BREAKING NEWS

UP: हरिद्वार विवाद से अलीगढ़ प्रशासन ने लिया सबक, प्रस्तावित धर्म संसद की अनुमति देने से किया इनकार ◾Today's Corona Update : देश में गिरने लगा कोरोना का ग्राफ, पिछले 24 घंटे में ढाई लाख से कम नए केस ◾दिल्ली: गाजीपुर में RDX मिलने के बाद सुरक्षा के बंदोबस्त किए गए पुख्ता, गणतंत्र दिवस पर तीसरी आंख रखेगी नजर◾World Coronavirus : वैश्विक स्तर पर कोरोना मामलों में वृद्धि, 33.02 करोड़ से ऊपर पहुंचा आंकड़ा◾देश के कई हिस्सों में सर्दी का सितम जारी, मैदानी इलाकों को अभी नहीं मिलेगी शीतलहर से राहत◾UP चुनाव को लेकर PM मोदी वाराणसी के भाजपा कार्यकर्ताओं से आज करेंगे वर्चुअल संवाद, देंगे यह मंत्र◾पंजाब विधानसभा चुनाव में CAPF की 1,050 कंपनी तैनात करने की मांग ◾पंजाब विधान सभा चुनाव - गठबंधन तय लेकिन सीटों को लेकर अभी तक नहीं हो पाया है अंतिम फैसला ◾कांग्रेस ने अरबपतियों की संपत्ति बढ़ने संबंधी रिपोर्ट को लेकर सरकार पर निशाना साधा ◾राज्यों की झांकी न शामिल करने के लिए केंद्र की आलोचना करना गलत परम्परा : सरकारी सूत्र ◾ केजरीवाल आज करेंगे पंजाब में ‘आप’ के मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार की घोषणा◾गणतंत्र दिवस झांकी विवाद : ममता के बाद स्टालिन ने PM मोदी का लिखा पत्र ◾भारत वर्तमान ही नहीं बल्कि अगले 25 वर्षों के लक्ष्य को लेकर नीतियां बना रहा है : PM मोदी ◾उद्योग जगत ने WEF में PM मोदी के संबोधन का किया स्वागत ◾ कोरोना से निपटने के योगी सरकार के तरीके को लोग याद रखेंगे और भाजपा के खिलाफ वोट डालेंगे : ओवैसी◾गाजीपुर मंडी में मिले IED प्लांट करने की जिम्मेदारी आतंकी संगठन MGH ने ली◾दिल्ली में कोविड-19 के मामले कम हुए, वीकेंड कर्फ्यू काम कर रहा है: सत्येंद्र जैन◾कोविड-19 से उबरने का एकमात्र रास्ता संयुक्त प्रयास, एक दूसरे को पछाड़ने से प्रयासों में होगी देरी : चीनी राष्ट्रपति ◾ ओवैसी की पार्टी AIMIM ने जारी की उम्मीदवारों की दूसरी सूची, 8 सीटों पर किया ऐलान◾दिल्ली में कोरोना का ग्राफ तेजी से नीचे आया, 24 घंटे में 12527 नए केस के साथ 24 मौतें हुई◾

आरक्षण : अपने ही फैसले को सुप्रीम कोर्ट ने सुधारा

आरक्षण का मूल अर्थ प्रतिनिधित्व है। आरक्षण कभी भी पेट भरने का साधन नहीं हो सकता बल्कि आरक्षण द्वारा ऐसे समाज को प्रतिनिधित्व करने का मौका दिया जाना चाहिए जो समाज के अन्दर दबे-कुचले रहे हैं। वैसे जब आरक्षण लागू किया गया था तो इसे दस वर्षों के लिए पास किया गया था और उस समय इसे लागू करने का उद्देश्य बस इतना था कि जिस समाज के लोग उपेक्षित हैं उन्हें भी प्रतिनिधित्व करने का मौका मिले। बाद में आरक्षण की मूल धारणा को भुला दिया गया। आज वह समय आ गया है कि भारतीय राजनीतिक दल इस पर बहस तो करना चाहते हैं कि किसी तरह से उनका वोट बैंक बना रहे। आरक्षण कुछ हद तक जातिगत आधार पर जुड़ा हुआ है। वर्ष 1932 में एक सम्मेलन हुआ था जिसका नाम गोलमेज सम्मेलन रखा गया था। इसमें इस बात पर सहमति बनी थी कि आरक्षण होना चाहिए ताे किस आधार पर। इस सम्मेलन में तय किया गया था कि समाज के वे लोग जो सामाजिक, आर्थिक और शैक्षिक रूप से पिछड़े हुए हैं उनकी एक सूची तैयार की जाए। इसी सूची के आधार पर कुछ प्रावधान रखा जाए ताकि इन्हें समाज की मुख्य धारा में लाया जा सके। इसी प्रावधान को भारत के संविधान में रखा गया था। बाद में इस सूची का नाम अनुसूचित जनजाति रखा गया। कुछ समय बाद इस सूची में एक और नई सूची को जोड़ा गया जिसको अत्यंत पिछड़ा वर्ग कहा गया।

