BREAKING NEWS

आज का राशिफल (21 सितम्बर 2020)◾शशि थरूर ने केंद्र सरकार पर साधा निशाना , कहा - सरकार को संकट में 'चेहरा छिपाने' का मौका मिला है◾IPL-13 : रबाडा की घातक गेंदबाजी, दिल्ली कैपिटल ने सुपर ओवर में मारी बाजी◾लोकसभा ने देर रात 40 मिनट में चार विधेयक किये पारित ◾अलकायदा आतंकी साजिश के मुख्य आरोपी मुर्शिद हसन ने दक्षिण, पूर्वी भारत में कई जगहों की यात्रा की : NIA◾भारत और चीन के सैन्य कमांडरों के बीच छठे दौर की बातचीत कल, पहली बार विदेश मंत्रालय के शीर्ष अधिकारी होंगे शामिल◾कृषि बिल: राहुल गांधी बोले- सरकार ने कृषि विधेयकों के रूप में किसानों के खिलाफ मौत का फरमान निकाला◾राज्यसभा में विपक्ष के अमर्यादित आचरण पर रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह बोले- सदन में विपक्षी सदस्यों का आचरण शर्मनाक◾ IPL-13: स्टोइनिस की 21 गेंदों में 53 रनों की तूफानी पारी की बदौलत दिल्ली ने पंजाब के सामने 153 रनों का रखा लक्ष्य◾महाराष्ट्र : 24 घंटे में संक्रमण से 455 और मरीजों की मौत, 20 हजार से अधिक नए मामलें◾रामविलास पासवान ICU में भर्ती, बेटे चिराग ने लिखा भावुक पत्र◾पांच राज्यों में कोरोना के 60 % मामलें सक्रिय, 52 प्रतिशत नए केस : स्वास्थ्य मंत्रालय◾राज्यसभा में पास हुआ कृषि बिल असंवैधानिक और किसानों के खिलाफ : कांग्रेस◾कोविड-19 : उत्तर प्रदेश में संक्रमण के 5809 नए मामलें की पुष्टि, 94 और मरीजों की मौत◾कृषि विधेयकों के खिलाफ प्रदर्शनों के चलते दिल्ली की सीमाओं पर भारी संख्या में पुलिस बल तैनात◾राज्यसभा में कृषि बिल पास होने से नाराज विपक्ष उपसभापति के खिलाफ लाया अविश्वास प्रस्ताव◾कृषि बिल पास होने पर बोले PM मोदी-आज का दिन भारत के लिए ऐतिहासिक◾बिल पास होने पर बोले नड्डा, मोदी सरकार ने पिछले 70 वर्षों के अन्याय से किसानों को कराया मुक्त◾विपक्ष के हंगामे के बीच राज्यसभा में पास हुए केंद्र सरकार के कृषि बिल◾कृषि बिल को लेकर राज्यसभा में घमासान, TMC सांसद ने स्पीकर के आगे फाड़ी रूल बुक◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

पत्थरबाजों के बाद चोटी कटवा

पहले ही जम्मू-कश्मीर में पत्थरबाज सुरक्षाबलों के लिए चुनौती बने हुए हैं। पाकिस्तान द्वारा की जा रही फंडिंग के चलते पत्थरबाजों के गैंग बने हुए हैं लेकिन अब पत्थरबाजी की घटनाएं कम हुईं तो घाटी में चोटी कटवा गैंग सक्रिय हो गया। राजस्थान से शुरू हुई चोटी कटने की अफवाह अब घाटी में पहुंच चुकी है। चोटी कटने की घटनाओं को पहले तो पुलिस ने भी अफवाह माना लेकिन अब ये घटनाएं भयंकर रूप धारण कर चुकी हैं। पहले महज मुट्ठीभर वारदातें हुईं, मगर सत्य और असत्य के शाश्वत द्वंद्व के बीच अफवाहों को ऐसे पंख लगे कि अलगाववादियों ने इन्हें अपना हथियार बना लिया। अलगाववादी इनकी आड़ में एक नई साजिश रचने की ताक में हैं। टैरर फं​डिंग मामले में आकंठ तक फंस चुके और देश के सामने नग्न हो चुके अलगाववादी चोटी कटवा वारदातों की आड़ में अपनी खोई जमीन को फिर से पाने की कोशिश कर रहे हैं। इन घटनाओं के विरोध में अलगाववादियों ने न केवल घाटी में बंद का आह्वन किया बल्कि सुनियोजित ढंग से इन घटनाओं के लिए सुरक्षा बलों को जिम्मेदार ठहराना शुरू कर दिया। रोज-रोज के बंद से सामान्य जनजीवन अस्त-व्यस्त होकर रह गया है। शहरों में एहतियात प्रतिबंध लगाए गए हैं। किसी भी अप्रिय घटना से बचने के लिए घाटी के कई शहरों में निषेधाज्ञा लागू है। चोटी कटवा गैंग के चलते पूरी घाटी बंधक बनी हुई है।

