BREAKING NEWS

लॉकडाउन-5 में अनलॉक हुई दिल्ली, खुलेंगी सभी दुकानें, एक हफ्ते के लिए बॉर्डर रहेंगे सील◾PM मोदी बोले- आज दुनिया हमारे डॉक्टरों को आशा और कृतज्ञता के साथ देख रही है◾अनलॉक-1 के पहले दिन दिल्ली की सीमाओं पर बढ़ी वाहनों की संख्या, जाम में लोगों के छूटे पसीने◾कोरोना संकट के बीच LPG सिलेंडर के दाम में बढ़ोतरी, आज से लागू होगी नई कीमतें ◾अमेरिका : जॉर्ज फ्लॉयड की मौत पर व्हाइट हाउस के बाहर हिंसक प्रदर्शन, बंकर में ले जाए गए थे राष्ट्रपति ट्रंप◾विश्व में महामारी का कहर जारी, अब तक कोरोना मरीजों का आंकड़ा 61 लाख के पार हुआ ◾कोविड-19 : देश में संक्रमितों का आंकड़ा 1 लाख 90 हजार के पार, अब तक करीब 5400 लोगों की मौत ◾चीन के साथ सीमा विवाद को लेकर गृह मंत्री शाह बोले- समस्या के हल के लिए राजनयिक व सैन्य वार्ता जारी◾Lockdown 5.0 का आज पहला दिन, एक क्लिक में पढ़िए किस राज्य में क्या मिलेगी छूट, क्या रहेगा बंद◾लॉकडाउन के बीच, आज से पटरी पर दौड़ेंगी 200 नॉन एसी ट्रेनें, पहले दिन 1.45 लाख से ज्यादा यात्री करेंगे सफर ◾तनाव के बीच लद्दाख सीमा पर चीन ने भारी सैन्य उपकरण - तोप किये तैनात, भारत ने भी बढ़ाई सेना ◾जासूसी के आरोप में पाक उच्चायोग के दो अफसर गिरफ्तार, 24 घंटे के अंदर देश छोड़ने का आदेश ◾महाराष्ट्र में कोरोना का कहर जारी, आज सामने आए 2,487 नए मामले, संक्रमितों का आंकड़ा 67 हजार के पार ◾दिल्ली से नोएडा-गाजियाबाद जाने पर जारी रहेगी पाबंदी, बॉर्डर सील करने के आदेश लागू रहेंगे◾महाराष्ट्र सरकार का ‘मिशन बिगिन अगेन’, जानिये नए लॉकडाउन में कहां मिली राहत और क्या रहेगा बंद ◾Covid-19 : दिल्ली में पिछले 24 घंटे में 1295 मामलों की पुष्टि, संक्रमितों का आंकड़ा 20 हजार के करीब ◾वीडियो कन्फ्रेंसिंग के जरिये मंगलवार को पीएम नरेंद्र मोदी उद्योग जगत को देंगे वृद्धि की राह का मंत्र◾UP अनलॉक-1 : योगी सरकार ने जारी की गाइडलाइन, खुलेंगें सैलून और पार्लर, साप्ताहिक बाजारों को भी अनुमति◾श्रमिक स्पेशल ट्रेनों में 80 मजदूरों की मौत पर बोलीं प्रियंका-शुरू से की गई उपेक्षा◾कपिल सिब्बल का प्रधानमंत्री पर वार, कहा-PM Cares Fund से प्रवासी मजदूरों को कितने रुपए दिए बताएं◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

पद्मावती और रानी कर्णवती !

21वीं सदी के भारत में अगर 14वीं सदी के शुरू के किसी व्यक्तित्व को लेकर बनी फिल्म को लेकर राजनीति गर्मा रही है तो इसका सीधा अर्थ यह निकाला जा सकता है कि हमारे ‘मानसिक विकास’ और ‘वैज्ञानिक विकास’ में कोई समानता नहीं है। यदि कुछ लोग ताजमहल से लेकर मुगल काल में खड़ी हुई अन्य इमारतों को इतिहास का अत्याचार समझते हैं तो उन्हें भारत की महान संस्कृति के बारे में अधूरा ज्ञान है। ये लोग दक्षिण एशिया की उस संस्कृति का किस पैमाने से मूल्यांकन करेंगे जिसमें ​वियतनाम से लेकर कम्बोडिया व मलेशिया व थाईलैंड तक सर्वत्र बौद्ध संस्कृति के अवशेष बिखरे पड़े हैं ? दर असल इतिहास अपना निर्णय इस आधार पर नहीं करता है कि किस हिन्दू या मुसलमान शासक का शासन रहा होगा बल्कि वह उस समय में व्याप्त जमीनी हकीकत की राजनीति से करता है। मध्य युगीन भारत की असलियत यही थी कि उस समय देशी राजे–रजवाड़े ही आपस में इस कदर उलझे हुए थे कि अपने राज्य विस्तार की आकांक्षा को पूरा करने के लिए वे विदेशी आक्रान्ताओं को दावत तक दे डालते थे।

