BREAKING NEWS

दिल्ली में अमित शाह की रैली में सीएए-विरोधी नारा लगाने पर छात्र की पिटाई ◾हेमंत मंत्रिमंडल का विस्तार मंगलवार को, सात नये मंत्री हो सकते हैं शामिल ◾मुझे पेशेवर सेवाओं के लिए पीएफआई की तरफ से भुगतान किया गया था: कपिल सिब्बल ◾कोरेगांव-भीमा मामला : भाकपा ने कहा- NIR को सौंपना पूर्व भाजपाई सरकार के झूठ पर “पर्दा डालने की कोशिश’◾कोई शक्ति कश्मीरी पंडितों को लौटने से नहीं रोक सकती : राजनाथ सिंह ◾उत्तरप्रदेश : प्रदर्शनकारियों पर ‘अत्याचार’ के खिलाफ मानवाधिकार पहुंचे राहुल और प्रियंका ◾‘कर चोरी’ मामले में कार्ति चिदंबरम के खिलाफ मद्रास उच्च न्यायालय ने कार्यवाही पर अंतरिम रोक बढ़ाई ◾ताजमहल एक खूबसूरत तोहफा है, इसे सहेजने की हम सबकी है जिम्मेदारी : बोलसोनारो◾जम्मू : डोगरा फ्रंट ने शाहीन बाग प्रदर्शनकारियों के खिलाफ निकाली रैली◾मुख्यमंत्री से रिश्ते सुधारने की कोशिश करते दिखे राज्यपाल धनखड़, लेकिन कुछ नहीं बोलीं ममता बनर्जी ◾रामविलास पासवान ने अदनान सामी को पद्मश्री पुरस्कार मिलने पर दी बधाई, बोले- उन्होंने अपनी प्रतिभा से भारत की प्रतिष्ठा एवं सम्मान बढ़ाया है◾वैश्विक आलू सम्मेलन को सम्बोधित करेंगे PM मोदी ◾TOP 20 NEWS 27 January : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾पश्चिम बंगाल विधानसभा में CAA विरोधी प्रस्ताव पारित, ममता बनर्जी ने केंद्र के खिलाफ लड़ने का किया आह्वान◾अफगानिस्तान के गजनी प्रांत में यात्री विमान हुआ दुर्घटनाग्रस्त, 110 लोग थे सवार◾उत्तर प्रदेश में हुए सीएए विरोधी प्रदर्शनों के दौरान PFI से जुड़े 73 खातों में जमा हुए 120 करोड़ रुपए◾भारत के टुकड़े-टुकड़े करने की मंशा रखने वालों को मिल रही है शाहीन बाग प्रदर्शन की आड़ : रविशंकर प्रसाद◾सुप्रीम कोर्ट का NPR की प्रक्रिया पर रोक लगाने से इनकार, केंद्र को जारी किया नोटिस◾केजरीवाल बताएं, भारत को तोड़ने की चाह रखने वालों का समर्थन क्यों कर रहे : जेपी नड्डा◾शरजील इमाम के बाद एक और विवादित वीडियो आया सामने, संबित पात्रा ने ट्वीट कर कही ये बात◾

नए हिन्दुस्तान की पहचान है NRC

यह सच है कि एनआरसी अर्थात देश में नागरिकता को लेकर एक पहचान तो होनी ही चाहिए। देश के हर नागरिक को वोट डालने का अधिकार उसका संविधान उसे देता है। किस पार्टी  को उसने वोट देना है यह उसका विवेक है लेकिन हमारे देश के लोकतंत्र के बारे में दुनिया क्या सोचती है हम इस बहस में पड़ने की बजाय सीधे इस प्वाइंट पर आ जाते हैं कि आखिरकार नागरिक कानून 1955 के मुताबिक कौन-कौन लोग भारतीय नागरिक कहला सकते हैं। एनआरसी अर्थात नेशनल रजिस्टर ऑफ सिटीजन का शोर सबसे पहले असम को लेकर मचा। 

