकी सुरक्षा◾दुनियाभर में कोरोना संक्रमितों का आंकड़ा 3 करोड़ के पार, अब तक साढ़े 9 लाख के करीब लोगों की मौत◾राष्ट्रपति ने हरसिमरत कौर बादल का इस्तीफा किया स्वीकार, इन्हें सौंपा गया अतिरिक्त प्रभार ◾महाराष्ट्र में कोरोना का विस्फोट जारी, संक्रमितों का आंकड़ा 11 लाख के पार, बीते 24 घंटे में 24,619 नए केस◾विपक्ष के भारी विरोध के बीच,लोकसभा में कृषि से जुड़े 2 अहम बिल हुए पास, वोटिंग से पहले विपक्ष ने किया वॉकआउट ◾J&K में पुलवामा जैसा हमला टला, J&K हाईवे के पास 52 किलो विस्फोट बरामद ◾राजधानी दिल्ली में कोरोना का कहर बरकरार, बीते 24 घंटे में 4,432 नए केस, संक्रमितों का आंकड़ा 2.34 लाख के पार ◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

नए हिन्दुस्तान की पहचान है NRC

यह सच है कि एनआरसी अर्थात देश में नागरिकता को लेकर एक पहचान तो होनी ही चाहिए। देश के हर नागरिक को वोट डालने का अधिकार उसका संविधान उसे देता है। किस पार्टी  को उसने वोट देना है यह उसका विवेक है लेकिन हमारे देश के लोकतंत्र के बारे में दुनिया क्या सोचती है हम इस बहस में पड़ने की बजाय सीधे इस प्वाइंट पर आ जाते हैं कि आखिरकार नागरिक कानून 1955 के मुताबिक कौन-कौन लोग भारतीय नागरिक कहला सकते हैं। एनआरसी अर्थात नेशनल रजिस्टर ऑफ सिटीजन का शोर सबसे पहले असम को लेकर मचा। 

जब यह बवाल उठ खड़ा हुआ कि देश में बहुसंख्यक लोग पिछड़ रहे है और अवैध घुसपैठियों की बढ़ती आबादी की वजह से हिंदू लोग सीमित हो गए हैं। राजनीतिक दृष्टिकोण से समीकरण इस कदर बदल गए कि कई क्षेत्रों में मुस्लिम अर्थात अवैध घुसपैठिये निर्णायक बन गए यानि उनकी आबादी कुल आबादी का 30 और 40 प्रतिशत तक बन गया। सरकार ने एनआरसी लागू कर दिया। जो कल तक असम में था उसे लेकर गृहमंत्री अमित शाह ने दूर की सोचते हुए पूरे देश में एनआरसी लाने का ऐलान कर दिया। 

जिसे दो दिन पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में हमारी कैबिनेट ने मंजूर करते हुए यहां तक चुनौती दे डाली कि बहुत जल्द इसे संसद में भी पारित करा लिया जायेगा। नई व्यवस्था के मुताबिक पड़ोसी राज्यों से शरण के लिए हमारे यहां आए हिंदू, जैन, बौद्ध, सिख और पारसी तथा ईसाई समुदाय के लोगों को भारतीय नागरिकता मिल जायेगी और इस कड़ी में मुसलमानों को शामिल नहीं किया गया। हम इसका स्वागत करते हैं। दुर्भाग्य से कई संगठनों ने इस मामले पर सरकार का विरोध भी शुरू कर दिया है। लोकतंत्र में विरोध होना चाहिए लेकिन विरोध केवल विरोध के कारण नहीं होना चाहिए। 

पश्चिम बंगाल, उड़ीसा, झारखंड, आंध्र प्रदेश को लेकर भी हालात विचित्र हैं क्योंकि वहां कई लाख रोहिंग्या मुसलमानों के आ बसने की बातें कही गई हैं। खबरें तो यहां तक हैं कि भारत जैसे लोकतांत्रिक देश में लाखों से ज्यादा लोगों ने अपनी नई  पहचान बना ली है और कहीं ना कहीं वे लोकतंत्र में वोट का हिस्सा हैं। अब जब राजनीतिक पार्टियां या नेता चाहे वह बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी हो या सीपीआईएम के नेता सीताराम येचुरी हो एनआरसी को लेकर विरोध भी हो रहा है। हमारा मानना यह है कि अगर देश में जम्मू-कश्मीर को एक विशेष राज्य का दर्जा देकर 370 के तहत ढेरों सुविधाएं उन्हें बाकी देशवासियों का हक काटकर दी जा रही थी और हमारे गृहमंत्री अमित शाह इसे कश्मीर में खत्म कर सकते हैं तो फिर ये चंद घुसपैठिये क्या चीज हैं। 

हमारा मानना है कि देश में जो विदेशी मूल के लोग अगर 1955 के एनआरसी कानून के तहत आते हैं और तब से यहीं रह रहे हैं तथा वे मुस्लिम नहीं हैं तो उन्हें नागरिकता देने में कोई बुराई नहीं है। भारत की मिट्टी पर रहते हैं। रोटी-पानी सब यहीं का खाते हैं यदि ये लोग भारत माता की जय नहीं बोलेंगे तो इसका विरोध होगा। हिंदुस्तान में रहना है तो भारत माता की जय बोलनी ही होगी। कश्मीर से लेकर कन्याकुमारी तक ​हिन्दू, सिख, मुस्लमान, ईसाई जो भी नागरिक किसी भी जाति का हो वह भारतीय पहले है। भारत पहले है मजहब और जात-पात बाद में। इस संदेश को अमित शाह जी ने पूरे देश को बड़े अच्छे से दिया है और हम इसका स्वागत करते हैं। 

अपनी जात-पात और मजहब को लेकर हमें बंटना नहीं है बल्कि भारत और भारतीयता को मजबूत बनाना है। एनआरसी के इस तथ्य को समझना होगा कि हम सब एक हैं। एनआरसी का लागू होना जरूरी है। एक देश, एक कानून सबके लिए लागू होना चाहिए इसी का नाम भारतीयता है और हमें इस पर नाज है।