आरक्षण लगातार जारी है, हर जाति आरक्षण के प्याले को छू लेना चाहती है। आरक्षण का लाभ ताकतवर जातियों को ही ​मिला। यह भी सत्य है कि अनुसूचित जाति और पिछड़े वर्ग की कुछ जातियों को बरसों से चले आ रहे आरक्षण का लाभ नहीं मिला है। जिन वर्गों को आरक्षण का फायदा मिला उन्होंने पीढ़ी दर पीढ़ी इसी आरक्षण का लाभ उठाया। जो वंचित रहे वह आज तक वंचित रहे।

देश की शीर्ष अदालत ने जो आरक्षण में सुधार की दिशा में बहुत महत्वपूर्ण कदम उठाया है, वह सराहना के योग्य है। अनुसूिचत जाति या अनुसूचित जनजाति वर्ग के अन्दर उपवर्ग बना कर विशेष आरक्षण दिया जाना समय के साथ जरूरी होता जा रहा है। ऐसे में सुप्रीम कोर्ट को अपने ही 16 वर्ष पुराने फैसले पर विचार करना है क्योंकि  सुप्रीम कोर्ट की पांच सदस्यीय पीठ ने वर्ष 2004 में यह फैसला सुनाया था कि राज्यों को किसी आरक्षित वर्ग के भीतर उपवर्ग बनाकर आरक्षण देने का अधिकार नहीं है, इसलिए अब जब इस फैसले में कोई बदलाव करना है तो सुप्रीम कोर्ट की बड़ी पीठ को विचार के बाद नया फैसला करना होगा। ऐसी सम्भावना है कि सुप्रीम कोर्ट की 7 न्यायाधीशों की संविधान पीठ इस पर विचार करेगी कि क्या सूची के भीतर अत्यंत पिछड़ी जातियों को प्राथमिकता देने के लिए अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति आरक्षण सूची में उपवर्गीकरण हो सकता है। सुप्रीम कोर्ट की पांच सदस्यीय पीठ ने कहा है कि उपजातियों का वर्गीकरण करके उन्हें नौकरी और शिक्षा में प्राथमिकता दी जानी चाहिए।

ताकतवर और प्रभावशाली जातियों को ही आरक्षण का लाभ नहीं दिया जा सकता। बाल्मीकि आदि जातियों को अनंतकाल तक गरीबी में नहीं रखा जा सकता। 78 पृष्ठ की जजमेंट में साफ तौर पर कहा कि दलित और ओबीसी अपने आप में एक समान (होमोजीनियम) जाति नहीं है। ईवी चिन्नया मामले में सुप्रीम कोर्ट ने 2005 इन्हें एक समान जाति माना था। पीठ ने कहा है ​कि 16 वर्ष पुराने फैसले में सुधार की जरूरत है ताकि आरक्षण का लाभ समाज के निचले तबके के लोगों को मिल सके। इसके लिए राज्य सरकार जातियों के वर्गीकरण में सक्षम है। सुप्रीम कोर्ट ने यह फैसला पंजाब सरकार बनाम देवेन्द्र सिंह मामले में दिया। पंजाब सरकार ने एससी में दो जातियों बाल्मीकि और मजहबी सिख को एससी कोटे के लिए तयशुदा प्रतिशत में से 50 फीसदी​ रिजर्व कर दिया था। पंजाब और हरियाणा हाईकोर्ट ने दलित आरक्षण में 50 फीसदी उपजातियों को निर्धारित करने के सरकार की अनुसूचि को निरस्त कर दिया था। इस फैसले के बाद राज्य विधानसभाएं अनुसूचित जाति श्रेणियों के भीतर उपजातियों को विशेष आरक्षण देने के लिए कानून बना सकती हैं। भारत में अनेक जातियां और उपजातियां हैं, जिन्हें अब तक आरक्षण का लाभ नहीं मिला है। कुछ जातियां आरक्षण का लाभ लेने में आगे हैं और अब वे आरक्षण का लाभ उठाते हुए बेहतर स्थिति में पहुंची हैं।

पिछड़े समाज का एक बड़ा हिस्सा जो प्राथमिक शिक्षा से वंचित है। इन वंचित जातियों को आगे लाने के लिए अनेक राज्य सक्रिय हैं। सुप्रीम कोर्ट का फैसला आने के बाद ऐसे राज्यों को महादलितों तक पहुंचने में मदद मिलेगी। ऐसा कहते हुए जनजातियों को भी आरक्षण का लाभ जारी रहेगा जो अपेक्षाकृत लाभ में रही हैं। सुप्रीम कोर्ट का नया फैसला समाज में संतुलित विकास करेगा।