आज फैक्ट्रियों की तर्ज पर अफवाहों का उत्पादन हो रहा है। लोग इन्हें सच मानकर अपने दोस्तों, रिश्तेदारों के बीच सांझा करते हैं। इससे इनकी विश्वसनीयता बढ़ जाती है लेकिन घाटी में तो पिछले एक माह में 130 से ज्यादा चोटी काटने की घटनाएं सामने आ चुकी हैं, पुलिस अब तक किसी को भी गिरफ्तार नहीं कर सकी है। हालांकि पुलिस ने इन घटनाओं को अंजाम देने वालों की सूचना देने वाले के लिए 6 लाख रुपए के ईनाम की घोषणा कर रखी है। लोग इतने परेशान और क्रुद्ध हैं कि वे चाेटी कटवा होने के संदेह में लोगों की हत्या करने पर उतारू नज़र आने लगे हैं। जम्मू-कश्मीर के साेपोर और हजरतबल इलाकों में मानसिक रूप से अस्वस्थ और एक अन्य व्यक्ति को अगर सुरक्षा बल नहीं बचाते तो भीड़ उन्हें मार ही डालती। एक दरगाह में नमाज के लिए गए व्यक्ति को लोगों ने चोटी कटवा होने के संदेह में पकड़ कर पीट दिया। पुलिस ने बहुत ही पेशेवर ढंग से इस व्यक्ति को बचाया। डल झील में एक व्यक्ति को डुबो कर मारने की कोशिश की गई। चोटी कटने संबंधी ये वारदातें संकेत दे रही हैं कि घाटी को नए सिरे से दहलाने की साजिश रची जा रही है। कश्मीर की फिजा में एक बार फिर ज़हर घोलने की कोशिश की जा रही है। ऊपर से अलगाववादी आग में घी डालने का काम कर रहे हैं और सुरक्षा बलों को बदनाम करने पर तुले हुए हैं। चोटी काटने की घटनाओं और अफवाहों के पीछे साजिश की बू भी आ रही है क्योंकि पाकिस्तान से खबरें आ रही हैं- शिया-सुन्नी भाई-भाई और अनंतनाग से आई तस्वीरें और नारे भी साजिश का स्पष्ट संकेत दे रहे हैं।

घाटी में सेना आपरेशन आल आऊट चला रही है, जिसके तहत आतंकियों को ढूंढ-ढूंढ कर मारा जा रहा है। आतंकियों के अंतिम गढ़ शोपियां में भी आपरेशन चलाने की तैयारी कर ली गई है। टॉप कमांडर मारे जा चुके हैं। अलगाववादियों पर एनआईए ने जबरदस्त शिकंजा कसा हुआ है। ऐसे में अलग-थलग पड़ते जा रहे अलगाववादियों यासिन मलिक, सैैयद अली शाह गिलानी, मीरवाइज उमर फारूख जैसे नेता जनता का भरोसा जीतने के लिए उनसे जुड़कर अपनी खोई जमीन फिर से हासिल करना चाहते हैं। अलगाववादियों ने लोगों को नए सिरे से भड़काना शुरू कर दिया है। नफरत और ​िहंसा का वातावरण बनाया जा रहा है ताकि माहौल शांतिपूर्ण नहीं हो। चोटी कटवा गैंग भी एक तरह से पत्थरबाज ही हैं। जो हुर्रियत वाले पैसे देकर स्कूली बच्चों तक के हाथों में पत्थर पकड़वा सकते हैं, वह पैसे देकर चोटी कटवा गैंग पैदा क्यों नहीं कर सकते। जहां तक अफवाहों का ताल्लुक है, अफवाहों और अपुष्ट सूचनाओं के आधार पर धारणाएं बनाने और नतीजे निकालने का मामला कोई आज का नहीं है। जर्मनी में हिटलर के दौर में भी इसका डरावना राजनीतिक इस्तेमाल हो चुका है। इन अफवाहों के बल पर घाटी में दिन-रात जनधारणाओं को प्रभावित करने और सामाजिक ताने-बाने को छिन्न-भिन्न करने की सुनियोजित साजिश को अंजाम दिया जा रहा है और बदनाम किया जा रहा है सुरक्षा बलों को। राज्य सरकार, राज्य की पुलिस और सुरक्षा बलों को बहुत सतर्कता से काम लेते हुए चाेटी कटवा गैंग का पर्दाफाश करना ही होगा।