BREAKING NEWS

आज का राशिफल ( 27 मई 2022)◾त्यागराज स्टेडियम में कुत्ता घुमाने वाले IAS अधिकारी संजीव खिरवार का लद्दाख ट्रांसफर, पत्नी का अरुणाचल तबादला◾PM मोदी के नेतृत्व और सशस्त्र बलों के योगदान ने भारत के प्रति दुनिया के नजरिये को बदला : राजनाथ◾PM मोदी ने तमिल भाषा का किया जिक्र , स्टालिन ने ‘सच्चे संघवाद’ को लेकर साधा निशाना◾भारत, यूएई ने जलवायु कार्रवाई के लिए समझौता ज्ञापन पर किए हस्ताक्षर ◾J&K : कश्मीर में टीवी कलाकार की हत्या में शमिल दो आतंकवादी सुरक्षाबलों के साथ मुठभेड़ में घिरे◾J&K : कुपवाड़ा में सेना ने घुसपैठ का प्रयास किया विफल , तीन आतंकवादी मारे गए, पोर्टर की भी मौत◾PM मोदी ने ‘परिवारवाद’ के कटाक्ष से राव को घेरा, तेलंगाना के मुख्यमंत्री ने ‘भाषणबाजी’ का लगाया आरोप◾टीएमसी का दावा, दिलीप घोष को बंगाल से बाहर किया जा रहा है, भाजपा का पलटवार◾ मूडीज ने भारत की आर्थिक वृद्धि दर का अनुमान घटाया, आसमान छू रही महंगाई पर जताई चिंता◾ Tamil Nadu: चेन्नई पहुंचे PM मोदी ,हुआ जोरदार स्वागत, रोड शो में उमड़ी हजारों की भीड़◾तेलंगाना के CM चंद्रशेखर राव ने एच डी देवेगौड़ा से की मुलाकात, जानें- किन मुद्दों पर हुई चर्चा◾J&K News: सुंजवां हमले में शामिल एक आतंकवादी को NIA ने किया गिरफ्तार, जैश ए मोहम्मद से जुड़े थे तार◾Monkeypox Virus: कनाडा में मंकीपॉक्स ने दी दस्तक! यहां देखें- कितने मामले सामने आए◾यासीन मलिक को उम्रकैद की सजा सुनाने के बाद फेंके थे पत्थर, लेकिन अब पुलिस के सामने पकड़े कान◾सुप्रीम कोर्ट ने वेश्यावृत्ति को माना प्रोफेशन, पुलिस को दी हिदायत... जारी हुए सख्त निर्देश, जानें क्या कहा ◾ गवर्नर की जगह अब CM होंगी स्टेट यूनिवर्सिटी की चांसलर, ममता बनर्जी कैबिनेट की बैठक में हुआ फैसला◾नवजोत सिंह सिद्धू का पटियाला जेल में बज गया बैंड, मिला क्लर्क का काम, जानें कितना होगा वेतन ◾ Gyanvapi Masjid: यहां जानें 2 घंटे चली वाराणसी जिला कोर्ट की बहस में क्या हुआ, अब सोमवार तक टली सुनवाई◾पाकिस्तान को 'मॉडर्न देश' बनाना चाहते हैं जरदारी! भारत और अन्य देशों से जारी संघर्षों पर कही यह बात ◾

इन बेटियों को सलाम

इसमें कोई शक नहीं कि भारत में जितना दर्द पंजाब और कश्मीरी लोगों ने झेला है उसे लेकर हमारी सरकार पूरी तरह से अलर्ट है और उन योग्य अधिकारियों को मोर्चे पर ला रही है जो कश्मीरियाें के दुःख-दर्द को समझते हैं। यह सच है कि कभी कश्मीरियों को देश से आतंकवादियों के गुटों  द्वारा निकाले जाने की मुहिम शुरू हो गई थी। कश्मीर घाटी में 5 लाख से ज्यादा कश्मीरी पलायन कर गए थे। 

इस मामले में हमारी बेटियां उस पाकिस्तान को बेनकाब कर रही हैं जो कश्मीर के मामले में दखल देता है। कल तक मोदी सरकार ने चाहे वह खुद पीएम मोदी हों या गृहमंत्री अमित शाह हों या फिर पूर्व गृहमंत्री और आज के रक्षामंत्री राजनाथ हों, सब ने कश्मीर में पाकिस्तान के स्टैंड को यूएनओ तक गलत साबित किया। इतना ही नहीं अमरीका में पाकिस्तान की उस नीयत और नीति को बेनकाब किया कि किस प्रकार वह हमारे यहां अशांति उत्पन्न करते हुए पत्थरबाजों को प्रोत्साहित करता था। 