क्या भारत के इतिहास से कन्नौज के राजा ‘राजा जयचन्द’ का नाम मिटाया जा सकता है जिसने दिल्ली की सत्ता पर बैठे पृथ्वीराज चौहान से बदला लेने के लिए मोहम्मद गौरी को आमन्त्रण दिया था ? क्या रानी पद्मावती के राज्य चित्तौड़ के ही शासक रहे राणा सांगा को भुलाया जा सकता है जिन्होंने दिल्ली की सल्तनत के सुल्तान इब्राहिम लोदी का मुकाबला करने के लिए पहले मुगल शासक बने बाबर को आमन्त्रित किया था? क्या उस मीर जाफर को भुलाया जा सकता है जिसने बंगाल के नवाब का सीधा सम्बन्धी होते हुए भी उसे हराने के लिए अंग्रेजों के साथ षड्यंत्र किया था ? इन लोगों काे अगर हम हिन्दू या मुसलमान के रूप में पहचानते हुए मूल्यांकन करते हैं तो उस समय के उस सच को नकारने की कोशिश करते हैं जो तब की राजनीति को निर्देशित कर रहा था। हिन्दू राजा दूसरे हिन्दू राजा को पछाड़ने के लिए मुसलमान सुल्तान की मदद ले रहा था और मुसलमान मुसाहिब खुद नवाबी गद्दी पर बैठने के लिए उसे धोखा दे रहा था। अतः हम किस आत्म गौरव और शान का ढिंढोरा पीट कर राजनीति की रोटियां सेंकना चाहते हैं। वर्तमान दौर लोकतन्त्र का है और इसमें किसी व्यक्ति का नहीं बल्कि उस कानून का शासन चलता है जो संविधान के पन्नों में लिखा हुआ है, मगर कुछ लोग समझ रहे हैं कि वे अभी भी 13वीं सदी में जी रहे हैं और कानून को कथित पुरातनी गढ़ी हुई स्वाभिमान की गाथाओं से धमका सकते हैं। कानून को अपने हाथ में लेने वाले ऐसे लोगों को किसी भी राजनीतिक पार्टी का शासन यदि खुल कर खेलने की मोहलत देता है वह स्वयं आम जनता की निगाहोंं में अपने राजनैतिक मन्तव्य का रहस्य खोल देता है। सोचिये जयपुर राजघराने की राजकुमारी जोधा बाई का विवाह क्यों मुगल शासक अकबर से होता ? जाहिर है यह उस समय की यथार्थवादी सोच का ही परिणाम था कि एक राजपूतनी ने मुसलमान बादशाह से विवाह किया और उसी बादशाह अकबर ने मेवाड़ के दूसरे राजपूत शासक महाराणा प्रताप से अपने राज्य विस्तार हेतु युद्ध किया, किन्तु यह भी हिन्दू–मुसलमानों के बीच युद्ध नहीं हो रहा था बल्कि दो राजाओं के बीच युद्ध हुआ था क्योंकि महाराणा प्रताप का सेनापति मुसलमान लड़ाका हाकिम खां सूर था और अकबर की सेना की कमान हिन्दू राजा जयसिंह ने संभाली हुई थी। बिना शक राजस्थान में पर्दा प्रथा का प्रचलन मुस्लिम आक्रमणों के बाद ही हुआ और हारने वाले राजा की रानियों द्वारा जौहर किये जाने की प्रथा भी तभी शुरू हुई। यह तो इतिहास में दर्ज है कि मेवाड़ की ही महारानी रही रानी कर्णवती ने गुजरात के शासक बहादुर शाह के आक्रमण से अपने राज्य को बचाने के लिए दिल्ली की गद्दी पर बैठे मुगल बादशाह हुमाऊं को पत्र लिख कर उससे मदद की दरकार की थी क्योंकि तब इस रियासत की विभिन्न छोटी –छोटी रियासतों के रजवाड़ों ने रानी काे साथ देने से इंकार कर दिया था। रानी कर्णवती का खत हुमाऊं को तब मिला था जब वह बंगाल में युद्ध कर रहा था। खत मिलते ही उसने मेवाड़ की तरफ कूच किया। इस खत में रानी कर्णवती ने हुमाऊं को अपना भाई बनाते हुए राखी भी भेजी थी। मगर जब हुमाऊं उदयपुर पहुंचा तो बहुत देर हो चुकी थी और रानी कर्णवती ने बहादुर शाह की जीत के बाद अन्य रानियों के साथ जौहर कर लिया था। अतः इतिहास को हम केवल इतिहास की तरह ही देखें और ज्यादा भावुकता मंे न पड़ कर भविष्य की आने वाली पीढि़यों के लिए रंजिश से भरा हिन्दोस्तान न छोड़ें तो समझा जायेगा कि हम 21वीं सदी में जी रहे हैं।