BREAKING NEWS

झारखंड विधानसभा चुनाव : तीसरे चरण में 17 सीटों पर मतदान शुरू, मतदान केंद्रों पर लगी लंबी कतारें ◾राज्यसभा में पूर्वोत्तर की सभी पार्टियों ने नागरिकता विधेयक के पक्ष में वोट किया : गोयल ◾येचुरी ने सरकार पर लगाया आरोप कहा- भाजपा CAB के जरिए द्विराष्ट्र के सिद्धांत को फिर से जिंदा करने की कोशिश कर रही है ◾नागरिकता विधेयक के खिलाफ जारी प्रदर्शनों के बीच मुख्यमंत्री के घर पर किया गया पथराव ◾नागरिकता संशोधन विधेयक को निकट भविष्य में अदालत में चुनौती दी जाएगी : सिंघवी ◾नागरिकता विधेयक को संसद की मंजूरी मिलने पर भाजपा ने खुशी जताई ◾सुप्रीम कोर्ट में खारिज हो जाएगा CAB : चिदंबरम ◾नागरिकता विधेयक पारित होना संवैधानिक इतिहास का काला दिन : सोनिया गांधी◾मोदी सरकार की बड़ी जीत, नागरिकता संशोधन बिल राज्यसभा में हुआ पास◾ राज्यसभा में अमित शाह बोले- CAB मुसलमानों को नुकसान पहुंचाने वाला नहीं◾कांग्रेस का दावा- ‘भारत बचाओ रैली’ मोदी सरकार के अस्त की शुरुआत ◾राज्यसभा में शिवसेना का भाजपा पर कटाक्ष, कहा- आप जिस स्कूल में पढ़ रहे हो, हम वहां के हेडमास्टर हैं◾CM उद्धव ठाकरे बोले- महाराष्ट्र को GST मुआवजा सहित कुल 15,558 करोड़ रुपये का बकाया जल्द जारी करे केन्द्र◾TOP 20 NEWS 11 December : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾कपिल सिब्बल ने राज्यसभा में कहा- विभाजन के लिए कांग्रेस को जिम्मेदार बताने पर माफी मांगें अमित शाह◾नागरिकता विधेयक के खिलाफ असम में भड़की हिंसा, पुलिस ने चलाई रबड़ की गोलियां◾चिदंबरम ने CAB को बताया 'हिन्दुत्व का एजेंडा', कानूनी परीक्षण में नहीं टिकने का जताया भरोसा◾इसरो ने किया डिफेंस सैटेलाइट रीसैट-2BR1 लॉन्च, सेना की बढ़ेगी ताकत ◾हैदराबाद एनकाउंटर: सुप्रीम कोर्ट ने जांच के लिए पूर्व न्यायाधीश को नियुक्त करने का रखा प्रस्ताव ◾पाकिस्तान : हाफिज सईद के खिलाफ आतंकवाद वित्तपोषण के आरोप तय◾

संपादकीय

सेंगर, उन्नाव और भाजपा

 minna

भारतीय जनता पार्टी ने उन्नाव (उत्तर प्रदेश) जिले के अपने बलात्कार के आरोपी विधायक कुलदीप सिंह सेंगर को पार्टी से निष्कासित कर दिया है। इस जेल में बन्द विधायक की करतूतों के सामने आने पर संभवतः पार्टी को यह कदम उठाने के लिए मजबूर होना पड़ा है परन्तु उसका असली चेहरा तो पिछले साल ही तब जगजाहिर हो गया था जब इलाहाबाद उच्च न्यायालय के हस्तक्षेप के बाद एक नवयुवती की शिकायत पर उसके खिलाफ बाकायदा मुकदमा दर्ज किया गया था और उसे जेल भेजा गया था। 

उत्तर प्रदेश विधानसभा में तीन चौथाई बहुमत रखने वाली भाजपा को उसे बाहर का रास्ता दिखाने में इतना वक्त क्यों लगा, इसका उत्तर तो पार्टी का प्रादेशिक नेतृत्व ही देगा परन्तु केन्द्रीय नेतृत्व ने जिस तरह पिछले दिनों उत्तराखंड के अपने एक विधायक को बाहर का रास्ता दिखाने में चुस्ती-फुर्ती दिखाई थी संभवतः सेंगर पर फैसला उसी से प्रभावित लगता है। उत्तराखंड का विधायक तो सरेआम बन्दूक की गोलियां चलाते हुए एक भद्दे फिल्मी गाने पर नृत्य कर रहा था और खुद को ‘शेर’ बता रहा था। उसका यह वीडियो सार्वजनिक हो जाने पर पार्टी ने उसे 6 साल के लिए अपनी सदस्यता से मुअत्तिल कर दिया। 

राजनीति में जिस तरह अपराधी प्रवृत्ति के लोग पाले-पोसे जाते हैं उसका सबसे बड़ा उदाहरण उत्तर प्रदेश व बिहार जैसे राज्य हैं। यदि गौर से देखें तो इन दो विस्तारित प्रदेशों (उत्तराखंड व झारखंड को मिलाकर) से ही लोकसभा के एक चौथाई से ज्यादा सांसद चुने जाते हैं। इनमें से भी अकेले उत्तर प्रदेश से ही 80 सांसद आते हैं और इस प्रदेश की राजनीति का पिछले 30 वर्षों के ही भीतर ही अपराधीकरण जिस सिलसिलेवार ढंग से हुआ है उसमें जातिगत व समुदायगत दबंगई ने केन्द्रीय भूमिका निभाई है।