जब यह बवाल उठ खड़ा हुआ कि देश में बहुसंख्यक लोग पिछड़ रहे है और अवैध घुसपैठियों की बढ़ती आबादी की वजह से हिंदू लोग सीमित हो गए हैं। राजनीतिक दृष्टिकोण से समीकरण इस कदर बदल गए कि कई क्षेत्रों में मुस्लिम अर्थात अवैध घुसपैठिये निर्णायक बन गए यानि उनकी आबादी कुल आबादी का 30 और 40 प्रतिशत तक बन गया। सरकार ने एनआरसी लागू कर दिया। जो कल तक असम में था उसे लेकर गृहमंत्री अमित शाह ने दूर की सोचते हुए पूरे देश में एनआरसी लाने का ऐलान कर दिया। 

जिसे दो दिन पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में हमारी कैबिनेट ने मंजूर करते हुए यहां तक चुनौती दे डाली कि बहुत जल्द इसे संसद में भी पारित करा लिया जायेगा। नई व्यवस्था के मुताबिक पड़ोसी राज्यों से शरण के लिए हमारे यहां आए हिंदू, जैन, बौद्ध, सिख और पारसी तथा ईसाई समुदाय के लोगों को भारतीय नागरिकता मिल जायेगी और इस कड़ी में मुसलमानों को शामिल नहीं किया गया। हम इसका स्वागत करते हैं। दुर्भाग्य से कई संगठनों ने इस मामले पर सरकार का विरोध भी शुरू कर दिया है। लोकतंत्र में विरोध होना चाहिए लेकिन विरोध केवल विरोध के कारण नहीं होना चाहिए। 

पश्चिम बंगाल, उड़ीसा, झारखंड, आंध्र प्रदेश को लेकर भी हालात विचित्र हैं क्योंकि वहां कई लाख रोहिंग्या मुसलमानों के आ बसने की बातें कही गई हैं। खबरें तो यहां तक हैं कि भारत जैसे लोकतांत्रिक देश में लाखों से ज्यादा लोगों ने अपनी नई  पहचान बना ली है और कहीं ना कहीं वे लोकतंत्र में वोट का हिस्सा हैं। अब जब राजनीतिक पार्टियां या नेता चाहे वह बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी हो या सीपीआईएम के नेता सीताराम येचुरी हो एनआरसी को लेकर विरोध भी हो रहा है। हमारा मानना यह है कि अगर देश में जम्मू-कश्मीर को एक विशेष राज्य का दर्जा देकर 370 के तहत ढेरों सुविधाएं उन्हें बाकी देशवासियों का हक काटकर दी जा रही थी और हमारे गृहमंत्री अमित शाह इसे कश्मीर में खत्म कर सकते हैं तो फिर ये चंद घुसपैठिये क्या चीज हैं। 

हमारा मानना है कि देश में जो विदेशी मूल के लोग अगर 1955 के एनआरसी कानून के तहत आते हैं और तब से यहीं रह रहे हैं तथा वे मुस्लिम नहीं हैं तो उन्हें नागरिकता देने में कोई बुराई नहीं है। भारत की मिट्टी पर रहते हैं। रोटी-पानी सब यहीं का खाते हैं यदि ये लोग भारत माता की जय नहीं बोलेंगे तो इसका विरोध होगा। हिंदुस्तान में रहना है तो भारत माता की जय बोलनी ही होगी। कश्मीर से लेकर कन्याकुमारी तक ​हिन्दू, सिख, मुस्लमान, ईसाई जो भी नागरिक किसी भी जाति का हो वह भारतीय पहले है। भारत पहले है मजहब और जात-पात बाद में। इस संदेश को अमित शाह जी ने पूरे देश को बड़े अच्छे से दिया है और हम इसका स्वागत करते हैं। 

अपनी जात-पात और मजहब को लेकर हमें बंटना नहीं है बल्कि भारत और भारतीयता को मजबूत बनाना है। एनआरसी के इस तथ्य को समझना होगा कि हम सब एक हैं। एनआरसी का लागू होना जरूरी है। एक देश, एक कानून सबके लिए लागू होना चाहिए इसी का नाम भारतीयता है और हमें इस पर नाज है।