BREAKING NEWS

मध्य प्रदेश में तीन चरणों में होंगे पंचायत चुनाव, EC ने तारीखों का किया ऐलान ◾कल्याण और विकास के उद्देश्यों के बीच तालमेल बिठाने पर व्यापक बातचीत हो: उपराष्ट्रपति◾वरिष्ठ पत्रकार विनोद दुआ का हआ निधन, दिल्ली के अपोलो अस्पताल में थे भर्ती◾ MSP और केस वापसी पर SKM ने लगाई इन पांच नामों पर मुहर, 7 को फिर होगी बैठक◾ IND vs NZ: एजाज के ऐतिहासिक प्रदर्शन पर भारी पड़े भारतीय गेंदबाज, न्यूजीलैंड की पारी 62 रन पर सिमटी◾भारत में 'Omicron' का तीसरा मामला, साउथ अफ्रीका से जामनगर लौटा शख्स संक्रमित ◾‘बूस्टर’ खुराक की बजाय वैक्सीन की दोनों डोज देने पर अधिक ध्यान देने की जरूरत, विशेषज्ञों ने दी राय◾देहरादून पहुंचे PM मोदी ने कई विकास योजनाओं का किया शिलान्यास व लोकार्पण, बोले- पिछली सरकारों के घोटालों की कर रहे भरपाई ◾ मुंबई टेस्ट IND vs NZ - एजाज पटेल ने 10 विकेट लेकर रचा इतिहास, भारत के पहली पारी में 325 रन ◾'कांग्रेस को दूर रखकर कोई फ्रंट नहीं बन सकता', गठबंधन पर संजय राउत का बड़ा बयान◾अमित शाह बोले- PAK में सर्जिकल स्ट्राइक कर भारत ने स्पष्ट किया कि हमारी सीमा में घुसना आसान नहीं◾केंद्र ने अमेठी में पांच लाख AK-203 असॉल्ट राइफल के निर्माण की मंजूरी दी, सैनिकों की युद्ध की क्षमता बढ़ेगी ◾Today's Corona Update : देश में पिछले 24 घंटे के दौरान 8 हजार से अधिक नए केस, 415 लोगों की मौत◾चक्रवाती तूफान 'जवाद' की दस्तक, स्कूल-कॉलेज बंद, पुरी में बारिश और हवा का दौर जारी◾विश्वभर में कोरोना के आंकड़े 26.49 करोड़ के पार, मरने वालों की संख्या 52.4 लाख से हुई अधिक ◾आजाद ने सेना ऑपरेशन के दौरान होने वाली सिविलिन किलिंग को बताया 'सांप-सीढ़ी' जैसी स्थिति◾SKM की बैठक से पहले राकेश टिकैत ने कहा- उम्मीद है कि आज की मीटिंग में कोई समाधान निकलना चाहिए◾राष्ट्रपति ने किया ट्वीट, देश की रक्षा सहित कोविड से निपटने में भी नौसेना ने निभाई अहम भूमिका◾तेजी से फैल रहा है ओमिक्रॉन, डब्ल्यूएचओ ने कहा- वेरिएंट पर अंकुश लगाने के लिए लॉकडाउन अंतिम उपाय◾सिंघु बॉर्डर पर संयुक्त किसान मोर्चा की आज होगी अहम बैठक, आंदोलन की आगे की रणनीति होगी तय◾

प्रवासी भारतीयों की ताकत

दुनियाभर में प्रवासी भारतीयों की संख्या 1.75 करोड़ के लगभग है। प्रवासियों की संख्या के मामले में भारत, मैक्सिको और चीन पहले, दूसरे और तीसरे नम्बर पर हैं। पिछले दस वर्षों में भारतीय प्रवासियों की संख्या में लगभग 23 प्रतिशत की वृद्धि हुई है। प्रवासियों की कुल संख्या वर्तमान आबादी का 3.5 फीसदी है। नौकरी, उद्योग, व्यापार और दूसरे कई कारणों से अपना देश छोड़कर दूसरे देशों में रहने वालों में भारतीयों की आबादी दुनिया में सर्वाधिक है। दुनिया की बड़ी बहुराष्ट्रीय कम्पनियों में मुख्य कार्यकारी अधिकारी से लेकर अनेक देशों में कानून एवं अर्थव्यवस्था में निर्णय लेने वाली संस्थाओं का प्रमुख हिस्सा बनने में भारतीय बहुत सफल हुए हैं। 

अमेरिका, ​ब्रिटेन, कनाडा और कई अन्य देशों में भारतीय वहां की सरकारों में मंत्री और सांसद तो निर्वाचित हुए ही हैं बल्कि नीति निर्धारक विभागों में उच्च पदों पर आसीन हैं। भारतीयों की खासियत है कि वे जिस भी देश में गए उन्होंने वहां की संस्कृति और संविधान काे आत्मसात कर लिया। वहां के व्यापार, उद्योग, चिकित्सा क्षेत्र आदि में महत्वपूर्ण योगदान दिया। भले ही प्रवासी भारतीयों ने वहां का सब कुछ आत्मसात कर लिया है लेकिन वह भारत माता की माटी की सुगन्ध को नहीं भूले। वे आज भी अपनी जड़ों से जुड़े हुए हैं। अपनी जन्मभूमि, अपने गांव और अपने शहरों के ​लिए उनके दिल में स्नेह उमड़ता है।  आज की तारीख में भारतीय नई शक्ति के तौर पर अन्तर्राष्ट्रीय पटल पर उभर चुके हैं और अलग-अलग देशों में भारत के रिश्तों को लेकर उनकी भूमिका काफी महत्वपूर्ण हो चुकी है।