सबसे हैरानी की बात यह है कि इन दबंगों का किसी विशेष राजनैतिक दल से कोई विशिष्ट लगाव नहीं रहा है। ये हवा को सूंघ कर अपनी पार्टियां अदलते-बदलते रहते हैं परन्तु इस राजनीति की सूत्रधार राज्य की अभी तक की प्रमुख मानी जाने वाली समाजवादी पार्टी रही है जिसने दबंगई और कानून को जेब में रखने वाले को राजनैतिक चोला पहनाकर इज्जत बख्शने का काम किया और कानून-व्यवस्था को दुरुस्त रखने की संवैधानिक जिम्मेदारी से बन्धी पुलिस को ही राजनैतिक चोला पहना डाला। 

दुर्भाग्य से यह प्रक्रिया उत्तर प्रदेश की राजनीति की प्रमुख शर्त बनती गई और परिणामतः कोई भी पार्टी इससे अछूती नहीं रह सकी। अपराधी प्रवृति के राजनीतिज्ञ टोपियां बदल-बदल कर सत्ता में रहने वाली पार्टी से चिपकने लगे। इनसे बेशक बहुजन समाज पार्टी व भारतीय जनता पार्टी भी नहीं बच सकीं। अतः सेंगर भाजपा का उत्पादन नहीं है बल्कि सत्ता का उत्पादन है। यह बात और है कि आजकल भाजपा का राज्य में शासन है किन्तु मूल प्रश्न यह है कि कुलदीप सिंह सेंगर को राज्य सरकार किस वजह से विशेष रियायतें देती रही कि वह जेल में ही उन लोगों के साथ बैठकें करता रहा जो उसके खिलाफ बलात्कार के मुकदमे में नामजद थे? 

यहां सबसे महत्वपूर्ण यह तथ्य है कि राज्य की इस अपराधजनित राजनीति ने पुलिस बल का ‘मनोबल’ पूरी तरह तोड़ डाला है। यह उस राज्य की स्थिति है जहां कभी स्व. चन्द्रभानु गुप्ता और चौधरी चरण सिंह जैसे मुख्यमन्त्री पुलिस को राजनीतिज्ञों की चिरौरियां करने पर फटकार लगाते थे और अपना काम पूरी निष्पक्षता से करने के निर्देश देते थे। अतः राज्य की जेलों से लेकर पुलिस थानों तक में जो विसंगतियां हम देखते हैं उसकी जड़ में इस राज्य की ‘मुजरिमी’ राजनीति ही है। 

इसी वजह से सेंगर जैसा व्यक्ति राजनैतिक चोला पहन कर समाजसेवक बनने का ढोंग रचता रहा और जनता द्वारा उनका प्रतिनिधि भी चुना जाता रहा किन्तु इसमें जनता को दोष देना गैर-तार्किक है क्योंकि जनता चुनावों में उन विशेष सन्दर्भों के दायरे में ही चयन करती है जो उसके सामने फौरी तौर पर उसके सामूहिक सम्मान और गौरव से जोड़ दिये जाते हैं और इस खांचे में अपराध प्रवृत्ति आसानी से शान-ओ-शौकत पा लेती है। उसके साथ उसकी बहादुरी के वे किस्से जोड़ दिये जाते हैं जो मूलतः अपराधजन्य ही होते हैं।

यह उत्तर प्रदेश की बदकिस्मती है कि इसकी राजनीति अब किसान या मजदूर अथवा सामाजिक बराबरी के बोध से निर्देशित न होकर जाति, वर्ग या समुदाय बोध से निर्देशित हो रही है जिसमें अपराध को सहजता से अपना लिया गया है। सेंगर मामले का सतही विश्लेषण करने से कुछ हासिल होने वाला नहीं है क्योंकि राजनीति सेंगरों की ‘सौदागर’ हो चुकी है मगर भारत का लोकतन्त्र जीवन्त लोकतन्त्र है और इसकी व्यवस्था हमारे संविधान निर्माता इस प्रकार करके गये हैं कि जब इसका कोई एक स्तम्भ अपना रास्ता भटकने लगे तो तुरन्त दूसरा स्तम्भ उसे सही राह पर डालने के लिए आगे आ जाता है। 

अतः सर्वाेच्च न्यायालय ने लखनऊ में जीवन-मृत्यु से जूझती उस नवयौवना के हकों की रक्षा के लिए ही उसके साथ हुए बलात्कार से सम्बन्धित सभी पांचों मुकदमों को उत्तर प्रदेश से बाहर स्थानान्तरित करने के आदेश जारी कर दिये हैं। यही लोकतन्त्र की खासियत है। वास्तव में न्यायपालिका की यह गंभीर टिप्पणी प्रदेश की राजनीति के बारे में ही है। यह नहीं भूला जाना चाहिए कि उन्नाव से जब साक्षी महाराज ने भाजपा के टिकट पर लोकसभा चुनाव जीता था तो वह जेल में सेंगर से मुलाकात करने और मिजाज-पुर्सी के लिए गये थे!