हमारे देश की बेटियां चाहे वह अमरीका में तैनात डेलीगेट सुनंदा वशिष्ठ हों या अनन्या अग्रवाल या फिर अरुणिमा भार्गव, इन सबने हमेशा कश्मीरियों के खिलाफ पाकिस्तान समर्थित आतंकवादियों द्वारा किये गए जुल्मो-​िसतम की दास्तां को तो अंतर्राष्ट्रीय मंचों पर उठाया ही और साथ ही वहां उपस्थित अन्य देशों के प्रतिनिधियों ने भी पाकिस्तान को आतंकवादी देश घोषित कराने में कोई कसर नहीं छोड़ी। देश की बेटियों के इस फौलादी स्टाईल को, उनकी भारतीयता को और कश्मीर के प्रति उनके फर्ज को हम नमन करते हैं। इन सभी बेटियों पर हमें नाज है। 

इस कड़ी में मैं हमारे देश की बेटियों में से एक डेलीगेट सुनंदा वशिष्ठ के बारे में कहना चा​हूंगी- सुनंदा वशिष्ठ ने ह्यूमन राईट कमीशन की एक बैठक में कहा कि आज पाकिस्तान 370 को लेकर शोर मचा रहा है लेकिन उस दिन यह ह्यूमन राईट कमीशन वाले लोग कहां थे जब श्रीनगर में मेरे परिवार जैसे कितने ही लोगों को घरबार छोड़ने के लिए मजबूर कर दिया गया। बंदूक की नोक पर हमें घरबार छोड़ने को मजबूर किया गया। 

मेरे पिताजी ने मुझे पढ़ाया और मैं आज इस पाकिस्तान की असलियत आपके सामने रख रही हूं जिसकी शह पर आतंकवादियों ने कश्मीरियों को कश्मीर घाटी छोड़ने के लिए मजबूर किया। उन्होंने कहा कि पाकिस्तान के हुक्मरानों को आतंकियों और पत्थरबाजों के मरने की चिंता है, उन लोगों की चिंता नहीं है जिन फौज के जवानों और कश्मीरियों की छातियों पर गोलियां चलाई जा रही हैं और महिलाओं की इज्जत लूटी जा रही है। 

उन्होंने कहा कि कश्मीर में जनमत संग्रह का मैं विरोध करती हूं। पाकिस्तान हर मौके पर बेनकाब हो चुका है, उसे अपने किये पर शर्म आनी चाहिए और पूरी दुनिया के सामने माफी मांगनी चाहिए। इसी कड़ी में अनन्या अग्रवाल नाम की दूसरी डेलीगेट ने अपने विचार रखते हुए कहा कि अल्पसंख्यकों यानि कि हिंदुओं और कश्मीरियों पर इस पाकिस्तान द्वारा ट्रेंड किए गए आतंकवादियों ने कितने जुर्म किए, उसका जवाब पाकिस्तान ने कभी नहीं दिया। पाकिस्तान में 23 फीसदी अल्पसंख्यक थे जो आज 3 फीसदी रह गए हैं। पाकिस्तान ने इसका जवाब नहीं दिया। हमारे कश्मीर में पाकिस्तान को आतंकियों के मरने की चिंता है और 370 हटाने की चिंता है तो पाकिस्तान पहले अपने अन्दर झांके बल्कि उससे इसका हिसाब लिया जाना चाहिए। 

एक और ह्यूमन राईट सम्मेलन में हमारे देश की बेटी अरुणिमा भार्गव ने कश्मीर में अल्पसंख्यकों की स्थिति पर और कश्मीरियों पर हुए अत्याचारों की तस्वीर प्रस्तुत की थी। देश की इन तीनों बेटियों ने पाकिस्तान की पोल खोल कर रख दी है और सरकार के उस एजेंडे को दुनिया के सामने रखा है जिसमें पाकिस्तान की इंसानियत का खून करने वाली फितरत नजर आती है। कुल मिलाकर मैं राजनीतिक रूप से अपने आपको रिजर्व रखती हूं लेकिन पाकिस्तान के इस मामले में हमारी बेटियां कर्त्तव्यपरायणता के साथ आगे बढ़ रही हैं, उनके प्रति समर्पित भाव जरूर रखना चाहती हूं और उम्मीद करती हूं कि वे यूं ही आगे बढ़ती रहें।