विश्व बैंक की रिपोर्ट में बताया गया है कि पूरी दुनिया में सबसे अधिक पैसा भारतीयों ने अपने देश भेजा है। रिपोर्ट बताती है कि प्रवासी भारतीयों ने अपने देश के लिए 87 अरब डालर भेजे जो लगभग 64.64 खरब रुपए के बराबर हैं। विदेशों से पैसे भेजने के मामले में भारतीय पहले नम्बर पर हैं। प्रवासी भारतीयों द्वारा इस साल भारत पैसा भेजने में 4.6 फीसदी की बढ़ौतरी हुई है। कोरोना महामारी के दौरान केसों और मौतों की गम्भीरता को देखते हुए परोपकारी कार्य करने के लिए प्रवासी भारतीयों द्वारा भेजे गए धन ने महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। प्रवासी भारतीयों द्वारा भेजे गए पैसों में आक्सीजन टैंक की खरीद के लिए भेजी गई राशि शामिल है। कोरोना काल में प्रवासी भारतीयों ने देश को काफी सहयोग दिया। जितना धन भारत भेजा गया है, उसकी हमने कभी कल्पना भी नहीं की थी। प्रवासी भारतीयों को अपनी सांस्कृतिक विरासत को अक्षुण्य बनाए रखने के कारण ही साझा पहचान मिली है। उनकी सफलता का श्रेय उनकी परम्परागत सोच, सांस्कृतिक मूल्य, शैक्षणिक योग्यता को दिया जाना चाहिए। वैश्विक स्तर पर सूचना तकनीक के क्षेत्र में क्रांति में इनकी महत्वपूर्ण भूमिका रही है, जिसके कारण भारत की विदेशों में छवि निखरी है। प्रवासी भारतीयों की ताकत को देखते हुए और उन्हें अपनी जड़ों से जोड़ने के​ लिए 2002 में एनडीए की अटल बिहारी वाजपेयी सरकार ने हर वर्ष 9 जनवरी को प्रवासी भारतीय दिवस मनाने का निर्णय किया था। प्रवासी भारतीयाें का देश की जीडीपी में योगदान बढ़ रहा है। कारगिल युद्ध हो या ओडिशा के चक्रवात, महाराष्ट्र और गुजरात के भूकम्प के समय इनके द्वारा आर्थिक और मेडिकल सहयोग दिया गया था। 1990 के आर्थिक संकट के दौरान भी भारतीयों ने रिसर्जेंट इंडिया बांडों जैसे अनेक प्रकार के बांडों द्वारा अपने आर्थिक संसाधनों से भारत की आर्थिक मदद की थी।

आज भी प्रवासी भारतीय अपने गांवों में लौटते हैं तो कुछ न कुछ देकर ही जाते हैं। प्रवासी भारतीयों ने अपनी पुश्तैनी जमीनें दान में देकर शिक्षा संस्थान और कम्प्यूटर केन्द्र स्थापित किए हैं। अनेक प्रवासी भारतीयों ने गांवों में स्कूल और सामुदायिक भवन बनाए हैं। केन्द्र सरकार ने प्रवासी भारतीयों को अपनी सबसे बड़ी पूंजी मानते हुए इनकी सुरक्षा को सर्वोच्च प्राथमिकता देते हुए अनेक नीतियां बनाई हैं। प्रवासी भारतीय ही विश्व के समक्ष हमारा चेहरा हैं और ​वैश्विक मंच पर भारत के हितों के हिमायती। भारत इसकी संस्कृति और परम्पराओं के प्रति इनके निरंतर भावनात्मक जुड़ाव के कारण हमें उन पर गर्व है। एक तरफ विकसित देशों में प्रवासी भारतीयों की भूमिका सराही जा रही है तो दूसरी तरफ कम कुशल और कम शिक्षित प्रवासी कामकगार भी खाड़ी देशों सहित कई देशों के विकास के सहभागी बन गए हैं। खाड़ी देशाें में अकुशल और मामूली शिक्षित प्रवासी भारतीय श्रमिकों ने विपरीत परिस्थितियों में भी अपनी क्षमता को साबित किया है। आज दु​निया को भारत पर भरोसा है तो इसमें प्रवासी भारतीयों का बड़ा योगदान है। प्रवासी भारतीरयाें ने अपनी पहचान को मजबूत किया है। कठिन समय में भी उन्होंने सेवाभाव बनाए रखा है। भारत को प्रवासी भारतीयों की शक्ति पर गर्व है।


आदित्य नारायण चोपड़ा

[email protected]